उसने कभी निराश नही किया

26 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (69 बार पढ़ा जा चुका है)

कहानी

उसने कभी निराश नहीं किया-4

विजय कुमार तिवारी

प्रेम में जादू होता है और कोई खींचा चला जाता है। सौम्या को महसूस हो रहा है,यदि आज प्रवर इतनी मेहनत नहीं करता तो शायद कुछ भी नहीं होता। सब किये धरे पर पानी फिर जाता। भीतर से प्रेम उमड़ने लगा। उसने खूब मन से खाना बनाया। प्रवर की थकान कम नहीं हुई थी परन्तु एक संतोष था कि काम हो गया। अब सौम्या पीएचडी कर लेगी और उसके नाम मे डाक्टर की उपाधि जुड़ जायेगी। प्रवर भीतर ही भीतर सौम्या के प्रति सम्मान का भाव रखता था। इसके लिए उसके पास अपना तर्क था। उसने अपने तर्क को कभी कमजोर नहीं पड़ने दिया। तीन महत्वपूर्ण विन्दु थे जो उसके तर्क के आधार थे। पहला कारण सौम्या की भक्ति थी। उसने कभी भी अपनी पूजा नहीं छोड़ी। यह संस्कार उसे विरासत में मिला है। अक्सर कहा करती कि मेरे कुल-खानदान में साधु-सन्त होते रहे हैं और मुझे भी वही करना है। शादी तो मैं करना ही नहीं चाहती थी। प्रवर भी इस बात को समझता था परन्तु सांसारिक जीवन में दोनो उतर चुके थे अतः उसकी आँच के चलते भाव-दुराव भी होता रहता। प्रवर में तब क्रोध की मात्रा अधिक थी और गाहे-बगाहे आ ही जाता था। सौम्या कई बार समझ ही नहीं पाती थी कि कारण क्या था। उसमें भी एक खास तरह की ठसक है जो शायद दोनो को थोड़ा विचलित करता रहता है। प्रवर प्रेम की रुमानी दुनिया में जाना चाहता था और सौम्या प्रेम की अपनी परिभाषा में जीना चाहती थी।इस मतभेद का बहुत प्रभाव तो नहीं पड़ता था लेकिन दोनो कहीं कुछ खोते हुए महसूस किया करते थे। इसे दोनो अपने-अपने तरीके से सुलझा लेते थे और जीवन लगभग सुखमय ही रहा। दूसरी एक बहुत महत्वपूर्ण बात थी जिसके लिए प्रवर सौम्या को श्रेष्ठ मानता था और उसका आदर करता था। हालाँकि उसने भी एम.ए क़िया था परन्तु हमेशा दूसरी श्रेणी में उत्तीर्ण हुआ था जबकि सौम्या सम्मान के साथ प्रथम श्रेणी में।यूजीसी की परीक्षा पास करके वैसे ही सौम्या आगे हो गयी थी और कुछ सालों बाद उसके पास डाक्टरेट की उपाधि होगी। वैसे उन दोनो के बीच कभी यह मुद्दा रहा ही नहीं। प्रवर का हमेशा मानना है कि नारी को शिक्षित होना चाहिए। शादी के समय सौम्या की बीए आनर्स की परीक्षा बाकी थी। प्रवर ने परीक्षा होने तक उसे मायके में ही रहने दिया और फिर अगली शिक्षा के लिए भी कोई रोक नहीं लगाई।

शोध चल ही रहा था और जीवन भी,उसी समय सौम्या ने दूसरी पुत्री को जन्म दिया। परमात्मा की कृपा से प्रवर की विभागीय पदोन्नति भी हुई और उसे बड़ा शहर छोड़ना पड़ा। समस्या बड़ी बेटी की थी। उसे एक बहुत अच्छे स्कूल में प्रवेश मिला था जिसे छोड़ना उचित नहीं था। समाधान ईश्वर ने पहले से ही कर रखा था। उसके नाना-नानी इस शहर में आ चुके थे और फिर एक बार बेटी अपनी नानी के साथ रह गयी।

नयी जगह की स्थिति बिलकुल भिन्न रही। यहाँ शहर जैसा कुछ भी नहीं था और कोई देहाती गाँव भी नहीं कहा जा सकता। रास्तों के दोनो तरफ लम्बाई में दूर-दूर तक घर बने हुए थे और बहुत सारी आवश्यक सुविधाओं का अभाव था। प्रवर ने सोचा कि जब इतने सारे लोग रह रहे हैं,जी रहे हैं तो उसे भी दुखी नहीं होना चाहिए।यहाँ बहुत से ऐसे लोग मिले जो धार्मिक विचार के थे। प्रवर को एक मित्र ने किसी आश्रम में चलने को कहा। उसके पहले मित्र और उनके कुछ साथी घर में आकर उस आश्रम के बारे में अपने-अपने अनुभव सुनाये।

किसी शनिवार की शाम प्रवर की उन लोगो के साथ आश्रम की यात्रा हुई। सुनसान रास्तों और बीच के गाँवों से गुजरते हुए लगभग 26-27 किमी की दूरी तय करके सभी वहाँ पहुँचे। गाँव पार करने के बाद जंगल से होते हुए जब आश्रम परिसर में सभी ने प्रवेश किया तो एक अद्भूत अनुभव प्रवर को हुआ। लगा,जैसे उसका शरीर हल्का हो गया है मानो कोई बोझ था जो उतर गया है और एक तरह की शान्ति का अनुभव हुआ। सुकून मिला और अच्छा लगा। ऐसी ही शान्ति उसे तब मिलती थी जब अपने अध्ययन काल में नियमित शंकर जी के मन्दिर में जाया करता था। मन की शान्ति मिलती थी। आश्रम कोई बहुत बड़ा नहीं था। खपड़ापोश अनेक छोटे-छोटे कमरे,बीच में नाम-कीर्तन के लिए गोलाकार नाम स्थान,पश्चिम तरफ कात्यायनी माँ के लिए पंडाल,पूर्व में हरि मन्दिर,तुलसी का बड़ा सा चौरा,हरि मन्दिर से सटा हुआ तीन कमरों का घर,उसके पीछे बड़ा और लम्बा सा बरामदा जिसके पीछे लम्बाई में तीन और कमरे। इन्हीं कमरों में से एक में पूज्य ठाकुर निवास करते थे।

जब प्रवर वहाँ पहुँचा तो सूर्य भगवान अस्ताचल को जा चुके थे और आकाश में चाँद का आगमन हो चुका था। हरि मन्दिर से सटे उत्तर की ओर एक चारपाई पर पूज्य ठाकुर विराजमान थे। किसी भी रुप में उन्हें साधु नहीं कहा जा सकता।हमारे घर के एक साधारण बूढ़े बाबा की तरह थे। ना कोई टीका,ना त्रिपुण्ड,ना बड़े-बड़े बाल,केवल धोती और गमछा। विगत 40 वर्षो से उन्हें अपनी आँखों से दिखाई नहीं देता। श्रद्धा से प्रवर का सिर झुक गया और उनकी मधुर वाणी ने मन मोह लिया। सच ही कहा गया है कि परमात्मा की कृपा से ही सन्त-महात्माओं के दर्शन होते हैं। प्रवर से उन्होने बहुत सी बातें की और कहा कि परमात्मा कृपा करते हैं।

प्रवर विह्वल हो उठा और लगा कि जिस गुरु की तलाश थी,वह यही हैं।रात में लौटकर उन्हीं के बारे में सोचता रहा और बार-बार ईश्वर को धन्यवाद देता रहा। सबसे अच्छा लगा कि उन्होंने कोई विधि-विधान नहीं बताया और ना ही किसी तरह की दक्षिणा की मांग हुई। नाम-स्थान पर चौबिसो घंटे नाम हो रहा था। भगवत्कृपा से ओत-प्रोत होकर लौटा और माना कि अब उसके जीवन मे कोई भटकाव नहीं आयेगा।

सचमुच परमात्मा की कृपा तो हुई ही है। अब उसकी जिन्दगी सही रास्ते पर आ गयी है। प्रवर की आँखें भर आयीं। परमात्मा ने कभी उसे निराश नहीं किया। हर स्थिति-परिस्थिति से उबार लाया और हर पल साथ खड़ा रहा। प्रवर की समझ में आ गया है कि भीतर-बाहर साफ रखना है और परमात्मा पर भरोसा करना है। कर्म प्रधान संसार में कर्म करना ही चाहिए और विगत जन्मों के भोगों को भोगने के लिए तैयार रहना चाहिए। परमात्मा कभी किसी को निराश नही करता।


अगला लेख: उसने कभी निराश नही किया -3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-2विजय कुमार तिवारीसौम्या शरीर से कमजोर थी परन्तु मन से बहुत मजबूत और उत्साहित। प्रवर जानता था कि ऐसे में बहुत सावधानी की जरुरत है। जरा सी भी लापरवाही परेशानी में डाल सकती है। पहले सौम्या ने अपनी अधूरी पढ़ायी पूरी की और मेहनत से आगे की तैयारी
26 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
कहानीबदले की भावनाविजय कुमार तिवारीभोर की रश्मियाँ बिखेरने ही वाली थीं,चेतन बाहर आने ही वाला था कि उसके मोबाईल पर रिंगटोन सुनाई दिया। उसने कान से लगाया।उधर से किसी के हँसने की आवाज आ रही थी और हलो का उत्तर नही। कोई अपरिचित नम्बर था और हँसी भी मानो व्यंगात्मक थी। कौन हो सकती है? बहुत याद करने पर भी क
12 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नही किया-3विजय कुमार तिवारीजिस प्रोफेसर के पथ-प्रदर्शन में शोधकार्य चल रहा था,वे बहुत ही अच्छे इंसान के साथ-साथ देश के मूर्धन्य विद्वानों में से एक थे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की निर्धारित तिथि के पूर्व शोध का प्रारुप विश्वविद्यालय मे जमा करना था। मात्र तीन दिन बचे थे।विभागाध्य
26 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानी उसने कभी निराश नहीं किया-1विजय कुमार तिवारी"अब मैं कभी भी ईश्वर को परखना नहीं चाहता और ना ही कुछ माँगना चाहता हूँ। ऐसा नहीं है कि मैंने पहले कभी याचना नहीं की है और परखने की हिम्मत भी। हर बार मैं बौना साबित हुआ हूँ और हर बार उसने मुझे निहाल किया है।दावे से कहता हूँ-गिरते हम हैं,हम पतित होते है
26 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
को
मौलिक कविता 21/11/1984कोख की रोशनीविजय कुमार तिवारीतुम्हारी कोख में उगता सूरज,पुकारता तो होगा?कुछ कहता होगा,गाता होगा गीत? फड़कने नहीं लगी है क्या-अभी से तुम्हारी अंगुलियाँ?बुनने नहीं लगी हो क्या-सलाईयों में उन के डोरे?उभर नहीं रहा क्या-एक पूरा बच्चा?तुम्हारे लिए रोते हुए,अंगली थामकर चलते हुए। उभर र
12 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
जन्म-जन्मान्तर के वैर के लिए क्षमा और प्रार्थना विजय कुमार तिवारी अजीब सी उहापोह है जिन्दगी में। सुख भी है,शान्ति भी है और सभी का सहयोग भी। फिर भी लगता है जैसे कटघरे में खड़ा हूँ।घर पुराना और जर्जर है। कितना भी मरम्मत करवाइये,कुछ उघरा ही दिखता है। इधर जोड़िये तो उधर टूटता है। मुझे इससे कोई फर्क नहीं
23 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नही किया-3विजय कुमार तिवारीजिस प्रोफेसर के पथ-प्रदर्शन में शोधकार्य चल रहा था,वे बहुत ही अच्छे इंसान के साथ-साथ देश के मूर्धन्य विद्वानों में से एक थे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की निर्धारित तिथि के पूर्व शोध का प्रारुप विश्वविद्यालय मे जमा करना था। मात्र तीन दिन बचे थे।विभागाध्य
26 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
गा
कहानीगाँव की लड़की का अर्थशास्त्रविजय कुमार तिवारीगाँव में पहुँचे हुए अभी कुछ घंटे ही बीते थे और घर में सभी से मिलना-जुलना चल ही रहा था कि मुख्यदरवाजे से एक लड़की ने प्रवेश किया और चरण स्पर्श की। तुरन्त पहचान नहीं सका तो भाभी की ओर प्रश्न-सूचक निगाहों से देखा। "लगता है,चाचा पहचान नहीं पाये,"थोड़ी मु
12 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x