उसने कभी निराश नही किया -2

26 सितम्बर 2018   |  विजय कुमार तिवारी   (68 बार पढ़ा जा चुका है)

कहानी

उसने कभी निराश नहीं किया-2

विजय कुमार तिवारी

सौम्या शरीर से कमजोर थी परन्तु मन से बहुत मजबूत और उत्साहित। प्रवर जानता था कि ऐसे में बहुत सावधानी की जरुरत है। जरा सी भी लापरवाही परेशानी में डाल सकती है। पहले सौम्या ने अपनी अधूरी पढ़ायी पूरी की और मेहनत से आगे की तैयारी करने लगी। मैट्रिक, इण्टरमीडिएट और बीए आनर्स सभी परीक्षाओं में उसने सम्मानपूर्वक प्रथम श्रेणी प्राप्त की है। उसकी चाह थी कि इस बार भी उसे अच्छे अंक मिले। स्नात्कोत्तर की परीक्षा होनेवाली है।एक दिन प्रवर के कवि-मित्र आये जो उसी विश्व-विद्यालय में पढ़ाते थे। प्रवर की रुचि साहित्य में भी है और वह ऐसे साहित्यिक आयोजनों में आने-जाने लगा था। हिन्दी विषय को लेकर उसने इण्टर तक ही पढ़ायी की थी परन्तु मातृभाषा हिन्दी होने और पढ़ने-लिखने में अभिरुचि के कारण उसका कविता,कहानी लेखन बहुत पहले से ही शुरू हो गया था। इस शहर में उसे सुअवसर मिले और बडे-बडे मंच भी। शहर के लगभग सभी साहित्यकारों से मिलना-जुलना शुरु हो गया। आकाशवाणी के कार्यक्रमों में भाग लेने लगा और कहानियाँ अखबारों,पत्रिकाओं में छपने लगी। उसकी कहानियों पर बड़ी-बड़ी गोष्ठियाँ हुईं और घर में भी साहित्यिकों का आना-जाना था।अन्य दूसरे शहरों के कार्यक्रमों में भी प्रवर भाग लेने लगा। एक बार उसे कहानी पर आयोजित बड़े समारोह में निमन्त्रित किया गया जिसमें देश के 15 बडे कथाकार आने वाले थे।सौम्या को भी आनन्द मिलता था ऐसे नाम-धन्य साहित्यिकों को सुनकर।उनके लिए चाय-पानी की व्यवस्था सहर्ष करती और उनकी चर्चाओं में भाग भी लेती थी।

कवि मित्र ने कहा,"क्यों नहीं भाभी जी को यूज़ीसी की परीक्षा दिलवा देते हैं?"फिर उन्होंने विस्तार से जानकारी दी। उसी शाम एक दूसरा साहित्य-प्रेमी आया जो उसी विश्व-विद्यालय में हिन्दी से एम.ए कर रहा था। प्रवर ने कवि-मित्र के सलाह की चर्चा की। उसे भी यह परीक्षा देनी थी। उसने यूजीसी वाला फार्म ला दिया। सौम्या की परीक्षा अच्छी हुई और अगले पाँच वर्षो की शोध-छात्रवृत्ति के लिए उसका चयन हो गया। यह उसकी बहुत सही और सामयिक कृपा रही क्योंकि प्रवर की आय से घर खर्च चलाना मुश्किल हो रहा था और सौम्या की अथक मेहनत का भी सुखद परिणाम था।

सौम्या के माता-पिता वापस अपने घर कुछ दिनों के लिए अवकाश पर आ रहे थे। सौम्या और प्रवर स्टेशन पहुँच गये। उन्हें यहाँ गाड़ी बदलनी थी क्योंकि जिस गाड़ी से वे आ रहे थे वह उनके स्टेशन पर नहीं रुकती है। वे सभी गाड़ी से उतरे और प्लेटफार्म पर एक खाली बेंच देखकर बैठ गये। सौम्या ने बेटी को गोद में उठा लिया और चुमने,सहलाने लगी। वह भी चिर प्यासी सी माँ की गोद में दुबक गयी और उत्सुक निगाहों से प्रवर को देखने लगी। प्रवर का ध्यान भी उसी पर था और भीतर बहुत कुछ उमड़ रहा था। बाँह फैलाये उसने बेटी को देखा और वह धीरे से माँ की गोद से उतर कर पिता की गोद में आ गयी। प्रवर की आँखें भर आयी। वह उठ खड़ा हुआ और बेटी को गोद में लिए इधर-उधर टहलने लगा ताकि कोई देख ना ले। बेटी लगभग दो साल की होनेवाली थी। जब उनकी अगली गाड़ी आयी तो बेटी को उसकी नानी ने प्रवर से अपनी गोद में ले लिया। तय यह हुआ था कि दो दिनों बाद प्रवर और सौम्या जाकर बेटी को ले आयेंगे। डर था कि कहीं वह भूल गयी होगी तो दो-चार दिन साथ रहकर ले आने से घुलमिल जायेगी।

अचानक शाम में छोटे मामा के साथ बेटी आ गयी। सुखद अनुभूति हुई प्रवर और सौम्या को। शायद यही होता है-खून का रिश्ता। मामा ने बताया कि स्टेशन से गाड़ी खुलने के बाद से ही इसने नानी को मारना,नोंचना शुरु कर दिया."मुझे मेरे पापा की गोद से क्यों उतारी? मुझे पापा के पास जाना है।" उसने रोना-पीटना शुरु कर दिया। दिन भर रोयी है। तब से कुछ खायी भी नहीं है। बस पापा के पास जाना है। बाध्य होकर ले आना पड़ा । आते ही प्रवर की गोद में बैठ गयी और सिर उठाये एकटक पापा को देखती रही। प्रवर भी विह्वल हो उठा। लोग इसीलिए कहते हैं कि बेटियाँ पिता की दुलारी होती हैं। प्रवर गॊद में उठाये घर से बाहर निकल आया और देर तक टहलता रहा। मन मे उठ रहे भावनाओं के ज्वार से लड़ता रहा। सौम्या अपने जज्बात को रोके सब देखती-समझती रही और रात के लिए भोजन बनाने लगी। बेटी अपने तरीके से महीनों अलग होने की पीड़ा अपनी तुतली बोली में व्यक्त करती रही। उसने यह भी बताया कि नाना के साथ रोज शाम में घुमती थी। फल और बेलून लेती थी। नानी के साथ खेलती थी। बात करते-करते चुप हो जाती थी और प्रवर को देखने लगती मानो पूछ रही हो कि आप दोनो तब कहाँ थे?प्रवर का गला भर आता। वह कहना चाहता था कि तुम्हें सब बताऊँगा जब बड़ी हो जाओगी। सौम्या और प्रवर के बीच में सॊते हुए शायद उस नन्हीं सी बेटी को बहुत सुकून और शान्ति मिलती थी।सौम्या का प्यार करने का तरीका भी अद्भूत है। वह कभी दिखाना या जताना नहीं चाहती और खुश है कि दुखी,कई बार अनुमान लगाना मुश्किल होता है। शायद उसका उपरी धरातल बहुत सख्त है और भीतर प्रेम का अजस्र स्रोत बहता रहता है। प्रवर ने सीख लिया है,उसके उपरी आवरण का भेदन करना और भीतर केअथाह सागर में गोते लगाना। बेटी को शायद सीखने,समझने में समय लगेगा।

एमए भी उसने अच्छे अंक के साथ प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की और उसका शोधकार्य शुरु हो गया। बेटी को तैयार करना और समय से विश्वविद्यालय पहुँचाना उसका सबसे बड़ा काम था। शोध के साथ-साथ उसे नित्य एक-दो कक्षायें भी लेनी पड़ती थीं और महाकवि कालिदास रचित मेघदूत पढ़ाना था। छात्र-छात्राओं और सौम्या की उम्र में बहुत अंतर नहीं था। सौम्या को स्वयं श्रृंगार में कोई अभिरुचि नहीं थी और ना ही वह कोई रुमानी स्वभाव की थी। इसे वह प्रेम नहीं मानती। प्रेम तो महसूस करने की चीज है,सरेआम दिखाने या चर्चा करने की नहीं। छात्र-छात्राओं की हरकतों और तौर-तरीकों से उसे खुशी नहीं होती। घर आकर प्रवर से इस पर बहुत सी बातें करती और कहानियाँ सुनाती। प्रवर हँस देता। सौम्या खीझ उठती."तुम भी उन्हीं का पक्ष लेते हो।" प्रवर समझाता कि दुनिया ऐसी ही है।


अगला लेख: उसने कभी निराश नही किया -3



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 सितम्बर 2018
आत्मा और पुनर्जन्मविजय कुमार तिवारी यह संसार मरणधर्मा है। जिसने जन्म लिया है,उसे एक न एक दिन मरना होगा। मृत्यु से कोई भी बच नहीं सकता। इसीलिए हर प्राणी मृत्यु से भयभीत रहता है। हमारे धर्मग्रन्थों में सौ वर्षो तक जीने की कामना की गयी है-जीवेम शरदः शतम। ईशोपनिषद में कहा गया है कि अपना कर्म करते हुए मन
23 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
जन्म-जन्मान्तर के वैर के लिए क्षमा और प्रार्थना विजय कुमार तिवारी अजीब सी उहापोह है जिन्दगी में। सुख भी है,शान्ति भी है और सभी का सहयोग भी। फिर भी लगता है जैसे कटघरे में खड़ा हूँ।घर पुराना और जर्जर है। कितना भी मरम्मत करवाइये,कुछ उघरा ही दिखता है। इधर जोड़िये तो उधर टूटता है। मुझे इससे कोई फर्क नहीं
23 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
आत्मा से आत्मा का मिलनविजय कुमार तिवारीभोर में जागने के बाद घर का दरवाजा खोल देना चाहिए। ऐसी धारणा परम्परा से चली आ रही है और हम सभी ऐसा करते हैं। मान्यता है कि भोर-भोर में देव-शक्तियाँ भ्रमण करती हैं और सभी के घरों में सुख-ऐश्वर्य दे जाती हैं। कभी-कभी देवात्मायें नाना र
23 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
गा
कहानीगाँव की लड़की का अर्थशास्त्रविजय कुमार तिवारीगाँव में पहुँचे हुए अभी कुछ घंटे ही बीते थे और घर में सभी से मिलना-जुलना चल ही रहा था कि मुख्यदरवाजे से एक लड़की ने प्रवेश किया और चरण स्पर्श की। तुरन्त पहचान नहीं सका तो भाभी की ओर प्रश्न-सूचक निगाहों से देखा। "लगता है,चाचा पहचान नहीं पाये,"थोड़ी मु
12 सितम्बर 2018
12 सितम्बर 2018
तु
कविता-12/12/1984तुम्हारे लिएविजय कुमार तिवारीबाट जोहती तुम्हारी निगाहें,शाम के धुँधलके का गहरापन लिए,दूर पहाड़ की ओर से आती पगडण्डी पर,अंतिम निगाह डालजब तलक लौट चुकी होंगी। उम्मीदों का आखिरी कतरा,आखिरी बूँदतुम्हारे सामने हीधूल में विलीन हो चुका होगा। आशा के संग जुड़ी,सारी आकांक्षायेंमटियामेट हो ,दम
12 सितम्बर 2018
21 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
21 सितम्बर 2018
10 अक्तूबर 2018
गौतम बुद्ध अपने शिष्यों के साथ एक गांव के पास से गुजरे। गांव के बच्चों को एक खेल के मैदान में सहम कर खड़े हुए देखा। गौतम बुद्ध ने बच्चों से पूछा कि किस बात से वे डरे हुए हैं?बच्चों ने गौतम बुद्ध को बताया कि यहां पर वो सारे गेंद से खेल रहे थे। लेकिन वह गेंद उस बरगद के पेड़ के नीचे चली गई है। अब वह अ
10 अक्तूबर 2018
16 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:ValidateAgainstSchemas> <w:Sav
16 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
कहानीउसने कभी निराश नहीं किया-4विजय कुमार तिवारीप्रेम में जादू होता है और कोई खींचा चला जाता है। सौम्या को महसूस हो रहा है,यदि आज प्रवर इतनी मेहनत नहीं करता तो शायद कुछ भी नहीं होता। सब किये धरे पर पानी फिर जाता। भीतर से प्रेम उमड़ने लगा। उसने खूब मन से खाना बनाया। प्रवर की थकान कम नहीं हुई थी परन्
26 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x