आवश्यक है कन्याओं का संरक्षण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

20 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (95 बार पढ़ा जा चुका है)

आवश्यक है कन्याओं का संरक्षण :-- आचार्य अर्जुन तिवारी

*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्तित होकर संपूर्ण संसार को अपनी ममता के आंचल में आश्रय देती है | जिस प्रकार मनुष्य किसी वृक्ष का छोटा पौधा लगा करके उसकी देखभाल तब तक करता है जब तक कि वह बड़ा ना हो जाए , ठीक उसी प्रकार कन्या का संरक्षण मनुष्य तब तक करता है जब तक वह विवाह करके अपने घर नहीं चली जाती | हमारे पुराणों में दान की अनेक विधियां बताई गयी हैं | विशेषकर कलयुग में दान का बड़ा महत्व है | कहते हैं कि धर्म चार पैरों वाला था परंतु कलयुग में दान स्वरूप उसका एक ही पैर बचा है , इसलिए मनुष्य को दान करते रहना चाहिए | सभी दानों में सर्वश्रेष्ठ कन्यादान कहा गया है | ऐसा भी लिखा है कि जिस मनुष्य के हाथों कन्यादान नहीं होता है उस मनुष्य की सद्गति नहीं होती है | शायद इसीलिए प्राचीन परंपरा में किसी भी जाति की कन्या के विवाह के समय गांव के प्रायः सभी लोग उस कन्या का पूजन जाया करते थे | सनातन धर्म में कन्या पूजन का विधान बनाते हुए सृष्टि के संरक्षण का कार्य किया है , क्योंकि बिना कन्या की सृष्टि की कल्पना करना व्यर्थ है | एक कन्या ही पुत्री , बहन , पत्नी बन करके मां बनती है | कन्या के पूरे जीवन काल में अनेकों रूप देखने को मिलते हैं इसलिए कन्या का संरक्षण बहुत आवश्यक है |* *आज समय बदल रहा है | कन्याओं ने अपनी प्रतिभा दिखाते हुए इस संसार के प्रायः सभी क्षेत्रों में अपना परचम लहराया है | कोई भी ऐसा क्षेत्र नहीं बचा है जहां कन्याओं ने अपनी प्रतिभा न दिखलाई हो | इतना सब होने के बाद भी कन्याओं का जीवन सुरक्षित नहीं दिख रहा है | जिस का सबसे बड़ा कारण मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जो देख पा रहा हूं उसके अनुसार दहेज रूपी दानव की भूमिका अधिक है | आज दहेज रूपी दानव अपने वीभत्स रूप में कन्याओं का जीवन निगल रहा है | इसी दहेज रूपी दानव के भय के कारण कन्या भ्रूण हत्या की घटनाएं बढ़ गई है | यदि पिता के द्वारा किसी तरह अपनी जमीन जायदाद बेंच कर विवाह भी कर दिया जाता है तो ससुराल वाले दहेज की कमी बताकरके उसकी हत्या कर देते हैं | ऐसी अनेक घटनाएं आज समाज में देखने को मिल रही हैं | ऐसा करने वाले शायद यह नहीं विचार कर पा रहे हैं कि यदि कन्या ही नहीं रह जाएगी तो आगे यह सृष्टि संतुलित कैसे रहेगी ! क्योंकि ब्रह्मा जी ने कई बार सृष्टि का सृजन किया परंतु जब तक मैथुनी सृष्टि नहीं की उनकी सृष्टि तब तक गतिमान नहीं हो पाई | जब ब्रह्मा जी बिना नारी के सृष्टि को गतिमान नहीं कर सके तो हम बिना नारी जाति के इस सृष्टि के गतिमान होने की कल्पना भी कैसे कर सकते हैं | आज कन्याओं की जो दुर्दशा है उसका एक कारण इंटरनेट एवं सोशल मीडिया भी है ! जहां आज के नवयुवक दर्शनीय / अदर्शनीय कार्यक्रम देख कर के अपनी मानसिकता को विकृत करते हुए कन्याओं के लिए काल बन रहे हैं | इसी प्रकार कन्याओं के ऊपर कुठाराघात होता रहा तो वह दिन दूर नहीं है जब इस संसार में अधिकतर लोग बिना पत्नी के ही रह जाएंगे और सृष्टि का संचालन प्रभावित हो जाएगा |* *मैया कात्यायनी की पूजा आज सभी कर रहे हैं , परंतु शायद उतनी ही देर के लिए जब तक पांडाल में रहते हैं | ऐसी विचारधारा से उबर कर बाहर आना पड़ेगा |*

अगला लेख: सर्वपितृ अमावस्या पर अवश्य करें श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



यही सबसे बड़ी विडम्बना है. जहाँ पे स्त्री की पूजा देवी के रूप में होती है उस देश में दहेज़ का दानव अभी भी जिन्दा है.

आदरणीय अमिताभ जी , आपकी बातों से पूर्णत: सहमत हूँ

बुक रिवर प्रेस
22 अक्तूबर 2018

looking for publisher to publish your book publish with online book publishers India and become published author, get 100% profit on book selling, wordwide distribution,

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अक्तूबर 2018
वि
*सनातन काल से हमारे विद्वानों ने संपूर्ण विश्व को एक नई दिशा प्रदान की | आज यदि हमारे पास अनेकानेक ग्रंथ , उपनिषद एवं शास्त्र उपलब्ध हैं तो उसका कारण है हमारे विद्वान ! जिन्होंने अपनी विद्वता का परिचय देते हुए इन शास्त्रों को लिखा | जिसका लाभ हम आज तक ले रहे हैं | जिस प्रकार एक धनी को धनवान कहा जात
07 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मनुष्यों की उत्पत्ति हुई मानव मात्र एक समान रहा करते थे , इनका एक ही वर्ण था जिसे "हंस" कहा जाता था | समय के साथ विराटपुरुष के शरीर से चार वर्णों की उत्पत्ति की वर्णन यजुर्वेद में प्राप्त होता है :-- "ब्राह्मणोमुखमासीद् बाहू राजन्या कृता: ! ऊरूतदस्यद्वैश्य: पद्भ्या गुंग शूद्र
27 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म को अलौकिक इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस विशाल एवं महान धर्म में समाज के प्रत्येक प्राणी के लिए विशेष व्रतों एवं त्यौहारों का विधान बनाया गया है | परिवार के सभी अंग - उपांग अर्थात माता - पिता , पति - पत्नी , भाई - बहन आदि सबके लिए ही अलग - अलग व्रत - पर्वों का विधान यदि कहीं मिलता है तो वह
27 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*प्राचीनकाल में मंदिर एक ऐसा स्थान होता था जहां बैठ कर समाज की गतिविधियां संचालित की जाती थी , वहीं से समाज को आगे बढ़ाने के लिए योजनाएं बनाई जाती थी | समाज के लिए नीति - निर्धारण का कार्य यहीं से संचालित होता था | हमारे वैदिक काल की शिक्षा व्यवस्था ऐसी थी जहां एक गुरु का आश्रम होता था , और उस आश्रम
27 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
*हमारे भारत देश में अनेकों महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने महान गुणों से एक नवीन आदर्श किया है | धर्म को मानने वाले या धारण करने वाले मनुष्यों का सबसे बड़ा गुण होता है क्षम
23 अक्तूबर 2018
05 अक्तूबर 2018
*इस संसार में मनुष्य को सर्वश्रेष्ठ इसलिए माना गया है क्योंकि मनुष्य में निर्णय लेने की क्षमता के साथ परिवार समाज व राष्ट्र के प्रति एक अपनत्व की भावना से जुड़ा होता है | मनुष्य का व्यक्तित्व उसके आचरण के अनुसार होता है , और मनुष्य का आचरण उसकी भावनाओं से जाना जा सकता है | जिस मनुष्य की जैसी भावना ह
05 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन अवसर पर चल रही नारीगाथा पर आज एक विषय पर सोंचने को विवश हो गया कि नारियों पर हो रहे अत्याचारों के लिए दोषी किसे माना जाय ??? पुरुषवर्ग को या स्वयं नारी को ??? परिणाम यह निकला कि कहीं न कहीं से नारी की दुर्दशा के लिए नारी ही अधिकतर जिम्मेदार है | जब अपने साथ कम दहेज लेकर कोई नववधू सस
12 अक्तूबर 2018
08 अक्तूबर 2018
*मृत्युलोक में जन्म लेने के बाद मनुष्य तीन प्रकार के ऋणों से ऋणी हो जाता है यथा :- देवऋण , ऋषिऋण एवं पितृऋण | पूजन पाठ एवं दीपदान करके मनुष्य देवऋण से मुक्त हो सकता है , वहीं जलदान करके ऋषिऋण एवं पिंडदान (श्राद्ध) करके पितृऋण से मुक्त हुआ जा सकता है | प्रत्येक वर्ष आश्विनमास के कृष्णपक्ष में पितरों
08 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।* *प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥* *हमारे सनातन धर्म में नवरात्र पर्व के तीसरे दिन महामाया चंद्रघंटा का पूजन किया जाता है | चंद्रघंटा की साधना करने से मनुष्य को प्रत्येक सुख , सुविधा , ऐश्वर्य , धन एवं लक्ष्मी की प्राप्
12 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
*चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन |* *कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ||* *महामाई आदिशक्ति भगवती के पूजन का पर्व नवरात्र शनै: शनै: पूर्णता की ओर अग्रसर है | महामाया इस सृष्टि के कण - कण में विद्यमान हैं | जहाँ जैसी आवश्यकता पड़ी है वैसा स्वरूप मैया ने धारण करके लोक
15 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x