पूजा कैसे करें ;----- आचार्य अर्जुन तिवारी

30 अक्तूबर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (27 बार पढ़ा जा चुका है)

पूजा कैसे करें ;----- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*सनातन हिन्दू धर्म में पूजा - पाठ का विशेष महत्व है | पूजा कोई साधारण कृत्य नहीं है | यदि आध्यात्मिकता की दृष्टि से देखा जाय तो पूजा करने का अर्थ है स्वयं को परिमार्जित करना | पूजा में सहयोग करने वाली सामग्रियों पर यदि ध्यान दिया जाय तो उनकी अलौकिकता परिलक्षित हो जाती है | किसी भी पूजन में आसन का विशेष महत्व है , यह मात्र चटाई का टुकड़ा नहीं अपितु यह मानना चाहिए कि साधक इस समय कर्तव्य की कठोर प्रतिज्ञा के ऊपर आरूढ होकर इसी स्थान पर अविचल भाव से बैठकर सत्य को प्राप्त करने के लिए सतत् प्रयासरत होता है | साधक को यह ध्यान में रखना चाहिए कि मैं एक तरफ से प्रलोभनों का ताना तो दूसरी ओर से कठिनाईयों का बाना डालकर बने हुए इस सांसारिक घटनाक्रम रूपी यह आसन मेरे पैरों के नीचे रहेगा , और मैं इसे दबाये रखने में सक्षम हूँ | ऐसा विचार एवं प्रतिज्ञा करके जब साधक कोई पूजा करने बैठता है तो उसका आसन कभी विचलित नहीं हो सकता | किसी भी पूजा में दूसरा विशेष पदार्थ होता है चंदन | चंदन को कभी ध्यान से देखा जाए तो यही मिलता है जैसे-जैसे वह घिसता जाता है वैसे वैसे उसका भार हल्का होता जाता है | प्रायः लोग यह समझते हैं कि भगवान की भक्ति करके चंदन तो समाप्त हो गया ! उसका घाटा हो गया !! परंतु यदि आध्यात्मिकता की दृष्टि से देखा जाए चंदन का कोई घाटा नहीं हुआ , बल्कि वह पूज्य द्रव्य बन कर भगवान के मस्तक पर विराजमान हो जाता है | जिस प्रकार बिना घिसे चंदन को भगवान के मस्तक पर विराजने का सौभाग्य नहीं प्राप्त होता है उसी प्रकार मनुष्य को भी सांसारिक वासनाओं को भूलकर भगवद्भक्ति में घिसना एवं पिसना होता है तब उसे भगवान का सान्निध्य प्राप्त होने का अवसर मिल सकता है |* *आज के परिवेश में प्राय: लोग यह कहते हुए सुने जाते हैं कि ---- मैं इतना पूजा - पाठ करता हूँ , ईश्वर को मानता हूँ फिर भी परेशानियां घेरे ही रहती हैं | फिर पूजा - पाठ करने से क्या फायदा ???? वास्तविकता यह है कि हम यह जानते ही नहीं कि पूजा क्या है और कैसे किया जाय | जबकि ईश्वर पूजा के स्थूल उपकरणों का सूक्ष्म आध्यात्मिक महत्व है | उस सूक्ष्म तथ्य को समझे बिना जो लोग केवल मात्र भौतिक कर्मकाण्डों के बाह्य आडंबरों तक ही अपनी दृष्टि सीमित रखते हैं, वे पूजा के वास्तविक अर्थ को नहीं समझ पाते और न उसके सच्चे लाभ को ही प्राप्त कर पाते हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इन शिकायत कर्ताओं से पूंछना चाहता हूँ कि जब वे भगवान के समूप दीप प्रज्वलित करते हैं तो क्या वे अपने ज्ञान का दीपक भी जलाते हैं ?? क्योंकि बिना ज्ञानदीपक प्रज्वलित किये अंतर्प्रकाश का विस्तार नहीं हो सकता है | क्योंकि यह सत्य है कि यही ज्ञान का प्रकाश ही आत्मा को परमात्मा से मिलाने में सहायक सिद्ध होता है | कौन है जो इस विधान के अनुसार आज पूजन कर रहा है | भागदौड़ भरी जिंदगी में मनुष्य जल्दी - जल्दी भगवान का पूजन करके मात्र खानापूर्ति कर रहा है और पूजन का पूर्ण फल पाने की इच्छा रखता है | और कार्य न होने पर भगवान से पूजा करने का उलाहना देते हुए शिकायत करने लगता है | क्या सारा दोष भगवान का ही है | यह मान लीजिए कि यदि नदी पार करने की इच्छा है तो नाविक की इच्छानुसार आपको नाव पर बैठना ही होगा , ठीक उसी प्रकार यदि पूजन से फल प्राप्त करने की इच्छा है तो उपरोक्त कर्म करके ही प्राप्त किया जा सकता है |* *इसे आध्यात्मिक पूजा कहा जाता है | ऐसी पूजा करके मनुष्य जीवन की परेशानियों से मुक्ति पा सकता है |*

पूजा कैसे करें ;----- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: अपने ग्रंथों का करें अध्ययन :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अक्तूबर 2018
*सनातन हिंदू धर्म अपनी ज्येष्ठता एवं श्रेष्ठता के लिए संसार में सर्वत्र मान्य हुआ है | विश्व के अनेकानेक विद्वानों विचारकों एवं दार्शनिकों ने सनातन धर्म के इस तथ्य को स्वीकार किया है | यह धर्म मात्र कुछ सिद्धांतों , संस्कारों एवं विश्वासों की धर्म व्यवस्था मात्र नहीं बल्कि वैज्ञानिक तथ्यों पर व्यवस्
23 अक्तूबर 2018
20 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में नारियों का एक महत्वपूर्ण स्थान है | पत्नी के पातिव्रत धर्म पर पति का जीवन आधारित होता है | प्राचीनकाल में सावित्री जैसी सती हमीं लोगों में से तो थीं जिसने यमराज से लड़कर अपने पति को मरने से बचा लिया था | भगवती पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में प्राप्त कर लिया था | भारत की स्त्रियों
20 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*इस धराधाम पर जब-जब ईश्वर ने अवतार लिया है तब-तब उनकी शक्ति, उनकी माया उनके साथ आई है | यह माया नहीं होती तो अध्यात्म कैसे होता | ईश्वर स्वयं शक्ति को मानते हैं क्योंकि बिना शक्ति के ईश्वर का भी अस्तित्व नहीं है | इसी शक्ति में जब वीर गुण होता है तो यह "महादुर्गा" हो जाती हैं | जब रजोगुण होता है तो
22 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
*हमारे भारत देश में अनेकों महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने महान गुणों से एक नवीन आदर्श किया है | धर्म को मानने वाले या धारण करने वाले मनुष्यों का सबसे बड़ा गुण होता है क्षम
23 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में मनाए जाने वाले प्रत्येक त्योहारों में एक रहस्य छुपा हुआ है | नौ दिन का दिव्य नवरात्र मनाने के बाद दशमी के दिन दशहरा एवं विजयदशमी का पर्व मनाया जाता है | शक्ति की उपासना का पर्व शारीेय नवरात्रि प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल
22 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
*सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि |* *सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी ||* *महामाया जगदम्बा के विभिन्न स्वरूपों में मुख्यत: नौ स्वरूपों की आराधना नवरात्रि के पावन अवसर पर भक्तों के द्वारा की जाती है | इस नौ स्वरूपों में महानवमी के दिन नवम् शक्ति "सिद्धिदात्री" क
22 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
*सनातन काल से ही संस्कृति का विस्तार करने के उद्देश्य से हमारे ऋषियों / महर्षियों / विद्वानों एवं राजा - महाराजाओं तक ने विशेष योगदान दिया | सनातन संस्कृति का विस्तार कैसे हो ?? इसकी मान्यतायें एवं विचार जन जन तक कैसे पहुँचें ?? इस पर गहनता से विचार करके हमारे महापुरुषों ने समाज में घूम घूमकर सतसंग
23 अक्तूबर 2018
06 नवम्बर 2018
*इस संसार में सब का अंत निश्चित है ! चाहे वह जीवन हो या जीवन में होने वाली अनुभूतियां ! मानव जीवन भर एक हिरण की तरह कुछ ढूंढा करता है | हर जगह मानव को आनंद की ही खोज रहती है चाहे वह भोजन करता हो, या भजन करता , हो कथा श्रवण करता हो सब का एक ही उद्देश्य होता है आनंद की प्राप्ति करना | आनंद भी कई प्रक
06 नवम्बर 2018
30 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म मानव शरीर को मोक्ष प्राप्ति का साधन बताते हुए परम पूज्य बाबा गोस्वामी तुलसीदास जी लिखते हैं :---- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाई न जे परलोक संवारा !!" अर्थात :- यह मानव शरीर साधना करने का धाम और मोक्ष प्राप्ति का द्वार है , इस मानव शरीर में आकर के जीव यह द्वार खोल सकता है , और इसी मान
30 अक्तूबर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x