आज की नारियां :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

21 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (45 बार पढ़ा जा चुका है)

आज की नारियां :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*नारी का हमारे समाज में क्या स्थान है यह किसी से छिपा नहीं है। मां, बहिन और पत्नी के रूप में सदैव पूज्य रही है। जो आदर जो मान उसे मिला वही किसी से छिपा नहीं है। वह जननी है बड़े-बड़े महापुरुषों की। भगवान महावीर जैसे महापुरुष उसी की कोख से जन्में। हमारी संस्कृति, हमारी सभ्यता, हमारे इतिहास नारी की महानता और गौरवगाथा से भरे पड़े हैं। यमराज से अपने पति के प्राण छुड़ाने वाली नारी ही थी। कालिदास जैसे मुर्ख को महान बनाने वाली नारी ही थी। अंग्रेजों से अकेले दम पर लोहा लेने वाली झांसी की रानी भी नारी ही थी। उसने घर की चारदीवारी छोड़ी थी। अपनी लाज, गरिमा नहीं छोड़ी थी। नारी वस्तुत: देश, समाज, परिवार की नाड़ी होती है। जैसे-हाथ की नाड़ी की गति से वात, पित्त, कफ आदि की समता-विषमता का तथा स्वस्थता व अस्वस्थता का अनुमान होता है। वैसे ही नारी के सफल मातृत्व, चारित्र बल, सेवा, शीलादि गुणों से बालक, परिवार की नैतिकता आंकी जाती है। आज का बालक कल का नागरिक है। देश व समाज का कार्यभार उसके कंधों पर होगा। उसको सुसंस्कारित करने में मां का वद् हस्त होता है। क्योंकि मां ही बालक की प्रथम पाठशाला होती है। सुसंस्कारों को देखकर सुपुत्रों का निर्माण करना मां का परम कर्तव्य है। लज्जा नारी का सहज स्वाभाविक गुण है। बालक की शिक्षा धर्म और अचार की तुला को नम्रीभूत करने में नारी का अग्रणी स्थान होता है|* *परन्तु आज मुझे खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि आज की नारी वह नारी नहीं रही। यह सब अतीत की बात है। आज वह भटक गयी है, अपने कर्तव्य रूपी अमृत को खो चुकी है। अपने रास्ते से हट गयी है। कारण सिर्फ दो हैं- एक फैशन की होड़ उसे खोखलेपन की ओर लिये जा रही है। दूसरा मर्दों से बराबरी का दर्जा। नारी जो घर की शोभा थी, क्लबों और बाजारों की शोभा बनती जा रही है। पाश्चात्य फैशन के अन्धानुकरण में उससे अपनी सभ्यता, नैसगिक सौन्दर्य, रीति-रिवाज धर्म, कर्म, सब कुछ ताक में रख दिया है। अहर्निश उपन्यासों का अध्ययन, सभा सोसायटी में जोशीले भाषण देना, पीठ-पीछे गप्पें लगाना आम उद्देश्य बन गया है। आज उसकी आंखों में न ममता का सागर है, न स्नेह का वह दरिया जो मन में पावनता भर दे। सचमुच वैदुष्य का निखार फैशन नहीं। किसी भी नारी का यह कर्तव्य नहीं कि वह अधिकारों की प्राप्ति, कर्तव्यों की आहुति देकर करे। क्या करें ? परिस्थितियां प्रतिकूल हैं, वातावरण खराब है, समय अनुकूल नहीं है। लेकिन जिन्हें कुछ कर गुजरने की साध होती है वह ऐसा बहाना नहीं बनाते | गुलाब के फूल कांटों में ही खिलते हैं। यदि सत्य इतना महंगा न होता तो उसकी हालत ऐसी न होती कि ---- गली-गली गोरस फिरे, मदिरा बैठ बिकाय।----- हमें अपनी इन्द्रियों और इच्छाओं पर विजय प्राप्त करनी है। सादगी और सदाचार की रोशनी में इस मुक्ति को सार्थक करना है। नारी के लिए लिखा है कि -------* *‘कार्येषु मंत्री, करणेषु दासी, भोज्येषु माता, रमणेषु रम्भा, धर्मानुकूल: क्षमयाधरित्री भार्या च षड्गुणवती च दुर्लभ:।* *अतंत: यही कहना है कि --- हमारी बहिनें दया, क्षमा, संस्कार को धारण करते हुए एक नये युग में संस्कारित परिवार निर्माण का शंखनाद करें---*

अगला लेख: भगवान की छठी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 सितम्बर 2018
शि
*शिखा धारण करने का वैज्ञानिक महत्व 👇* *मस्तकाभ्यन्तरोपरिष्टात् शिरासम्बन्धिसन्निपातो रोमावर्त्तोऽधिपतिस्तत्रापि सद्यो मरणम् - सुश्रुत श. स्थान* *सरलार्थ »» मस्तक के भीतर ऊपर की ओर शिरा तथा सन्धि का सन्निपात है वहीं रोमावर्त में अधिपति है। यहां पर तीव्र प्रहार होने पर तत्काल मृत्यु संभावित है। शिख
10 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण सृष्टि नारी एवं पुरुष के संयोग से उत्पन्न हुई है | पुरुष में भी जिसका आचरण अतुलनीय हो जाता है उसे "पुरुषोत्तम" की संज्ञा दी जाती है | सनातन साहित्यों में वैसे तो पुरुषोत्तम शब्द का प्रयोग कई स्थानों पर भिन्न भिन्न चरित्रों के लिए किया गया है , परंतु चर्चा मात्र दो की ही प्राय: होती है | जि
08 सितम्बर 2018
11 सितम्बर 2018
*इस संसार में मनुष्य योनि पाकर प्रत्येक व्यक्ति समाज में सम्मान पाने की इच्छा रखता है | हर व्यक्ति यही चाहता है कि उसे समाज का हर व्यक्ति सम्मान की दृष्टि से देखे | कुछ व्यक्तियों की सोंच यह भी हो सकती है कि ज्ञानी बनकर या धनी बनकर ही सम्मान प्राप्त किया जा सकता है | यदि इसे ही मानक मान लिया जाय तो
11 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*इस संसार में मानवयोनि पाकर आज मनुष्य इस जीवन को अपने - अपने ढंग से जीना चाह रहा है और जी भी रहा है | जब परिवार में बालक का जन्म होता है तो बड़े उत्साह के साथ तरह - तरह के आयोजन होते हैं | छठवें दिन छठी फिर आने वाले दिनों अनेकानेक उत्सव बालक के एक वर्ष , दो वर्ष आदि होने पर उत्साहपूर्वक मनाये जाते ह
07 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*मानव जीवन विचित्रताओं से परिपूर्ण है , समाज में रहकर मनुष्य कब किससे प्रेम करने लगे और कब किससे विद्रोह कर ले यह जान पान असम्भव है | यह मनुष्य का स्वभाव होता है कि वह सबसे ही अपनी प्रशंसा सुनना चाहता है | अपनी प्रशंसा सुनना सबको अच्छा लगता है | कुछ लोग तो ऐसे होते हैं जो स्वयं अपनी प्रशंसा अपने मुख
08 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*भगवान श्री कृष्ण की प्रत्येक लीला में एक रहस्य तो छुपा ही है साथ ही आम जनमानस के लिए एक संदेश भी उनकी लीला के माध्यम से मिलता है | जैसा कि ग्रंथों के माध्यम से यह बताया जाता है कि पूर्व जन्मोक्त कर्मों के आधार पर गोप ग्वाल या राक्षस बने प्राणियों का उद्धार भगवान ने "कृष्णावतार" में किया था ! इसी क्
07 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*मानव जीवन विचित्रताओं से परिपूर्ण है , समाज में रहकर मनुष्य कब किससे प्रेम करने लगे और कब किससे विद्रोह कर ले यह जान पान असम्भव है | यह मनुष्य का स्वभाव होता है कि वह सबसे ही अपनी प्रशंसा सुनना चाहता है | अपनी प्रशंसा सुनना सबको अच्छा लगता है | कुछ लोग तो ऐसे होते हैं जो स्वयं अपनी प्रशंसा अपने मुख
08 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण विश्व में हर्षोल्लास एवं धूमधाम से मनाया जाने वाला छ: दिवसीय श्रीकृष्ण जन्मोत्सव "जन्माष्टमी" आज भगवान की छठी मनाने के साथ पूर्णता को प्राप्त करेगा | मनुष्य जीवन जन्म लेने की छठवें दिन मनाया जाने वाला यह पर्व विशेष महत्व रखता है | भादों की अंधियारी रात में अष्टमी तिथि को कारागार में जन्म ल
08 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
रा
राम राम क्यों कहा जाता है? क्या कभी सोचा है कि बहुत से लोग जब एक दूसरे से मिलते हैं तो आपस में एक दूसरे को दो बार ही *“राम राम"* क्यों बोलते हैं ? *एक बार या तीन बार क्यों नही बोलते ?* दो बार *“राम राम"* बोलने के पीछे बड़ा गूढ़ रहस्य है क्योंकि यह आदि काल से ही चला आ रहा है... हिन्दी की शब्दावली मे
10 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*आदिकाल से ही समाज व देश के विकास में युवाओं का अप्रतिम योगदान रहा है | समय समय पर सामाजिक बुराईयों का अन्त करने का बीड़ा युवाओं ने ही युठाया है | अपनी युवावस्था में ही मर्यादापुरुषोत्तम श्री राम ने ताड़कादि का वध तो किया साथ वन को जाकर रावण आदि दुर्दांत निशाचरों का वध करके विकृत होती जा रही संस्कृत
07 सितम्बर 2018
09 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म की मान्यतायें कभी भी आधारहीन नहीं रही हैं | यहाँ चौरासी लाख योनियों का विवरण मिलता है | इन्हीं चौरासी लाख योनियों में एक योनि है हम सबकी अर्थात मानव योनि | ये चौरासी लाख योनियाँ आखिर हैं क्या ?? इसे वेदव्यास भगवान ने पद्मपुराण में लिखा है :-- जलज नव लक्षाण
09 सितम्बर 2018
16 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में मनुष्य के बचपन का पूरा प्रभाव दिखता है | सम्पूर्ण जीवन की जड़ बचपन को कहा जा सकता है | जिस प्रकार एक बहुमंजिला भवन को सुदृढ बनाने के लिए उस भवन की बुनियाद ( नींव) का मजबूत होना आवश्यक हे उसी प्रकार मनुष्य को जीवन में बहुमुखी , प्रतिभासम्पन्न बनने के पीछे बचपन की स्थितियां - परिस्थितिय
16 सितम्बर 2018
07 सितम्बर 2018
*संसार में मनुष्य अनेकानेक रिश्ते बनाता है | कुछ रिश्ते तो मनुष्य को जन्म से ही मिलते हैं परंतु अनेक रिश्ते वह समाज में रहकर अपने व्यवहार से बनाता है | इन रिश्तों के बनने का मुख्य कारण होती हैं मनुष्य भावनायें | यदि हृदय में भावना न हो तो मनुष्य किसी रिश्ते को न तो बना पाता है और यदि बन भी गये तो भा
07 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x