कार्तिक मास का महत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

25 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (49 बार पढ़ा जा चुका है)

कार्तिक मास का महत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातनकाल से ही कालगणना के आधार पर एक वर्ष को बारह महीनों में विभक्त किया गया है | इन बारह महीनों में सभी अपने स्थान पर श्रेष्ठ हैं परंतु "कार्तिक मास" को सर्वश्रेष्ठ कहा गया है | कार्तिक मास भगवान विष्णु को इतना प्रिय है कि इसका नामकरण ही "दामोदर - मास" हो गया | कार्तिकमास के महत्व को दर्शाते हुए भगवान वेदव्यास ने स्कन्दपुराण में लिखा है :-- "मासानां कार्तिक: श्रेष्ठो , देवानां मधुसूदन: ! तीर्थं नारायणाख्यं हि , त्रितयं दुर्लभं कलौ !!" अर्थात :- सभी महीनों में श्रेष्ठ कार्तिक मास एवं सभी देवों में श्रेष्ठ भगवान मधुसूदन तथा तीर्थों में विष्णुतीर्थों की महत्ता कलियुग में मानी गयी है | आगे लिखते हुए व्यास भगवान कहते हैं ;-- "न कार्तिसमो मासो , न कृतेन समं युगम् ! न वेदसदृशं शास्त्रं , न तीर्थं गंगा समम् !!" कहने का तात्पर्य यह है कि अनेक पुराणों एवं शास्त्रों में कार्तिक मास को सर्वश्रेष्ठ माना गया है क्योंकि जो पुण्य वर्षपर्यन्त पुण्य दान करने से प्राप्त होता है वही फल कार्तिक मास में सूर्योदय के पूर्व किसी नदी , तालाब या सरोवर में स्नान करने मात्र से प्राप्त हो जाता है |कार्तिक मास में ईश्वरीय आराधना से सभी कुछ प्राप्त करने की व्यापक संभावनाएं होती हैं | कहा जाता है कि जब शंखासुर वेदों को चुराकर समुद्र में ले गया तो भगवान विष्णु ने कहा था कि आज से मंत्र-बीज और चारों वेद प्रतिवर्ष कार्तिक मास में जल में विश्राम करेंगे | यही कारण है कि कार्तिक स्नान को अक्षय फल प्रदाता कहा जाता है | इस मास में व्रत करने से कीर्ति, तेज, आयु, संपत्ति, ज्ञान और बुद्धि की प्राप्ति होती है | कार्तिक मास में चंद्रमा अपनी किरणें सीधी पृथ्वी पर डालता है | चंद्रमा की किरणों से ऊर्जायित जल में स्नान से मनुष्य को लाभ मिलता है |* *आज जहाँ समस्त मानव जाति किसी न किसी प्रकार के रोग से पीड़ित होकर कराह रही है वहीं भगवान वेदव्यास स्कंद पुराण में घोषणा करते हैं कि :--। स्कंदपुराण के वैष्णवखंड में कार्तिक व्रत के महत्व के विषय में कहा गया है- "'रोगापहं पातकनाशकृत्परं सद्बुद्धिदं पुत्रधनादिसाधकम्‌ ! मुक्तेर्निदानं नहि कार्तिकव्रताद् , विष्णुप्रिया दन्यदिहास्ति भूतले !!"' अर्थात्‌ :- किसी भी प्रकार के रोगी हों कुछ उद्यम करके अपने रोगों से मुक्ति पा सकते हैं क्योंकि इस पवित्र कार्तिक मास को जहां रोगापह अर्थात्‌ रोगविनाशक कहा गया है, वहीं सद्बुद्धि प्रदान करने वाला, लक्ष्मी का साधक तथा मुक्ति प्राप्त कराने में सहायक बताया गया है | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूँगा कि जहाँ एक ओर पवित्र कार्तिकमास अनेकों त्यौहार लेकर आता है वहीं इस पवित्रमास में दीपदान एवं तुलसीपूजन का विशेष महत्व है | नित्य सुबह सूर्योदय के पूर्व स्नान करके तुलसीपूजन एवं दीपदान करने से मनुष्य को मनवांछित फल मिलता है | विशेष रूप से कन्याओं द्वारा पूरे महीने तुलसी पूजन एवं दीपदान करने से मनचाहा पति मिलता है | कार्तिक मास को मोक्ष का द्वार भी कहा गया है | तुलसी हमारी आस्था एवं श्रद्धा का प्रतीक है | वर्ष भर तुलसी को जल चढाना एवं सायंकाल को दीपक जलाना श्रेष्ठ है परंतु कार्तिक मास में तुलसी को जल एवं दीपदान करने से मनुष्य अनंत पुण्य का भागी होता है | चूंकि तुलसी में लक्ष्मी जी का निवास माना गया है अत: कार्तिक मास में तुलसी पूजन करने वालों पर लक्ष्मी जी की विशेष कृपा प्राप्त होती है |* *हमारे पुराणों में कार्तिक मास के स्नान, व्रत की अत्यंत महिमा बताई गई है | इस मास का स्नान, व्रत लेने वालों को कई संयम, नियमों का पालन करना चाहिए तथा श्रद्धा भक्तिपूर्वक भगवान श्रीहरि की आराधना करनी चाहिए |*

कार्तिक मास का महत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
नवरात्रि के पर्व का समापन का समय धीरे-धीरे पास आ रहा हैं, माँ दुर्गा के विसर्जन का दिन 19 अक्टूबर को हैं| ऐसे में जब नवरात्रि के शुरुआत होती हैं तो उस समय माँ दुर्गा की चौकी और कलश की स्थापना की जाती हैं| ऐसे में जब माँ दुर्गा का विसर्जन करना होता हैं तो उनके साथ कलश, नार
19 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
धनतेरस कब है भारत एवं सभी देशों में धनतेरस 2018, 5 नवंबर यानि सोमवार को मनाया जायेगा।धनतेरस धनतेरस के दिन धन कुबेर की पूजा की जाती है. कुबेर को धन का देवता और धन का राजा माना जाता है. धनतेरस दिवाली के दो दिन पहले मनाया जाता है अर्थात अश्विन के महीने में 13 वें दिन (कृष्ण पक्ष में). इस दिन भगवान कुबे
15 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
दशहरा भारतवर्ष में मनाये जाने वाले एक प्रमुख धार्मिक त्यौहार है. मान्यता है कि इसी दिन भगवान राम ने रावण का वध किया था. दशहरा को न केवल भगवान राम बल्कि माँ दुर्गा से भी जोड़कर देखा जाता है. एक मान्यता यह भी है कि माँ दुर्गा ने महिषासूर से लगातार नौ दिनो तक युद्ध करके, दशहरे के ही दिन उसका वध किया था.
15 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
माता कालरात्रि की पूजा नवरात्रि के सातवें दिन की जाती है। इन्हें देवी पार्वती के समतुल्य माना गया है। देवी के नाम का अर्थ- काल अर्थात् मृत्यु/समय और रात्रि अर्थात् रात है। देवी के नाम का शाब्दिक अर्थ अंधेरे को ख़त्म करने वाली है।माता कालरात्रि का स्वरूपदेवी कालरात्रि कृष्
16 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः |* *महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा ||* *पावन नवरात्र के आठवें दिन भगवती आदिशक्ति की पूजा "महागौरी के रूप की जाती है | मां महागौरी का रंग अत्यंत गौरा है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार अपनी कठिन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्र
22 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*आश्विन मास के शुक्लपक्ष में प्रतिपदा से महानवमी तक पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के नौ रूपों की पूजा भक्तों के द्वारा की जाती है | दसवें दिन (विजयादशमी के दिन) हर्षोल्लास के साथ भक्तजन महामाया की भव्य शोभायात्रा निकालकर उनका विसर्जन नदियों , सरोवरों आदि में करते हैं | जगदम्बा का वास तो प
20 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
*चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन |* *कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ||* *महामाई आदिशक्ति भगवती के पूजन का पर्व नवरात्र शनै: शनै: पूर्णता की ओर अग्रसर है | महामाया इस सृष्टि के कण - कण में विद्यमान हैं | जहाँ जैसी आवश्यकता पड़ी है वैसा स्वरूप मैया ने धारण करके लोक
15 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x