IPS अफसर की गरीबी की कहानी: भूख शांत करने के लिए खाने में माँ मिलाती थी .......

05 नवम्बर 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (172 बार पढ़ा जा चुका है)

कुछ बनने के लिए लगन और मेहनत जितनी जरूरी है, उससे भी अधिक जरूरी है एक बड़ी सोच। फिर चुनौती पेट भरने की हो तो संघर्ष और भी बड़ा हो जाता है। लेकिन सोच बड़ी हो तो तमाम संघर्ष अंत में छोटे पड़ जाते हैं। रायगढ़, छत्तीसगढ़ के तारापुर गांव में ऐसी ही बड़ी सोच लेकर बड़ी-बड़ी चुनौतियों को पार करने वाले युवा आइपीएस भोजराम पटेल की कहानी युवाओं को प्रेरणा देती है।

माता निरक्षर और पिता प्राइमरी पास। जीविकोपार्जन के लिए दो बीघा जमीन के अतिरिक्त और कुछ नहीं। गांव के सरकारी स्कूल में पढ़े भोजराम ने इन चुनौतियों को स्वीकार किया। कुछ कर गुजरने का इरादा लेकर शिक्षा को सीढ़ी बनाने का प्रण लिया। संविदा शिक्षक बने। लेकिन यह मंजिल नहीं थी। आज वह आइपीएस अफसर बन चुके हैं। कहते हैं, मैंने गरीबी को करीब से देखा है। एक दौर था, जब पेट भरना सबसे बड़ी चुनौती थी। घर में अनाज न होता तो मां दाल या सब्जी में मिर्च अधिक डाल देती थीं, ताकि भूख कम लगे और कम भोजन में ही क्षुधा शांत हो जाए।

गांव के जिस सरकारी स्कूल में पढ़ा, आज उसी स्कूल के बच्चों को पढ़ने में मदद करता हूं। उन्हें बताता हूं कि शिक्षा ही एकमात्र साधन है। भोजराम दुर्ग, छत्तीसगढ़ में बतौर सीएसपी के पद पर तैनात हैं। कहते हैं, माता-पिता महेशराम पटेल व लीलावती पटेल ने कम पढ़े-लिखे होने के बाद भी पढ़ाई का महत्व समझा और मुझे पढ़ने के लिए प्रेरित किया।

स्कूल में पढ़ाई के दौरान भोजराम अपने माता-पिता के साथ खेतों में भी हाथ बंटाते थे। कॉलेज की पढ़ाई के बाद शिक्षाकर्मी वर्ग-दो के पद पर चयन हुआ। तब शिक्षक बनकर उन्होंने मिडिल स्कूल में अध्यापन किया और स्कूल से अवकाश के बाद सिविल सेवा परीक्षा की पढ़ाई पर फोकस किया। माता-पिता की मेहनत व बेटे की लगन काम आई और फिर यह उपलब्धि हाथ लगी। अपने व्यस्त सेवाकाल से समय निकालकर वह स्कूल में आकर बच्चों को समय देते हैं। स्कूल के प्रति इसे अपना कर्ज मानकर बच्चों व गांव के युवाओं को करियर में आगे बढ़ने का सक्सेस मंत्र भी दे रहे हैं।

https://www.ekbiharisabparbhari.com/2018/11/04/poverty-story-of-ips-officer-mother-used-to-burn-fast-chillies-to-eat-hunger/?fbclid=IwAR1LUe0m_RGrJiU-sIhs3Nus-o0DjQGE4vafFogW3SqL_0JcuNZCsM9flYE

अगला लेख: अमृतसर रेल हादसा: शव घर लाने के लिए मांग रहे थे 40 हजार, पत्नी को व्हाट्सएप पर फोटो दिखा कर किया दाह-संस्कार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 अक्तूबर 2018
व्हाट्सएप जल्द ही यूजर का बैकअप डेटा हटा देगा। व्हाट्सप्प ने इस साल अपने चैट सिस्टम में सबसे ज्यादा बदलाब किये है और आगे भी इसके फीचर्स में अपडेट्स आते रहेंगे। व्हाट्सएप्प में इस तरह लगातार बदलाब आने का कारण इसके लगातार यूजर बेस बढ़ना है। इस नए अपडेट का कारण गूगल और व्हाट्
25 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
हमारे देश में पान का एक अलग महत्व है। पूजा-पाठ से लेकर किसी भी खास कार्यक्रम के लिए इस्तेमाल होता है पान । गांव में लोग बरातियों का स्वागत पान खिलाकर करते है। पान हमारे देश की सबसे पुरानी और सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली चीजों में से एक है। शायद यही वजह है कि लोग सबसे ज्
25 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
पंजाब के अमृतसर में रावण दहन के दौरान हुए रेल हादसों में मरने वालों का आंकड़ा 61 तक पहुंच चुका है। मारे गए कई लोगों की तो अभी तक पहचान भी नहीं हो पाई है। ऐसे लोगों की पहचान करने की कोशिशें की जा रही हैं। साल के सबसे खतरनाक रेल हादसे में किसी के पिता मारे गए तो किसी का बेट
22 अक्तूबर 2018
26 अक्तूबर 2018
बॉलीवुड एक्ट्रेस राखी सावंत अक्सर विवादित बयानों को लेकर सुर्खियों में रहती हैं। तनुश्री दत्ता और नाना पाटेकर विवाद को लेकर राखी ने तनुुश्री पर आरोप लगाते हुए कहा था कि तनुश्री ड्रग्स लेकर अपनी वैन में पड़ी हुई थीं। उनके आरोप लगाने के बाद तनुश्री ने राखी पर मानहानि का केस करते हुए 10 करोड़ का हर्जान
26 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
डांस का कीड़ा जिसको काट लेता है उसके लिए यह सांस और धड़कन की तरह जरूरी हो जाता है। फिर चाहे नाचना आए या न आए। म्यूजिक सुनते ही पैर थिरकने लगते हैं और हाथ हवा से बाते करने लगते हैं। सबसे मजेदार बात कि डांस की उछल कूद में शर्म और हया भी कूद कर कही भाग जाती है। नाचने वाले फर
25 अक्तूबर 2018
22 अक्तूबर 2018
अब न तो लाठियों का दौर है और न ही लठैतों का जोर है, फिर भी सुलतानुपर के ऐतिहासिक पांडेय बाबा मेले में कई करोड़ रुपयों की लाठियों का कारोबार होता है। प्रदेश के कई जिलों से पांडेय बाबा मेले में आये लोग बड़े पैमाने पर यहां से लाठियों की खरीदारी करते हैं। उल्लेखनीय है कि फैजाब
22 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
आप कभी थाने गए हैं..? अरे-अरे गलत मत समझिए... हम तो बस इतना पूछ रहे हैं कि कभी कोई ऐसी जरूरत आन पड़ी हो कि आपको थाने जाना पड़ा हो कोई शिकायत लिखाने..? दरअसल, आज हम आपके सामने एक थाने की ऐसी वीडियो दिखाने वाले हैं जिसे देखने के बाद आप भी कहेंगे कि थाने में ये क्या हो रहा है। जी हां, बिहार के कैमूर का
25 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x