सनातन धर्म का दर्शन :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (96 बार पढ़ा जा चुका है)

सनातन धर्म का दर्शन :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म के आर्षग्रंथों (गीतादि) में मनुष्य के कल्याण के लिए तीन प्रकार के योगों का वर्णन मिलता है :- ज्ञानयोग , कर्मयोग एवं भक्तियोग | मनुष्य के लिए कल्याणकारक इन तीनों के अतिरिक्त चौथा कोई मार्ग ही नहीं है | प्रत्येक मनुष्य को अपने कल्याण के लिए इन्हीं तीनों में से किसी एक को चुनना ही पड़ेगा | यह मानव शरीर बहुत ही दुर्लभ है स्वर्ग में रहने वाले देवता , पाताल में रहने वाले असुर , नरक में पीड़ा सहने वाले अनेकानेक जीव एवं भिन्न भिन्न लोकों में रहने वाले यक्ष , किन्नर , गंधर्व आदि इस दुर्लभ मानव शरीर की कामना करते हैं | तीनों लोकों मानव शरीर ही ऐसा है जिस शरीर में आकर अन्त:करण की शुद्धि होने पर ही अपने कर्मों के फलस्वरूप ज्ञान एवं भक्ति की प्राप्ति होती है | स्वर्ग एवं नरक में निवास करने वाले भोगप्रधान शरीर किसी भी साधन को साधने में उपयुक्त नहीं हैं | किसी भी साधन को साधने का सर्वोत्तम कारक है दुर्लभ मानव शरीर | इसीलिए गोस्वामी तुलसीदास जी ने मानस में भाव दिया है :-- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा !" अर्थात यह मानव शरीर साधना का धाम एवं मोक्ष प्राप्त का द्वार खोलने वाला है ! इस दुर्लभ मानव शरीर को पा करके भी जिसने इसके महत्व को न समझा उससे बड़ा महामूर्ख कोई अन्य हो ही नहीं सकता | यद्यपि यह मानव शरीर भी नाशवान ही है एक दिन इसे भी मृत्यु का ग्रास बन जाना परंतु यह भी सत्य है कि इसी शरीर के द्वारा मुक्त होने का साधन साधा जा सकता है |* *आज के चकाचौंध भरे आधुनिक युग में चुधियाये अधिकतर मनुष्यों को उपरोक्त तीनों ही योग मनुष्यों को हास्यास्पद ही लगते हैं | ज्ञानी तो बहुत हैं परंतु उनके पास कर्म नहीं है , ज्ञान का सदुपयोग कम एवं दुरुपयोग ज्यादा ही होने लगा है | भक्तिरस में डूबे अनेक लोग दिखाई पड़ जायेंगे जो दूसरों को भक्तियोग अपनाकर सबकुछ भगवान पर छोड़ देने का उपदेश देते रहते हैं परंतु स्वयं भक्ति कौसों दूर दिखाई पड़ते हैं | मृत्यु प्रतिपल शीश पर नाच रही है तो ऐसे में क्या करना चाहिए ?? मेरा "आचार्य अर्जुन तिवारी" का मानना है कि यह शरीर एर वृक्ष है जिसमें घोंसला बनाकर जीवरूपी पक्षी रह रहा है | यमदुत रूपी लकड़हारे इस वृक्ष को प्रतिपल काटते रहते हैं | ऐसे में मनुष्य को उस पक्षी की तरह व्यवहार करना चाहिए जो वृक्ष कटने के पहले ही अपने घोंसले का त्याग करके उड़ जाता है ! मनुष्य को भी मृत्यु के पूर्व ही अपने कर्मों के माध्यम से यह शरीर रूपी वृक्ष का त्याग करते उड़ जाना (मोक्ष प्राप्त कर लेना) चाहिए | ऐसा वही मनुष्य कर पाता है जो यह जान गया है कि हमें जितनी भी सांसें परमात्मा से मिली हैं वह प्रतिपल कम ही होती जा रही हैं | परंतु इस पावन दुर्लभ शरीर को आज के लोग सिर्फ व्यवस्थित करने में ही व्यस्त दिखाई पड़ते हैं | अपने कल्याणकारक तीनों योगों को लगभग भूल चुके मनुष्य का कल्याण भी उसी प्रकार हो रहा है |* *इन तीनों योगों में से एक को ही अपनाने का प्रयाय करते हुए इस परम दुर्लभ मानव शरीर को कल्याणमय बनाने का प्रयास प्रत्येक मानव को करना ही चाहिए |*

अगला लेख: कलंक चतुर्थी :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 सितम्बर 2018
*किसी भी राष्ट्र का निर्माण व्यक्ति द्वारा होता है,और व्यक्ति का निर्माण एक नारी ही कर सकती है और करती भी है। शायद इसीलिए सनातन काल से नारियों को देवी की संज्ञा दी गई है । लिखा है ---- नारी निंदा मत करो,नारी नर की खान। नारी ते नर होत हैं, ध्रुव-प्रहलाद समान।।राष्ट्र निर्माण में नारियों के योगदान को
21 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*अखिल ब्रह्माण्ड में जितने भी जड़ चेतन हैं सबमें कुछ न कुछ रहस्य छुपा हुआ है | इन रहस्यों को जानने का जितना प्रयास पूर्व में हमारे ऋषि - महर्षियों ने किया उससे कहीं अधिक आज के वैज्ञानिक कर रहे हैं , परन्तु अभी तक यह नहीं कहा जा सकता कि सारे रहस्यों से पर्दा उठ पाया हो | इन सभी चराचर जीवों में सबसे
17 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*संसार में जिसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु भी निश्चित है | अमर इस संसार में कोई नहीं है | जन्म एवं मृत्यु के बीच का जो समय होता है उसे जीवन कहा जाता है | मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेक अनुभव करता रहता है | सुख - दुख , शोक - प्रसन्नता , हानि - लाभ आदि समय समय पर मनुष्य को प्राप्त होते रहते हैं |
20 सितम्बर 2018
21 सितम्बर 2018
*नारी का हमारे समाज में क्या स्थान है यह किसी से छिपा नहीं है। मां, बहिन और पत्नी के रूप में सदैव पूज्य रही है। जो आदर जो मान उसे मिला वही किसी से छिपा नहीं है। वह जननी है बड़े-बड़े महापुरुषों की। भगवान महावीर जैसे महापुरुष उसी की कोख से जन्में। हमारी संस्कृति, हमारी सभ्यता, हमारे इतिहास नारी की महा
21 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में जहाँ ३३ करोड़ देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है वहीं प्रमुख तीन देव (ब्रह्मा , विष्णु , महेश) भी कहे गये हैं | इन प्रमुख त्रिदेवोों में ब्रह्मा जी सृजन करते करते हैं , विष्णु जी पालन करते हैं और भगवान रुद्र को संहार का कारक माना जाता है | सृजन और संहार जहाँ प्रथम और अंतिम चरण है वहीं
20 सितम्बर 2018
15 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म एवं उसकी मान्यतायें इतनी वृहद एवं विस्तृत हैं कि इनका जोड़ सम्पूर्ण विश्व में कहीं नहीं मिलेगा | सम्पूर्ण विश्व ने कभी न कभी , किसी न किसी रूप में हमारे देश की संस्कृति से कुछ न कुछ शिक्षा अवश्य ग्रहण की है | बस अंतर यह है कि उन्होंने उन मान्यताओं को स्वीक
15 सितम्बर 2018
25 सितम्बर 2018
वो
क्या दोष था मेरा बस मैं एक लडकी थी अपना बोझ हल्का करने का जिसे बालविवाह की बलि चढा दिया मैं लिख पढकर समाज का दस्तूर मिटा एक नई राह बनाना चाहती थी मजबूर, बेवश,मंडप की वेदी पर बिठा दिया दुगुनी उम्र के वर से सात फेरे पडवा दिए वक्त की मार बिन बुलाए चली आई छीट की चुनरिया के सब रंग धुल गए कल की शुभ लक्ष
25 सितम्बर 2018
16 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में मनुष्य के बचपन का पूरा प्रभाव दिखता है | सम्पूर्ण जीवन की जड़ बचपन को कहा जा सकता है | जिस प्रकार एक बहुमंजिला भवन को सुदृढ बनाने के लिए उस भवन की बुनियाद ( नींव) का मजबूत होना आवश्यक हे उसी प्रकार मनुष्य को जीवन में बहुमुखी , प्रतिभासम्पन्न बनने के पीछे बचपन की स्थितियां - परिस्थितिय
16 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
*परमात्मा की बनाई हुई इस सृष्टि को सुचारु रूप से संचालित करने में पंचतत्व एवं सूर्य , चन्द्र का प्रमुख योगदान है | जीवों को ऊर्जा सूर्य के माध्यम से प्राप्त होती है | सूर्य की गति के अनुसार ही सुबह , दोपहर एवं संध्या होती है | सनातन धर्म में इन तीनों समय (प्रात:काल , मध्यान्हकाल एवं संध्याकाल ) का व
26 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x