शरद पूर्णिमा 2018: 24 अक्टूबर की रात बरसेगा अमृत, इन आसान उपाय से पाएं कर्ज और मर्ज से मुक्ति

23 अक्तूबर 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (151 बार पढ़ा जा चुका है)

शरद पूर्णिमा 2018: 24 अक्टूबर की रात बरसेगा अमृत, इन आसान उपाय से पाएं कर्ज और मर्ज से मुक्ति

इसी दिन भगवान् कृष्ण महारास रचाना आरम्भ करते हैं। देवीभागवत महापुराण में कहा गया है कि, गोपिकाओं के अनुराग को देखते हुए भगवान् कृष्ण ने चन्द्र से महारास का संकेत दिया, चन्द्र ने भगवान् कृष्ण का संकेत समझते ही अपनी शीतल रश्मियों से प्रकृति को आच्छादित कर दिया। उन्ही किरणों ने भगवान् कृष्ण के चहरे पर सुंदर रोली कि तरह लालिमा भर दी।



फिर उनके अनन्य जन्मों के प्यासे बड़े बड़े योगी, मुनि, महर्षि और अन्य भक्त गोपिकाओं के रूप में कृष्ण लीला रूपी महारास ने समाहित हो गए, कृष्ण कि वंशी कि धुन सुनकर अपने अपने कर्मो में लीन सभी गोपियां अपना घर-बार छोड़कर भागती हुईं वहाँ आ पहुचीं। कृष्ण और गोपिकाओं का अद्भुत प्रेम देख कर चन्द्र ने अपनी सोममय किरणों से अमृत वर्षा आरम्भ कर दी जिसमे भीगकर यही गोपिकाएं अमरता को प्राप्त हुईं, और भगवान् कृष्ण के अमर प्रेम का भागीदार बनीं।


चंद्रमा कि सोममय रश्मियां जब पेड़ पौधों और वनस्पतियों पर पड़ीं तो उनमे भी अमृत्व का संचार हो गया। इसीलिए इस दिन खीर बना कर खुले आसमान के नीचे मध्य रात्रि में रखने का विधान है। रात में चन्द्र कि किरणों से जो अमृत वर्षा होती है, उसके फल स्वरुप वह खीर भी अमृत सामान हो जाती है। उसमें चंद्रमा से जनित दोष शांति और आरोग्य प्रदान करने क्षमता स्वतः आ जाती है। यह प्रसाद ग्रहण करने से प्राणी मानसिक कष्टों से मुक्ति पा लेता है।



प्रलय के चार प्रमुख देवता रूद्र, वरुण, यम और निर्रृति का तांडव जब आषाढ़ शुक्ल एकादशी विष्णु शयन के दिन से आरम्भ होता है, तो माता लक्ष्मी भी विष्णु सेवा में चली जाती हैं। जिसके परिणाम स्वरुप देवप्राण कि शक्तियां भी कमजोर होती जाती है और आसुरी शक्तियों का वर्चस्व बढ़ जाता है। इस अवधि में वरुणदेव बाढ़ , सुखा, भूस्खलन रूद्र नानाप्रक्रार के ज्वर आदि रोग, यम अकाल मृत्यु और अलक्ष्मी देवी पृथ्वीवासियों को नाना प्रक्रार के कष्ट, गरीबी और हानि पहुचाती हैं। इस काल की मुख्य अवधि भादों पूर्णिमा तक होती है।


महालय के बाद नवरात्रि में शक्ति आराधना के मध्य जब देवप्राण कि शक्ति बढ़ने लगती है, तब आसुरी शक्तियां कमजोर पड़ने लगती हैं। विजयदशमी के दिन व्रत पारण के पश्चात् भगवान् विष्णु की परम प्रिय एकादशी को सबके पूजा आराधना का फल कर्मों के आधार पर दिया जाता है। जिससे पाप कर्मो पर अंकुश लगजाता है, इसीलिए इसे पापांकुशा एकादशी भी कहते हैं। पाप पर अंकुश लगने के बाद पूर्णिमा को माता महालक्ष्मी का पृथ्वी पर आगमन होता है। वे घर-घर जाकर सबको वरदान देती हैं, किन्तु जो लोग दरवाजा बंद करके सो रहे होते हैं, वहां से लक्ष्मी जी दरवाजे से ही वापस चली जाती है।



तभी शास्त्रों में इस पूर्णिमा को जागर व्रत, यानी कौन जाग रहा है व्रत भी कहते हैं। इस दिन की लक्ष्मी पूजा सभी कर्जों से मुक्ति दिलाती हैं। अतः शरदपूर्णिमा को कर्ज मुक्ति पूर्णिमा भी कहते हैं। इस रात्रि को श्रीसूक्त का पाठ, कनकधारा स्तोत्र, विष्णु सहस्त्रनाम का जाप और भगवान् कृष्ण का मधुराष्टकम् का पाठ ईष्ट कार्यों की सिद्धि दिलाता है और उस भक्त को भगवान् कृष्ण का सानिध्य मिलता है।


जन्म कुंडली में चंद्रमा क्षीण हों, महादशा-अंतर्दशा या प्रत्यंतर्दशा चल रही हो या चंद्रमा छठवें, आठवें या बारहवें भाव में हो तो चन्द्र कि पूजा और मोती अथवा स्फटिक माला से ॐ सों सोमाय मंत्र का जप करके चंद्रजनित दोष से मुक्ति पाई जा सकती है। जिन्हें लो ब्ल्ड प्रेशर हो, पेट या ह्रदय सम्बंधित बीमारी हो, कफ़ नजला-जुखाम हो आखों से सम्बंधित बीमारी हो वै आज के दिन चन्द्रमा की आराधान करके इस सबसे मुक्ति पा सकते हैं। जिन विद्यार्थियों का मन पढ़ाई में न लगता हो वे चन्द्र यन्त्र धारण करके परीक्षा अथवा प्रतियोगिता में अच्छे अंक प्राप्त कर सकते हैं।

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/10/21/sharad-poornima/?fbclid=IwAR0Vn0WDuXOBwnw2LlVWt62EytYxITerZRl_KkFADZf_fviPVU87ISqKkBg

अगला लेख: अमृतसर रेल हादसा: शव घर लाने के लिए मांग रहे थे 40 हजार, पत्नी को व्हाट्सएप पर फोटो दिखा कर किया दाह-संस्कार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 अक्तूबर 2018
नवरात्रि के पर्व का समापन का समय धीरे-धीरे पास आ रहा हैं, माँ दुर्गा के विसर्जन का दिन 19 अक्टूबर को हैं| ऐसे में जब नवरात्रि के शुरुआत होती हैं तो उस समय माँ दुर्गा की चौकी और कलश की स्थापना की जाती हैं| ऐसे में जब माँ दुर्गा का विसर्जन करना होता हैं तो उनके साथ कलश, नार
19 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
19 अक्टूबर को पूरे विश्व में दशहरा (Dussehra) मनाया जाएगा. इस दिन हर गली-नुक्कड़ और बड़े-बड़े मैदानों में रावण (Ravana) का पुतला जलाया जाएगा. बुराई पर अच्छाई की जीत का ये जश्न धूमधाम से मनाया जाएगा. मैदानों में मेले लगेंगे और मेले में राम और रावण से जुड़े खेल-खिलौने दिखेंगे. एक तरफ परिवार मिलकर चाट
19 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
एक भी बून्द साफ नहीं हुई है गंगा | 2014 लोकसभा के चुनव के मोदी जी ने कहा था न तो मैं आया हूं और न ही मुझे भेजा गया है। दरअसल, मुझे तो मां गंगा ने यहां बुलाया है। लोगों को तब लगा था की भारत को ऐसा प्रधानमंत्री मिलने वाला है जो गंगा माँ की सफाई कर के ही रहेगा और जल्दी ही गंगा भी नील नदी
12 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
पंजाब के अमृतसर में रावण दहन के दौरान हुए रेल हादसों में मरने वालों का आंकड़ा 61 तक पहुंच चुका है। मारे गए कई लोगों की तो अभी तक पहचान भी नहीं हो पाई है। ऐसे लोगों की पहचान करने की कोशिशें की जा रही हैं। साल के सबसे खतरनाक रेल हादसे में किसी के पिता मारे गए तो किसी का बेट
22 अक्तूबर 2018
24 अक्तूबर 2018
नई दिल्ली। अमृतसर रेल हादसे को लेकर जहां पूरा देश सदमे में है, वहीं एक पुल से फंदे पर लटके शख्स की तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई तस्वीरों में दावा किया जा रहा है कि रेल हादसे के बाद ट्रेन के ड्राइवर ने सुसाइड कर लिया। दरअसल, यह दावा सोशल मीडिया पर
24 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
डांस का कीड़ा जिसको काट लेता है उसके लिए यह सांस और धड़कन की तरह जरूरी हो जाता है। फिर चाहे नाचना आए या न आए। म्यूजिक सुनते ही पैर थिरकने लगते हैं और हाथ हवा से बाते करने लगते हैं। सबसे मजेदार बात कि डांस की उछल कूद में शर्म और हया भी कूद कर कही भाग जाती है। नाचने वाले फर
25 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
माता कालरात्रि की पूजा नवरात्रि के सातवें दिन की जाती है। इन्हें देवी पार्वती के समतुल्य माना गया है। देवी के नाम का अर्थ- काल अर्थात् मृत्यु/समय और रात्रि अर्थात् रात है। देवी के नाम का शाब्दिक अर्थ अंधेरे को ख़त्म करने वाली है।माता कालरात्रि का स्वरूपदेवी कालरात्रि कृष्
16 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
पंजाब के अमृतसर में विजयादशमी के दिन रावण वध के दौरान के हुए ट्रेन हादसे में मारे गये मजदूरों के परिजनों ने पंजाब सरकार पर शव भेजने के लिए कोई इंतजाम नहीं करने का आरोप लगाया है. बरौली के सलोना निवासी मृत राजेश भगत के भाई भूलन भगत ने कहा कि अमृतसर जाने के लिए पैसे नहीं थे,
23 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
अब न तो लाठियों का दौर है और न ही लठैतों का जोर है, फिर भी सुलतानुपर के ऐतिहासिक पांडेय बाबा मेले में कई करोड़ रुपयों की लाठियों का कारोबार होता है। प्रदेश के कई जिलों से पांडेय बाबा मेले में आये लोग बड़े पैमाने पर यहां से लाठियों की खरीदारी करते हैं। उल्लेखनीय है कि फैजाब
22 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
19 अक्टूबर को पूरे विश्व में दशहरा (Dussehra) मनाया जाएगा. इस दिन हर गली-नुक्कड़ और बड़े-बड़े मैदानों में रावण (Ravana) का पुतला जलाया जाएगा. बुराई पर अच्छाई की जीत का ये जश्न धूमधाम से मनाया जाएगा. मैदानों में मेले लगेंगे और मेले में राम और रावण से जुड़े खेल-खिलौने दिखेंगे. एक तरफ परिवार मिलकर चाट
19 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
शुभ मुहूर्त में किया गया कार्य सुख-समृद्धि व उन्नति का कारक बनता है। जीवन में शुख-शांति लाने के लिए हरेक व्यक्ति को अपने सामर्थय के अनुसार जरूरतमंद लोगों में दान अवश्य करना चाहिए। जो व्यक्ति दान करता है उस व्यक्ति के परिवार में हमेशा शुख समृद्धि बनी रहती है। यदि यही दान अ
16 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
Third party image referenceआखिरकार ड्राइवर ने मौके पर गाड़ी क्यों नहीं रोकी। वह लोगों को रौंदता हुआ क्यों चला गया। यह सवाल सभी के मन में है। आइए हम आपको बताते हैं कि ड्राइवर ने गाड़ी क्यों नहीं रोकी। साथ ही हम आपको यह भी बता देते हैं कि इस हादसे के प्रमुख कारण क्या थे।Third party image reference1—रा
20 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
संविधान दिवस(Constitution day ) हर साल 26 नवंबर को भारत मनाया जाता है।26 नवंबर 1949 को पूरे दो साल,11 महीने ,18 दिन में भारतीय संविधान (Cons
19 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
20 अक्तूबर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x