झगड़ा खत्‍म करने को जमीन-घर के बंटवारे की रजिस्‍ट्री अब सस्‍ती होगी

26 अक्तूबर 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (95 बार पढ़ा जा चुका है)

झगड़ा खत्‍म करने को जमीन-घर के बंटवारे की रजिस्‍ट्री अब सस्‍ती होगी

बिहार में नीतीश कुमार की सरकार बहुत बड़ा फैसला करने जा रही है . दरअसल, सरकार ने अनुभव किया है कि आपराधिक वारदातों में इजाफा के मूल में संपत्ति विवाद सबसे बड़ा कारण है . पारिवारिक हिंसा के मामलों में दूसरी वजहों से कई गुणा अधिक जमीन – घर के बंटवारे का रजिस्‍ट्रेशन नहीं होना है . आम तौर पर लोग पहले सहमति से फैसला कर लेते हैं, कच्‍चा कागज तैयार करते हैं, लेकिन कोई सरकारी रजिस्‍ट्री नहीं कराते हैं . इसी कारण बाद में विवाद बहुत बढ़ जाता है और केस – मुकदमों के साथ हिंसक घटनाएं भी घटती है .

राज्‍य सरकार के सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार पहले आपसी सहमति से बंटवारा होने के बाद भी लोग जमीन – घर की रजिस्‍ट्री अपने नाम से इसलिए नहीं कराते हैं, क्‍योंकि बिहार में सरकारी रजिस्‍ट्री की रेट बहुत अधिक है . रजिस्‍ट्रेशन डिपार्टमेंट के अधिकारी बताते हैं कि बंटवारे की सूरत में अभी नये नाम से रजिस्‍ट्री की दर संपत्ति के न्‍यूनतम वैल्‍यू के निर्धारित सरकारी दर का पांच प्रतिशत है .

पांच प्रतिशत का मतलब यह हुआ कि आपके पुश्‍तैनी घर – जमीन की बंटवारा की हुई संपत्ति का मूल्‍य सरकारी दर से 20 लाख रुपये हुआ तो नये नाम से रजिस्‍ट्री के लिए आपको अभी एक लाख रुपये सरकार को देने होंगे . ठीक इसी तरीके से एक करोड़ रुपये की संपत्ति आपके नाम से आ रही है तो सरकार को पांच लाख रुपये चुकता कीजिए .

नीतीश कुमार की सरकार ने समीक्षा के बाद यह पाया है कि मौजूदा सरकारी दर बहुत अधिक है . इस कारण बंटवारे के बाद भी लोग नई रजिस्‍ट्री नहीं कराते हैं . इसका परिणाम बाद में बढ़े विवाद के रुप में देखा गया है . मर्डर भी हो जाते हैं .

सो, सरकार ने बदलाव के साथ नया मसौदा तैयार किया है . अब बंटवारे में मिली जमीन – घर की नई रजिस्‍ट्री के लिए आपको बहुत कम रुपये देने होंगे . कह सकते हैं, नाममात्र का शुल्‍क ही जमा करना होगा . यह शुल्‍क 50 रुपये से लेकर 200 रुपये तक का हो सकता है . सरकार ने माना है कि बंटवारे के वक्‍त जब कोई नया फाइनेंशियल ट्रांजेक्‍शन नहीं हो रहा है , तो फिर ऐसी रजिस्‍ट्री में बड़ी कीमत लेने का कोई औचित्‍य नहीं बनता है .

बिहार सरकार के रजिस्‍ट्रेशन डिपार्टमेंट ने नये निर्णय की मंजूरी के लिए मसौदा तैयार कर लिया है . इसे स्‍वीकृति को बिहार कैबिनेट को भेजा गया है . कैबिनेट से स्‍वीकृति मिलते ही बिहार गजट में प्रकाशन होगा और नई नीति लागू हो जाएगी .

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/10/25/the-land-house-distribution-registry-will-now-be-affordable-in-bihar-to-end-the-quarrel/?fbclid=IwAR2Qyabie_pI0ZzfYjPuiT3OsaV0M_jnA1SMNdLQ4n6OQrZtpI6c5BjXmBI

अगला लेख: अमृतसर रेल हादसा: शव घर लाने के लिए मांग रहे थे 40 हजार, पत्नी को व्हाट्सएप पर फोटो दिखा कर किया दाह-संस्कार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अक्तूबर 2018
25000 साल पुराना है भारतीय करेंसी का इतिहास. तब से लेकर आज तक इसने अच्छे-बुरे सारे दौर देखे हैं. फ़िलहाल ये अपने बुरे दौर से गुज़र रही है. बेतहाशा मंहगाई, अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में हो रहे बदलाव और फ़ॉरन रिज़र्व के कम होने चलते आज 1 डॉलर की क़ीमत 74 रुपये के बराबर हो चुकी ह
20 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
अब न तो लाठियों का दौर है और न ही लठैतों का जोर है, फिर भी सुलतानुपर के ऐतिहासिक पांडेय बाबा मेले में कई करोड़ रुपयों की लाठियों का कारोबार होता है। प्रदेश के कई जिलों से पांडेय बाबा मेले में आये लोग बड़े पैमाने पर यहां से लाठियों की खरीदारी करते हैं। उल्लेखनीय है कि फैजाब
22 अक्तूबर 2018
03 नवम्बर 2018
आखिरकार, निर्माताओं ने साल की सबसे आपेक्षित फिल्म में से एक 2.0 के ट्रेलर का अनावरण किर दिया। शंकर द्वारा निर्देशित दो मिनट का लंबे ट्रेलर वीएफएक्स के ज्यादा प्रयोग से भरा हुआ है, चमक इतना दिलचस्प है कि आप शायद ही कभी स्क्रीन से अपनी आंखें झपक सकते हैं।क्या होता है जब प
03 नवम्बर 2018
19 अक्तूबर 2018
भले ही #MeToo के आरोपों में फंसे बहुत से लोगों पर अब तक कोई ठोस कार्यवाई न हो सकी हो, लेकिन भारतीय समाज में इसका असर साफ़ नज़र आने लगा है। कम से कम इस अभियान ने महिलाओं को अपनी आवाज़ उठाने का एक मौका तो दिया ही है। सालों से जो आवाज़े डर के चलते दबी हुई थीं वो अब खुलकर सुनाई देने लगी हैं। एक के बाद एक
19 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
बारात में सड़कों पर नाचने में लोगों को जो मज़ा आता है वो किसी और काम में नहीं। आप भी सड़क पर जाती किसी बारात को देखकर कुछ पल रुक कर बारातियों और बग्घी पर बैठे दुल्हे को एक नज़र ज़रूर देखते होंगे, लेकिन ज़ल्द ही शादी का ऐसा नज़ारा इतिहास बन जाएगा, क्योंकि अब सड़कों पर न तो
20 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
ताइवान के लोकप्रिय तटीय रेलमार्ग पर रविवार को एक एक्सप्रेस ट्रेन के पटरी से उतरने और पलटने से कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई। ताइवान रेल प्रशासन ने पुष्टि की कि यिलान काउंटी में ट्रेन हादसे में 18 लोगों की मौत हो गई और 160 लोग घायल हो गए। बहरहाल, प्रशासन ने इसकी पुष्टि नहीं की कि क्या कोई शख्स ट्रेन
22 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
नवरात्रि के पर्व का समापन का समय धीरे-धीरे पास आ रहा हैं, माँ दुर्गा के विसर्जन का दिन 19 अक्टूबर को हैं| ऐसे में जब नवरात्रि के शुरुआत होती हैं तो उस समय माँ दुर्गा की चौकी और कलश की स्थापना की जाती हैं| ऐसे में जब माँ दुर्गा का विसर्जन करना होता हैं तो उनके साथ कलश, नार
19 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
Third party image referenceआखिरकार ड्राइवर ने मौके पर गाड़ी क्यों नहीं रोकी। वह लोगों को रौंदता हुआ क्यों चला गया। यह सवाल सभी के मन में है। आइए हम आपको बताते हैं कि ड्राइवर ने गाड़ी क्यों नहीं रोकी। साथ ही हम आपको यह भी बता देते हैं कि इस हादसे के प्रमुख कारण क्या थे।Third party image reference1—रा
20 अक्तूबर 2018
24 अक्तूबर 2018
Third party image referenceदशहरा की रात अमृतसर में हुए भीषण हादसे ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया। जी हां रावण दहन देख रहे लोगों पर तेज रफ्तार ट्रेन चढ़ गई और अमृतसर के साथ साथ पूरे भारत में चीख पुकार मच गई। इस हादसे में 61 से ज्यादा लोगों की जान गई जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हैं।इस हादसे के तुरंत बा
24 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x