अनन्त चतुर्दशी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

23 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (70 बार पढ़ा जा चुका है)

अनन्त चतुर्दशी :----- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म प्रत्येक पर्व एवं त्योहार स्वयं इस वैज्ञानिकता कुछ छुपाये हुए हैं | इतना बृहद सनातन धर्म कि इसके हर त्यौहार अपने आप में अनूठे हैं | आज भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" के नाम से जाना जाता है | संपूर्ण भारत में भक्तजन यह व्रत बहुत ही श्रद्धा के साथ लोग रहते हैं | "अनंत चतुर्दशी" का व्रत भगवान श्री हरि नारायण विष्णु को समर्पित है | हमारे सनातन धर्म में भगवान नारायण एवं उनकी लीलाओं को "अनन्त" कहा गया है | इस व्रत को करने का अर्थ यह है मनुष्य सनातन धर्म में बताएं गये चौदह लोकों के सुख मानवयोनि में ही भोग करने की इच्छा पूरी करता है | अपने पापों का प्रायश्चित करके पूर्ण ऐश्वर्य प्राप्त के हेतु यह व्रत किया जाता है | दुर्योधन की सभा में अपना सब कुछ जुए में हार कर के पांडव निराश्रित होकर बारह वर्ष का वनवास भोग रहे थे , उसी समय खांडव वन में उनसे मिलने भगवान कृष्ण और उन्होंने वर्तमान कष्ट से निवृत्ति के लिए युधिष्ठिर को अनंत चतुर्दशी का व्रत विधान करने का सुझाव दिया , जिससे उनका खोया राज्य पुनः प्राप्त हो सके | महाराज युधिष्ठिर ने पूर्ण श्रद्धा के साथ अनंत चतुर्दशी का व्रत किया एवं महाभारत जैसे विशाल युद्ध में विजय प्राप्त करके अपना खोया राज्य एवं ऐश्वर्य पुनः प्राप्त किया | जो भी मनुष्य श्रद्धा भक्ति के साथ अपने समस्त पापों का प्रायश्चित करते हुए अनंत चतुर्दशी का व्रत करके भगवान श्री हरि विष्णु की श्रद्धा भक्ति के साथ पूजन करता है उसका खोया हुआ ऐश्वर्या पुनः प्राप्त हो जाता है | यह अनंत चतुर्दशी अपने आप में एक एक सिद्ध व्रत है जिसको यदि चौदह वर्ष तक लगातार कर लिया जाए तो मनुष्य के लिए कुछ भी अप्राप्त नहीं रह जाता |* *आज संपूर्ण भारत में विगत दस दिनों से चल रहे हैं गणेश महोत्सव का समापन दिवस भी है | भिन्न-भिन्न पांडालों में स्थापित किए गए विघ्न विनाशक भगवान गणेश आज जल में समाहित हो जाएंगे | भगवान गणेश का विसर्जन इस बात का उदाहरण प्रस्तुत करता है कि इस धरा धाम पर देव , दनुज , दानव , मानव कोई भी हो जो आया है उसको जाना ही पड़ेगा , यहां कोई नहीं रह सकता है | इसी क्रम में आज भगवान गणपति विसर्जन भक्त पूरी श्रद्धा भाव से करेंगे | कुछ लोग प्राय: यह प्रश्न किया करते हैं कि इतनी महंगी मूर्तियां आखिर जल में प्रवाहित क्यों कर दी जाती हैं ?? ऐसे सभी लोगों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" मात्र इतना कहना चाहूँगा कि तीन लोक , चौदह भुवन में मानव योनि से बढकर कीमती कुछ भी नहीं है | समय आने पर इस अनमोल काया का भी विसर्जन ही करना पड़ता है | भगवान गणेश "जलतत्व" के स्वामी हैं | चतुर्थी से अनंत चतुर्दशी तक अनवरत महाभारत का लेखन करते हुए जब उनके शरीर का ताप बढ गया तब वेदव्यास जी ने उनका ताप मिटाने के लिए उनको जल में डुबो दिया | तब से चतुर्थी से चतुर्दशी तक गणेशपूजन करके "अनन्त चतुर्दशी" को "गणपति बप्पा" को जल में स्थान दिया जाता है |* *सनातन धर्म का प्रत्येक पर्व किसी न किसी पौराणिक चरित्र एवं रहस्यों से जुड़ा है ! आवश्यकता है इन्हें जानने व समझने की |*

अगला लेख: चौरासी लाख योनियाँ :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 सितम्बर 2018
*मानव जीवन विचित्रताओं से परिपूर्ण है , समाज में रहकर मनुष्य कब किससे प्रेम करने लगे और कब किससे विद्रोह कर ले यह जान पान असम्भव है | यह मनुष्य का स्वभाव होता है कि वह सबसे ही अपनी प्रशंसा सुनना चाहता है | अपनी प्रशंसा सुनना सबको अच्छा लगता है | कुछ लोग तो ऐसे होते हैं जो स्वयं अपनी प्रशंसा अपने मुख
08 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
अनंत चतुर्दशी भगवान विष्णु का त्योहार है. जो कि इस बार 23 सितंबर को है. इसी दिन गणपति बप्पा के विसर्जन का दिन है. लेकिन क्या आप जानते हैं अनंत चतुर्दशी में भगवान विष्णु के अनंत रुपों की पूजा की जाती है. फोटोः गूगल फ्री इमेजअनंत चतुर्दशी के दिन सूर्योदय के समय से अगले दिन
20 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
भा
*बिनु सत्संग विवेक न होई* *प्यारे भगवत्प्रेमी सज्जनों-* *प्रभु की कृपा से संत मिलते हैं आर जब संत मिलते हैं तो सत्संग होता है और सत्संग से ही विवेक विवेक जागृत होता* *सत्य और विवेक एक दूसरे के पूरक हैं ज्ञान होगा तो सत्संग में जाओगे और सत्संग में जाओगे तो ज्ञान मिलेगा जहां पर स
10 सितम्बर 2018
21 सितम्बर 2018
इस समय सितंबर का महीना चल रहा है। और सितंबर के महीने से नवंबर के महीने तक कालसर्प योग बन रहा है। जो केवल 3 राशियों के लिए बन रहा है। इन 3 राशियों के लोगों की किस्मत चमक जाएगी। और इनकी हर मनोकामना पूरी होगी। आइए जान लेते है वो 3 राशियों कौनसी है। सितंबर से नवंबर तक इन 3 राशियों के लिए बन रहा है कालसर
21 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में जहाँ ३३ करोड़ देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है वहीं प्रमुख तीन देव (ब्रह्मा , विष्णु , महेश) भी कहे गये हैं | इन प्रमुख त्रिदेवोों में ब्रह्मा जी सृजन करते करते हैं , विष्णु जी पालन करते हैं और भगवान रुद्र को संहार का कारक माना जाता है | सृजन और संहार जहाँ प्रथम और अंतिम चरण है वहीं
20 सितम्बर 2018
19 सितम्बर 2018
मुज़फ़्फरनगर...इस शहर के नाम के साथ ही कई अप्रिय घटनाओं की स्मृतियां जुड़ गई हैं. ये नाम कहीं भी पढ़ते हैं, तो दिमाग़ में पहले ही सवाल कौंध जाता है,'फिर कुछ हुआ क्या?'मुज़फ़्फरनगर शहर में ही एक कस्बा है, लढ्ढेवाला. तंग गलियों और कॉन्क्रीट के घरों का ये कस्बा. कस्बे के एक
19 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*हमारा भारत देश ‘विविधता में एकता’ वाला देश है । यहाँ पर विभिन्न धर्मो व सम्प्रदायों के लोग रहते हैं । सभी की अपनी-अपनी भाषाएं, रहन-सहन, वेशभूषा, रीति-रियाज, वेद-पुराण एवं साहित्य है । सब की अपनी-अपनी संस्कृति है । सभी लोगों की संस्कृति उनकी पहचान बनाये हुये है । संस्कृति के प्रकाश र्मे ही भारत अपने
17 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में भाद्रपद मास बहुत ही विशेष स्थान व महत्व रखता है | अनेक व्रत , पर्व व देवों के अवतरण दिवस होने के कारण ही यह मास विश्ष महत्त्वपूर्ण हो जाता है | बलराम जी का जन्मोत्सव हलछठ हो या कन्हैया जी की जन्माष्टमी या फिर गणेश भगवान का अवतरण दिवस गणेश चतुर्थी सब भाद्रपद मास में ही मनाये जाते है |
17 सितम्बर 2018
15 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म एवं उसकी मान्यतायें इतनी वृहद एवं विस्तृत हैं कि इनका जोड़ सम्पूर्ण विश्व में कहीं नहीं मिलेगा | सम्पूर्ण विश्व ने कभी न कभी , किसी न किसी रूप में हमारे देश की संस्कृति से कुछ न कुछ शिक्षा अवश्य ग्रहण की है | बस अंतर यह है कि उन्होंने उन मान्यताओं को स्वीक
15 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण सृष्टि नारी एवं पुरुष के संयोग से उत्पन्न हुई है | पुरुष में भी जिसका आचरण अतुलनीय हो जाता है उसे "पुरुषोत्तम" की संज्ञा दी जाती है | सनातन साहित्यों में वैसे तो पुरुषोत्तम शब्द का प्रयोग कई स्थानों पर भिन्न भिन्न चरित्रों के लिए किया गया है , परंतु चर्चा मात्र दो की ही प्राय: होती है | जि
08 सितम्बर 2018
10 सितम्बर 2018
शि
*शिखा धारण करने का वैज्ञानिक महत्व 👇* *मस्तकाभ्यन्तरोपरिष्टात् शिरासम्बन्धिसन्निपातो रोमावर्त्तोऽधिपतिस्तत्रापि सद्यो मरणम् - सुश्रुत श. स्थान* *सरलार्थ »» मस्तक के भीतर ऊपर की ओर शिरा तथा सन्धि का सन्निपात है वहीं रोमावर्त में अधिपति है। यहां पर तीव्र प्रहार होने पर तत्काल मृत्यु संभावित है। शिख
10 सितम्बर 2018
13 सितम्बर 2018
*हर्षोल्लास एवं आस्था व आध्यात्मिकता का पर्व "गणेशोत्सव" आज से प्रारम्भ हो चुका है | देश भर में जगह जगह पांडाल लगाकर भगवान गणेश की स्थापना प्रारम्भ हो चुकी है | सिद्धि - बुद्धि के दाता विघ्नहरण गणेश भगवान का जन्मोत्सव एक तरफ तो प्रसन्नता से झूमने को विवश कर देता है वहीं दूसरी ओर कुछ सावधानियाँ भी बन
13 सितम्बर 2018
08 सितम्बर 2018
*सम्पूर्ण विश्व में हर्षोल्लास एवं धूमधाम से मनाया जाने वाला छ: दिवसीय श्रीकृष्ण जन्मोत्सव "जन्माष्टमी" आज भगवान की छठी मनाने के साथ पूर्णता को प्राप्त करेगा | मनुष्य जीवन जन्म लेने की छठवें दिन मनाया जाने वाला यह पर्व विशेष महत्व रखता है | भादों की अंधियारी रात में अष्टमी तिथि को कारागार में जन्म ल
08 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x