हितैषियों की पहचान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 सितम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (57 बार पढ़ा जा चुका है)

हितैषियों की पहचान :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मानव समाज में एक दूसरे के ऊपर दोषारोपण करने का कृत्य होता रहा है | जबकि हमारे आर्ष ग्रंथों में स्थान - स्थान पर इससे बचने का निर्देश देते हुए लिखा भी है :- "परछिद्रेण विनश्यति" अर्थात दूसरों के दोष देखने वाले का विनाश हो जाता है अर्थात अस्तित्व समाप्त हो जाता है | इसी से मिलता एक शब्द है "निंदा" | परंतु दोष निकालने एवं निंदा करने में भिन्नता है | दोष निकालना अहितकारी है परंतु आखिर दोष निकालना किसे कहा जा सकता है ?? किसी की कमियों को बताना ही दोष निकालने की परिभाषा मानी गयी है | परंतु यही कार्य जब आपके माता - पिता , गुरुजन व परिजन के द्वारा किया जाता है तो उसे दोष निकालना नहीं कहा जा सकता | जब माता - पिता अपने बच्चों में या गुरुजन अपने शिष्यों में किसी ऐसे दोष का अवलोकन करते हैं जो कि उनके भविष्य के उचित नहीं कहा जा सकता तो वे बच्चे से उसका दोष बताकर सुधार करने को कहते हैं ! जब बच्चा वह गल्ती न सुधारकर उसी मार्ग का अनुगामी होने लगता है तो बच्चे के उज्ज्वल भविष्य के लिए उसे दण्डित भी करने का कार्य माता - पिता व गुरुजनों के द्वारा किया जाता रहा है | अपने बच्चे को कोई भी दण्ड नहीं देना चाहता परंतु यदि दण्ड देने से सुधार होने की आशा हो तो यह कार्य भी किया जाता है | क्या माता - पिता के इस कार्य को दोष निकालने या निंदा करने की श्रेणी में रखा जा सकता है ?? शायद नहीं | प्रत्येक व्यक्ति के लिए एक ही नीति नहीं हो सकती |* *आज जहाँ सभ्यताएं बदली , समाज बदल गए , वहीं समाज के नियम एवं सूक्तियां भी बदल कर रह गयी हैं | आज यदि किसी को उसकी कमी बताकर सावधाव करने का प्रयास करो तो वह उस कमी में सुधार न करके आपको ही अहंकारी एवं परदोष दर्शक सिद्ध करने पर उतारू हो जाता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के समाज एवं नई पीढी की मानसिकता को देखते हुए यह कहने पर विवश हो रहा हूँ कि आज जब एक पिता या गुरु अपने पुत्र से कहता है कि बेटा यह तुम्हारी कमी आने वाले भविष्य के लिए घातक हो सकती है इसमें सुधार करो ! तो वह बालक अपने ही जन्मदाता पिता से रुष्ट होकर अनाप शनाप बकने लगता है | और ज्यादा कुछ कह देने पर अपना रास्ता ही अलग कर लेता है | विचार कीजिए कि क्या ऐसा करना उचित है | जो लोग यह कहते हैं कि सिर्फ दूसरों का दोष देखने की आदत क्या उसने कभी यह विचार करने का प्रयास किया कि जिस माता पिता या जिस गुरु ने इतने प्रेम से पालन - पोषण किया , शिक्षा दिया क्या वह आपको दोषपूर्ण देखना पसंद करेगा | आज के समाज की मानसिकता को देखते हुए यह समझ जाना चाहिए कि यदि कोई आपके दोषों को आपसे बता रहा है तो वह आपका हितैषी ही होगा अन्यथा तो आज लोग आपके दोषों पर पर्दा डालते हुए आपकी सराहना करते रहेंगे , क्योंकि ऐसे लोग आपकी उन्नति नहीं कर देख सकते | दोष बताने को निंदा करना बताने वाले यदि समय पर नहीं सम्हल पाते हैं तो आपके आस - पास के चाटुकार आपको पतनोन्मुखी करके ही मानेंगे |* *यदि आपका कोई अपना आपको गलत कह रहा है तो उस पर विचार करना चाहिए कि मुझे प्रेम से पालने वाले यदि आज हमें गलत कह रहे हैं तो कोई कारण अवश्य होगा | बात विचार करने की है |*

अगला लेख: आज की नारियां :----- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर ईश्वर की सर्वोत्कृष्ट कृति बनकर आई मनुष्य | मनुष्य की रचना परमात्मा ने इतनी सूक्ष्मता एवं तल्लीनता से की है कि समस्त भूमण्डल पर उसका कोई जोड़ ही नहीं है | सुंदर मुखमंडल , कार्य करने के लिए हाथ , यात्रा करने के लिए पैर , भोजन करने के लिए मुख , देखने के लिए आँखें , सुनने के लिए कान , एवं
20 सितम्बर 2018
21 सितम्बर 2018
*नारी का हमारे समाज में क्या स्थान है यह किसी से छिपा नहीं है। मां, बहिन और पत्नी के रूप में सदैव पूज्य रही है। जो आदर जो मान उसे मिला वही किसी से छिपा नहीं है। वह जननी है बड़े-बड़े महापुरुषों की। भगवान महावीर जैसे महापुरुष उसी की कोख से जन्में। हमारी संस्कृति, हमारी सभ्यता, हमारे इतिहास नारी की महा
21 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*हमारा भारत देश ‘विविधता में एकता’ वाला देश है । यहाँ पर विभिन्न धर्मो व सम्प्रदायों के लोग रहते हैं । सभी की अपनी-अपनी भाषाएं, रहन-सहन, वेशभूषा, रीति-रियाज, वेद-पुराण एवं साहित्य है । सब की अपनी-अपनी संस्कृति है । सभी लोगों की संस्कृति उनकी पहचान बनाये हुये है । संस्कृति के प्रकाश र्मे ही भारत अपने
17 सितम्बर 2018
28 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
28 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में भाद्रपद मास बहुत ही विशेष स्थान व महत्व रखता है | अनेक व्रत , पर्व व देवों के अवतरण दिवस होने के कारण ही यह मास विश्ष महत्त्वपूर्ण हो जाता है | बलराम जी का जन्मोत्सव हलछठ हो या कन्हैया जी की जन्माष्टमी या फिर गणेश भगवान का अवतरण दिवस गणेश चतुर्थी सब भाद्रपद मास में ही मनाये जाते है |
17 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*संसार में जिसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु भी निश्चित है | अमर इस संसार में कोई नहीं है | जन्म एवं मृत्यु के बीच का जो समय होता है उसे जीवन कहा जाता है | मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेक अनुभव करता रहता है | सुख - दुख , शोक - प्रसन्नता , हानि - लाभ आदि समय समय पर मनुष्य को प्राप्त होते रहते हैं |
20 सितम्बर 2018
16 सितम्बर 2018
*मानव जीवन में मनुष्य के बचपन का पूरा प्रभाव दिखता है | सम्पूर्ण जीवन की जड़ बचपन को कहा जा सकता है | जिस प्रकार एक बहुमंजिला भवन को सुदृढ बनाने के लिए उस भवन की बुनियाद ( नींव) का मजबूत होना आवश्यक हे उसी प्रकार मनुष्य को जीवन में बहुमुखी , प्रतिभासम्पन्न बनने के पीछे बचपन की स्थितियां - परिस्थितिय
16 सितम्बर 2018
11 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म की दिव्यता का प्रतीक पितृपक्ष आज सर्वपितृ अमावस्या के साथ सम्पन्न हो गया | सोलह दिन तक हमारे पूर्वजों / पितरों के निमित्त चलने वाले इस विशेष पक्ष में सभी सनातन धर्मावलम्बी दिवंगत हुए पूर्वजों के प्रति श्रद्धा दर्शाते हुए श्राद्ध , तर्पण एवं पिंडदान आदि करके उनको तृप्त करने का प्रयास करते
11 अक्तूबर 2018
17 सितम्बर 2018
*अखिल ब्रह्माण्ड में जितने भी जड़ चेतन हैं सबमें कुछ न कुछ रहस्य छुपा हुआ है | इन रहस्यों को जानने का जितना प्रयास पूर्व में हमारे ऋषि - महर्षियों ने किया उससे कहीं अधिक आज के वैज्ञानिक कर रहे हैं , परन्तु अभी तक यह नहीं कहा जा सकता कि सारे रहस्यों से पर्दा उठ पाया हो | इन सभी चराचर जीवों में सबसे
17 सितम्बर 2018
22 सितम्बर 2018
जीवन में नियम पालन करना - अनुशासित होना - वास्तव में आवश्यक है - उसी प्रकार जिस प्रकार सारी प्रकृति नियमानुसार कार्य करती है... रात दिन अपने समय पर होते हैं - ये एक नियम है... सूरज चाँद तारे सब अपने अपने समय पर प्रकाशित होते हैं - ये भी एक नियम है... ऋतुएँ अपने समय पर ही परिवर्तित होती हैं - ये भी ए
22 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में जहाँ ३३ करोड़ देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है वहीं प्रमुख तीन देव (ब्रह्मा , विष्णु , महेश) भी कहे गये हैं | इन प्रमुख त्रिदेवोों में ब्रह्मा जी सृजन करते करते हैं , विष्णु जी पालन करते हैं और भगवान रुद्र को संहार का कारक माना जाता है | सृजन और संहार जहाँ प्रथम और अंतिम चरण है वहीं
20 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*सकल सृष्टि में ईश्वर ने मनुष्य को सभी अधिकार दे रखे हैंं | जैसी इच्छा हो वैसा कार्य करें यह मनुष्य के हाथ में है | इतना सब कुछ देने के बाद भी परमात्मा ने कुछ अधिकार अपने हाथ में ले रखे हैं | कर्मानुसार भोग करना मनुष्य की मजबूरी है | जिसने जैसा कर्म किया है , जिसके भाग्य में जैसा लिखा है वह उसको भोग
20 सितम्बर 2018
29 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
29 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x