करवा चौथ का महत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

27 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (29 बार पढ़ा जा चुका है)

करवा चौथ का महत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म को अलौकिक इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस विशाल एवं महान धर्म में समाज के प्रत्येक प्राणी के लिए विशेष व्रतों एवं त्यौहारों का विधान बनाया गया है | परिवार के सभी अंग - उपांग अर्थात माता - पिता , पति - पत्नी , भाई - बहन आदि सबके लिए ही अलग - अलग व्रत - पर्वों का विधान यदि कहीं मिलता है तो वह सनातन धर्म ही है | सृष्टि का प्रजनन , पालन एवं संहार का कारक आदिशक्ति ( नारी ) को ही माना गया है | एक नारी अपने पति के लिए , अपने पुत्र के लिए , अपने भाई के लिए समय समय पर व्रत रखकर उनकी आयु , सुख एवं ऐश्वर्य में वृद्धि की प्रार्थना किया करती है | इसी क्रम में कार्तिक मास के कृष्णपक्ष की चतुर्थी को "करवाचौथ" का दुष्कर एवं कठिन व्रत नारियाँ अपने पति की दीर्घायु कामना से करती हैं | प्रात: चार बजे से प्रारम्भ करके रात्रि में चंद्रोदय तक निर्जल रहकर यह व्रत नारियाँ मात्र इसलिए करती हैं कि उनके पति की आयु में वृद्धि हो एवं सनातन की मान्यता के अनुसार उन्हें सात जन्मों तक इसी पति का प्रेम मिलता रहे | इस व्रत की विशेषता यह है कि केवल सौभाग्यवती स्त्रियों को ही यह व्रत करने का अधिकार है | स्त्री किसी भी आयु, जाति, वर्ण, संप्रदाय की हो, सबको इस व्रत को करने का अधिकार है | जो सौभाग्यवती (सुहागिन) स्त्रियाँ अपने पति की आयु, स्वास्थ्य व सौभाग्य की कामना करती हैं वे यह व्रत रखती हैं | कहीं - कहीं लोक मान्यताओं के अनुसार यह व्रत सोलह वर्ष तक रहा जाता है | अवधि पूरी होने के पश्चात इस व्रत का उद्यापन (उपसंहार) किया जाता है | जो सुहागिन स्त्रियाँ आजीवन रखना चाहें वे जीवनभर इस व्रत को कर सकती हैं | इस व्रत के समान सौभाग्यदायक व्रत अन्य कोई दूसरा नहीं है | अतः सुहागिन स्त्रियाँ अपने सुहाग की रक्षार्थ इस व्रत का सतत पालन करें |* *आज यह व्रत भले ही आधुनिकता के रंग में रंग गया हो परंतु जहाँ विदेशों में पति - पत्नी के रिश्तों की कोई समय सीमा नहीं होती है वहीं हमारे देश की महान नारियाँ अपने पति को दीर्घायु रखने की कामना एवं सात जन्मों तक उन्हें ही पतिरूप में प्राप्त करने के लिए यह व्रत बड़ी श्रद्धा एवं कठिन तपस्या करके पूरा करती हैं | आज पुरुष समाज को विचार करना चाहिए कि जो नारी हमारे लिए निर्जल रहकर पूरा दिन व्यतीत करती है ! भालचन्द्र गणेश के पूजन के बाद चन्द्रदर्शन करके जो अपने पति का दर्शन छलनी के माध्यम से करके उन्हीं के पिलाये गये जल से अपना व्रत तोड़ती हैं पुरुष समाज उनके लिए क्या कर रहा है ?? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" उन महान पुरुषों से पूंछना चाहता हूँ जो सायंकाल को मदिरापान करके घर पहुँचकर तांडव करते हुए अपनी पत्नी से मारपीट करते हैं फिर भी उनकी पत्नी उनके लिए करक चतुर्थी (करवा चौथ) का व्रत करती है | क्या ऐसे पुरुषों का अपनी पत्नी के लिए कोई कर्तव्य नहीं है | जो नारी अपना परिवार छोड़कर पति का ही अवलम्ब लेकर ससुराल आ जाती है और अपने पति के द्वारा ही प्रताड़ित होती है तो ऐसे पुरुषों को क्या सभ्य समाज का प्राणी कहा जा सकता है ?? जी नहीं ! जो अपने घर की मान - मर्यादा (नारी) का सम्मान नहीं कर सकता वह समाज में कभी भी सम्मानित होने के योग्य नहीं है | जहाँ नारियाँ पुरुषों के लिए इतने कठिन व्रत का पालन करती हैं क्या पुरुष समाज भी इन नारियों के लिए किसी व्रत का पालन करता है या कर सकता है ??* *नारियाँ सदैव त्याग की मूर्ति रही हैं ! सच्चाई तो यह है कि इनका जीवन अपने लिए होता ही नहीं है | ऐसी समस्त नारी जाति को श्रद्धा सहित प्रणाम करते हुए करवा चौथ की शुभकामनायें |*

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अक्तूबर 2018
*हमारे भारत देश में अनेकों महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने महान गुणों से एक नवीन आदर्श किया है | धर्म को मानने वाले या धारण करने वाले मनुष्यों का सबसे बड़ा गुण होता है क्षम
23 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः |* *महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा ||* *पावन नवरात्र के आठवें दिन भगवती आदिशक्ति की पूजा "महागौरी के रूप की जाती है | मां महागौरी का रंग अत्यंत गौरा है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार अपनी कठिन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्र
22 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
*संसार में पाप और पुण्य दोनों बराबर की संख्या में हैं | इनकी विस्तृत व्याख्या हमारे शास्त्रों - पुराणों में की गई है | यूं तो पाप अनेकों की संख्या में हैं | जुआ, चोरी, झूठ, छल, व्यभिचार, हिंसा आदि सभी पाप हैं | पर सबसे बड़ा पाप कृतघ्नता हैं जिसे सब पापों की जननी कहा जा सकता हैं | इसी के कारण मनुष्य
28 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*प्राचीनकाल में मंदिर एक ऐसा स्थान होता था जहां बैठ कर समाज की गतिविधियां संचालित की जाती थी , वहीं से समाज को आगे बढ़ाने के लिए योजनाएं बनाई जाती थी | समाज के लिए नीति - निर्धारण का कार्य यहीं से संचालित होता था | हमारे वैदिक काल की शिक्षा व्यवस्था ऐसी थी जहां एक गुरु का आश्रम होता था , और उस आश्रम
27 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मनुष्यों की उत्पत्ति हुई मानव मात्र एक समान रहा करते थे , इनका एक ही वर्ण था जिसे "हंस" कहा जाता था | समय के साथ विराटपुरुष के शरीर से चार वर्णों की उत्पत्ति की वर्णन यजुर्वेद में प्राप्त होता है :-- "ब्राह्मणोमुखमासीद् बाहू राजन्या कृता: ! ऊरूतदस्यद्वैश्य: पद्भ्या गुंग शूद्र
27 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*आदिकाल से सनातन धर्म यदि दिव्य एवं अलौकिक रहा है तो उसका कारण हमारे सनातन धर्म के विद्वान एवं उनकी विद्वता को ही मानना चाहिए | संसार भर में फैले हुए सभी धर्मों में सनातन धर्म को सबका मूल माना जाता है | हमारे विद्वानों ने अपने ज्ञान का प्रचार किया सतसंग के माध्यम से इन्हीं सतसंगों का सार निकालकर ग्र
22 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
15 अक्तूबर 2018
*चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन |* *कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ||* *महामाई आदिशक्ति भगवती के पूजन का पर्व नवरात्र शनै: शनै: पूर्णता की ओर अग्रसर है | महामाया इस सृष्टि के कण - कण में विद्यमान हैं | जहाँ जैसी आवश्यकता पड़ी है वैसा स्वरूप मैया ने धारण करके लोक
15 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*यह सम्पूर्ण सृष्टि नर नारी के संयोग से ही गतिमान है | दोनों को एक दूसरे का पूरक माना गया है ! पूरक इसलिए माना गया है क्योंकि एक दूसरे के बिना जीवन नीरस एवं अर्थहीन अर्थात व्यर्थ हो जाता है | संतानोत्पत्ति नर - नारी के मधुर मिलन के बाद ही संभव है | पुरुष को बलवान बनाने में यदि एक नारी की महत्वपूर्ण
27 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*मानव जीवन में संगति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है | जिस प्रकार मनुष्य कुसंगत में पड़कर के नकारात्मक हो जाता है उसी प्रकार अच्छी संगति अर्थात सत्संग में पढ़कर की मनुष्य का व्यक्तित्व बदल जाता है | सत्संग का मानव जीवन पर इतना अधिक प्रभाव पड़ता है कि इसी के माध्यम से मनुष्य को समस्याओं का समाधान तो मिल
20 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*भारतीय सनातन संस्कृति एवं हिंदू धर्म का आधार हमारे चारों वेद रहे हैं | हमारे इन वेदों में विश्व के समस्त ज्ञान , समस्त कलायें एवं जीवन जीने का दिशा - निर्देशन समस्त मानव जाति को प्राप्त होता रहा है | जब संसार में कोई धर्म नहीं था तब मानवमात्र के कल्याण के लिए वेदों का प्राकट्य हुआ | इन्हीं वेदों की
22 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x