नारी की श्रेष्ठता :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

28 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (49 बार पढ़ा जा चुका है)

नारी की श्रेष्ठता :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन काल से ही समस्त विश्व में महानतम कही जाने वाली भारतीय संस्कृत का आधार स्तंभ रही है नारियां | विश्व के अन्य देशों की बात तो नहीं कर सकता परंतु भारतीय नारियों ने अपने प्राण गंवाने के बाद भी भारतीय संस्कृति की मान्यताओं को बनाए रखा है | वैदिक काल से ही भारतीय समाज में उथल-पुथल होने के बाद भी नारियों को देवी का स्थान दिया गया है | पौराणिक मान्यताओं से लेकर के वर्तमान मान्यताओं तक यदि हम दृष्टिपात करें तो हमें मिलता है कि :-- धरती मां से लेकर के भारत मां के रूप में तथा गंगा मां से लेकर के अपनी मां के रूप में समाज के प्रत्येक क्षेत्र में नारियों का आदर्श प्रमुख रहा है | हमारा देश भारत नारियों का कितना सम्मान करता है इसका उदाहरण यदि देखना हो तो हमारी पूजा पद्धति देखनी चाहिए जहां देवियों की पूजा देवों से पहले किए जाने का विधान रहा है , उनके नामोच्चारण में भी पहले सीता तब राम , पहले लक्ष्मी तब नारायण , पहले गौरी तब शंकर कहे जाने पर ही पूर्णता मानी गई है | जब वैदिक काल से लेकर के आज तक नारियों का सम्मान होता रहा है तो ऐसे में नारियों के गौरवपूर्ण इतिहास को भुला देना अन्याय होगा | इसमें कोई संदेह नहीं है कि नारियों में अपरिमित शक्तियों की क्षमता होती है | भारत के गौरवशाली इतिहास को देखें सीता , सावित्री , अनुसूईया , दमयंती , सांडिली , अरुंधति और देवहूति जैसी प्रसिद्ध नारियों के नाम हमें देखने को मिलते हैं , जिनमें से प्रत्येक का जीवन एक अतुलनीय शक्ति का प्रतीक था | भारत की सती नारियों ने यदि अपने सतीत्व बल से कीर्तिमान स्थापित किया है तो वहीं ममता , त्याग एवं तपस्या के लिए भी जानी जाती है | पिता के घर से चलकर पति के घर तक का सफर पूरा करने के बाद पति को ही पूर्ण समर्पित होकर के जीवन यापन कर देने वाली नारियां सदैव से महान रही है | और उन का गौरवशाली इतिहास सदैव प्रेरणादायी रहेगा |* *आज के परिवेश में यदि देखा जाए तो मानवीय जीवन का कोई भी क्षेत्र हो , प्रत्येक क्षेत्र में भारतीय नारियां अपना कीर्तिमान स्थापित करती हुई सफलता की ऊंचाइयों को छू रही हैं | विश्व के किसी भी देश का इतिहास उठा लिया जाए उसकी अपेक्षा यदि वर्तमान भारतीय इतिहास को देखा जाए तो भारतीय नारियां आज भी श्रेष्ठ ही सिद्ध होंगी | घर से लेकर बाहर तक समाज से लेकर कार्यालय तक नारियों ने अपनी कार्यकुशलता का लोहा मनवाया है | परंतु आज भी समाज के कुछ विकृत मानसिकता के लोग नारियों को अबला कह कर के उनका शोषण करने पर उतारू रहते हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे विक्षिप्तों से एक ही बात कहना चाहूंगा कि नारी सृष्टि का मूल है | जैसे जड़ के कट जाने पर वृक्ष धराशायी हो जाता है ठीक उसी प्रकार जिस दिन नारियां नहीं रह जाएंगी उस दिन समाज रूपी विशाल वृक्ष धराशायी हो जाएगा | अत: आवश्यकता है कि जिस नारी ने आपको जन्म देकर के इस योग्य बनाया कि समाज में स्थापित हो सके उस नारी जाति का संरक्षण पुरुष समाज को ही करना होगा , जिससे कि सृष्टि का सामंजस्य बना रहे | यदि पुरुष के बिना नारी सुरक्षित नहीं है तो यह भी सत्य है कि नारी के बिना पुरुष का भी कोई अस्तित्व ही नहीं है | दोनों के सामंजस्य से ही एक सुंदर समाज का निर्माण संभव है |* *आज आवश्यकता है कि हम अपने पुरातन काल के इतिहास को देखते हुए विकृत मानसिकता एवं रूढवादिता से निकल कर नारी सम्मान करना सीखें |*

अगला लेख: प्रत्येक नारी है स्कन्दमाता :--- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म को अलौकिक इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस विशाल एवं महान धर्म में समाज के प्रत्येक प्राणी के लिए विशेष व्रतों एवं त्यौहारों का विधान बनाया गया है | परिवार के सभी अंग - उपांग अर्थात माता - पिता , पति - पत्नी , भाई - बहन आदि सबके लिए ही अलग - अलग व्रत - पर्वों का विधान यदि कहीं मिलता है तो वह
27 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के छठे दिन मैया कात्यायनी कात्यायन ऋषि के यहाँ कन्या बनकर प्रकट हुईं | नारी का जन्म कन्यारूप में ही होता है इसीलिए सनातन धर्म ने कन्या की पूजा का विधान बनाया है | सनातन धर्म के पुरोधा यह जानते थे कि जिस प्रकार एक पौधे से विशाल वृक्ष तैयार होता है उसी प्रकार एक कन्या ही नारी रूप में परिवर्ति
20 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*भारतीय सनातन संस्कृति एवं हिंदू धर्म का आधार हमारे चारों वेद रहे हैं | हमारे इन वेदों में विश्व के समस्त ज्ञान , समस्त कलायें एवं जीवन जीने का दिशा - निर्देशन समस्त मानव जाति को प्राप्त होता रहा है | जब संसार में कोई धर्म नहीं था तब मानवमात्र के कल्याण के लिए वेदों का प्राकट्य हुआ | इन्हीं वेदों की
22 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*आश्विन मास के शुक्लपक्ष में प्रतिपदा से महानवमी तक पराअम्बा जगदम्बा जगतजननी भगवती दुर्गा जी के नौ रूपों की पूजा भक्तों के द्वारा की जाती है | दसवें दिन (विजयादशमी के दिन) हर्षोल्लास के साथ भक्तजन महामाया की भव्य शोभायात्रा निकालकर उनका विसर्जन नदियों , सरोवरों आदि में करते हैं | जगदम्बा का वास तो प
20 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*सिंहासनगता नित्यं, पद्माश्रितकरद्वया |* *शुभदास्तु सदा देवी, स्कन्दमाता यशस्विनी ||* *नवरात्र का पाँचवा दिन भगवती "स्कन्दमाता" को समर्पित है | नवरात्रि की नौ देवियों में ही नारी का सम्पूर्ण जीवन निहित है | गर्भधारण करके जो "कूष्माण्डा" कहलाती है वही पुत्र को जन्म जन्म देकर "स्
13 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि |* *सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ||* *महामाया जगदम्बा के विभिन्न स्वरूपों में मुख्यत: नौ स्वरूपों की आराधना नवरात्रि के पावन अवसर पर भक्तों के द्वारा की जाती है | इस नौ स्वरूपों में महानवमी के दिन नवम् शक्ति "सिद्धिदात्री" क
22 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*श्वेते वृषे समारुढा श्वेताम्बरधरा शुचिः |* *महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा ||* *पावन नवरात्र के आठवें दिन भगवती आदिशक्ति की पूजा "महागौरी के रूप की जाती है | मां महागौरी का रंग अत्यंत गौरा है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार अपनी कठिन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्र
22 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*एकवेणी जपाकर्ण , पूर्ण नग्ना खरास्थिता,* *लम्बोष्टी कर्णिकाकर्णी , तैलाभ्यक्तशरीरिणी।* *वामपादोल्लसल्लोह , लताकण्टकभूषणा,* *वर्धनमूर्धध्वजा कृष्णा , कालरात्रिर्भयङ्करी॥-------* *नवरात्र की सप्तमी तिथि को देवी कालरात्रि की उपासना का विधान है। पौराणिक मतानुसार देवी क
20 अक्तूबर 2018
13 अक्तूबर 2018
*नवरात्र के पावन पर्व पर आदिशक्ति भगवती दुर्गा के पूजन का महोत्सव शहरों से लेकर गाँव की गलियों तक मनाया जा रहा है | जगह - जगह पांडाल लगाकर मातारानी का पूजन करके नारीशक्ति की महत्ता का दर्शन किया जाता है | माता जगदम्बा के अनेक रूप हैं , कहीं ये दुर्गा तो कहीं काली के रूप में पूजी जाती हैं | जहाँ दुर्
13 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*प्राचीनकाल में मंदिर एक ऐसा स्थान होता था जहां बैठ कर समाज की गतिविधियां संचालित की जाती थी , वहीं से समाज को आगे बढ़ाने के लिए योजनाएं बनाई जाती थी | समाज के लिए नीति - निर्धारण का कार्य यहीं से संचालित होता था | हमारे वैदिक काल की शिक्षा व्यवस्था ऐसी थी जहां एक गुरु का आश्रम होता था , और उस आश्रम
27 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में मनाए जाने वाले प्रत्येक त्योहारों में एक रहस्य छुपा हुआ है | नौ दिन का दिव्य नवरात्र मनाने के बाद दशमी के दिन दशहरा एवं विजयदशमी का पर्व मनाया जाता है | शक्ति की उपासना का पर्व शारीेय नवरात्रि प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल
22 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x