IAS-IPS हैं ये चारों भाई-बहन, 2 कमरे के मकान में रहकर पूरी की थी पढ़ाई

29 अक्तूबर 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (837 बार पढ़ा जा चुका है)

IAS-IPS हैं ये चारों भाई-बहन, 2 कमरे के मकान में रहकर पूरी की थी पढ़ाई

प्रतापगढ़ के लालगंज तहसील के रहने वाले अनिल मिश्रा को एक ही तमन्ना थी कि उनके चारों बच्चे बड़े होकर उनका नाम रोशन करें। हुआ भी यही, चारों ने देश की सर्वोच्च सेवाओं के एग्जाम को क्वालीफाई किया।

चार भाई बहन में सबसे बड़े हैं योगेश मिश्रा, जो IAS हैं। इस समय कोलकाता में राष्ट्रीय तोप एवं गोला निर्माण में प्रशासनिक अधिकारी हैं। 2nd नंबर पर हैं बहन क्षमा मिश्रा, जो IPS हैं। वर्तमान में कर्नाटका में पोस्टेड हैं। 3rd नंबर पर हैं माधवी मिश्रा, जो झारखंड कैडर की IAS हैं। इस समय केंद्र के विशेष प्रतिनियुक्ति पर दिल्ली में तैनात हैं। 4th नंबर पर हैं लोकेश मिश्रा, जो IAS हैं। इस समय बिहार के चंपारण जिले में ट्रेनिंग कर रहे हैं। सबसे बड़े भाई योगेश ने बताया,” IAS होने से पहले वो सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे और नोएडा में तैनात थे। उस समय उनकी दोनों बहनें क्षमा-माधवी दिल्ली में प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी कर रही थीं। रक्षाबंधन के एक दिन पहले दोनों के एग्जाम का रिजल्ट आया और वो फेल हो गईं। उसके एक दिन बाद मैं राखी बंधवाने बहनों के पास गया और उनका हौसला बढ़ाया। उसी दिन ठान लिया कि सबसे पहले खुद IAS बनकर दिखाऊंगा, जिससे अपने छोटे भाई-बहनों को प्रेरणा दे सकूं। फिरतैयारी शुरू की और फर्स्ट अटेंप्ट में ही IAS बन गया। इसके बाद मैंने छोटे भाई-बहनों का मार्गदर्शन किया।



माधवी बताती हैं, चारों भाई-बहनों में उम्र का फर्क बहुत अधिक नहीं है। सभी एक-दूसरे से एक साल छोटे-बड़े हैं। लेकिन बचपन में कभी-कभी खेल के दौरान किसी बात को लेकर नोक-झोंक भी होती थी, तो उनमें से कोई एक इस नोकझोंक को प्यार में बदलने की जिम्मेदारी उठाता था। सभी को एक जगह इकट्ठा कराकर उनमें समझौता कराता था। क्षमा बताती हैं, सिर्फ 2 कमरों का मकान था, अगर कोई मेहमान आ गया तो सबसे ज्यादा दिक्कत होती थी। ऐसे में हम सबको पढ़ने में प्रॉब्लम होती थी।



योगेश ने बताया, हम सभी अपने पैतृक गांव लालगंज में रहकर ही 12वीं तक पढ़ाई की। उसके बाद वो मोती लाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान बीटेक करने इलाहाबाद चले गए। वहीं सॉफ्टवेयर इंजीनियर की जॉब मिल गई और नोएडा चला गया। 2013 में IAS बना। क्षमा ने एमए तक की पढ़ाई गांव से ही की। उसके बाद उनकी शादी 2006 में पास में रहने वाले सुधीर से हो गई। सुधीर उत्तराखंड में जिला आपूर्ति अधिकारी थे। उन्होंने भी क्षमा को आगे की पढ़ाई जारी रखने पर जोर दिया। शुरुआत में क्षमा का सिलेक्शन 2015 में डिप्टी SP के रूप में हुआ। लेकिन अगले साल फिर से एग्जाम देने के बाद 2016 में वो IPS बन गई। दूसरी बहन माधवी ने ग्रैजुएशन लालगंज से ही करने के बाद इकोनॉमिक्स से पोस्ट ग्रैजुएशन करने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी चली गईं। वहां पढ़ाई पूरी होने के बाद जेएनयू दिल्ली में रिसर्च करने के दौरान ही 2016 में उनका सि‍लेक्शन IAS में हो गया। सबसे छोटे भाई लोकेश ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से कैमिकल इंजीनयरिंग करने के बाद राजस्थान के कोटा में एक फर्टिलाइजर कंपनी में नौकरी की। 2015 में PCS का एग्जाम क्वालीफाई कर BDO हुआ। लेकिन उसके बाद उन्होंने फिर सिविल सर्विस की परीक्षा दी और 2016 में वो भी IAS हो गए।

IAS-IPS हैं ये चारों भाई-बहन, 2 कमरे के मकान में रहकर पूरी की थी पढ़ाई

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/10/28/ias-ips-brother-sister/?fbclid=IwAR2HDhFlzLgOT1kz1RziGivDuwloH9V_euM1onpRtmKzVIj30CfQ3NZJSJM

अगला लेख: अमृतसर रेल हादसा: शव घर लाने के लिए मांग रहे थे 40 हजार, पत्नी को व्हाट्सएप पर फोटो दिखा कर किया दाह-संस्कार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 अक्तूबर 2018
अब न तो लाठियों का दौर है और न ही लठैतों का जोर है, फिर भी सुलतानुपर के ऐतिहासिक पांडेय बाबा मेले में कई करोड़ रुपयों की लाठियों का कारोबार होता है। प्रदेश के कई जिलों से पांडेय बाबा मेले में आये लोग बड़े पैमाने पर यहां से लाठियों की खरीदारी करते हैं। उल्लेखनीय है कि फैजाब
22 अक्तूबर 2018
16 अक्तूबर 2018
दोस्तों हम सब दूध तो बड़ी शोक से पीते है लेकिन क्या आप जानते है की आपका दूध शुद्ध है या फिर मिलावटी। हमारे देश में रोज जितना दूध का उत्पादन होता है खपत उससे चार गुना अधिक होती है। जिसका मतलब हमारे देश में खपत ज्यादा और उत्पादन कम हो रहा है।Third party image referenceतो इस
16 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
Third party image referenceआखिरकार ड्राइवर ने मौके पर गाड़ी क्यों नहीं रोकी। वह लोगों को रौंदता हुआ क्यों चला गया। यह सवाल सभी के मन में है। आइए हम आपको बताते हैं कि ड्राइवर ने गाड़ी क्यों नहीं रोकी। साथ ही हम आपको यह भी बता देते हैं कि इस हादसे के प्रमुख कारण क्या थे।Third party image reference1—रा
20 अक्तूबर 2018
08 नवम्बर 2018
आज हम आपको बताने जा रहे है डीएम मंगेश के बारे में। मंगेश स्कूलों की स्थिति सुधारने के लिए लोगों के बीच एक मिसाल बनकर उभरे हैं, तो वहीं अपने पति का साथ देने के लिए डीएम की पत्नी ने भी सहयोग का हाथ आगे बढ़ाया है।उन्होंने देहरादून रुद्रप्रयाग के स्कूलों का बारीकी से निरीक्षण
08 नवम्बर 2018
24 अक्तूबर 2018
नई दिल्ली। अमृतसर रेल हादसे को लेकर जहां पूरा देश सदमे में है, वहीं एक पुल से फंदे पर लटके शख्स की तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। सोशल मीडिया पर पोस्ट की गई तस्वीरों में दावा किया जा रहा है कि रेल हादसे के बाद ट्रेन के ड्राइवर ने सुसाइड कर लिया। दरअसल, यह दावा सोशल मीडिया पर
24 अक्तूबर 2018
29 अक्तूबर 2018
राज्यपाल लाल जी टंडन ने दीक्षांत समारोहों में पहने जाने वाले गाउन की जगह भारतीय पारंपरिक ड्रेसकोड अपनाने का आदेश दिया है। अब दीक्षांत समारोहों में गाउन नहीं, लड़कियों को सलवार-
29 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
इसी दिन भगवान् कृष्ण महारास रचाना आरम्भ करते हैं। देवीभागवत महापुराण में कहा गया है कि, गोपिकाओं के अनुराग को देखते हुए भगवान् कृष्ण ने चन्द्र से महारास का संकेत दिया, चन्द्र ने भगवान् कृष्ण का संकेत समझते ही अपनी शीतल रश्मियों से प्रकृति को आच्छादित कर दिया। उन्ही किरणों
23 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
संविधान दिवस(Constitution day ) हर साल 26 नवंबर को भारत मनाया जाता है।26 नवंबर 1949 को पूरे दो साल,11 महीने ,18 दिन में भारतीय संविधान (Cons
19 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
व्हाट्सएप जल्द ही यूजर का बैकअप डेटा हटा देगा। व्हाट्सप्प ने इस साल अपने चैट सिस्टम में सबसे ज्यादा बदलाब किये है और आगे भी इसके फीचर्स में अपडेट्स आते रहेंगे। व्हाट्सएप्प में इस तरह लगातार बदलाब आने का कारण इसके लगातार यूजर बेस बढ़ना है। इस नए अपडेट का कारण गूगल और व्हाट्
25 अक्तूबर 2018
19 अक्तूबर 2018
भले ही #MeToo के आरोपों में फंसे बहुत से लोगों पर अब तक कोई ठोस कार्यवाई न हो सकी हो, लेकिन भारतीय समाज में इसका असर साफ़ नज़र आने लगा है। कम से कम इस अभियान ने महिलाओं को अपनी आवाज़ उठाने का एक मौका तो दिया ही है। सालों से जो आवाज़े डर के चलते दबी हुई थीं वो अब खुलकर सुनाई देने लगी हैं। एक के बाद एक
19 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
25000 साल पुराना है भारतीय करेंसी का इतिहास. तब से लेकर आज तक इसने अच्छे-बुरे सारे दौर देखे हैं. फ़िलहाल ये अपने बुरे दौर से गुज़र रही है. बेतहाशा मंहगाई, अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में हो रहे बदलाव और फ़ॉरन रिज़र्व के कम होने चलते आज 1 डॉलर की क़ीमत 74 रुपये के बराबर हो चुकी ह
20 अक्तूबर 2018
24 अक्तूबर 2018
Third party image referenceदशहरा की रात अमृतसर में हुए भीषण हादसे ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया। जी हां रावण दहन देख रहे लोगों पर तेज रफ्तार ट्रेन चढ़ गई और अमृतसर के साथ साथ पूरे भारत में चीख पुकार मच गई। इस हादसे में 61 से ज्यादा लोगों की जान गई जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हैं।इस हादसे के तुरंत बा
24 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
बारात में सड़कों पर नाचने में लोगों को जो मज़ा आता है वो किसी और काम में नहीं। आप भी सड़क पर जाती किसी बारात को देखकर कुछ पल रुक कर बारातियों और बग्घी पर बैठे दुल्हे को एक नज़र ज़रूर देखते होंगे, लेकिन ज़ल्द ही शादी का ऐसा नज़ारा इतिहास बन जाएगा, क्योंकि अब सड़कों पर न तो
20 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x