क्षमी वीरस्य भूषणम् :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

23 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (50 बार पढ़ा जा चुका है)

क्षमी वीरस्य भूषणम् :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे भारत देश में अनेकों महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने महान गुणों से एक नवीन आदर्श किया है | धर्म को मानने वाले या धारण करने वाले मनुष्यों का सबसे बड़ा गुण होता है क्षमाशीलता | क्षमाशील मनुष्य स्वयं में महान होता है | यह भी सत्य है कि क्षमाशील वही हो सकता है जो बीती हुई बातों को हृदय में न रखता हो | शायद इसीलिए हमारे शास्त्रों में कहा गया गया है :-- गतं शोको न कर्तव्यो भविष्यं नैव चिन्तयेत् ! वर्तमानेषु कार्येषु वर्तयन्ति विचक्षण: !! अर्थात जो महान व बुद्धिमान होते हैं वे बीती बातों पर चिंतन करके न तो दुखी होते हैं और न ही भविष्य की चिंता करते हैं बल्कि वर्तमान को सुंदर से सुंदर बनने का प्रयास करते हैं ऐसे लोगों का मानना होता है कि यदि वर्तमान सुंदर बनाया गया है तो भविष्य अतिसुंदर हो सकता है | बीती बातों को वही भूल सकता है जो क्षमाशील होगा | प्राय: लोग किसी के द्वारा अपने प्रति कहे गये कटु वचनों को याद करके स्वयं में घुटा करते हैं | यहीं यदि मनुष्य क्षमाशील है तो किसी के द्वारा कही गये कटु वचनों के लिए उसे क्षमा करके चिंतामुक्त हो जाता है | विश्वास कीजिए एक दिन ऐसा अवश्य आयेगा जब कि कटु वचन कहने वाला पश्चाताप करके आपके पास क्षमा माँगने चला आयेगा | क्षमाशीलता ऐसा गुण है जो मनुष्य को आदर्शों की ऊंचाईयों पर ले जाने का कार्य करता है |* *आज मानव स्वभाव उग्र होता चला जा रहा है | आज किसी के अंदर क्षमाशीलता का भाव शायद ही देखने को मिलता है | स्वयं को धार्मिक कहने वाले भी धर्म के दस लक्षणों में से एक लक्षण क्षमा को नहीं अपना पा रहे हैं | क्षमाशीलता यदि देखनी है तो धरती मैया की ओर मनुष्य को देखना चाहिए जो कि अपने ऊपर अनेक आघात होने के बाद भी मनुष्यों को अपने ऊपर टिकाए हुए हैं | क्षमाशीलता का अद्भुत एवं जागृत उदाहरण देखना हो तो किसी भी नारी के जीवन को देखा जा सकता है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" समाज में हो रही घटनाओं को देख कर यह कह सकता हूं कि एक नारी अपने पति , परिवार व समाज के द्वारा बार-बार प्रताड़ित किए जाने के बाद भी उनको क्षमा करके एक नए जीवन नींव रखने का सतत् प्रयास जीवन भर करती रहती है | यह गुण नारियों में ईश्वर प्रदत्त ही होता है | कहा भी गया है :-- "क्षणे रुष्टा क्षणे तुष्टा , रुष्टा तुष्टा क्षणे - क्षणे" | पल भर में ही प्रसन्न हो जाना और पल भर में ही क्रोधित हो जाना यह है शक्ति के गुण होते हैं | नारियाँ क्षमाशील ना होती तो शायद इस संसार का स्वरूप ही आज कोई दूसरा होता | स्वयं को समाज का अगुआ कहने वाले पुरुषों को एक नारी से क्षमाशीलता का गुण सीखने की आवश्यकता है , क्योंकि यह ऐसा गुण है जिसे अपनाकर ही मानव जीवन में उन्नति का मार्ग प्रशस्त किया जा सकता है , अन्यथा मनुष्य अवसाद , चिंता , घृणा आदि में ही जीवन व्यतीत करता रहता है |* *क्षमाशीलता को अपना करके हम भले ही थोड़ी देर के लिए समाज की दृष्टि में अपमानित हो जाए , परंतु यह भी सत्य है कि किसी के द्वारा कहे गए कटु वचनों को तुरंत क्षमा कर देने से हम चिंता मुक्त अवश्य हो जाते हैं |*

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म की दिव्यता का प्रतीक पितृपक्ष आज सर्वपितृ अमावस्या के साथ सम्पन्न हो गया | सोलह दिन तक हमारे पूर्वजों / पितरों के निमित्त चलने वाले इस विशेष पक्ष में सभी सनातन धर्मावलम्बी दिवंगत हुए पूर्वजों के प्रति श्रद्धा दर्शाते हुए श्राद्ध , तर्पण एवं पिंडदान आदि करके उनको तृप्त करने का प्रयास करते
11 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*पराम्बा जगदंबा जगत जननी भगवती मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप है ब्रह्मचारिणी | जिसका अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | महामाया ब्रह्मचारिणी नें घोर तपस्या करके भगवान शिव को अपने पति के रुप में प्राप्त किया और भगवान शिव के वामभाग में विराजित होकर के पतिव्रताओं में अग्रगण्य बनीं | इसी प्र
11 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।* *प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥* *हमारे सनातन धर्म में नवरात्र पर्व के तीसरे दिन महामाया चंद्रघंटा का पूजन किया जाता है | चंद्रघंटा की साधना करने से मनुष्य को प्रत्येक सुख , सुविधा , ऐश्वर्य , धन एवं लक्ष्मी की प्राप्
12 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
*चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन |* *कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ||* *महामाई आदिशक्ति भगवती के पूजन का पर्व नवरात्र शनै: शनै: पूर्णता की ओर अग्रसर है | महामाया इस सृष्टि के कण - कण में विद्यमान हैं | जहाँ जैसी आवश्यकता पड़ी है वैसा स्वरूप मैया ने धारण करके लोक
15 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन अवसर पर चल रही नारीगाथा पर आज एक विषय पर सोंचने को विवश हो गया कि नारियों पर हो रहे अत्याचारों के लिए दोषी किसे माना जाय ??? पुरुषवर्ग को या स्वयं नारी को ??? परिणाम यह निकला कि कहीं न कहीं से नारी की दुर्दशा के लिए नारी ही अधिकतर जिम्मेदार है | जब अपने साथ कम दहेज लेकर कोई नववधू सस
12 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मनुष्यों की उत्पत्ति हुई मानव मात्र एक समान रहा करते थे , इनका एक ही वर्ण था जिसे "हंस" कहा जाता था | समय के साथ विराटपुरुष के शरीर से चार वर्णों की उत्पत्ति की वर्णन यजुर्वेद में प्राप्त होता है :-- "ब्राह्मणोमुखमासीद् बाहू राजन्या कृता: ! ऊरूतदस्यद्वैश्य: पद्भ्या गुंग शूद्र
27 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x