मनुष्य के गुण :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

23 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (97 बार पढ़ा जा चुका है)

मनुष्य के गुण :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सकल संसार में जितने भी प्राणी हुए हैं सब अपने-अपने गुण लेकर पैदा हो पैदा होते हैं | जड़ चेतन सबके अपने-अपने गुण हैं | सोना, चांदी, सर्प, गाय, गेहूं-चावल आदि सबके अपने एक विशेष गुण हैं | अपने अपने विशेष गुणों के कारण सबकी अलग-अलग पहचान है | उनके गुणों में कभी बदलाव नहीं होता | जैसे गाय कभी मांस नहीं खा सकती और शेर कभी घास नहीं कर सकता है | परंतु मनुष्य एक ऐसा प्राणी है जिसे अपने विचार के अनुसार अपने गुणों में बदलाव करने का विशेषाधिकार मिला है ! वह अपने गुणों से डाकू से आदिकवि वाल्मीकि बन जाता है अपने अंदर के रावण पर भी शासन करने लगता है | संस्कार के द्वारा इस बदलाव का गुण सिर्फ मानव को मिला हुआ है , फिर भी मनुष्य अपने गुणों में बदलाव नहीं करता है उसी अंधकूप में पड़ा हुआ एक कूपमंडूक की तरह पूरा जीवन व्यतीत कर देता है | कुछ तथाकथित धर्मगुरुओं के चक्कर में पड़कर मनुष्य स्वतंत्र जीवन नहीं जीना चाहता है | स्वतंत्र अभिव्यक्ति करने वाला अपने गुणों में बदलाव कर सकता है परंतु कुछ लोग ऐसे हैं जो मनुष्य के गुणों को बदलने ही नहीं देना चाहते ऐसी स्थिति में मनुष्य को स्वयं सोचने का अधिकार है कि वह जो कर रहा है सही है या गलत | धर्म के विषय में जो तथाकथित गुरुओं ने बता दिया मनुष्य उसके ऊपर नहीं उठना चाहता ना उससे ज्यादा सोचना चाहता है जबकि आप देखते हैं कि एक दर्जी एक ही व्यक्ति व्यक्ति का कपड़ा सिलने के लिए बार-बार उस की नाप लेता है , एक ज्योतिषी एक ही समय में पैदा हुई अनेक जातकों की कुंडलियां अलग-अलग बनाता है |* *उसी प्रकार मनुष्य को भी नित्य ही धर्म की नई परिभाषाएं जाननी चाहिए और जीवन में उतारना चाहिए |मनुष्य व पशु में भय, निंदा, आहार, मैथुन की ही समानता मिली हुई है शेष मनुष्य अपने विचारों से अपने संस्कारों से अपने अंदर विशेष गुणों का परिमार्जन करता है | निन्यानबे प्रतिशत लोग जन्म से मृत्यु तक खुद को शिक्षा-दीक्षा-नौकरी-निवृत्ति-बुढ़ापा के चक्र में कोल्हू के बैल की तरह जोते रखते हैं। यह कोई नहीं सोचता कि मैंने अमुक वृत्ति व नीति से काम लिया, उसका क्या परिणाम हुआ? क्या मैं सुखी हूं? मुझे तृप्ति क्यों नहीं मिलती? मैं कौन हूं? कहां से आया और कहां जाना है? ऐसी जिज्ञासाएं हमसे दूर ही रहती हैं। सभी लोग भेड़-बकरियों के झुण्ड की तरह चलते रहते हैं, न दिशा बोध न जीवन को सुधारने की प्रेरणा। मनुष्य को यदि विवेक की ओर बढ़ना है, तो उसे अपने जीवन को कुछ मूल्यों के अनुसार ढालना होगा। सीखने या अपनाने की दृष्टि से तीन गुण अग्रणी माने जाते हैं। शरीर के स्तर पर ब्रह्मचर्य, मन के लिए अहिंसा एवं बुद्घि के लिए सत्य। ब्रह्मचर्य का अर्थ केवल नर-नारी के शारीरिक सम्पर्क से अलगाव ही नहीं हैं। ब्रह्मचर्य से तात्पर्य, समस्त इन्द्रियों के स्तर पर आत्मसंयम व समुचित नियंत्रण है। किसी भी वस्तु या प्रसंग के अतिरेक से उसका मूल्य या स्वाद जाता रहता है। जैसे सृष्टिकर्ता ने हमें प्राणवायु इतनी दे रखी है कि उसका मूल्य तभी समझ में आता है, जब जीवन की रक्षा के लिए अस्पताल में अप्राकृतिक प्राणवायु के प्रयोग की नौबत आती है।* *समयानुकूल अपने गुणों में परिवर्तन करने वाला मनुष्य ही जीवन में सफलता की ऊंचाईयों पर पहुँचकर आदर्श प्रस्तुत कर सकता है |*

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
02 नवम्बर 2018
*संसार के सभी धर्मों का मूल सनातन धर्म को कहा जाता है | सनातन धर्म को मूल कहने का कारण यह है कि सकल सृष्टि में जितनी भी सभ्यतायें विकसित हुईं सब इसी सनातन धर्म की मान्यताओं को मानते हुए पुष्पित एवं पल्लवित हुईं | सनातनधर्म की दिव्यता का कारण यह है कि इस विशाल एवं महान धर्म समस्त मान्यतायें एवं पूजा
02 नवम्बर 2018
20 अक्तूबर 2018
*आश्विन मास के शुक्लपक्ष में प्रतिपदा से महानवमी तक पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के नौ रूपों की पूजा भक्तों के द्वारा की जाती है | दसवें दिन (विजयादशमी के दिन) हर्षोल्लास के साथ भक्तजन महामाया की भव्य शोभायात्रा निकालकर उनका विसर्जन नदियों , सरोवरों आदि में करते हैं | जगदम्बा का वास तो प
20 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सिंहासनगता नित्यं, पद्माश्रितकरद्वया |* *शुभदास्तु सदा देवी, स्कन्दमाता यशस्विनी ||* *नवरात्र का पाँचवा दिन भगवती "स्कन्दमाता" को समर्पित है | नवरात्रि की नौ देवियों में ही नारी का सम्पूर्ण जीवन निहित है | गर्भधारण करके जो "कूष्माण्डा" कहलाती है वही पुत्र को जन्म जन्म देकर "स्
13 अक्तूबर 2018
03 नवम्बर 2018
*जीवन एक यात्रा है | इस संसार में मानव - पशु यहाँ तक कि सभी जड़ चेतन इस जीवन यात्रा के यात्री भर हैं | जिसने अपने कर्मों के अनुसार जितनी पूंजी इकट्ठा की है उसको उसी पूंजी के अनुरूप ही दूरी तय करने भर को टिकट प्राप्त होता है | इस जीवन यात्रा में हम खूब आनंद लेते हैं | हमें इस यात्रा में कहीं नदियां घ
03 नवम्बर 2018
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में विराट पुरुष से वेदों का प्रदुर्भाव हुआ | वेदों ने मानव के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है | जीवन के प्रत्येक अंगों का प्रतिपादन वेदों में किया गया है | मानव जीवन पर वेदों का इतना प्रभाव था कि एक युग को वैदिक युग कहा गया | परंतु वेदों में वर्णित श्लोकों का अर्थ न निकालकर क
11 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x