शरद पूर्णिमा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

24 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (101 बार पढ़ा जा चुका है)

शरद पूर्णिमा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे पुराणों में वर्णित व्याख्यानों के अनुसार सनातन हिन्दू धर्म में अनेक तिथियों को विशेष महत्व देते हुए विशेष पर्व मनाया जाता है | इस संसार को प्रकाशित करने वाले जिन दो प्रकाश पुञ्जों का विशेष योगदान है उनमें से एक है सूर्य और दूसरा है चन्द्रमा | चन्द्रमा की चाँदनी में रात्रि अपना श्रृंगार करती है | पौराणिक एवं वैज्ञानिक मान्यताओं के अनुसार चन्द्रमा में सोलह कलायें होती हैं परंतु चन्द्रमा हर समय अपनी कलाओं से पूर्ण न होकर घटता - बढता रहता है | चन्द्रमा अपनी कलाओं से परिपूर्ण होता है आज अर्थात आश्विन (क्वार) मास के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को , जिसे शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है | यह वह दिन होता है जब प्रतीक्षा होती है रात्रि के उस प्रहर की जिसमें सोलह कलाओं से युक्त चंद्रमा अमृत की वर्षा पृथ्वी पर करता है | वर्षा ऋतु की जरावस्था और शरद ऋतु के बाल रूप का यह सुंदर संजोग हर किसी का मन मोह लेता है | आज के दिन से ही हेमंत ऋतु काल प्रारम्भ होता है | प्राचीनकाल से ही इसके महत्व और उल्लास शास्त्रों में भी वर्णित है | पुराणों के अनुसार आज चंद्रमा अपनी समस्त कलाओं के साथ होता है और धरती पर अमृत वर्षा करता है | अर्द्धरात्रि (१२बजे) होने वाली इस अमृत वर्षा का लाभ मानव को मिले इसी उद्देश्य से चंद्रोदय के समय गगन तले खुले आसमान में खीर या दूध रखा जाता है जिसका सेवन रात्रि १२ बजे के बाद किया जाता है |* *आज की ही रात्रि में लीलापुरुषोत्तम भगवान श्रीकृष्ण ने यमुना के तट पर गोपियों के साथ "महारास" की लीला की थी | शरद पूर्णिमा की रात्रि के चन्द्रमा का सौन्दर्य वर्णन करते हुए हुए भगवान वेदव्यास ने श्रीमद्भागवत महापुराण में लिखा है :-- "दृष्ट्वा कुमुद्वन्तमखण्डमण्डलं , रमाननाभं नव कुंकुमारुणम् ! वनं च तत्कोमल गोभिरंजितं , जगौ कलं वामदृशां मनोहरम् !! अर्थात :- उस शरदपूर्णिमा के चन्द्रमा का मण्डल अखण्ड था | पूर्णिमा की रात्रि थी | चन्द्रदेव नूतन केशर के समान लाल हो रहे थे | कुछ संकुचित अभिलाषा से युक्त चन्द्रदेव का मुखमण्डल लक्ष्मी के समान मालूम हो रहा था | उनकी कोमल अमृतमयी किरणों से सारा वन अनुराग के रंग में रंग गया था आदि - आदि | मेरे "आचार्य अर्जुन तिवारी" के कहने का तात्पर्य यह है कि आज की रात्रि मानवमात्र के विए एक विशेष अवसर लेकर आती है | रोगियों के लिए आज की चन्द्रकिरणें औषधि का कार्य करती हैं तो साधकों के लिए आज की रात्रि महतिवपूर्ण होती है | आज रात्रि में जागरण करके महालक्ष्मी जी का पूजन करने का विधान भी बतलाया गया है | ऐसी मान्यता है कि अर्द्धरात्रि के बाद महालक्ष्मी प्रत्येक घर में विचरण करती हैं और जहाँ लोग जग रहे होते हैं वहाँ निवास करती हैं और सोते हुए मनुष्यों से रुष्ट हो जाती हैं | अत: आज की रात्रि मनुष्य को जागरण करके महालक्ष्मी का आराधन करना चाहिए |* *रोगियों (विशेषकर :- दमा , अस्थमा वालों) को आज की रात्रि चन्द्रमा की किरणों से स्नान करना चाहिए , जिससे उनका रोग शान्त हो सकता है | यह है सनातन धर्म की दिव्यता एवं मान्यता |*

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 नवम्बर 2018
*मानव जीवन में तप या तपस्या का बहुत महत्व है | प्राचीनकाल में ऋषियों-महर्षियों-राजाओं आदि ने कठिन से कठिनतम तपस्या करके लोककल्याण का मार्ग प्रशस्त किया है | गोस्वामी तुलसीदास जी ने तो तपस्या के महत्व को दर्शाते हुए कहा है कि :- तप के ही बल पर ब्रह्मा जी सृष्टि, विष्णु जी पालन एवं शंकर जी संहार करते
02 नवम्बर 2018
11 अक्तूबर 2018
*पराम्बा जगदंबा जगत जननी भगवती मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप है ब्रह्मचारिणी | जिसका अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | महामाया ब्रह्मचारिणी नें घोर तपस्या करके भगवान शिव को अपने पति के रुप में प्राप्त किया और भगवान शिव के वामभाग में विराजित होकर के पतिव्रताओं में अग्रगण्य बनीं | इसी प्र
11 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म की दिव्यता का प्रतीक पितृपक्ष आज सर्वपितृ अमावस्या के साथ सम्पन्न हो गया | सोलह दिन तक हमारे पूर्वजों / पितरों के निमित्त चलने वाले इस विशेष पक्ष में सभी सनातन धर्मावलम्बी दिवंगत हुए पूर्वजों के प्रति श्रद्धा दर्शाते हुए श्राद्ध , तर्पण एवं पिंडदान आदि करके उनको तृप्त करने का प्रयास करते
11 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
02 नवम्बर 2018
*संसार के सभी धर्मों का मूल सनातन धर्म को कहा जाता है | सनातन धर्म को मूल कहने का कारण यह है कि सकल सृष्टि में जितनी भी सभ्यतायें विकसित हुईं सब इसी सनातन धर्म की मान्यताओं को मानते हुए पुष्पित एवं पल्लवित हुईं | सनातनधर्म की दिव्यता का कारण यह है कि इस विशाल एवं महान धर्म समस्त मान्यतायें एवं पूजा
02 नवम्बर 2018
22 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में मनाए जाने वाले प्रत्येक त्योहारों में एक रहस्य छुपा हुआ है | नौ दिन का दिव्य नवरात्र मनाने के बाद दशमी के दिन दशहरा एवं विजयदशमी का पर्व मनाया जाता है | शक्ति की उपासना का पर्व शारीेय नवरात्रि प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल
22 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*आश्विन मास के शुक्लपक्ष में प्रतिपदा से महानवमी तक पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के नौ रूपों की पूजा भक्तों के द्वारा की जाती है | दसवें दिन (विजयादशमी के दिन) हर्षोल्लास के साथ भक्तजन महामाया की भव्य शोभायात्रा निकालकर उनका विसर्जन नदियों , सरोवरों आदि में करते हैं | जगदम्बा का वास तो प
20 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x