कद

17 अक्तूबर 2018   |  गौरी कान्त शुक्ल   (75 बार पढ़ा जा चुका है)

कद बढ़ा नहीं करते "ऐड़ियां"उठाने से*,

*उचाइयां तो मिलती हैं "सर" झुकाने से*

अगला लेख: सार्थकता



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 अक्तूबर 2018
सा
आपकी उपस्थिति से क्यों व्यक्ति स्वयं के दुःख भूल जाये यही आपकी उपस्थिति के सार्थकता है/
31 अक्तूबर 2018
09 अक्तूबर 2018
जा
एक होता है जादूगर और दूसरा जादू। हाँ तुम जादू हो जादू। कुछ भी इतना ख़ास पहले नहीं था जितना तुमसे बतियाने के बाद। तुमसे बातें करने पर ऐसा होता था जैसे ख़ुद को ही ख़ुद की ही बातें समझानी हो। पता है, तुम वो जादू हो जो दुनिया के सारे जादूगर सीखना चाहते हैं, पाना चाहते हैं पर सबके बस का नहीं है ये। तुमको
09 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
का
06 अक्तूबर 2018
स्
22 अक्तूबर 2018
09 अक्तूबर 2018
सा
31 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
09 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x