आज का पंचांग - 26 सितम्बर 2018

26 सितम्बर 2018   |  विनय वर्मा   (40 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का पंचांग - 26 सितम्बर 2018

🌞 ~ *आज का अपना पंचांग* ~ 🌞

⛅ *दिनांक 26 सितम्बर 2018*

⛅ *दिन - बुधवार*

⛅ *विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)*

⛅ *शक संवत -1940*

⛅ *अयन - दक्षिणायन*

⛅ *ऋतु - शरद*

⛅ *मास - अश्विन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार भाद्रपद)*

⛅ *पक्ष - कृष्ण*

⛅ *तिथि - प्रतिपदा सुबह 08:56 तक तत्पश्चात द्वितीया*

⛅ *नक्षत्र - रेवती 27 सितम्बर रात्रि 01:55 तक तत्पश्चात अश्विनी*

⛅ *योग - ध्रुव 27 सितम्बर प्रातः 02:40 तक तत्पश्चात व्याघात*

⛅ *राहुकाल - दोपहर 12:18 से दोपहर 01:47 तक*

⛅ *सूर्योदय - 06:03*

⛅ *सूर्यास्त - 18:02*

⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में*

⛅ *व्रत पर्व विवरण - द्वितीया का श्राद्ध*

💥 *विशेष - प्रतिपदा को कूष्माण्ड(कुम्हड़ा, पेठा) न खाये, क्योंकि यह धन का नाश करने वाला है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*

💥 *श्राद्ध और व्रत के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)*

🌞 *~ अपना पंचांग ~* 🌞


🌷 *जानिए पुराणों के अनुसार श्राद्ध का महत्व*🌷

🙏 *कूर्मपुराण : कूर्मपुराण में कहा गया है कि 'जो प्राणी जिस किसी भी विधि से एकाग्रचित होकर श्राद्ध करता है, वह समस्त पापों से रहित होकर मुक्त हो जाता है और पुनः संसार चक्र में नहीं आता।'*

🙏 *गरुड़ पुराण : इस पुराण के अनुसार 'पितृ पूजन (श्राद्धकर्म) से संतुष्ट होकर पितर मनुष्यों के लिए आयु, पुत्र, यश, स्वर्ग, कीर्ति, पुष्टि, बल, वैभव, पशु, सुख, धन और धान्य देते हैं।*

🙏 *मार्कण्डेय पुराण : इसके अनुसार 'श्राद्ध से तृप्त होकर पितृगण श्राद्धकर्ता को दीर्घायु, सन्तति, धन, विद्या सुख, राज्य, स्वर्ग और मोक्ष प्रदान करते हैं।*

🙏 *ब्रह्मपुराण : इसके अनुसार 'जो व्यक्ति श्रद्धा-भक्ति से श्राद्ध करता है, उसके कुल में कोई भी दुःखी नहीं होता।' साथ ही ब्रह्मपुराण में वर्णन है कि 'श्रद्धा एवं विश्वास पूर्वक किए हुए श्राद्ध में पिण्डों पर गिरी हुई पानी की नन्हीं-नन्हीं बूंदों से पशु-पक्षियों की योनि में पड़े हुए पितरों का पोषण होता है। जिस कुल में जो बाल्यावस्था में ही मर गए हों, वे सम्मार्जन के जल से तृप्त हो जाते हैं।*

🌞 *~ अपना पंचांग ~* 🌞


🌷 *श्राद्ध में क्या करें क्या ना करें* 🌷

🌷 *श्राद्ध एकान्त में ,गुप्तरुप से करना चाहिये, पिण्डदान पर दुष्ट मनुष्यों की दृष्टि पडने पर वह पितरों को नहीं पहुचँता, दूसरे की भूमि पर श्राद्ध नहीं करना चाहिये, जंगल, पर्वत, पुण्यतीर्थ और देवमंदिर ये दूसरे की भूमि में नही आते, इन पर किसी का स्वामित्व नहीं होता, श्राद्ध में पितरों की तृप्ति ब्राह्मणों के द्वारा ही होती है, श्राद्ध के अवसर पर ब्राह्मण को निमन्त्रित करना आवश्यक है, जो बिना ब्राह्मण के श्राद्ध करता है, उसके घर पितर भोजन नहीं करते तथा श्राप देकर लौट जाते हैं, ब्राह्मणहीन श्राद्ध करने से मनुष्य महापापी होता है | (पद्मपुराण, कूर्मपुराण, स्कन्दपुराण )*

🌷 *श्राद्ध के द्वारा प्रसन्न हुये पितृगण मनुष्यों को पुत्र, धन, आयु, आरोग्य, लौकिक सुख, मोक्ष आदि प्रदान करते हैं , श्राद्ध के योग्य समय हो या न हो, तीर्थ में पहुचते ही मनुष्य को सर्वदा स्नान, तर्पण और श्राद्ध करना चाहिये,*

*शुक्ल पक्ष की अपेक्षा कृष्ण पक्ष और पूर्वाह्न की अपेक्षा अपराह्ण श्राद्ध के लिये श्रेष्ठ माना जाता है | (पद्मपुराण, मनुस्मृति)*

🌷 *सायंकाल में श्राद्ध नहीं करना चाहिये, सायंकाल का समय राक्षसी बेला नाम से प्रसिद्ध है, चतुर्दशी को श्राद्ध करने से कुप्रजा (निन्दित सन्तान) पैदा होती है, परन्तु जिसके पितर युद्ध में शस्त्र से मारे गये हो, वे चतुर्दशी को श्राद्ध करने से प्रसन्न होते हैं | (स्कन्दपुराण, कूर्मपुराण, महाभारत)*

🌷 *रात्रि में श्राद्ध नहीं करना चाहिये, उसे राक्षसी कहा गया है, दोनो संध्याओं में तथा पूर्वाह्णकाल में भी श्राद्ध नहीं करना चाहिये, दिन के आठवें भाग (महूर्त) में जब सूर्य का ताप घटने लगता है उस समय का नाम 'कुतप' है, उसमें पितरों के लिये दिया हुआ दान अक्षय होता है, कुतप, खड्गपात्र, कम्बल, चाँदी , कुश, तिल, गौ और दौहित्र ये आठो कुतप नाम से प्रसिद्ध है, श्राद्ध में तीन वस्तुएँ अत्यन्त पवित्र हैं, दौहित्र, कुतपकाल, तथा तिल, श्राद्ध में तीन वस्तुएँ अत्यन्त प्रशंसनीय हैं, बाहर और भीतर की शुद्धि, क्रोध न करना तथा जल्दबाजी न करना (मनुस्मृति, मत्स्यपुराण, पद्मपुराण, विष्णुपुराण)*


🌞 *~ अपना पंचांग ~* 🌞

🙏🍀🌷🌻🌺🌸🌹🍁🙏

अगला लेख: आज का पंचांग - 19 सितम्बर 2018



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अक्तूबर 2018
🌞 ~ *आज का अपना पंचांग* ~ 🌞⛅ *दिनांक 09 अक्टूबर 2018*⛅ *दिन - मंगलवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)*⛅ *शक संवत -1940*⛅ *अयन - दक्षिणायन*⛅ *ऋतु - शरद*⛅ *मास - अश्विन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार भाद्रपद)*⛅ *पक्ष - कृष्ण* ⛅ *तिथि - अमावस्या सुबह 09:16 तक तत्पश्चात प्रतिपदा*⛅ *नक्षत्र - हस
09 अक्तूबर 2018
12 सितम्बर 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 12 सितम्बर 2018⛅ दिन - बुधवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - शरद⛅ मास - भाद्रपद⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - तृतीया रात्रि 04:07 तक तत्पश्चात चतुर्थी⛅ नक्षत्र - चित्रा 13 सितम्बर रात्रि 01:08 तक तत्पश्चात स्वाति⛅ योग - ब्रह्
12 सितम्बर 2018
18 सितम्बर 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 18 सितम्बर 2018⛅ दिन - मंगलवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - शरद⛅ मास - भाद्रपद⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - नवमी रात्रि 08:04 तक तत्पश्चात दशमी⛅ नक्षत्र - मूल सुबह 07:35 तक तत्पश्चात पूर्वाषाढा⛅ योग - सौभाग्य रात्रि 12:25
18 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 17 सितम्बर 2018⛅ दिन - सोमवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - शरद⛅ मास - भाद्रपद⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - अष्टमी शाम 05:44 तक तत्पश्चात नवमी⛅ नक्षत्र - मूल पूर्ण रात्रि तक ⛅ योग - आयुष्मान् रात्रि 11:32 तक तत्पश्चात सौभा
17 सितम्बर 2018
18 सितम्बर 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 18 सितम्बर 2018⛅ दिन - मंगलवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - शरद⛅ मास - भाद्रपद⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - नवमी रात्रि 08:04 तक तत्पश्चात दशमी⛅ नक्षत्र - मूल सुबह 07:35 तक तत्पश्चात पूर्वाषाढा⛅ योग - सौभाग्य रात्रि 12:25
18 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
🌞 ~ आज का अपना पंचांग ~ 🌞⛅ दिनांक 12 सितम्बर 2018⛅ दिन - बुधवार ⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)⛅ शक संवत -1940⛅ अयन - दक्षिणायन⛅ ऋतु - शरद⛅ मास - भाद्रपद⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - तृतीया रात्रि 04:07 तक तत्पश्चात चतुर्थी⛅ नक्षत्र - चित्रा 13 सितम्बर रात्रि 01:08 तक तत्पश्चात स्वाति⛅ योग - ब्रह्
12 सितम्बर 2018
15 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
15 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x