ईश्वर , गुरु एवं आत्मा एक ही हैं :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

01 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (99 बार पढ़ा जा चुका है)

ईश्वर   , गुरु एवं आत्मा एक ही हैं :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस सृष्टि का सृजन करके हमेम इस धरा धाम पर भेजने वाली उस परमसत्ता को ईश्वर कहा जाता है | ईश्वर के बिना इस सृष्टि की परिकल्पना करना ही व्यर्थ है | कहा भी जाता है कि मनुष्य के करने से कुछ नहीं होता जो कुछ करता है ईश्वर ही करता है | वह ईश्वर जो सर्वव्यापी है और हमारे पल पल के कर्मों का हिसाब रखता है | "एको$हम् बहुस्याम:" के सिद्धांत को प्रतिपादित करते हुए इस सृष्टि में ईश्वर ही आत्मा रूप में सभी जीवो में विद्यमान रहता है | बाबा जी मानस में लिखते हैं :-- "ईश्वर अंश जीव अविनासी" इसका मतलब यह हुआ कि ईश्वर एवं जीवो में रहने वाली आत्मा दोनों एक ही हैं परंतु जीवस्थित आत्मा उस परम परमात्मा के स्वरूप को कैसे जान पाए , इसके लिए परमात्मा ने एक दूसरा स्वरूप धारण किया जिसे सद्गुरु की संज्ञा दी गई | सद्गुरु ही वह प्राणी है जो आत्मा को परमात्मा से साक्षात्कार कराने का कार्य करता है | यह भी कहा जा सकता है ईश्वर , आत्मा एवं गुरु तीनों एक ही शक्ति है जो अलग अलग बंट करके अपने कार्य को निष्पादित कर रहे हैं | विचार कीजिएगा कि यदि वह ईश्वर सद्गुरु के वेश में हमको ना प्राप्त हो तो हम उस ईश्वर के विषय में उसके अंश होने के बाद भी कुछ भी नहीं जान सकते हैं | मानव जीवन में सद्गुरु का बहुत बड़ा महत्व है | यद्यपि आत्मा परमात्मा का ही अंश या यह भी कहा जा सकता है कि हर आत्मा ही परमात्मा है , लेकिन परमात्मा को जानने के लिए आत्मा को सद्गुरु का आश्रय लेना ही पड़ता है क्योंकि सद्गुरु ईश्वर का ही दूसरा रूप होता है | जो इन तीनों के रहस्य को जान जाते हैं वहीं महापुरुषों की श्रेणी में सुशोभित होकर लोक कल्याण के लिए सद्ज्ञान प्रसारित करते रहते हैं |* *आज का मनुष्य इतना ज्यादा व्यस्त होता जा रहा है कि उसे न तो ईश्वर को जानने का समय और ना ही अपनी आत्मा को पहचानने का | प्रायः यह भी सुनने को मिला करता है कि अमुक व्यक्ति की आत्मा तो मर चुकी है | विचार कीजिए कि हम कहां से कहां आ गए ?? जब हम स्वयं को पैदा करने वाले ईश्वर एवं स्वयं की आत्मा को जान पाने के लिए प्रयास नहीं कर पा रहे हैं तो फिर सद्गुरु को जानने का उद्योग भला कैसे हो सकता है | आज सद्गुरु के पास शिष्य जाता भी है तो मात्र अपने स्वार्थ बस और वहां तब तक ही रहता है जब तक उसका स्वार्थ सिद्ध नहीं हो जाता है | शिष्यों का उद्देश्य लौकिक ज्ञान प्राप्त करने का होता है | पारलौकिक ज्ञान कोई प्राप्त ही नहीं करना चाहते | गुरु - शिष्य परंपरा लगभग समाप्ति की ओर अग्रसर है | ईश्वर, आत्मा और गुरु यह तीनों एक ही है यह बताने वाला यदि कोई मिल भी जाता है तो इसको जानने की पात्रता रखने वाला भूले से भी नहीं मिलना चाहता | परंतु मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के इस आधुनिक युग में भी देख रहा हूं कि अभी भी अनेकों महापुरुष ऐसे मिल जाएंगे जो इन दिव्य रहस्यों को जानने का प्रयास करते रहते हैं | परंतु यह भी सत्य है कि वे आज की आधुनिकता की चकाचौंध से दूर एकांत में अपने गुरु का आश्रय लेकर के आत्मा और परमात्मा को जानने के लिए प्रयास कर रहे हैं | यदि ईश्वर का दर्शन करना है तो सर्वप्रथम अपनी आत्मा में किया जाए , आत्मा में दर्शन ना मिल पाए तो आत्मा में ईश्वर का दर्शन करने का विधान जानने के लिए हमें सद्गुरु की शरण में जाना पड़ेगा क्योंकि सद्गुरु ईश्वर का दूसरा रुप होता है | बिना सद्गुरु के बताए मार्गों का अनुसरण किए हम ईश्वर के विषय में कुछ भी नहीं जान सकते , और न यह जान सकते हैं कि ईश्वर क्या है आत्मा क्या है और उस सतगुरु का स्थान जीवन में क्या है |* *यदि अपने जीवन काल में ईश्वर का दर्शन करने की इच्छा है तो सर्वप्रथम स्वयं को पहचानते हुए सतगुरु की शरण में जाकर ही यह अवसर प्राप्त हो सकता है |*

अगला लेख: जीवन का रहस्य --- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर ईश्वर की सर्वोत्कृष्ट कृति बनकर आई मनुष्य | मनुष्य की रचना परमात्मा ने इतनी सूक्ष्मता एवं तल्लीनता से की है कि समस्त भूमण्डल पर उसका कोई जोड़ ही नहीं है | सुंदर मुखमंडल , कार्य करने के लिए हाथ , यात्रा करने के लिए पैर , भोजन करने के लिए मुख , देखने के लिए आँखें , सुनने के लिए कान , एवं
20 सितम्बर 2018
24 सितम्बर 2018
*संसार में अब तक अनेक विद्वान महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने क्रिया कलापों से संसार का कल्याण करने का ही प्रयास किया है ! उनके चरित्रों का अनुसरण करके मनुष्य स्वयं पूजित होता रहा है | महापुरुषों के बताये गये मार्गों का अनुसरण करके , उनके लिखे ग्रंथों का पठन - पाठन करके ही विद्वान बनते आये महापुरुषो
24 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*संसार में जिसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु भी निश्चित है | अमर इस संसार में कोई नहीं है | जन्म एवं मृत्यु के बीच का जो समय होता है उसे जीवन कहा जाता है | मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेक अनुभव करता रहता है | सुख - दुख , शोक - प्रसन्नता , हानि - लाभ आदि समय समय पर मनुष्य को प्राप्त होते रहते हैं |
20 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*हमारा भारत देश ‘विविधता में एकता’ वाला देश है । यहाँ पर विभिन्न धर्मो व सम्प्रदायों के लोग रहते हैं । सभी की अपनी-अपनी भाषाएं, रहन-सहन, वेशभूषा, रीति-रियाज, वेद-पुराण एवं साहित्य है । सब की अपनी-अपनी संस्कृति है । सभी लोगों की संस्कृति उनकी पहचान बनाये हुये है । संस्कृति के प्रकाश र्मे ही भारत अपने
17 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x