समर्थवान कौन ?? --- आचार्य अर्जुन तिवारी

07 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (99 बार पढ़ा जा चुका है)

समर्थवान कौन ?? --- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन काल से यदि भारतीय इतिहास दिव्य रहा है तो इसका का कारण है भारतीय साहित्य | हमारे ऋषि मुनियों ने ऐसे - ऐसे साहित्य लिखें जो आम जनमानस के लिए पथ प्रदर्शक की भूमिका निभाते रहे हैं | हमारे सनातन साहित्य मनुष्य को जीवन जीने की दिशा प्रदान करते हुए दिखाई पड़ते हैं | कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी द्वारा रचित श्रीरामचरितमानस एक कालजयी रचना बन कर के जीवन के हर विषय पर मानव मात्र का पद प्रदर्शन करने वाला ग्रंथ है | बाबा जी की वैसे तो प्रत्येक चौपाई अपने आप में अनूठी है परंतु एक चौपाई को लेकर के प्राय: समाज में चर्चा होती रहती है | बाबा जी ने लिखा ;-- "समरथ को नहिं दोष गोसाई" इस चौपाई के अर्थ से लेकर अनर्थ तक लगाये गये | समर्थ का क्या अर्थ होता है ? इसको हमारे सनातन साहित्य में स्पष्ट करते हुए लिखा है | सम + अर्थ अर्थात जो भेदभाव से रहित होकर सबके साथ समान व्यवहार करें वही समर्थ है | समरथ का यदि सन्धिविच्छेद किया जाय तो (सम + अर्थ ) होता है | (सम + अर्थ ) में धनबल , बाहुबल , एवं पशुबल का भाव न समझकर आत्मबल का भाव ही समझना चाहिए | जो अपने कर्मों व विचारों से दोष रहित हो वहीं समर्थ कहा जा सकता है | जिसके कर्म भेदभाव वाली बुद्धि से प्रेरित ना हो वहीं समर्थ कहा जा सकता है | अपनी चौपाई को पूरी करते हुए शायद इसीलिए बाबा जी ने आगे लिखा है :-- " रवि पावक सुरसरि की नांईं " | सूर्य अग्नि एवं गंगा जी के कार्य भेदभाव रहित ही है | कहने का अर्थ है की जो दोष रहित हो वही समर्थन है | यदि इस विषय पर विचार किया जाए कि भेदभाव से परे एवं दोष रहित एवं समर्थवान कौन है तो तो ईश्वर के अतिरिक्त दोष रहित कोई दूसरा नहीं हो सकता | इसलिए समर्थन एवं सर्व शक्तिमान एक वही परमात्मा हो सकता है गीता में योगेश्वर कृष्ण ने कहा है " निर्दोषं हि समं ब्रह्म" है अर्थात :-- ब्रह्म ही निर्दोष है |* *आज जिस प्रकार युग बदला मान्यताएं बदल गई उसी प्रकार अनेक ग्रंथों में लिखी हुई सूक्तियां एवं उनके अर्थ लोगों ने अपने अनुसार बदल लिए हैं | आज समर्थवान का अर्थ दोषरहित न हो करके धनबल एवं बाहुबल से लगाया जाने लगा है | जिसकी जितनी ज्यादा शासनसत्ता से समीपता एवं पकड़ है वहीं समर्थवान कहा जा सकता है | आज समर्थवान का सीधा अर्थ है कि मनुष्य कुछ भी करके निर्दोष सिद्ध हो जाता है तो लोग उसे समर्थवान कहने लगते हैं | और लोग बाबा जी की चौपाई का उदाहरण भी देने लगते हैं कि जो समर्थवान होता है उसको कोई दोष नहीं लगता है | जबकि मेरा आचार्य अर्जुन तिवारी का मानना है समर्थवान वही हो सकता है जो समाधिस्थ हो | समाधि का अर्थ होता है सम +धि अर्थात जिसकी बुद्धि सबको समान देखने वाली हो , उसी को समाधिस्थ एवं समर्थवान माना जा सकता है | आज के भौतिकयुग में भी यदि कोई ऐसा हो जो सबको बराबर की दृष्टि से देख सकता हो तो वही वास्तविक समर्थ है अन्यथा तो सभी समर्थवान हैं ही |* *आज के समर्थवान तब तक ही समर्थ हैं जब तक उनके पास बल है | मनुष्य को दीर्घकालिक समर्थवान (आत्मबल से पूर्ण) बनने का प्रयास करना चाहिए |*

अगला लेख: त्रिगुणात्मक सृष्टि :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म के आर्षग्रंथों (गीतादि) में मनुष्य के कल्याण के लिए तीन प्रकार के योगों का वर्णन मिलता है :- ज्ञानयोग , कर्मयोग एवं भक्तियोग | मनुष्य के लिए कल्याणकारक इन तीनों के अतिरिक्त चौथा कोई मार्ग ही नहीं है | प्रत्येक मनुष्य को अपने कल्याण के लिए इन्हीं तीनों में से किसी एक को चुनना ही पड़ेगा |
27 सितम्बर 2018
24 सितम्बर 2018
*सनातन धर्म में ऐसी मान्यता है कि मनुष्य जन्म लेने के बाद तीन प्रकार के ऋणों का ऋणी हो जाता है | ये तीन प्रकार के ऋण मनुष्य को उतारने ही पड़ते हैं जिन्हें देवऋण , ऋषिऋण एवं पितृऋण के नाम से जाना जाता है | सनातन धर्म की यह महानता रही है कि यदि मनुष्य के लिए कोई विधान बनाया है तो उससे निपटने या मुक्ति
24 सितम्बर 2018
02 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के अखिलनियंता देवों के देव महादेव को शिव कहा जाता है | शिव का अर्थ होता है कल्याणकारी | मानव जीवन में सबकुछ कल्याणमय हो इसके लिए शिवतत्व का होना परम आवश्यक है | शिवतत्व के बिना जीवन एक क्षण भी नहीं चल सकता | शिव क्या हैं ?? मानस में पूज्यपाद गोस्वामी तुलसीदास जी ने भगवान शिव को विश्वास का स्
02 अक्तूबर 2018
26 सितम्बर 2018
*परमात्मा की बनाई हुई इस सृष्टि को सुचारु रूप से संचालित करने में पंचतत्व एवं सूर्य , चन्द्र का प्रमुख योगदान है | जीवों को ऊर्जा सूर्य के माध्यम से प्राप्त होती है | सूर्य की गति के अनुसार ही सुबह , दोपहर एवं संध्या होती है | सनातन धर्म में इन तीनों समय (प्रात:काल , मध्यान्हकाल एवं संध्याकाल ) का व
26 सितम्बर 2018
24 सितम्बर 2018
*संसार में अब तक अनेक विद्वान महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने क्रिया कलापों से संसार का कल्याण करने का ही प्रयास किया है ! उनके चरित्रों का अनुसरण करके मनुष्य स्वयं पूजित होता रहा है | महापुरुषों के बताये गये मार्गों का अनुसरण करके , उनके लिखे ग्रंथों का पठन - पाठन करके ही विद्वान बनते आये महापुरुषो
24 सितम्बर 2018
28 सितम्बर 2018
*मानव समाज में एक दूसरे के ऊपर दोषारोपण करने का कृत्य होता रहा है | जबकि हमारे आर्ष ग्रंथों में स्थान - स्थान पर इससे बचने का निर्देश देते हुए लिखा भी है :- "परछिद्रेण विनश्यति" अर्थात दूसरों के दोष देखने वाले का विनाश हो जाता है अर्थात अस्तित्व समाप्त हो जाता है | इसी से मिलता एक शब्द है "निंदा" |
28 सितम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x