छल - कपट :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

01 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (62 बार पढ़ा जा चुका है)

छल   - कपट :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*मनुष्य इस पृथ्वी पर इकलौता प्राणी है जिसमें अन्य प्राणियों की अपेक्षा सोंचने - समझने के लिए विवेकरूपी एक अतिरिक्त गुण ईश्वर ने प्रदान किया है | अपने विवेक से ही मनुष्य निरन्तर प्रगति पथ पर अग्रसर होता रहा है | मनुष्य को कब क्या करना चाहिये इसका निर्णय विवेक ही करता है | अपने विवेक का प्रयोग जिसने सकारात्मकता से किया वह समाज में अच्छे कार्य करता हुआ पूज्यनीय हुआ , और जिसका विवेक नकारात्मक हो गया उसे उपेक्षा ही प्राप्त होती रही है | नकारात्मकता को अपनाते हुए जिसने छल - कपट को अपना हथियार बनाने का प्रयास किया उसकी दुर्गति क्या हुई है यह बताने की आवश्यकता नहीं है | इसके अनेकों उदाहरण ग्रंथों में पढने को मिलते हैं | मनुष्य संसार में तो उपेक्षित होता ही है मृत्यु के बाद भी उसकी दुर्गति ही होती है | भगवान स्वयं कहते हैं :-- "निर्मल मन जन सो मोंहिं पावा ! मोंहिं कपट छल छिद्र न भावा !!" कहने का तात्पर्य यह है कि कपटी के द्वारा की गयी पूजा - अर्चना ईश्वर भी नहीं स्वीकारते हैं | आश्चर्य तो तब होता है जब जब रावण जैसा प्रकाण्ड विद्वान भी सीताहरण के लिए छल - कपट का सहारा लेता है , यदि उसके द्वारा ऐसा कृत्य किया गया तो उसका परिणाम क्या हुआ यह भी सभी जानते हैं | यद्यपि छिद्रान्वेषण , छल एवं कपट का त्याग करके ही समाज में सम्मानित हुआ जा सकता परंतु कुछ लोग इसे ही सीढी बनाकर सफलता अर्जित करना चाहते हैं | जिसका फल अन्ततोगत्वा दुखदायी ही होता है |* *आज मनुष्य की मानसिकता पहले की अपेक्षा क्या एवं कैसी होती जा रही है यह देखकर दुख होता है | आज समाज में नकारात्मक लोगों की संख्या बढती जा रही है | झूठ , छल , कपट एवं छिद्रान्वेषण ने अपना विस्तृत प्रभाव लगभग सभी के ऊपर डाल रखा है | आज छल एवं कपट का इतना बोलबाला हो गया है कि नित्य समाचारपत्रों एवं संचार माध्यम से इसके समाचैर मिलते रहते हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" समाज की वर्तमान दिशा एवं दशा देखकर विचार करता हूँ कि आखिर हम एवं हमारा समाज किस दिशा में अग्रसर होता जा रहा है | आज मित्र अपने मित्र से कपट करके सारी सम्पत्ति हथिया रहा है | संसार का सबसे पवित्र बंधन पति पत्नी का माना जाता है परंतु यह भी आज इस दुर्गुण से अछूता नहीं रह गया है | प्राय: देखने को मिल रहा है कि पत्नी ने पति की या पति ने पत्नी की छलपूर्वक हत्या करवा दी | शिष्य भी अपने गुरु से छल करने में पीछे नहीं हटते | और तो और आज के पुत्र भी अपने जन्मदाता माता - पिता से कपट करके छलपूर्वक उनका सबकुछ हथियाना चाहते हैं | जबकि पिता का सबकुछ पुत्र का ही है परंतु पिता के जीते जी ही वे मालिक बन जाने की लालसा में ऐसा निकृष्ट कृत्य कर डालते हैं | हमारे साहित्यों एवं सनातन संस्कृति में भाई को भाई की भुजा होने का गौरव प्राप्त है , परंतु आज ऐसे कई उदाहरण देखने को मिल जायेंगे जहाँ मनुष्य छल करके अपनी भुजायें स्वयं काट रहा है | उपरोक्त तथ्य सब पर तो नहीं प्रभावी कहे जा सकते है परंतु अधिकतर आज यही हो रहा है | पूजा - पाठ तीर्थयात्रा तो बड़े प्रेम से की जाती है परंतु मन से छल एवं कपट को दूर नहीं कर पा रहे मनुष्य की दुर्गति होना निश्चित है और ऐसे लोगों की दुर्गति हो भी रही है |* *आज के युग में मन से छल कपट का पूर्णतय: हट पाना शायद सम्भव न हो परंतु दृढ इच्छाशक्ति से असम्भवसकुछ भी नहीं है |*

अगला लेख: जीवन का रहस्य --- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अक्तूबर 2018
*चौरासी योनियों में सर्वश्रेष्ठ एवं सबसे सुंदर शरीर मनुष्य का मिला | इस सुंदर शरीर को सुंदर बनाए रखने के लिए मनुष्य को ही उद्योग करना पड़ता है | सुंदरता का अर्थ शारीरिक सुंदरता नहीं वरन पवित्रता एवं स्वच्छता से हैं | पवित्रता जीवन को स्वच्छ एवं सुंदर बनाती है | पवित्रता, शुद्धता, स्वच्छता मानव-जीवन
07 अक्तूबर 2018
17 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में भाद्रपद मास बहुत ही विशेष स्थान व महत्व रखता है | अनेक व्रत , पर्व व देवों के अवतरण दिवस होने के कारण ही यह मास विश्ष महत्त्वपूर्ण हो जाता है | बलराम जी का जन्मोत्सव हलछठ हो या कन्हैया जी की जन्माष्टमी या फिर गणेश भगवान का अवतरण दिवस गणेश चतुर्थी सब भाद्रपद मास में ही मनाये जाते है |
17 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म प्रत्येक पर्व एवं त्योहार स्वयं इस वैज्ञानिकता कुछ छुपाये हुए हैं | इतना बृहद सनातन धर्म कि इसके हर त्यौहार अपने आप में अनूठे हैं | आज भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" के नाम से जाना जाता है | संपूर्ण भारत में भक्तजन यह व्रत बहुत ही श्रद्धा के साथ लोग रहते हैं | "अनंत चत
23 सितम्बर 2018
07 अक्तूबर 2018
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ???? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जि
07 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारंभ में ब्रह्मा जी ने इस सृष्टि को गतिमान करने के लिए कई बार सृष्टि की रचना की , परंतु उनकी बनाई सृष्टि गतिमान न हो सकी , क्योंकि उन्होंने प्रारंभ में जब भी सृष्टि की तो सिर्फ पुरुष वर्ग को उत्पन्न किया | जो भी पुरुष हुए उन्होंने सृष्टि में कोई रुचि नहीं दिखाई | अपनी बनाई हुई सृष्टि क
07 अक्तूबर 2018
20 सितम्बर 2018
*सकल सृष्टि में ईश्वर ने मनुष्य को सभी अधिकार दे रखे हैंं | जैसी इच्छा हो वैसा कार्य करें यह मनुष्य के हाथ में है | इतना सब कुछ देने के बाद भी परमात्मा ने कुछ अधिकार अपने हाथ में ले रखे हैं | कर्मानुसार भोग करना मनुष्य की मजबूरी है | जिसने जैसा कर्म किया है , जिसके भाग्य में जैसा लिखा है वह उसको भोग
20 सितम्बर 2018
12 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन अवसर पर चल रही नारीगाथा पर आज एक विषय पर सोंचने को विवश हो गया कि नारियों पर हो रहे अत्याचारों के लिए दोषी किसे माना जाय ??? पुरुषवर्ग को या स्वयं नारी को ??? परिणाम यह निकला कि कहीं न कहीं से नारी की दुर्दशा के लिए नारी ही अधिकतर जिम्मेदार है | जब अपने साथ कम दहेज लेकर कोई नववधू सस
12 अक्तूबर 2018
21 सितम्बर 2018
*किसी भी राष्ट्र का निर्माण व्यक्ति द्वारा होता है,और व्यक्ति का निर्माण एक नारी ही कर सकती है और करती भी है। शायद इसीलिए सनातन काल से नारियों को देवी की संज्ञा दी गई है । लिखा है ---- नारी निंदा मत करो,नारी नर की खान। नारी ते नर होत हैं, ध्रुव-प्रहलाद समान।।राष्ट्र निर्माण में नारियों के योगदान को
21 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*हमारा भारत देश ‘विविधता में एकता’ वाला देश है । यहाँ पर विभिन्न धर्मो व सम्प्रदायों के लोग रहते हैं । सभी की अपनी-अपनी भाषाएं, रहन-सहन, वेशभूषा, रीति-रियाज, वेद-पुराण एवं साहित्य है । सब की अपनी-अपनी संस्कृति है । सभी लोगों की संस्कृति उनकी पहचान बनाये हुये है । संस्कृति के प्रकाश र्मे ही भारत अपने
17 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*अखिल ब्रह्माण्ड में जितने भी जड़ चेतन हैं सबमें कुछ न कुछ रहस्य छुपा हुआ है | इन रहस्यों को जानने का जितना प्रयास पूर्व में हमारे ऋषि - महर्षियों ने किया उससे कहीं अधिक आज के वैज्ञानिक कर रहे हैं , परन्तु अभी तक यह नहीं कहा जा सकता कि सारे रहस्यों से पर्दा उठ पाया हो | इन सभी चराचर जीवों में सबसे
17 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में जहाँ ३३ करोड़ देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है वहीं प्रमुख तीन देव (ब्रह्मा , विष्णु , महेश) भी कहे गये हैं | इन प्रमुख त्रिदेवोों में ब्रह्मा जी सृजन करते करते हैं , विष्णु जी पालन करते हैं और भगवान रुद्र को संहार का कारक माना जाता है | सृजन और संहार जहाँ प्रथम और अंतिम चरण है वहीं
20 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म इतना वृहद है कि नित्य किसी न किसी पर्व का एक नया दिन होता है | आज भाद्रपद शुक्लपक्ष की अष्टमी को त्याग की प्रतिमूर्ति महर्षि दधीचि का अवतरण दिवस , प्रेम की प्रतिमूर्ति रासरासेश्वरी राधिका जू का अवतरण दिवस होने के साथ आज ही सृष्टि का सृजन एवं निर्माण करने वाले "भगवान विश्वकर्मा का पूजन" (
17 सितम्बर 2018
24 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में ऐसी मान्यता है कि मनुष्य जन्म लेने के बाद तीन प्रकार के ऋणों का ऋणी हो जाता है | ये तीन प्रकार के ऋण मनुष्य को उतारने ही पड़ते हैं जिन्हें देवऋण , ऋषिऋण एवं पितृऋण के नाम से जाना जाता है | सनातन धर्म की यह महानता रही है कि यदि मनुष्य के लिए कोई विधान बनाया है तो उससे निपटने या मुक्ति
24 सितम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x