आज का मंदिर एवं शिक्षा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (21 बार पढ़ा जा चुका है)

आज का मंदिर एवं शिक्षा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*प्राचीनकाल में मंदिर एक ऐसा स्थान होता था जहां बैठ कर समाज की गतिविधियां संचालित की जाती थी , वहीं से समाज को आगे बढ़ाने के लिए योजनाएं बनाई जाती थी | समाज के लिए नीति - निर्धारण का कार्य यहीं से संचालित होता था | हमारे वैदिक काल की शिक्षा व्यवस्था ऐसी थी जहां एक गुरु का आश्रम होता था , और उस आश्रम में आने वाला विद्यार्थी न धन की चिंता करता था , न वस्त्र की चिंता करता था , न रहने की चिंता करता था | उसका सिर्फ एक कार्य था विद्याध्ययन करना | गुरु का आश्रम ऐसा मर्यादित होता था जहां पर उस देश का शासक भी बिना अनुमति के प्रवेश नहीं पा सकता था | गुरुओं का सम्मान होता था , तब शिष्य एकलव्य , आरुणि एवम कर्ण जैसा होता था | उस समय के विद्यार्थी आश्रम में आने के बाद कभी यह नहीं सोचते थे कि उनके पिता की आय क्या है ?? उन्हें क्या करना है ?? वह किस जाति का है ?? किस वर्ण का है ??| इस से विद्यार्थियों को कोई मतलब नहीं होता था उनका एक ही कर्तव्य होता था एक ही सोच होती थी सिर्फ और सिर्फ गुरु की आज्ञा का पालन करना एवं शिक्षा ग्रहण करना , क्योंकि उस समय की शिक्षा धनार्जन के लिए नहीं होती थी वरन लोक कल्याण के लिए ही होती थी | वह शिक्षा समाज की उन्नति के लिए होती थी तब भारत को विश्वगुरु कहा जाता था |* *आज जैसे जैसे धीरे-धीरे समस्त विश्व को आधुनिक बाजारवाद ने घेरा हमारे मंदिरों के क्रिया - कलाप एवं शिक्षा का स्वरुप भी बदल गया | बदलते समय के साथ सारे नियम भी बदल गये | जहाँ परोपकार एवं जनकल्याण की भावना से नीतियाँ बनाई जाती थीं वहीं उन्हीं मंदिरों में आज धनलोलुपता स्पष्ट दिखाई पड़ रही है | आज का परिवेश देखकर मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बड़े कष्ट के साथ कह रहा हूँ कि आज हमारे मंदिर भी व्यवसाईयों के हाथ में आ गये हैं | हमारे मंदिरों में भी जमा धन का दुरुपयोग होने लगा | विद्यार्थियों की शिक्षा लक्ष्य विहीन होकरके सिर्फ धनोपार्जन के लिए होने लगी | यहीं से शुरू हो गई विश्व गुरु के पतन की कहानी | कुछ विद्वानों ने भविष्य के लिए धन को इकट्ठा करके रखने की सलाह दी, जो कि कहीं से सही भी कहा जा सकता है ! लेकिन विद्यार्थियों के शिक्षा में उन्हें कटौती करनी पड़ी | शिक्षा धीरे-धीरे सिर्फ रोजगार के लिए होने लगी , विद्वान गुरु भी अपने कर्तव्य से विमुख होने लगे जिसका सीधा असर विद्यार्थियों की शिक्षा पर पड़ने लगा | और आज जो देखने को मिल रहा है यह उसी का परिणाम है | आज की शिक्षा सिर्फ और सिर्फ धनोपार्जन के लिए हो रही ह |ै और यह अकाट्य सत्य है कि जहां धन का संचय होगा वहां विकार उत्पन्न होना अवश्यंभावी है |* *आज फिर से आवश्यकता है धन लोलुपता के इस भंवर से निकलकर के विद्यार्थियों को निष्काम भाव से शिक्षा ग्रहण करने की | जिसका मूल उद्देश्य मानव कल्याण हो तभी भारत को फिर से विश्व गुरु बनाया जा सकता है |*

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मनुष्यों की उत्पत्ति हुई मानव मात्र एक समान रहा करते थे , इनका एक ही वर्ण था जिसे "हंस" कहा जाता था | समय के साथ विराटपुरुष के शरीर से चार वर्णों की उत्पत्ति की वर्णन यजुर्वेद में प्राप्त होता है :-- "ब्राह्मणोमुखमासीद् बाहू राजन्या कृता: ! ऊरूतदस्यद्वैश्य: पद्भ्या गुंग शूद्र
27 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*आश्विन मास के शुक्लपक्ष में प्रतिपदा से महानवमी तक पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के नौ रूपों की पूजा भक्तों के द्वारा की जाती है | दसवें दिन (विजयादशमी के दिन) हर्षोल्लास के साथ भक्तजन महामाया की भव्य शोभायात्रा निकालकर उनका विसर्जन नदियों , सरोवरों आदि में करते हैं | जगदम्बा का वास तो प
20 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में मनाए जाने वाले प्रत्येक त्योहारों में एक रहस्य छुपा हुआ है | नौ दिन का दिव्य नवरात्र मनाने के बाद दशमी के दिन दशहरा एवं विजयदशमी का पर्व मनाया जाता है | शक्ति की उपासना का पर्व शारीेय नवरात्रि प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल
22 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च !* *दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे !!* *नवरात्र के चतुर्थ दिवस महामाया कूष्माण्डा का पूजन किया जाता है | "कूष्माण्डेति चतुर्थकम्" | सृष्टि के सबसे ज्वलनशील सूर्य ग्रह के अंतस्थल में निवास करने वाली महामाया का नाम कूष्माण्डा है , जिसका अर्थ है कि :- जि
13 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*इस धराधाम पर जब-जब ईश्वर ने अवतार लिया है तब-तब उनकी शक्ति, उनकी माया उनके साथ आई है | यह माया नहीं होती तो अध्यात्म कैसे होता | ईश्वर स्वयं शक्ति को मानते हैं क्योंकि बिना शक्ति के ईश्वर का भी अस्तित्व नहीं है | इसी शक्ति में जब वीर गुण होता है तो यह "महादुर्गा" हो जाती हैं | जब रजोगुण होता है तो
22 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*यह सम्पूर्ण सृष्टि नर नारी के संयोग से ही गतिमान है | दोनों को एक दूसरे का पूरक माना गया है ! पूरक इसलिए माना गया है क्योंकि एक दूसरे के बिना जीवन नीरस एवं अर्थहीन अर्थात व्यर्थ हो जाता है | संतानोत्पत्ति नर - नारी के मधुर मिलन के बाद ही संभव है | पुरुष को बलवान बनाने में यदि एक नारी की महत्वपूर्ण
27 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः |* *महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा ||* *पावन नवरात्र के आठवें दिन भगवती आदिशक्ति की पूजा "महागौरी के रूप की जाती है | मां महागौरी का रंग अत्यंत गौरा है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार अपनी कठिन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्र
22 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
*हमारे भारत देश में अनेकों महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने महान गुणों से एक नवीन आदर्श किया है | धर्म को मानने वाले या धारण करने वाले मनुष्यों का सबसे बड़ा गुण होता है क्षम
23 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*भारतीय सनातन संस्कृति एवं हिंदू धर्म का आधार हमारे चारों वेद रहे हैं | हमारे इन वेदों में विश्व के समस्त ज्ञान , समस्त कलायें एवं जीवन जीने का दिशा - निर्देशन समस्त मानव जाति को प्राप्त होता रहा है | जब संसार में कोई धर्म नहीं था तब मानवमात्र के कल्याण के लिए वेदों का प्राकट्य हुआ | इन्हीं वेदों की
22 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x