आत्मा और पुनर्जन्म

23 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (81 बार पढ़ा जा चुका है)

आत्मा और पुनर्जन्म

विजय कुमार तिवारी

यह संसार मरणधर्मा है। जिसने जन्म लिया है,उसे एक न एक दिन मरना होगा। मृत्यु से कोई भी बच नहीं सकता। इसीलिए हर प्राणी मृत्यु से भयभीत रहता है। हमारे धर्मग्रन्थों में सौ वर्षो तक जीने की कामना की गयी है-जीवेम शरदः शतम। ईशोपनिषद में कहा गया है कि अपना कर्म करते हुए मनुष्य को कम से कम सौ वर्षो तक जीने का अधिकार है। कतिपय अपवादों को छोड़कर देखा जाय तो आज मनुष्य के जीवन की अवधि कम हुई है। आज 75-80 वर्षो से ज्यादा का जीवन नहीं है।

आत्मा को अजर, अमर माना गया है और कहा जाता है कि आत्मा की मृत्यु नहीं होती। शरीर मरता है। आत्मा अपना चोला बदलती है। भगवद्गीता में भगवान कृष्ण ने आत्मा की अमरता पर प्रकाश डाला है। पाश्चात्य देशों में भी विद्वानो ने इस तथ्य को स्वीकार करना शुरु किया है और इसके पक्ष में अपने अनुभव और शोध प्रस्तुत करते हैं। प्लोटिनस नामक विद्वान ने कहा है,"आत्मा वही रहती है,शरीर बदल जाते हैं। इस तरह आत्मा की अमरता पर पूरी दुनिया में आम सहमति बनती जा रही है और यह कोई बड़ा विवाद नहीं रह गया है।

आत्मा को परमात्मा का ही स्वरुप या अंश माना गया है। अपने देश में चौरासी लाख योनियों की मान्यता है और एक योनि में बहुसंख्य आत्मायें शरीर धारण करती हैं,जीवन जीती हैं और फिर शरीर त्याग कर नयी योनि में या नये शरीर में प्रवेश करती हैं। वेद में कहा गया है कि परमात्मा की ईच्छा हुई-एकोहम बहुष्यामि। उसने सम्पूर्ण सृष्टि रच डाली। अनेक व्रह्माण्ड,अनेक सौरमण्डल,अनेक जीव-जगत,पथ्वी,सागर आकाश बना डाला।

आत्मा शरीर धारण करती है कार्य-सम्पादन के लिए। निश्चित उद्देश्य लेकर हर आत्मा शरीर में आती है और अपना कार्य करती है। कार्य पूर्ण होने पर वह आत्मा शरीर को छोड़ देती है। विज्ञान भी मानता है कि किसी भी वस्तु का नाश नहीं होता। केवल रुपान्तरण होता है,बदलाव होता है। मृत्यु भी बदलाव है,आत्मा का नाश नहीं। आत्मा तो सत्य है,स्थायी है अजर,अमर है।

आत्मा और शरीर के मिलन की अलौकिक व्यवस्था परमात्मा ने रची है। स्त्री और पुरुष के मिलन के समय से ही जीवन शुरु नहीं हो जाता। पहले शरीर के विकास की प्रक्रिया शुरु होती है। उसमें प्राण महीना भर या 40-42 दिनों बाद ही आता है। यह सबसे महत्वपूर्ण समय होता है। आत्मा को पिछला शरीर छोड़ने के बाद कभी-कभी तुरन्त नया शरीर मिल जाता है,कभी-कभी थोड़ी प्रतीक्षा करनी पड़ती है। कुछ लोगों की राय है कि आत्मा को शरीर के चयन का अवसर मिलता है लेकिन यह सही नहीं है। आत्मा से जुड़े संस्कार तय करते हैं कि उसे किस गर्भ में पल रहे शरीर में जाना है। समान संस्कार वाले माता-पिता के घर में तेजी से वह आत्मा आती है और गर्भ में पल रहे शरीर में प्रवेश करती है। अन्य बहुत से तत्व और होते है जो शरीर के चुनाव में आत्मा की सहायता करते है। एक बार मेरे गुरूदेव ने कहा था कि अमुक शिष्य का अभी जन्म नहीं हुआ है।उचित घर की तलाश है।

उस आत्मा पर बहुत सी अन्य आत्माओं का ऋण होता है और जिनके ऋण वापस करने का समय आ गया है या उस आत्मा का ऋण जिन लोगो पर है,उन्हीं के साथ संयोग बनता है। ये बहुकोणीय आदान-प्रदान कर्मफल की व्यवस्था के तहत होता है। एक आत्मा, एक ही बार मे, जन्म लेते ही अनेको से जुड़ जाती है। कहा जाता है कि सुख-दुख का कारण हमारे कर्म ही हैं परन्तु कर्मफल का सिद्धान्त हमारे रिश्तों की सम्पूर्ण व्याख्या नहीं करता वल्कि ऋण का सिद्धान्त हमारे सम्पूर्ण सम्बन्धों को सही रुप में व्यक्त करता है। कर्मफल भी ऋण के सिद्धान्त के अन्तर्गत ही कार्य करता है।

हमारा किसी के प्रति किया हुआ व्यवहार कालक्रम में हमे ऋणदाता बनाता है और जिसके प्रति व्यवहार किया गया है,वह हमारा ऋणी होता है। भविष्य में ऋणी को ऋण चुकाना होगा। इसी कारण हमारे सारे सम्बन्ध बनते हैं। माता-पिता,भाई-बहन,पति-पत्नी,बेटा-बेटी,पड़ोसी,रिश्तेदार,गुरु-शिष्य,शिक्षक,सहकर्मी,सहयात्री,मालिक-नौकर आदि जितने भी मानवीय सम्बन्ध हैं,सभी इस ऋण व्यवस्था के अधीन हैं। सन्त-महात्मा इसे ही माया का संसार कहते हैं। हमारे सारे कर्म-व्यवहार इसी ऋण व्यवस्था के कारण संचालित होते हैं।

इस व्यवस्था की कुछ अवधारणायें हैं। हमारे कर्म नकारात्मक या सकारात्मक दोनो ही हो सकते हैं। या तो हम पहल करने वाले हैं या प्रति-उत्तर देने वाले हैं। ऋणी बनाने की तिथि से उऋण होने तक का निर्धारण परमात्मा की सुनियोजित व्यवस्था के अधीन है। ऋण चुकता करने का समय कभी तुरन्त,कभीकुछ वर्षो बाद और कभी कई -कई जन्मों के बाद आता है। महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि जिस कर्म-व्यवहार का ऋण बना है,कालक्रम में वही वापस करना होता है। कभी-कभी व्याज के साथ भी चुकाना पड़ता है।

ऋणी या ऋणदाता कौन होते हैं? ये दोनो आत्मायें हैं। जब परमात्मा ने सम्पूर्ण सृष्टि की रचना की,जीव-जन्तु,मनुष्य,पेड़-पौधे.सूर्य-चन्द्र,तारे,व्रह्माण्ड सब बना डाला, तब अपनी माया-शक्ति से सभी आत्माओं को क्रियाशील कर दिया। आत्माओं की क्रियाशीलता ही परस्पर ऋणी होने का कारण बनती गयी। परमात्मा ने बीज रुप में जीवात्मा के भीतर सारे गुण-दुर्गुण,सदभावनाये-दुर्भावनाये भर दी। जीवात्मा के रुप में जन्म के साथ ही बीज रुप में सभी चीजे मिली रहती है। अपनी प्रवृत्ति और परिस्थिति बस जीवात्मा की इच्छायें उसे क्रियाशील किये रखती हैं।जन्म-दर-जन्म आत्मा इसी चक्र मे फँसी रहती है और बार-बार जन्म लेती है।

हमें करना क्या चाहिए? हम कर्म-व्यवहार को कुछ इस तरह निभायें कि ऋण की स्थिति न बने या बने भी तो ऐसी की सहन की सीमा में हो। आसानी से वापस किया जा सके। कोई हमें दुखी कर रहा है या पीड़ा दे रहा है तो सहर्ष स्वीकार करें क्योंकि यह वापस किया जा रहा है। परमात्मा न्यायी है। वह कभी अन्याय नहीं होने देगा। अध्यात्म हमें सही दृष्टि देता है ताकि हम भटकें नहीं और सही मार्ग पर रहें।



अगला लेख: उसने कभी निराश नही किया -3



फेसबुक में Add kijiy

रेणु
24 सितम्बर 2018

आदरणीय अभी फेसबुक पर नही आ पई | क्षमा प्रार्थी हूँ |

रेणु
23 सितम्बर 2018

'' कोई हमें दुखी कर रहा है या पीड़ा दे रहा है तो सहर्ष स्वीकार करें क्योंकि यह वापस किया जा रहा है। परमात्मा न्यायी है। वह कभी अन्याय नहीं होने देगा। ''

आदरणीय आज ये दुसरा लेख है आपका जिससे जाना अपने पूर्व कर्म ही हमें सुखी या दुखी बनाते हैं | सचमुच ईश्वर का नहीं हमारे अपने कर्म हैं | इस अनमोल लेख के लिए सादर आभार और नमन |

आभार आभार

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-4विजय कुमार तिवारीप्रेम में जादू होता है और कोई खींचा चला जाता है। सौम्या को महसूस हो रहा है,यदि आज प्रवर इतनी मेहनत नहीं करता तो शायद कुछ भी नहीं होता। सब किये धरे पर पानी फिर जाता। भीतर से प्रेम उमड़ने लगा। उसने खूब मन से खाना बनाया। प्रवर की थकान कम नहीं हुई थी परन्
26 सितम्बर 2018
16 सितम्बर 2018
प्
16 सितम्बर 2018
09 सितम्बर 2018
अपना रोल मॉडल को कहाँ ढूढें?अपने मॉडल को पाने सबसे अच्छी जगह आपके विचार से सम्बन्धित संघ है। ऐसे संगठनों में स्वयंसेवी बनना अक्सर कुछ सबसे सफल सदस्यों से मिलने के लिए रास्ते विकसित करने का एक अच्छा तरीका है। विचार से सम्बंधित सम्मेलन भी एक उत्कृष्ट जरिया हो सकता हैं। यदि
09 सितम्बर 2018
19 सितम्बर 2018
आजकल न्यूज़ पढ़ने और देखने में डर लगता है। न्यूज चैनलस खोलते ही बुरी खबरों की बारिश होने लगती हैं । नियमित आपराधिक खबरोंमें भीड़ द्वारा किसी की हत्या, सीमा पर आतंक वादियों का उत्पात, देश में कहीं न कहीं कोई गैंग रेप । और हर बात पर सरकार और विपक्ष का एकदूसरे पर हमला । और ये सब इतनी नियमितता से हो रहा है
19 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
कहानीबदले की भावनाविजय कुमार तिवारीभोर की रश्मियाँ बिखेरने ही वाली थीं,चेतन बाहर आने ही वाला था कि उसके मोबाईल पर रिंगटोन सुनाई दिया। उसने कान से लगाया।उधर से किसी के हँसने की आवाज आ रही थी और हलो का उत्तर नही। कोई अपरिचित नम्बर था और हँसी भी मानो व्यंगात्मक थी। कौन हो सकती है? बहुत याद करने पर भी क
12 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
गा
कहानीगाँव की लड़की का अर्थशास्त्रविजय कुमार तिवारीगाँव में पहुँचे हुए अभी कुछ घंटे ही बीते थे और घर में सभी से मिलना-जुलना चल ही रहा था कि मुख्यदरवाजे से एक लड़की ने प्रवेश किया और चरण स्पर्श की। तुरन्त पहचान नहीं सका तो भाभी की ओर प्रश्न-सूचक निगाहों से देखा। "लगता है,चाचा पहचान नहीं पाये,"थोड़ी मु
12 सितम्बर 2018
28 सितम्बर 2018
तु
कवितातुम खुश होविजय कुमार तिवारीआदिम काल में तुम्हीं शिकार करती थी,भालुओं का,हिंस्र जानवरों का और कबीले के पुरुषों का,बच्चों से वात्सल्य और जवान होती लड़कियों से हास-परिहासतुम्हारी इंसानियत के पहलू थे। तुम्हारी सत्ता के अधीन, पुरुष ललचाई निगाहों से देखता था,तुम्हारे फेंके गये टुकड़ों पर जिन्दा थाऔर
28 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानी उसने कभी निराश नहीं किया-1विजय कुमार तिवारी"अब मैं कभी भी ईश्वर को परखना नहीं चाहता और ना ही कुछ माँगना चाहता हूँ। ऐसा नहीं है कि मैंने पहले कभी याचना नहीं की है और परखने की हिम्मत भी। हर बार मैं बौना साबित हुआ हूँ और हर बार उसने मुझे निहाल किया है।दावे से कहता हूँ-गिरते हम हैं,हम पतित होते है
26 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-2विजय कुमार तिवारीसौम्या शरीर से कमजोर थी परन्तु मन से बहुत मजबूत और उत्साहित। प्रवर जानता था कि ऐसे में बहुत सावधानी की जरुरत है। जरा सी भी लापरवाही परेशानी में डाल सकती है। पहले सौम्या ने अपनी अधूरी पढ़ायी पूरी की और मेहनत से आगे की तैयारी
26 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x