शरद पूर्णिमा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

24 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (77 बार पढ़ा जा चुका है)

शरद पूर्णिमा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*हमारे पुराणों में वर्णित व्याख्यानों के अनुसार सनातन हिन्दू धर्म में अनेक तिथियों को विशेष महत्व देते हुए विशेष पर्व मनाया जाता है | इस संसार को प्रकाशित करने वाले जिन दो प्रकाश पुञ्जों का विशेष योगदान है उनमें से एक है सूर्य और दूसरा है चन्द्रमा | चन्द्रमा की चाँदनी में रात्रि अपना श्रृंगार करती है | पौराणिक एवं वैज्ञानिक मान्यताओं के अनुसार चन्द्रमा में सोलह कलायें होती हैं परंतु चन्द्रमा हर समय अपनी कलाओं से पूर्ण न होकर घटता - बढता रहता है | चन्द्रमा अपनी कलाओं से परिपूर्ण होता है आज अर्थात आश्विन (क्वार) मास के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को , जिसे शरद पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है | यह वह दिन होता है जब प्रतीक्षा होती है रात्रि के उस प्रहर की जिसमें सोलह कलाओं से युक्त चंद्रमा अमृत की वर्षा पृथ्वी पर करता है | वर्षा ऋतु की जरावस्था और शरद ऋतु के बाल रूप का यह सुंदर संजोग हर किसी का मन मोह लेता है | आज के दिन से ही हेमंत ऋतु काल प्रारम्भ होता है | प्राचीनकाल से ही इसके महत्व और उल्लास शास्त्रों में भी वर्णित है | पुराणों के अनुसार आज चंद्रमा अपनी समस्त कलाओं के साथ होता है और धरती पर अमृत वर्षा करता है | अर्द्धरात्रि (१२बजे) होने वाली इस अमृत वर्षा का लाभ मानव को मिले इसी उद्देश्य से चंद्रोदय के समय गगन तले खुले आसमान में खीर या दूध रखा जाता है जिसका सेवन रात्रि १२ बजे के बाद किया जाता है |* *आज की ही रात्रि में लीलापुरुषोत्तम भगवान श्रीकृष्ण ने यमुना के तट पर गोपियों के साथ "महारास" की लीला की थी | शरद पूर्णिमा की रात्रि के चन्द्रमा का सौन्दर्य वर्णन करते हुए हुए भगवान वेदव्यास ने श्रीमद्भागवत महापुराण में लिखा है :-- "दृष्ट्वा कुमुद्वन्तमखण्डमण्डलं , रमाननाभं नव कुंकुमारुणम् ! वनं च तत्कोमल गोभिरंजितं , जगौ कलं वामदृशां मनोहरम् !! अर्थात :- उस शरदपूर्णिमा के चन्द्रमा का मण्डल अखण्ड था | पूर्णिमा की रात्रि थी | चन्द्रदेव नूतन केशर के समान लाल हो रहे थे | कुछ संकुचित अभिलाषा से युक्त चन्द्रदेव का मुखमण्डल लक्ष्मी के समान मालूम हो रहा था | उनकी कोमल अमृतमयी किरणों से सारा वन अनुराग के रंग में रंग गया था आदि - आदि | मेरे "आचार्य अर्जुन तिवारी" के कहने का तात्पर्य यह है कि आज की रात्रि मानवमात्र के विए एक विशेष अवसर लेकर आती है | रोगियों के लिए आज की चन्द्रकिरणें औषधि का कार्य करती हैं तो साधकों के लिए आज की रात्रि महतिवपूर्ण होती है | आज रात्रि में जागरण करके महालक्ष्मी जी का पूजन करने का विधान भी बतलाया गया है | ऐसी मान्यता है कि अर्द्धरात्रि के बाद महालक्ष्मी प्रत्येक घर में विचरण करती हैं और जहाँ लोग जग रहे होते हैं वहाँ निवास करती हैं और सोते हुए मनुष्यों से रुष्ट हो जाती हैं | अत: आज की रात्रि मनुष्य को जागरण करके महालक्ष्मी का आराधन करना चाहिए |* *रोगियों (विशेषकर :- दमा , अस्थमा वालों) को आज की रात्रि चन्द्रमा की किरणों से स्नान करना चाहिए , जिससे उनका रोग शान्त हो सकता है | यह है सनातन धर्म की दिव्यता एवं मान्यता |*

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
12 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन अवसर पर चल रही नारीगाथा पर आज एक विषय पर सोंचने को विवश हो गया कि नारियों पर हो रहे अत्याचारों के लिए दोषी किसे माना जाय ??? पुरुषवर्ग को या स्वयं नारी को ??? परिणाम यह निकला कि कहीं न कहीं से नारी की दुर्दशा के लिए नारी ही अधिकतर जिम्मेदार है | जब अपने साथ कम दहेज लेकर कोई नववधू सस
12 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क
20 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*पराम्बा जगदंबा जगत जननी भगवती मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप है ब्रह्मचारिणी | जिसका अर्थ होता है तपश्चारिणी अर्थात तपस्या करने वाली | महामाया ब्रह्मचारिणी नें घोर तपस्या करके भगवान शिव को अपने पति के रुप में प्राप्त किया और भगवान शिव के वामभाग में विराजित होकर के पतिव्रताओं में अग्रगण्य बनीं | इसी प्र
11 अक्तूबर 2018
11 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में विराट पुरुष से वेदों का प्रदुर्भाव हुआ | वेदों ने मानव के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है | जीवन के प्रत्येक अंगों का प्रतिपादन वेदों में किया गया है | मानव जीवन पर वेदों का इतना प्रभाव था कि एक युग को वैदिक युग कहा गया | परंतु वेदों में वर्णित श्लोकों का अर्थ न निकालकर क
11 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
03 नवम्बर 2018
*जीवन एक यात्रा है | इस संसार में मानव - पशु यहाँ तक कि सभी जड़ चेतन इस जीवन यात्रा के यात्री भर हैं | जिसने अपने कर्मों के अनुसार जितनी पूंजी इकट्ठा की है उसको उसी पूंजी के अनुरूप ही दूरी तय करने भर को टिकट प्राप्त होता है | इस जीवन यात्रा में हम खूब आनंद लेते हैं | हमें इस यात्रा में कहीं नदियां घ
03 नवम्बर 2018
12 अक्तूबर 2018
*पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता।* *प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥* *हमारे सनातन धर्म में नवरात्र पर्व के तीसरे दिन महामाया चंद्रघंटा का पूजन किया जाता है | चंद्रघंटा की साधना करने से मनुष्य को प्रत्येक सुख , सुविधा , ऐश्वर्य , धन एवं लक्ष्मी की प्राप्
12 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
*चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन |* *कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ||* *महामाई आदिशक्ति भगवती के पूजन का पर्व नवरात्र शनै: शनै: पूर्णता की ओर अग्रसर है | महामाया इस सृष्टि के कण - कण में विद्यमान हैं | जहाँ जैसी आवश्यकता पड़ी है वैसा स्वरूप मैया ने धारण करके लोक
15 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x