व्यक्तित्व का निर्माण करती है भावना :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (61 बार पढ़ा जा चुका है)

व्यक्तित्व का निर्माण करती है भावना :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ इसलिए माना गया है क्योंकि मनुष्य में निर्णय लेने की क्षमता के साथ परिवार समाज व राष्ट्र के प्रति एक अपनत्व की भावना से जुड़ा होता है | मनुष्य का व्यक्तित्व उसके आचरण के अनुसार होता है , और मनुष्य का आचरण उसकी भावनाओं से जाना जा सकता है | जिस मनुष्य की जैसी भावना होती है उसका आचरण उसी प्रकार का होता चला जाता है | सामाजिक स्तर पर जिस मनुष्य का जैसा आचरण होता है उसी प्रकार उसके व्यक्तित्व की सराहना एवं भर्त्सना होती है | सीधे सीधे यह कहा जा सकता है कि व्यक्तित्व विकास में भावना का महत्वपूर्ण योगदान होता है | कोई भी ऐसा मनुष्य इस पृथ्वी पर नहीं हुआ है जिसके अंदर यह भावना निहित ना हो , यह अलग विषय है उसके मन में किसी के प्रति सद्भावना है तो किसी के प्रति दुर्भावना अंदर होती है | जहां समाज परिवार एवं राष्ट्र के प्रति सद्भावना रखने वाले का सम्मान होता है तो समाज में हर किसी से दुर्भावना रखने वाला मनुष्य स्थान स्थान पर आलोचना का पात्र बनता रहता है और ऐसे मनुष्य कुंठा का शिकार होकर के अंतर्मुखी होते चले जाते हैं | क्योंकि जब स्थान स्थान पर लोग उनकी आलोचना करने लगते हैं तो मनुष्य को यही लगने लगता है कि सारा संसार हमसे द्वेष करता है | जबकि सत्यता यह होती है कि उसका स्वयं का आचरण इस योग्य नहीं होता है कि कोई उस से प्रेम करें | यदि कोई प्रेम करना भी चाहता है तो उस व्यक्ति को यह लगता है यह तो हमारे प्रबल विरोधी हैं प्रेम को स्वीकार तो कर लेता है परंतु उसके मन की दुर्भावना नहीं हटती और उसका व्यक्तित्व और उसके आचरण दुर्भावना से ग्रसित होकर ही आश्रित होते रहते हैं |* *आज समाज में जगह जगह पर सामाजिक संगठनों के द्वारा , धार्मिक संगठनों के द्वारा या ग्रामीण स्तर पर सार्वजनिक कार्यक्रमों का आयोजन इसी उद्देश्य से किया जाता है कि लोग आपस में प्रेम और आपसी सद्भावना का विकास कर सके | व्यक्तित्व निर्माण की प्रथम पाठशाला घर से निकल कर विद्यालय तक होती है | प्राथमिक विद्यालय में गुरुजनों के द्वारा छात्रों को आपसी प्रेम सद्भावना के विषय में ज्ञान कराते हुए उनके चरित्र निर्माण , व्यक्तित्व निर्माण का उद्योग किया जाता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" अब तक मिले ज्ञान एवं आज के समाज की स्थिति को देखते हुए इतना ही कह सकता हूं कि मनुष्य के पास धनबल , जनबल एवं बाहुबल होने के बाद भी यदि उसका व्यक्तित्व सकारात्मक नहीं है उसकी भावनाएं लोगों के प्रति अच्छी नहीं है तो मनुष्य समाज में सम्मान तो पाता है परंतु लोग पीठ पीछे उसके व्यक्तित्व एवं आचरण की आलोचना ही करते मिलते हैं | मनुष्य को सदैव ही ऐसा आचरण करना चाहिए जिससे कि वह जहां भी जाए उसके व्यक्तित्व की सुगंध चहुँओर फैलती रहे , क्योंकि मनुष्य के व्यक्तित्व की प्रशंसा उसके आगे ना हो करके यदि उसकी अनुपस्थिति में हो तभी ही माना जा सकता है उसके आचरण एवं उसकी भावनाएं सबके लिए सकारात्मक है |* *यदि अपने आचरण को एवं व्यक्तित्व को शुद्ध बनाना है तो सर्वप्रथम अपने हृदय में उमड़ रही भावनाओं को सद्भावना में परिवर्तित करना होगा क्योंकि दुर्भावना ग्रस्त मनुष्य कभी विकास नहीं कर सकता |*

अगला लेख: त्रिगुणात्मक सृष्टि :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 अक्तूबर 2018
*पुरातन काल से भारतीय संस्कृति अपने आप में अनूठी रही है | भारत से लेकर संपूर्ण विश्व के कोने-कोने तक भारतीय संस्कृति एवं संस्कार ने अपना प्रभाव छोड़ा है , और इसे विस्तारित करने में हमारे महापुरुषों ने , और हमारे देश के राजाओं ने महत्वपूर्ण योगदान दिया था | किसी भी समस्या के निदान के लिए या किसी नवी
02 अक्तूबर 2018
02 अक्तूबर 2018
*हमारे सनातन ग्रंथों में इस संसार को मायामय के साथ साथ मुसाफिरखाना भी कहा गया है | मुसाफिरखाना अर्थात जहां यात्रा के अंतर्गत एक - दो रात्रि व्यतीत करते हैं | कहने का तात्पर्य यह संसार एक किराए का घर है और इस किराए के घर को एक दिन छोड़ कर सबको जाना ही पड़ता है | इतिहास गवाह है कि संसार में जो भी आया
02 अक्तूबर 2018
01 अक्तूबर 2018
*इस सृष्टि का सृजन करके हमेम इस धरा धाम पर भेजने वाली उस परमसत्ता को ईश्वर कहा जाता है | ईश्वर के बिना इस सृष्टि की परिकल्पना करना ही व्यर्थ है | कहा भी जाता है कि मनुष्य के करने से कुछ नहीं होता जो कुछ करता है ईश्वर ही करता है | वह ईश्वर जो सर्वव्यापी है और हमारे पल पल के कर्मों का हिसाब रखता है |
01 अक्तूबर 2018
27 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म के आर्षग्रंथों (गीतादि) में मनुष्य के कल्याण के लिए तीन प्रकार के योगों का वर्णन मिलता है :- ज्ञानयोग , कर्मयोग एवं भक्तियोग | मनुष्य के लिए कल्याणकारक इन तीनों के अतिरिक्त चौथा कोई मार्ग ही नहीं है | प्रत्येक मनुष्य को अपने कल्याण के लिए इन्हीं तीनों में से किसी एक को चुनना ही पड़ेगा |
27 सितम्बर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन अवसर पर चल रही नारीगाथा पर आज एक विषय पर सोंचने को विवश हो गया कि नारियों पर हो रहे अत्याचारों के लिए दोषी किसे माना जाय ??? पुरुषवर्ग को या स्वयं नारी को ??? परिणाम यह निकला कि कहीं न कहीं से नारी की दुर्दशा के लिए नारी ही अधिकतर जिम्मेदार है | जब अपने साथ कम दहेज लेकर कोई नववधू सस
12 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
*चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन |* *कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ||* *महामाई आदिशक्ति भगवती के पूजन का पर्व नवरात्र शनै: शनै: पूर्णता की ओर अग्रसर है | महामाया इस सृष्टि के कण - कण में विद्यमान हैं | जहाँ जैसी आवश्यकता पड़ी है वैसा स्वरूप मैया ने धारण करके लोक
15 अक्तूबर 2018
01 अक्तूबर 2018
*मनुष्य इस पृथ्वी पर इकलौता प्राणी है जिसमें अन्य प्राणियों की अपेक्षा सोंचने - समझने के लिए विवेकरूपी एक अतिरिक्त गुण ईश्वर ने प्रदान किया है | अपने विवेक से ही मनुष्य निरन्तर प्रगति पथ पर अग्रसर होता रहा है | मनुष्य को कब क्या करना चाहिये इसका निर्णय विवेक ही करता है | अपने विवेक का प्रयोग जिसने स
01 अक्तूबर 2018
28 सितम्बर 2018
*मानव समाज में एक दूसरे के ऊपर दोषारोपण करने का कृत्य होता रहा है | जबकि हमारे आर्ष ग्रंथों में स्थान - स्थान पर इससे बचने का निर्देश देते हुए लिखा भी है :- "परछिद्रेण विनश्यति" अर्थात दूसरों के दोष देखने वाले का विनाश हो जाता है अर्थात अस्तित्व समाप्त हो जाता है | इसी से मिलता एक शब्द है "निंदा" |
28 सितम्बर 2018
21 सितम्बर 2018
*नारी का हमारे समाज में क्या स्थान है यह किसी से छिपा नहीं है। मां, बहिन और पत्नी के रूप में सदैव पूज्य रही है। जो आदर जो मान उसे मिला वही किसी से छिपा नहीं है। वह जननी है बड़े-बड़े महापुरुषों की। भगवान महावीर जैसे महापुरुष उसी की कोख से जन्में। हमारी संस्कृति, हमारी सभ्यता, हमारे इतिहास नारी की महा
21 सितम्बर 2018
07 अक्तूबर 2018
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ???? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जि
07 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*चौरासी योनियों में सर्वश्रेष्ठ एवं सबसे सुंदर शरीर मनुष्य का मिला | इस सुंदर शरीर को सुंदर बनाए रखने के लिए मनुष्य को ही उद्योग करना पड़ता है | सुंदरता का अर्थ शारीरिक सुंदरता नहीं वरन पवित्रता एवं स्वच्छता से हैं | पवित्रता जीवन को स्वच्छ एवं सुंदर बनाती है | पवित्रता, शुद्धता, स्वच्छता मानव-जीवन
07 अक्तूबर 2018
01 अक्तूबर 2018
*मनुष्य इस पृथ्वी पर इकलौता प्राणी है जिसमें अन्य प्राणियों की अपेक्षा सोंचने - समझने के लिए विवेकरूपी एक अतिरिक्त गुण ईश्वर ने प्रदान किया है | अपने विवेक से ही मनुष्य निरन्तर प्रगति पथ पर अग्रसर होता रहा है | मनुष्य को कब क्या करना चाहिये इसका निर्णय विवेक ही करता है | अपने विवेक का प्रयोग जिसने स
01 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x