पाँच पर्वों की श्रृंखला दीपावली

04 नवम्बर 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (17 बार पढ़ा जा चुका है)

पाँच पर्वों की श्रृंखला दीपावली  - शब्द (shabd.in)

पाँच पर्वों की श्रृंखला दीपावली

प्रकाश पर्व दीपावली समूचे भारतवर्ष में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है | शारदीय नवरात्र आरम्भ होते ही दीपावली की भी तैयारियाँ जोर शोर से आरम्भ हो जाती हैं | इस पर्व को इतना अधिक महत्त्व यों ही नहीं दिया गया है | वास्तव में पाँच पर्वों की एक श्रृंखला है दीपावली का पर्व – और ये पाँच पर्व हैं: धनतेरस, नरक चतुर्दशी, लक्ष्मी पूजन, गोवर्धन पूजा और भाई दूज | इस वर्ष बुधवार 7 नवम्बर को दीपमालिका प्रज्वलित करने के साथ ही लक्ष्मी पूजन भी होगा | इसके दो दिन पूर्व और दो दिन बाद तक ये पाँचों पर्व हो जाते हैं |

मुहूर्त का यदि विचार करें तो कल यानी सोमवार पाँच नवम्बर को त्रयोदशी तिथि है - इस श्रृंखला की प्रथम कड़ी धन त्रयोदशी – जिसे धनतेरस कहा जाता है – मनाई जाएगी | जिसे आयुर्वेद के जनक देवताओं के वैद्य महर्षि धन्वन्तरी के जन्मदिवस के रूप में भी मनाया जाता है | और जैसा कि इसके नाम से ही विदित है - इस दिन स्वर्णाभूषण तथा घर दुकान आदि के लिए नया सामान लाने की प्रथा है, तथा सायंकाल नियम-संयम के देवता यम के लिए दीप प्रज्वलित किये जाते हैं |

मंगलवार को नरक चतुर्दशी, इसे छोटी दिवाली के नाम से भी जाना जाता है | इसके विषय में कई पौराणिक कथाएँ और मान्यताएँ प्रचलित हैं | जिनमें सबसे प्रसिद्ध तो यही है कि इसी दिन भगवान कृष्ण ने नरकासुर नामक राक्षस का वध करके उसके बन्दीगृह से सोलह हज़ार एक सौ कन्याओं को मुक्त कराके उन्हें सम्मान प्रदान किया था | इसी उपलक्ष्य में दीपमालिका भी प्रकाशित की जाती है | एक कथा कुछ इस प्रकार भी है कि यमदूत असमय ही पुण्यात्मा और धर्मात्मा राजा रन्तिदेव को लेने पहुँच गए | कारण पूछने पर यमदूतों ने बताया कि एक बार अनजाने में एक ब्राहमण उनके द्वार से भूखा लौट गया था | अनजाने में किये गए इस पापकर्म के कारण ही उनको असमय ही नरक जाना पड़ रहा है | राजा रन्तिदेव ने यमदूतों से एक वर्ष का समय माँगा और उस एक वर्ष में घोर तप करके कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी को पारायण के रूप में ब्रह्मभोज कराके अपने पाप से मुक्ति प्राप्त की | माना जाता है कि तभी से इस दिन को नरक चतुर्दशी के रूप में मनाया जाता है |

इस दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नानादि से निवृत्त होकर यमराज के लिए तर्पण किया जाता है और सायंकाल दीप प्रज्वलित किये जाते हैं | माना जाता है कि विधि विधान से पूजा करने वालों को सभी पापों से मुक्ति प्राप्त हो जाती है और अन्त में वे स्वर्ग के अधिकारी होते हैं | बंगाल में इस दिन काली पूजा की जाती है |

बुधवार 7 नवम्बर को तीसरी कड़ी मुख्य पर्व – लक्ष्मी पूजन, चतुर्थ कड़ी गुरूवार 8 नवम्बर को कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा को गोवर्धन पूजा और अन्नकूट – जिसका भगवान श्री कृष्ण ने किया था | और पंचम तथा अन्तिम कड़ी है भाई दूज – यम द्वितीया | इस प्रकार भाई दूज के साथ पाँच पर्वों की इस श्रृंखला दीपावली का समापन होता है |

कथाएँ जितनी भी हों, इतना तो निश्चित है कि दीपावली प्रकाश का उल्लासमय पर्व है और उसके पहले आने वाले धनतेरस और नरक चतुर्दशी से आरम्भ होकर इसके बाद आने वाले गोवर्धन पूजा और भाई दूज तक इस पर्व का उलास छाया रहता है...

सभी के जीवन से अज्ञान, दुर्भाग्य इत्यादि का अन्धकार दूर होकर सभी का जीवन ज्ञान, सौभाग्य, सुख, सम्पत्ति के आलोक से आलोकित हो इसी कामना के साथ सभी को धनतेरस, नरक चतुर्दशी, लक्ष्मी पूजन, गोवर्धन पूजा और भाई दूज की पाँच पर्वों की श्रृंखला दीपमालिकोत्सव की अनेकशः हार्दिक शुभकामनाएँ...

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/11/04/deepawali/

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अक्तूबर 2018
शरद पूर्णिमाआश्विन मास की पूर्णिमा, जिसे शरदपूर्णिमा के नाम से जाना जाता है और जिसके साथ ही आरम्भ हो जाती है पन्द्रह दिनोंबाद आने वाले दीपोत्सव की चहल पहल | इसके अतिरिक्त देश के अलग अलग भागों में कोजागरीपूर्णिमा, नवान्न पूर्णिमा, कुमुद्वती तथा कुमार पूर्णिमा के नाम से भी इस पर्व कोजाना जाता है | आज
23 अक्तूबर 2018
30 अक्तूबर 2018
अहोईअष्टमी व्रतकलयानी 31 अक्टूबर को उत्तर भारत में महिलाएँ अहोई अष्टमी के व्रत का पालन करेंगी | अहोईअष्टमी व्रत का पालन मूलतः उत्तर भारत में ही किया जाता है | यह व्रत करवाचौथ केचार दिन बाद यानी कार्तिक कृष्ण अष्टमी को और दीपावली से आठ दिन पूर्व किया जाताहै | प्राय: अहोई अष्टमी उसी वार की होती है जिस
30 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
अनुराधा नक्षत्र नक्षत्रों की वार्ता को ही और आगे बढाते हैं | ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं केलिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों कीव्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम बात कर रहे हैं |इस क्रम में अब तक अश
25 अक्तूबर 2018
04 नवम्बर 2018
हिन्दी पञ्चांगरविवार, 4 नवम्बर 2018 – नई दिल्लीविरोधकृत विक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनसूर्योदय : 06:35 पर तुला में / स्वाति नक्षत्र सूर्यास्त : 17:34 पर चन्द्र राशि : सिंह चन्द्र नक्षत्र : उत्तर फाल्गुनी 21:34 तक, तत्पश्चात हस्त तिथि
04 नवम्बर 2018
07 नवम्बर 2018
उत्तर प्रदेश में आज अयोध्या की छोटी दिवाली बहुत कुछ खास लेकर अयोध्यावासियों के लिए आई है जहां एक तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अयोध्या को अयोध्या में खासा दर्जा देने का काम किया तो वहीं विश्व भर में आज अयोध्या ने एक नया रिकॉर्ड काम कर दिया है। रिकॉर्ड कायम करने में उ
07 नवम्बर 2018
07 नवम्बर 2018
गृहस्थ सुबह 10.49 बजे से 12.10 तक और शाम 5.36 से 7.15 बजे तक कर सकते हैं पूजाअमृत योग में शाम 7.15 से 8.54 बजे तक की जा सकती है लक्ष्मी पूजाअाज दीपावली है। 14 घंटे में आप चार मुहूर्त में लक्ष्मी पूजन कर सकते हैं। लग्न के हिसाब से पूजा के लिए 6.08 बजे से 8.05 बजे तक का समय
07 नवम्बर 2018
23 अक्तूबर 2018
हिन्दीपञ्चांगबुधवार,24 अक्टूबर 2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनशरदपूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएँ सूर्योदय : 06:27 पर तुलामें / चित्रा नक्षत्र / सूर्य का स्वाति नक्षत्र में प्रवेश 11:44 पर सूर्यास्त : 17:42 पर चन्द्र राशि : मीन 09:23 तक, तत्पश्चा
23 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
हिन्दी पञ्चांगसोमवार, 28 अक्टूबर 2018 – नई दिल्लीविरोधकृत विक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:30 पर तुला में / स्वाति नक्षत्र सूर्यास्त : 17:38 पर चन्द्र राशि : मिथुन चन्द्र नक्षत्र : आर्द्रा 29:05 (मंगलवार को सूर्योदय से पूर्व 05:05) तक, तत्पश्चात पुनर
28 अक्तूबर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x