मैं से बचें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

02 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (74 बार पढ़ा जा चुका है)

मैं से बचें :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे सनातन ग्रंथों में इस संसार को मायामय के साथ साथ मुसाफिरखाना भी कहा गया है | मुसाफिरखाना अर्थात जहां यात्रा के अंतर्गत एक - दो रात्रि व्यतीत करते हैं | कहने का तात्पर्य यह संसार एक किराए का घर है और इस किराए के घर को एक दिन छोड़ कर सबको जाना ही पड़ता है | इतिहास गवाह है कि संसार में जो भी आया है उसको एक दिन जाना पड़ा है | राजा रहे हों , चाहे बड़े-बड़े योगी तपस्वी , यहां तक कि भगवान के अंशावतार / पूर्णावतार भी इस संसार को छोड़कर चले गये | इसीलिए हमारे महापुरुषों ने इस संसार को एवं यहाँ रह रहे प्राणियों से मोह न बढ़ाने का निर्देश दिया है , क्योंकि मोह को ही सभी बीमारियों की जड़ कहा गया है | बाबा जी अपने मानस में लिखते हैं :-- "मोह सकल व्याधिन्ह कर मूला" | यह मैं हूं ! यह मेरा है !! यह भाव जब तक मनुष्य के अंदर रहेगा तब तक मनुष्य को ना तो शांति मिलती है और ना ही वह सुख प्राप्त कर पाता है | जब तक मनुष्य मोह का त्याग नहीं करता है तब तक उसे न तो ऐश्वर्य प्राप्त होता है और न ही उसका यश ही फैलता है | भगवान श्रीराम ने राज्यगद्दी एवं राज्य के मोह का त्याग करके वनवास ग्रहण किया तो आज उनका यश तीनों लोकों में व्याप्त है | श्याम सुंदर कन्हैया ने भी वृंदावन के गोप - गोपिकाओं यहाँ तक मईया यशोदा एवं बाबा नंद के मोह को अनदेखा करके मथुरा की यात्रा की , जिसके परिणामस्वरूप उनकी कीर्तिपताका त्रिभुवन में फहरा रही है | जब तक मैं का मोह नहीं मिटता है तब तक मनुष्य कूपमण्डूक बनकर रह जाता है | मनुष्य को सर्वप्रिय बनने के लिए "यह मेरा है" का भाव त्याग करके "सब हमारे हैं" एवं "कुछ किसी का नहीं सबकुछ सबका है" का भाव अपनाना पड़ता है |* *आज मनुष्य ने जितनी अधिक प्रगति की है उतनी ही ज्यादा उसकी मोहमाया भी बढ गयी है | लोग बड़ी शान से कहते हैं कि "यह मेरा बेटा है" , बहुत प्रेम से उसका लालन - पालन भी होता है परंतु जब उसका विवाह हो जाता है और वह अपनी पत्नी लेकर घर से अलग अपना संसार बना लेता है तो माता - पिता रोते हुए कहते देखे जाते हैं कि यह तो मेरा था ही नहीं | आज के समय में चारों ओर सिर्फ "यह मेरा है" के लिए ही हाहाकार मचा हुआ है | लोग जमीन के एक टुकड़े को अपना बनाने के लिए मनुष्य के प्राण तक हरण कर रहे हैं | परंतु यह नहीं विचार कर पाते हैं कि यह जमीन का टुकड़ा जिसके लिए हम हत्या तक कर रहे हैं क्या वह मेरे साथ जायेगा ?? हमसे पहले पता नहीं कितनों ने इसका उपभोग किया होगा और मेरे बाद पता नहीं कितने लोग इसका उपभोग करेंगे | यह तो साधारण मनुष्यों के कृत्य हैं , परंतु मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आश्चर्य के साथ उस समाज को देख रहा हूँ जिसे विद्वतसमाज कहा जाता है | आज सोशलमीडिया के इस युग में विद्वानों की सबसे बड़ी समस्या यह दिख रही है कि :--- यह लेख मेरा है और इस पर अमुक व्यक्ति ने अपना नाम लिख दिया ! और इसी विषय को लेकर "महाभारत" तक मचती रहती है | यह वही विद्वान होते हैं जो दूसरों को "मैं एवं मेरा" का त्याग करने के उपदेश अपने लेखों के माध्यम से दिया करते हैं परंतु स्वयं उस भाव का त्याग नहीं कर पा रहे हैं | जबकि लेख किसी का न होकर मनुष्य के विचार मात्र होते हैं | जिस पर विद्वतजन भिन्न - भिन्न अभिव्यक्तियां प्रकट करते हैं |* *यहाँ किसी का कुछ भी नहीं है ! सब दूसरों से मिला है और दूसरों को ही देकर चले जाना है ! फिर झगड़ा किस बात का ?? विचार पर विचार अवश्य कीजिएगा |*

अगला लेख: जीवन का रहस्य --- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 सितम्बर 2018
*इस सृष्टि में माननीय व्यक्तित्व के तीन आयाम सर्वविदित हैं :-- शरीर , मन एवं आत्मा | शरीर को पोषण देने के लिए आहार की , प्राणवायु की आवश्यकता पड़ती है | अन्न , जल एवं वायु ना मिले तो शरीर को लंबे समय तक जीवित रख पाना संभव नहीं हो पाता है | मन को पोषण देने के लिए सद्विचारों की , सद्भावनाओं की जरूरत
28 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*इस धराधाम पर ईश्वर की सर्वोत्कृष्ट कृति बनकर आई मनुष्य | मनुष्य की रचना परमात्मा ने इतनी सूक्ष्मता एवं तल्लीनता से की है कि समस्त भूमण्डल पर उसका कोई जोड़ ही नहीं है | सुंदर मुखमंडल , कार्य करने के लिए हाथ , यात्रा करने के लिए पैर , भोजन करने के लिए मुख , देखने के लिए आँखें , सुनने के लिए कान , एवं
20 सितम्बर 2018
26 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save
26 सितम्बर 2018
11 अक्तूबर 2018
*पराम्बा जगदंबा जगत जननी भगवती मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप है ब्रह्मचारिणी | जिसका अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | महामाया ब्रह्मचारिणी नें घोर तपस्या करके भगवान शिव को अपने पति के रुप में प्राप्त किया और भगवान शिव के वामभाग में विराजित होकर के पतिव्रताओं में अग्रगण्य बनीं | इसी प्र
11 अक्तूबर 2018
17 सितम्बर 2018
*अखिल ब्रह्माण्ड में जितने भी जड़ चेतन हैं सबमें कुछ न कुछ रहस्य छुपा हुआ है | इन रहस्यों को जानने का जितना प्रयास पूर्व में हमारे ऋषि - महर्षियों ने किया उससे कहीं अधिक आज के वैज्ञानिक कर रहे हैं , परन्तु अभी तक यह नहीं कहा जा सकता कि सारे रहस्यों से पर्दा उठ पाया हो | इन सभी चराचर जीवों में सबसे
17 सितम्बर 2018
28 सितम्बर 2018
*मानव समाज में एक दूसरे के ऊपर दोषारोपण करने का कृत्य होता रहा है | जबकि हमारे आर्ष ग्रंथों में स्थान - स्थान पर इससे बचने का निर्देश देते हुए लिखा भी है :- "परछिद्रेण विनश्यति" अर्थात दूसरों के दोष देखने वाले का विनाश हो जाता है अर्थात अस्तित्व समाप्त हो जाता है | इसी से मिलता एक शब्द है "निंदा" |
28 सितम्बर 2018
23 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म प्रत्येक पर्व एवं त्योहार स्वयं इस वैज्ञानिकता कुछ छुपाये हुए हैं | इतना बृहद सनातन धर्म कि इसके हर त्यौहार अपने आप में अनूठे हैं | आज भाद्रपद शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को "अनंत चतुर्दशी" के नाम से जाना जाता है | संपूर्ण भारत में भक्तजन यह व्रत बहुत ही श्रद्धा के साथ लोग रहते हैं | "अनंत चत
23 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc
27 सितम्बर 2018
27 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म के आर्षग्रंथों (गीतादि) में मनुष्य के कल्याण के लिए तीन प्रकार के योगों का वर्णन मिलता है :- ज्ञानयोग , कर्मयोग एवं भक्तियोग | मनुष्य के लिए कल्याणकारक इन तीनों के अतिरिक्त चौथा कोई मार्ग ही नहीं है | प्रत्येक मनुष्य को अपने कल्याण के लिए इन्हीं तीनों में से किसी एक को चुनना ही पड़ेगा |
27 सितम्बर 2018
17 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म इतना वृहद है कि नित्य किसी न किसी पर्व का एक नया दिन होता है | आज भाद्रपद शुक्लपक्ष की अष्टमी को त्याग की प्रतिमूर्ति महर्षि दधीचि का अवतरण दिवस , प्रेम की प्रतिमूर्ति रासरासेश्वरी राधिका जू का अवतरण दिवस होने के साथ आज ही सृष्टि का सृजन एवं निर्माण करने वाले "भगवान विश्वकर्मा का पूजन" (
17 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*संसार में जिसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु भी निश्चित है | अमर इस संसार में कोई नहीं है | जन्म एवं मृत्यु के बीच का जो समय होता है उसे जीवन कहा जाता है | मनुष्य अपने सम्पूर्ण जीवनकाल में अनेक अनुभव करता रहता है | सुख - दुख , शोक - प्रसन्नता , हानि - लाभ आदि समय समय पर मनुष्य को प्राप्त होते रहते हैं |
20 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*सकल सृष्टि में ईश्वर ने मनुष्य को सभी अधिकार दे रखे हैंं | जैसी इच्छा हो वैसा कार्य करें यह मनुष्य के हाथ में है | इतना सब कुछ देने के बाद भी परमात्मा ने कुछ अधिकार अपने हाथ में ले रखे हैं | कर्मानुसार भोग करना मनुष्य की मजबूरी है | जिसने जैसा कर्म किया है , जिसके भाग्य में जैसा लिखा है वह उसको भोग
20 सितम्बर 2018
22 सितम्बर 2018
जीवन में नियम पालन करना - अनुशासित होना - वास्तव में आवश्यक है - उसी प्रकार जिस प्रकार सारी प्रकृति नियमानुसार कार्य करती है... रात दिन अपने समय पर होते हैं - ये एक नियम है... सूरज चाँद तारे सब अपने अपने समय पर प्रकाशित होते हैं - ये भी एक नियम है... ऋतुएँ अपने समय पर ही परिवर्तित होती हैं - ये भी ए
22 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x