व्यक्तित्व का निर्माण करती है भावना :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

05 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (116 बार पढ़ा जा चुका है)

व्यक्तित्व का निर्माण करती है भावना :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ इसलिए माना गया है क्योंकि मनुष्य में निर्णय लेने की क्षमता के साथ परिवार समाज व राष्ट्र के प्रति एक अपनत्व की भावना से जुड़ा होता है | मनुष्य का व्यक्तित्व उसके आचरण के अनुसार होता है , और मनुष्य का आचरण उसकी भावनाओं से जाना जा सकता है | जिस मनुष्य की जैसी भावना होती है उसका आचरण उसी प्रकार का होता चला जाता है | सामाजिक स्तर पर जिस मनुष्य का जैसा आचरण होता है उसी प्रकार उसके व्यक्तित्व की सराहना एवं भर्त्सना होती है | सीधे सीधे यह कहा जा सकता है कि व्यक्तित्व विकास में भावना का महत्वपूर्ण योगदान होता है | कोई भी ऐसा मनुष्य इस पृथ्वी पर नहीं हुआ है जिसके अंदर यह भावना निहित ना हो , यह अलग विषय है उसके मन में किसी के प्रति सद्भावना है तो किसी के प्रति दुर्भावना अंदर होती है | जहां समाज परिवार एवं राष्ट्र के प्रति सद्भावना रखने वाले का सम्मान होता है तो समाज में हर किसी से दुर्भावना रखने वाला मनुष्य स्थान स्थान पर आलोचना का पात्र बनता रहता है और ऐसे मनुष्य कुंठा का शिकार होकर के अंतर्मुखी होते चले जाते हैं | क्योंकि जब स्थान स्थान पर लोग उनकी आलोचना करने लगते हैं तो मनुष्य को यही लगने लगता है कि सारा संसार हमसे द्वेष करता है | जबकि सत्यता यह होती है कि उसका स्वयं का आचरण इस योग्य नहीं होता है कि कोई उस से प्रेम करें | यदि कोई प्रेम करना भी चाहता है तो उस व्यक्ति को यह लगता है यह तो हमारे प्रबल विरोधी हैं प्रेम को स्वीकार तो कर लेता है परंतु उसके मन की दुर्भावना नहीं हटती और उसका व्यक्तित्व और उसके आचरण दुर्भावना से ग्रसित होकर ही आश्रित होते रहते हैं |* *आज समाज में जगह जगह पर सामाजिक संगठनों के द्वारा , धार्मिक संगठनों के द्वारा या ग्रामीण स्तर पर सार्वजनिक कार्यक्रमों का आयोजन इसी उद्देश्य से किया जाता है कि लोग आपस में प्रेम और आपसी सद्भावना का विकास कर सके | व्यक्तित्व निर्माण की प्रथम पाठशाला घर से निकल कर विद्यालय तक होती है | प्राथमिक विद्यालय में गुरुजनों के द्वारा छात्रों को आपसी प्रेम सद्भावना के विषय में ज्ञान कराते हुए उनके चरित्र निर्माण , व्यक्तित्व निर्माण का उद्योग किया जाता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" अब तक मिले ज्ञान एवं आज के समाज की स्थिति को देखते हुए इतना ही कह सकता हूं कि मनुष्य के पास धनबल , जनबल एवं बाहुबल होने के बाद भी यदि उसका व्यक्तित्व सकारात्मक नहीं है उसकी भावनाएं लोगों के प्रति अच्छी नहीं है तो मनुष्य समाज में सम्मान तो पाता है परंतु लोग पीठ पीछे उसके व्यक्तित्व एवं आचरण की आलोचना ही करते मिलते हैं | मनुष्य को सदैव ही ऐसा आचरण करना चाहिए जिससे कि वह जहां भी जाए उसके व्यक्तित्व की सुगंध चहुँओर फैलती रहे , क्योंकि मनुष्य के व्यक्तित्व की प्रशंसा उसके आगे ना हो करके यदि उसकी अनुपस्थिति में हो तभी ही माना जा सकता है उसके आचरण एवं उसकी भावनाएं सबके लिए सकारात्मक है |* *यदि अपने आचरण को एवं व्यक्तित्व को शुद्ध बनाना है तो सर्वप्रथम अपने हृदय में उमड़ रही भावनाओं को सद्भावना में परिवर्तित करना होगा क्योंकि दुर्भावना ग्रस्त मनुष्य कभी विकास नहीं कर सकता |*

अगला लेख: त्रिगुणात्मक सृष्टि :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 अक्तूबर 2018
*पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।* *प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥* *हमारे सनातन धर्म में नवरात्र पर्व के तीसरे दिन महामाया चंद्रघंटा का पूजन किया जाता है | चंद्रघंटा की साधना करने से मनुष्य को प्रत्येक सुख , सुविधा , ऐश्वर्य , धन एवं लक्ष्मी की प्राप्
12 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*चौरासी योनियों में सर्वश्रेष्ठ एवं सबसे सुंदर शरीर मनुष्य का मिला | इस सुंदर शरीर को सुंदर बनाए रखने के लिए मनुष्य को ही उद्योग करना पड़ता है | सुंदरता का अर्थ शारीरिक सुंदरता नहीं वरन पवित्रता एवं स्वच्छता से हैं | पवित्रता जीवन को स्वच्छ एवं सुंदर बनाती है | पवित्रता, शुद्धता, स्वच्छता मानव-जीवन
07 अक्तूबर 2018
01 अक्तूबर 2018
*मनुष्य इस पृथ्वी पर इकलौता प्राणी है जिसमें अन्य प्राणियों की अपेक्षा सोंचने - समझने के लिए विवेकरूपी एक अतिरिक्त गुण ईश्वर ने प्रदान किया है | अपने विवेक से ही मनुष्य निरन्तर प्रगति पथ पर अग्रसर होता रहा है | मनुष्य को कब क्या करना चाहिये इसका निर्णय विवेक ही करता है | अपने विवेक का प्रयोग जिसने स
01 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
26 सितम्बर 2018
*परमात्मा की बनाई हुई इस सृष्टि को सुचारु रूप से संचालित करने में पंचतत्व एवं सूर्य , चन्द्र का प्रमुख योगदान है | जीवों को ऊर्जा सूर्य के माध्यम से प्राप्त होती है | सूर्य की गति के अनुसार ही सुबह , दोपहर एवं संध्या होती है | सनातन धर्म में इन तीनों समय (प्रात:काल , मध्यान्हकाल एवं संध्याकाल ) का व
26 सितम्बर 2018
20 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में जहाँ ३३ करोड़ देवी - देवताओं का वर्णन मिलता है वहीं प्रमुख तीन देव (ब्रह्मा , विष्णु , महेश) भी कहे गये हैं | इन प्रमुख त्रिदेवोों में ब्रह्मा जी सृजन करते करते हैं , विष्णु जी पालन करते हैं और भगवान रुद्र को संहार का कारक माना जाता है | सृजन और संहार जहाँ प्रथम और अंतिम चरण है वहीं
20 सितम्बर 2018
28 सितम्बर 2018
*इस सृष्टि के जनक जिन्हे ईश्वर या परब्रह्म कहा जाता है वे सृष्टि में घट रही घटनाओं का श्रेय स्वयं न लेकरके किसी न किसी को माध्यम बनाते रहते हैं | परमपिता परमात्मा ने इस सृष्टि की रचना में पंचतत्वों की महत्वपूर्ण भूमिका बनायी और साथ ही इस सृष्टि में तीन गुणों (सत्व , रज एवं तम) को प्रकट किया और सकल स
28 सितम्बर 2018
02 अक्तूबर 2018
*पुरातन काल से भारतीय संस्कृति अपने आप में अनूठी रही है | भारत से लेकर संपूर्ण विश्व के कोने-कोने तक भारतीय संस्कृति एवं संस्कार ने अपना प्रभाव छोड़ा है , और इसे विस्तारित करने में हमारे महापुरुषों ने , और हमारे देश के राजाओं ने महत्वपूर्ण योगदान दिया था | किसी भी समस्या के निदान के लिए या किसी नवी
02 अक्तूबर 2018
01 अक्तूबर 2018
*मनुष्य इस पृथ्वी पर इकलौता प्राणी है जिसमें अन्य प्राणियों की अपेक्षा सोंचने - समझने के लिए विवेकरूपी एक अतिरिक्त गुण ईश्वर ने प्रदान किया है | अपने विवेक से ही मनुष्य निरन्तर प्रगति पथ पर अग्रसर होता रहा है | मनुष्य को कब क्या करना चाहिये इसका निर्णय विवेक ही करता है | अपने विवेक का प्रयोग जिसने स
01 अक्तूबर 2018
02 अक्तूबर 2018
*हमारे सनातन ग्रंथों में इस संसार को मायामय के साथ साथ मुसाफिरखाना भी कहा गया है | मुसाफिरखाना अर्थात जहां यात्रा के अंतर्गत एक - दो रात्रि व्यतीत करते हैं | कहने का तात्पर्य यह संसार एक किराए का घर है और इस किराए के घर को एक दिन छोड़ कर सबको जाना ही पड़ता है | इतिहास गवाह है कि संसार में जो भी आया
02 अक्तूबर 2018
21 सितम्बर 2018
*किसी भी राष्ट्र का निर्माण व्यक्ति द्वारा होता है,और व्यक्ति का निर्माण एक नारी ही कर सकती है और करती भी है। शायद इसीलिए सनातन काल से नारियों को देवी की संज्ञा दी गई है । लिखा है ---- नारी निंदा मत करो,नारी नर की खान। नारी ते नर होत हैं, ध्रुव-प्रहलाद समान।।राष्ट्र निर्माण में नारियों के योगदान को
21 सितम्बर 2018
24 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में ऐसी मान्यता है कि मनुष्य जन्म लेने के बाद तीन प्रकार के ऋणों का ऋणी हो जाता है | ये तीन प्रकार के ऋण मनुष्य को उतारने ही पड़ते हैं जिन्हें देवऋण , ऋषिऋण एवं पितृऋण के नाम से जाना जाता है | सनातन धर्म की यह महानता रही है कि यदि मनुष्य के लिए कोई विधान बनाया है तो उससे निपटने या मुक्ति
24 सितम्बर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x