हमारे वेद :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

22 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (77 बार पढ़ा जा चुका है)

हमारे वेद :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारतीय सनातन संस्कृति एवं हिंदू धर्म का आधार हमारे चारों वेद रहे हैं | हमारे इन वेदों में विश्व के समस्त ज्ञान , समस्त कलायें एवं जीवन जीने का दिशा - निर्देशन समस्त मानव जाति को प्राप्त होता रहा है | जब संसार में कोई धर्म नहीं था तब मानवमात्र के कल्याण के लिए वेदों का प्राकट्य हुआ | इन्हीं वेदों की ऋचाओं से उद्धृत ज्ञान को आधार बनाकर हमारे ऋषियों - महर्षियों ने अनेक शास्त्रों की रचना करके मानवजाति को जीवन जीने की कला सिखाई | एक छोटे से अणु से लेकर परमाणु तक का ज्ञान हमारे वेदों में समाया हुआ है | विधर्मी यह जानते थे कि जिस दिन ये वेद समाप्त हो जायेंगे उसी दिन सनातन धर्म भी समाप्त हो जायेगा , इसी को ध्यान में रखकर आदिकाल से ही सनातन विरोधियों का लक्ष्य हमारे वेद ही रहे हैं | परंतु इतिहास गवाह है कि जिसने भी वेदों को विनष्ट करने का प्रयास किया है उसका समूल विनाश हो गया है | प्राचीनकाल में दुर्गमासुर नामक एक असुर हुआ था जिसने अपने गुरु शुक्राचार्य के कहने पर ब्रह्मा जी की तपस्या करके चारों वेदों को मांग लिया | वेदों का हरण होते ही दैवशक्तियाँ निर्बल हो गयीं तब महामाया जगदम्बा ने दुर्गमासुर का वध किया और दुर्गा कहलाईं | इसके अतिरिक्त भी अनेक बार विधर्मियों द्वारा ऐसे प्रयास किये गये जिसके परिणामस्वरूप ईश्वरीय शक्तियों द्वारा उनका विनाश करके वेदों को संरक्षित किया जाता रहा है |* *आज युगों बीत जाने के बाद भी कुछ तथाकथित विधर्मी वेदों को नष्ट तो नहीं कर पा रहे हैं क्योंकि हमारे महापुरुषों द्वारा वेदों के अनेक विभाग करके भाष्य के रूप में विस्तारित कर दिये गये हैं परंतु इन विधर्मियों का कुचक्र रुका नहीं है | बस इनका तरीका बदल गया है | वेदों की ऋचाओं के अर्थों का अनर्थ करके सनातन धर्म को बदनाम करके समाज में भ्रम फैलाने का भरसक प्रयास जारी है | इसी का परिणाम है कि सनातन हिन्दू कई विभिन्न धर्मों , मतों में विभक्त हो गये | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" दुखी एवं आश्चर्यचकित तब हो जाता हूँ जब यह देखता हूँ कि स्वयं को सनातन धर्म का झंडावरदार कहने वाले लोग भी जाने - अनजाने वेदों पर विस्मित होकर भ्रम फैलाने का कार्य कर रहे हैं | ऐसे सभी लोगों को इतिहास देखकर सीख लेते हुए यह जान लेना चाहिए कि सनातन धर्म के आधार वेद न कभी नष्ट हुए हैं और न कभी नष्ट होंगे क्योंकि सत्य कभी पराजित नहीं होता है | सनातन धर्मावलम्बियों से निवेदन मात्र है कि किसी भी तथ्य को सार्वजनिक करने के पहले उसकी सत्यता अवश्य जाँच लें | सनातन धर्म शाश्वत एवं सत्य और यह सदैव अक्षुण्ण रहा है एवं रहेगा | इसमें किसी को भी कोई संदेह नहीं होना चाहिए | यह सार्वभौमिक सत्य है कि जिसका जितना ज्यादा विरोध होता है वह उतना ही निखार प्राप्त करता है |* *हम अपने वैदिक विधान से विमुख होकर आधुनिकता में रंग करके अपनी ही मान्यताओं पर उंगली उठाते हुए स्वयं को आधुनिक दिखाने पर तुले हुए हैं , जो कि हमारे लिए घातक है |*

अगला लेख: सर्वपितृ अमावस्या पर अवश्य करें श्राद्ध :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 अक्तूबर 2018
एक भी बून्द साफ नहीं हुई है गंगा | 2014 लोकसभा के चुनव के मोदी जी ने कहा था न तो मैं आया हूं और न ही मुझे भेजा गया है। दरअसल, मुझे तो मां गंगा ने यहां बुलाया है। लोगों को तब लगा था की भारत को ऐसा प्रधानमंत्री मिलने वाला है जो गंगा माँ की सफाई कर के ही रहेगा और जल्दी ही गंगा भी नील नदी
12 अक्तूबर 2018
14 अक्तूबर 2018
नवरात्रि इमेज 2018 फेसबुक और whatsapp के लिए... (Navratri Images for Facebook, Whatsapp 2018 Latest) Happy Navratri 2018 Latest Image for Facebook, Whatsapp 2018 Latestदेश भर में नवरात्रि का त्यौहार मनाया जा रहा है, आज हम शेयर कर रहे है नवरात्रि की लेटेस्ट 2018 की तस्वीरें , जिसे आप अपने फेसबुक,
14 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन अवसर पर चल रही नारीगाथा पर आज एक विषय पर सोंचने को विवश हो गया कि नारियों पर हो रहे अत्याचारों के लिए दोषी किसे माना जाय ??? पुरुषवर्ग को या स्वयं नारी को ??? परिणाम यह निकला कि कहीं न कहीं से नारी की दुर्दशा के लिए नारी ही अधिकतर जिम्मेदार है | जब अपने साथ कम दहेज लेकर कोई नववधू सस
12 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म की दिव्यता का प्रतीक पितृपक्ष आज सर्वपितृ अमावस्या के साथ सम्पन्न हो गया | सोलह दिन तक हमारे पूर्वजों / पितरों के निमित्त चलने वाले इस विशेष पक्ष में सभी सनातन धर्मावलम्बी दिवंगत हुए पूर्वजों के प्रति श्रद्धा दर्शाते हुए श्राद्ध , तर्पण एवं पिंडदान आदि करके उनको तृप्त करने का प्रयास करते
11 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*इस सकल सृष्टि में हर प्राणी प्रसन्न रहना चाहता है , परंतु प्रसन्नता है कहाँ ???? लोग सामान्यतः अनुभव करते हैं कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि प्रसन्नता के मुख्य सूचक हैं | यह सत्य है कि धन, शक्ति और प्रसिद्धि अल्प समय के लिए एक स्तर की संतुष्टि दे सकती है | परन्तु यदि यह कथन पूर्णतयः सत्य था तब वो सभी जि
07 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
19 अक्टूबर को पूरे विश्व में दशहरा (Dussehra) मनाया जाएगा. इस दिन हर गली-नुक्कड़ और बड़े-बड़े मैदानों में रावण (Ravana) का पुतला जलाया जाएगा. बुराई पर अच्छाई की जीत का ये जश्न धूमधाम से मनाया जाएगा. मैदानों में मेले लगेंगे और मेले में राम और रावण से जुड़े खेल-खिलौने दिखेंगे. एक तरफ परिवार मिलकर चाट
19 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*इस धराधाम पर जीवन जीने के लिए हमारे महापुरुषों ने मनुष्य के लिए कुछ नियम निर्धारित किए हैं | इन नियमों के बिना कोई भी मनुष्य परिवार , समाज व राष्ट्र का सहभागी नहीं कहा जा सकता | जीवन में नियमों का होना बहुत ही आवश्यक है क्योंकि बिना नियम के कोई भी परिवार , समाज , संस्था , या देश को नहीं चलाया जा सक
07 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
नवरात्रि के पर्व का समापन का समय धीरे-धीरे पास आ रहा हैं, माँ दुर्गा के विसर्जन का दिन 19 अक्टूबर को हैं| ऐसे में जब नवरात्रि के शुरुआत होती हैं तो उस समय माँ दुर्गा की चौकी और कलश की स्थापना की जाती हैं| ऐसे में जब माँ दुर्गा का विसर्जन करना होता हैं तो उनके साथ कलश, नार
19 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
शुभ मुहूर्त में किया गया कार्य सुख-समृद्धि व उन्नति का कारक बनता है। जीवन में शुख-शांति लाने के लिए हरेक व्यक्ति को अपने सामर्थय के अनुसार जरूरतमंद लोगों में दान अवश्य करना चाहिए। जो व्यक्ति दान करता है उस व्यक्ति के परिवार में हमेशा शुख समृद्धि बनी रहती है। यदि यही दान अ
16 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*सनातन काल से यदि भारतीय इतिहास दिव्य रहा है तो इसका का कारण है भारतीय साहित्य | हमारे ऋषि मुनियों ने ऐसे - ऐसे साहित्य लिखें जो आम जनमानस के लिए पथ प्रदर्शक की भूमिका निभाते रहे हैं | हमारे सनातन साहित्य मनुष्य को जीवन जीने की दिशा प्रदान करते हुए दिखाई पड़ते हैं | कविकुल शिरोमणि परमपूज्यपाद गोस्वा
07 अक्तूबर 2018
07 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारंभ में ब्रह्मा जी ने इस सृष्टि को गतिमान करने के लिए कई बार सृष्टि की रचना की , परंतु उनकी बनाई सृष्टि गतिमान न हो सकी , क्योंकि उन्होंने प्रारंभ में जब भी सृष्टि की तो सिर्फ पुरुष वर्ग को उत्पन्न किया | जो भी पुरुष हुए उन्होंने सृष्टि में कोई रुचि नहीं दिखाई | अपनी बनाई हुई सृष्टि क
07 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में विराट पुरुष से वेदों का प्रदुर्भाव हुआ | वेदों ने मानव के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है | जीवन के प्रत्येक अंगों का प्रतिपादन वेदों में किया गया है | मानव जीवन पर वेदों का इतना प्रभाव था कि एक युग को वैदिक युग कहा गया | परंतु वेदों में वर्णित श्लोकों का अर्थ न निकालकर क
11 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x