परम पूज्य सचिन बाबा का जाना

21 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (91 बार पढ़ा जा चुका है)

परम पूज्य सचिन बाबा का जाना

विजय कुमार तिवारी

लगता नहीं कि परम पूज्य सचिन बाबा अब नहीं रहे।19 सितम्बर 2018 की प्रातः वेला में लगभग 4.30 बजे उनकी पवित्र और दिव्य आत्मा ने परमधाम के लिए प्रस्थान किया। विगत कई महीनों से उनका ईलाज आसनसोल में चल रहा था और वे गोपालपुर में रह रहे थे।वहीं गुरुदेव ने अंतिम सांस ली।उनके पार्थिव शरीर को गोकुलानन्द मठ दलदली धाम में,भक्तों के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। लाखों भक्तों की रोती-बिलखती भीड़ उमड़ पड़ी। आश्रम परिसर में ही नाम-स्थान और हरि-मन्दिर के बीच समाधि दी गयी।

उनके जीवन और भक्ति-साधना पर आधारित पुस्तक का लेखन मैंने किया है परन्तु उसका प्रकाशन नहीं हुआ है। पूज्य ठाकुर और दलदली धाम से मुझे पूज्य रमेश चन्द खेरा,नाम-कीर्तन करने वाले जीतन एवम परम भक्त गुरुदेव सिंह जी ने जोड़ा। वह शनिवार का दिन था और साँझ वेला थी। पूज्य सचिन बाबा जी हरि-मन्दिर के सामने चारपाई पर विराजमान थे।उनका रुख नाम-स्थान की ओर था जहाँ चौबिसों घंटे नाम-कीर्तन होता रहता है।

हरे राम,हरे राम,राम राम हरे हरे।

हरे कृष्ण,हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे।।

आश्रम परिसर में प्रवेश करते ही लगा मानो मेरा बोझ उतर गया है और शान्ति अनुभव हुई।उनकी मधुर वाणी कहीं भीतर बहुत गहरे उतर गयी। उन्होंने मुझे अपना बना लिया। 24 सितम्बर 2003 को आश्रम में रहनेवाले मास्टर साहब ने कहा,"उनकी कृपा सभी भक्तों पर होती है और उन्हें सभी की जानकारी रहती है। वे किसी को दण्ड नहीं देते। कठिन साधना के बिना भी अत्यन्त आग्रह पर परमात्मा की कृपा मिलती है। त्याग-तिरस्कार के बावजूद पूज्य ठाकुर की कृपा बनी रहती है। 24 अक्तूबर 2003 को पूज्य बाबा ने प्रवचन में कहा," 1-संसार में कर्म करते चलना चाहिए। उसमें किसी भी तरह की ढ़ील नहीं देनी चाहिए क्योंकि वह प्रभु का ही काम है।2-प्रभु सदैव साथ रहते हैं। 3-संसार की चिन्ता करने की जरुरत नहीं है। हमारे संसार की चिन्ता प्रभु को रहती है।"

मेरे जीवन में जो भी सुख,शान्ति,संतोष और भक्ति की ओर झुकाव है, सब उनकी ही कृपा है। उनकी कृपा कैसे होती है,यह तुरन्त समझ में नहीं आता। सुदामा प्रसंग में श्री कृष्ण की कृपा की कथा हम सबने सुनी है। मेरा अनुभव है कि समस्या आने के पूर्व ही उसके उचित समाधान की व्यवस्था ठाकुर कर देते हैं।जीवन में घटित होने वाले सुख और दुख के पहले ही बाबा खींच लेते हैं और समाधान कर देते हैं।यह रहस्य आगामी कुछ दिनो में स्पष्ट हो जाता है।

स्वामी रामसुख दास जी ने सन्तों के संग सम्बन्धी प्रश्न के उत्तर में कहा है कि सन्त प्रारब्ध से भी मिलते हैं,भगवत्कृपा से भी मिलते हैं और अपनी लगन से भी मिलते हैं। हमारी सच्ची लगन,उत्कट अभिलाषा से ही उनके संग का लाभ मिलता है। सत्संग के सन्दर्भ में उन्होंने कहा कि सत तत्व परमात्मा में निष्काम प्रेम होना सत्संग है और जीवन-मुक्त सन्त के साथ निष्काम प्रेम भी सत्संग है। उनके साथ बैठना भी सत्संग है,संसार से बिमुख होना भी सत्संग है। तात्पर्य यह है कि हम किसी भी प्रकार से परमात्मा के सम्मुख हो जाय,वही सत्संग है। हमें परमात्मा की कृपा से ही पूज्य सचिन बाबा का सत्संग मिला है।

गीता में भगवान कृष्ण ने स्वयं कहा है कि जब-जब धर्म की हानि और अधर्म में वृद्धि होती है तब-तब मैं साकार रुप में प्रकट होता हूँ,अवतार लेता हूँ। अवतारी सत्ता अपने आदर्श आचरण द्वारा समाज में व्याप्त बुराईयों और समस्याओं को दूर करता है। पूज्य ठाकुर का आगमन उसी महत उद्देश्य के लिए हुआ है। झारखण्ड और बंगाल का यह कोयलांचल-क्षेत्र सदैव ही ईश्वर की आविर्भाव-युक्त कृपा से वंचित रहा है।पूज्य सचिन बाबा जी का प्रादुर्भाव उसी की प्रतिपूर्ति है। सचिन बाबा चैतन्य महाप्रभु की परम्परा के हैं। चैतन्य स्वयं कृष्ण हैं और उनका वर्ण गौर है। चैतन्य का बहिर्रंग राधा का है और अन्तर्रंग कृष्ण का है। उनमें राधा तत्व की प्रधानता है। परम राधा रानी के परम तत्व प्रेम को समझने की चाह ने श्री कृष्ण को चैतन्य के रुप में अवतरित होने के लिए बाध्य किया। नाम-संकीर्तन और कृष्ण-चर्चा के द्वारा उन्होंने जन-जन में कृष्ण-प्रेम की धारा बहा दी। दलदली धाम के सचिन बाबा में प्रेम है,प्रेम जनित भक्ति है,करुणा-कृपा है। पूज्य ठाकुर में राधा तत्व कृष्ण-स्वरुप में मिला हुआ है और भक्ति का विशुद्ध रुप दिखाई देता है। श्री ठाकुर ने मेरे प्रश्न पर कि आपके वर्तमान अवतार का मूल तत्व क्या है, प्रसंग बदलते हुए कहा कि भगवान जीव-जगत को प्रेम-भक्ति का वरदान देते हैं तथा जीवों के उद्धार के लिए सदैव सजग रहते हैं।

पूज्य श्री ठाकुर ने आश्रम के बोर्ड पर लिखवा दिया है,"देह-दर्शन से ही जीव की मनोबांछा पूरी होगी,मौखिक वार्तालाप की कोई आवश्यकता नहीं है।"बंगला,हिन्दी और अंग्रेजी में पूज्य ठाकुर का यह आश्वासन दुर्लभ एवम अद्भूत है। ऐसी स्पष्ट घोषणा परमात्मा के अलावा और कौन कर सक्ता है?मेरा मत है कि पूज्य ठाकुर की घोषणा गीता के कृष्ण की घोषणा से बड़ी है।

पूज्य ठाकुर अपने भक्तों के साथ बहुत मधुर व्यवहार करते हैं। अत्यन्त माधूर्य श्री कृष्ण में है,चैतन्य में है और वही माधूर्य पूज्य ठाकुर में है। एक दिन विनत भाव से मैने निवेदन किया,"यदि बातचीत में,व्यवहार में कुछ अपराध हो जाये तो मुझे अज्ञानी,अव्यवहारिक समझ कर क्षमा कीजियेगा।" उन्होंने कहा कि परमात्मा,सन्त-महात्मा और साधु सदैव क्षमा करते हैं। जीव नाना प्रपंचों में पड़ा हुआ चाहे-अनचाहे अपराध करता रहता है। प्रभु को क्षमा करना ही पड़ता है। पूज्य ठाकुर प्रचार-प्रसार नहीं चाहते। उनके आश्रम में नियम बहुत कड़े हैं। परिसर में पुरुषों को धोती पहनना है और महिलायें साड़ी।लहसून-प्याज के बिना सात्विक शाकाहारी भोजन करना है। किसी भी तरह का नशा वर्जित है। हमें उम्मीद है कि पूज्य ठाकुर अपने सूक्ष्म रुप में सभी भक्तों पर कृपा बनाये रखेंगें और हमारा मार्गदर्शन करेंगें। जय श्री गौर हरिः।

अगला लेख: उसने कभी निराश नही किया -3



रेणु
22 सितम्बर 2018

परम पूजनीय गुरुदेव की पुण्य स्मृति को कोटि- कोटि नमन !!

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 सितम्बर 2018
प्
16 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
तु
कविता-12/12/1984तुम्हारे लिएविजय कुमार तिवारीबाट जोहती तुम्हारी निगाहें,शाम के धुँधलके का गहरापन लिए,दूर पहाड़ की ओर से आती पगडण्डी पर,अंतिम निगाह डालजब तलक लौट चुकी होंगी। उम्मीदों का आखिरी कतरा,आखिरी बूँदतुम्हारे सामने हीधूल में विलीन हो चुका होगा। आशा के संग जुड़ी,सारी आकांक्षायेंमटियामेट हो ,दम
12 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
17 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
आँ
कविता-20/07/1985आँखों के मोतीविजय कुमार तिवारीजब भी घुम-घाम कर लौटता हूँ,थक-थक कर चूर होता हूँ,निढ़ाल सा गिर पड़ता हूँ विस्तर में।तब वह दया भरी दृष्टि से निहारती है मुझेगतिशील हो उठता है उसका अस्तित्वऔर जागने लगता है उसका प्रेम।पढ़ता हूँ उसका चेहरा, जैसे वात्सल्य से पूर्ण,स्नेहिल होती,फेरने लगती है
26 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
17 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
कल तक सवर्ण समाज के लिए 10 फीसदी आरक्षण की बात करने वाले बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने सवर्ण समाज के खिलाफ बड़ा बयान दिया है। चेतावनी भरे लहजे में मांझी ने कहा कि अगर 15 प्रतिशत वाला देश जला सकता है तो 85 प्रतिशत वाला हाथ में दही लेकर नहीं बैठा है। इसके साथ ही मां
08 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-4विजय कुमार तिवारीप्रेम में जादू होता है और कोई खींचा चला जाता है। सौम्या को महसूस हो रहा है,यदि आज प्रवर इतनी मेहनत नहीं करता तो शायद कुछ भी नहीं होता। सब किये धरे पर पानी फिर जाता। भीतर से प्रेम उमड़ने लगा। उसने खूब मन से खाना बनाया। प्रवर की थकान कम नहीं हुई थी परन्
26 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
गा
कहानीगाँव की लड़की का अर्थशास्त्रविजय कुमार तिवारीगाँव में पहुँचे हुए अभी कुछ घंटे ही बीते थे और घर में सभी से मिलना-जुलना चल ही रहा था कि मुख्यदरवाजे से एक लड़की ने प्रवेश किया और चरण स्पर्श की। तुरन्त पहचान नहीं सका तो भाभी की ओर प्रश्न-सूचक निगाहों से देखा। "लगता है,चाचा पहचान नहीं पाये,"थोड़ी मु
12 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानी उसने कभी निराश नहीं किया-1विजय कुमार तिवारी"अब मैं कभी भी ईश्वर को परखना नहीं चाहता और ना ही कुछ माँगना चाहता हूँ। ऐसा नहीं है कि मैंने पहले कभी याचना नहीं की है और परखने की हिम्मत भी। हर बार मैं बौना साबित हुआ हूँ और हर बार उसने मुझे निहाल किया है।दावे से कहता हूँ-गिरते हम हैं,हम पतित होते है
26 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
को
मौलिक कविता 21/11/1984कोख की रोशनीविजय कुमार तिवारीतुम्हारी कोख में उगता सूरज,पुकारता तो होगा?कुछ कहता होगा,गाता होगा गीत? फड़कने नहीं लगी है क्या-अभी से तुम्हारी अंगुलियाँ?बुनने नहीं लगी हो क्या-सलाईयों में उन के डोरे?उभर नहीं रहा क्या-एक पूरा बच्चा?तुम्हारे लिए रोते हुए,अंगली थामकर चलते हुए। उभर र
12 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x