शक्ति के समस्त रूप नारी में ;---- आचार्य अर्जुन तिवारी

22 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (49 बार पढ़ा जा चुका है)

शक्ति के समस्त रूप नारी में ;---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस धराधाम पर जब-जब ईश्वर ने अवतार लिया है तब-तब उनकी शक्ति, उनकी माया उनके साथ आई है | यह माया नहीं होती तो अध्यात्म कैसे होता | ईश्वर स्वयं शक्ति को मानते हैं क्योंकि बिना शक्ति के ईश्वर का भी अस्तित्व नहीं है | इसी शक्ति में जब वीर गुण होता है तो यह "महादुर्गा" हो जाती हैं | जब रजोगुण होता है तो वह "महालक्ष्मी" हो जाती है | तमोगुण को प्रखर करती हई वही "महाकाली" कहलाती हैं और सतोगुण की अधिकता में वह ज्ञान प्रदान करने वाली "महासरस्वती" के रूप में दर्शन देती है | आदिशक्ति के नौ रूपों में ही एक नारी का सम्पूर्ण जीवन निहित है | जन्म लेने के बाद प्रत्येक कन्या में "शैलपुत्री" के दर्शन होते हैं | शिक्षा ग्रहण करके कठिन परीक्षाओं की तैयारी (तपस्या) करती हुई प्रत्येक कन्या "ब्रह्मचारिणी" स्वरूपा होती है | अपने रूप लावण्य से माता - पिता का मन मोहने वाली "चन्द्रघण्टा" विवाहोपरान्त जब गर्भ धारण करती है तो "कूष्माण्डा" का दर्शन कराती है | एक नारी के सबसे बड़े सुख को प्राप्त करते हुए जब नारी सन्तान को जन्म देती है तो वह "स्कन्दमाता" के तुल्य हो जाती है | परिवार को वरदान स्वरूप कन्या प्रदत्त करके कन्यादान करने का सौभाग्य दिलाने वाली नारी "कात्यायनी" का स्वरूप है | अपने परिवार पर आई हुई प्रलय की रात्रि का दृढता से सामना करने वाली "कालरात्री" बन जाती है | बहू आ जाने के बाद पूरे परिवार पर ममता लुटाने वाली "महागौरी" अन्त समय में अपना सब कुछ परिवार को देकर संसार से विदा लेते समय वह "सिद्धिदात्री" के रूप में सब प्रदान करके चली जाती है | इस प्रकार आदिशक्ति जगदम्बा का प्रत्येक रूप नारी में ही समाहित है | आवश्यकता है यथारूप दर्शन करने की |* *आज मनुष्य की मानसिकता बदल गयी है | जैसा कि दीपक की तलहटी में सदैव अंधेरा ही रहती है ठीक उसी प्रकार मनुष्य को अपने घर में रह रही शक्तिस्वरूपा अपनी माँ , बहन , पत्नी व कन्या में उस परमशक्ति का आभास नहीं होता है और वह उनको त्रास देता हुआ मंदिरों में जाकर आदिशक्ति की कृपा प्राप्त करना चाहता है | समाज में आज न तो शैलपुत्री (कन्या) सुरक्षित दिख रही है और न ही "ब्रह्मचारिणी" (छात्रा) | जगह - जगह इनको कुदृष्टि से देखने वालों की संख्या अधिक हो गयी है | आज भगवती दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों का पूजन करना एवं उनके लिए व्रत करना तभी सार्थक हो सकता है जब उनके स्वरूप में हमारे आसपास विचरण कर रही अनेकानेक कन्याओं / युवतिओं को भी उसी भाव से देखते हुए सम्मान दिया जाय , अन्यथा कोई लाभ नहीं मिलने वाला है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज अनेकानेक दुर्गापूजा समितियों के नवयुवकों का आवाहन करता हूँ कि :-- आज समय की माँग है कि हम मात्र नौ दिनों के लिए ही भक्तिमय न होकर वर्षपर्यन्त भगवती के विभिन्न स्वरूपों को आदर सम्मान करते हुए उनके साथ उचित व्यवहार करें | ऐसा करने से मात्र हमारी मानसिकता ही नहीं वरन् हमारा जीवन एवं समाज भी परिवर्तित हो जायेगा , और जब नारीशक्ति (कन्या से लेकर वृद्धा तक) स्वयं को सुरक्षित मानने लगेगी तब उनके आशीर्वाद से समाज निरन्तर पुष्पित - पल्लवित होता रहेगा | सही मायनों में हमारा "दुर्गापूजा" तभी सार्थक भी कहा जा सकता है |*

अगला लेख: सर्वपितृ अमावस्या पर अवश्य करें श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म की दिव्यता का प्रतीक पितृपक्ष आज सर्वपितृ अमावस्या के साथ सम्पन्न हो गया | सोलह दिन तक हमारे पूर्वजों / पितरों के निमित्त चलने वाले इस विशेष पक्ष में सभी सनातन धर्मावलम्बी दिवंगत हुए पूर्वजों के प्रति श्रद्धा दर्शाते हुए श्राद्ध , तर्पण एवं पिंडदान आदि करके उनको तृप्त करने का प्रयास करते
11 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*आज हम अपने संस्कारों को भूलते जा रहे हैं | यही हमारे लिए घातक एवं पतन का कारण बन रहा है | सोलह संस्कारों का विधान सनातनधर्म में बताया गया है | उनमें से एक संस्कार "उपनयन संस्कार" अर्थात यज्ञोपवीत -संस्कार का विधान भी है | जिसे आज की युवा पीढी स्वीकार करने से कतरा रही है | जबकि यज्ञोपवीत द्विजत्व का
07 अक्तूबर 2018
08 अक्तूबर 2018
*मृत्युलोक में जन्म लेने के बाद मनुष्य तीन प्रकार के ऋणों से ऋणी हो जाता है यथा :- देवऋण , ऋषिऋण एवं पितृऋण | पूजन पाठ एवं दीपदान करके मनुष्य देवऋण से मुक्त हो सकता है , वहीं जलदान करके ऋषिऋण एवं पिंडदान (श्राद्ध) करके पितृऋण से मुक्त हुआ जा सकता है | प्रत्येक वर्ष आश्विनमास के कृष्णपक्ष में पितरों
08 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*सनातन काल से यदि भारतीय इतिहास दिव्य रहा है तो इसका का कारण है भारतीय साहित्य | हमारे ऋषि मुनियों ने ऐसे - ऐसे साहित्य लिखें जो आम जनमानस के लिए पथ प्रदर्शक की भूमिका निभाते रहे हैं | हमारे सनातन साहित्य मनुष्य को जीवन जीने की दिशा प्रदान करते हुए दिखाई पड़ते हैं | कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वा
07 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क
20 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x