वो संगीतकार जिनके नाम पर मोदी जी ने सबसे लम्बे पुल का नाम रखवाया?

05 नवम्बर 2018   |  समीर मिश्र   (52 बार पढ़ा जा चुका है)

वो संगीतकार जिनके नाम पर मोदी जी ने सबसे लम्बे पुल का नाम रखवाया?

प्रधानमंत्री ने 26 मई 2017 को देश के सबसे लंबे पुल का उद्घाटन किया गया था. उद्घाटन के बाद के कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होंने ऐलान किया कि पुल का नाम भूपेन हज़ारिका के नाम पर होगा. और ऐसा इसलिए कि 9.3 किलोमीटर लंबे इस पुल का एक सिरा लोहित नदी के धोला घाट पर उतरता है और दूसरा सदिया में. और सदिया भूपेन हज़ारिका का शहर है. वही भूपेन हज़ारिका जिनका गला इतना मीठा था कि उनका एक नाम सुधाकंठ पड़ गया था. सुधाकंठ – जिसके गले में अमृत हो.

पुल के उद्घाटन के कार्यक्रम में बोलते प्रधानमंत्री मोदी
पुल के उद्घाटन के कार्यक्रम में बोलते प्रधानमंत्री मोदी

भूपेन सदिया में ही पैदा हुए थे. 8 सितंबर 1926 को. संगीत और केवल संगीत के लिए बने भूपेन हज़ारिका की उम्र बस 10 साल की थी जब तेजपुर में दो ऐसे लोगों ने उन्हें गाना गाते सुना जो उन्हें स्टूडियो तक ले गए. ये दो लोग थे पहली असमिया फिल्म बनाने वाले ज्योतिप्रसाद अग्रवाल और मशहूर असमिया क्रांतिकारी कवि बिश्नू प्रसाद राभा. असम के लोकगीतों में से एक बोरगीत गाते हुए हज़ारिका इन दोनों को इतना जंचे कि वो उन्हें अपने साथ कोलकाता के औरोरा स्टूडियो ले गए. जहां भूपेन ने अपना पहला गाना रिकॉर्ड किया. ये गाना सेलोना कंपनी के लिए था. इसके बाद 1939 में भूपेन ने अग्रवाल की फिल्म ‘इंद्रमालती’ में दो गाने गाए. इसके साथ भूपेन चाइल्ड प्रोडिजी बन गए.

लेकिन इस सब के साथ ही भूपेन ने पढ़ाई में भी उतना ही दिल लगाया. खूब पढ़े. गुवाहाटी से इंटर किया और फिर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से बीए और एम ए किया. और ये दोनों डिग्रियां संगीत में नहीं थीं, राजनीति शास्त्र में थीं. माने पॉलिटिकल साइंस. वही पॉलिटिकल साइंस जो पुल उनके नाम करने वाले प्रधानमंत्री मोदी ने भी पढ़ा था. एम.ए. पूरा करके वो ऑल इंडिया रेडियो गुवाहाटी में मुलाज़िम हो गए. 1949 में उन्हें अमरीका की कोलंबिया यूनिवर्सिटी से फेलोशिप मिल गई, मास कम्यूनिकेशन में पीएचडी करने के लिए. उनके जाने के अगले ही साल के 15 अगस्त को एक भूकंप आया सदिया में, जिसने लोहित का बहाव मोड़कर शहर की तरफ कर दिया. हफ्तों में पुराने शहर का काफी बड़ा हिस्सा लोहित में समा गया था उस साल.

पॉल रॉबसन (फोटोःविकीमीडिया कॉमन्स)
पॉल रॉबसन (फोटोःविकीमीडिया कॉमन्स)

न्यूयॉर्क में भूपेन पॉल रॉबसन से मिले. पॉल रॉबसन एक मशहूर बेस सिंगर थे और अमेरिका के सिविल राइट्स से जुड़े हुए थे. भूपेन ने पॉल को अपना गुरू माना. भूपेन ने ‘बिस्तिर्नो पारोरे’ को रॉबसन के लिखे ओल्ड मैन रिवर की थीम पर ही लिखा था. ‘ओ गंगा बहती है क्यों’ बिस्तिर्नो पारोरे पर ही आधारित है. भूपेन जब 1953 में वापिस लौटे तो उनके साथ उनकी बीवी प्रियंवदा पटेल और बेटा तेज हज़ारिका भी थे. प्रियंवदा से भूपेन कोलंबिया में मिले थे. वापस आकर भूपेन लेफ्टिस्ट थिएटर इप्टा से जुड़ गए.

1956 से भूपेन ने असमिया फिल्में भी बनानी शुरू की. लेकिन पहला प्यार संगीत ही रहा. इनमें गाने लिखने से लेकर कंपोज़ करने और गाने तक सारा काम भूपेन ही करते थे. इससे पूर्वोत्तर में फिल्म उद्योग को बढ़ावा भी मिला और भूपेन की चर्चा सब तरफ होने लगी. लेकिन पूरे देश में भूपेन को तब से जाना गया, जब उन्होंने हिंदी फिल्मों में काम करना शुरू किया.

ये तब हुआ जब 70 के दशक के शुरुआती सालों में भूपेन हज़ारिका का परिचय कल्पना लाजमी से हुआ. कल्पना की फिल्म ‘एक पल’ का बैकग्राउंड स्कोर भूपेन ने दिया था, जिसे खूब पसंद किया गया था. इस पहली पहचान के बाद भूपेन ने जब तक काम किया, कल्पना ने उन्हें असिस्ट किया. फिर भूपेन ने हिंदी फिल्मों को अपना ज़्यादातर वक्त देना शुरू किया, तो हिंदी फिल्मों में उनके असमिया गानों का अनुवाद करके शामिल किया जाने लगा. भूपेन के लिखे गाने खासतौर पर इसलिए पसंद किए जाते थे क्योंकि उनमें लोकगीतों वाली भीगी मिट्टी की सुगंध होती थी. अपनी जड़ों से जुड़ा हुआ संगीत जो संगीतप्रेमी तक पहुंचे तो उसके ज़हन में छप जाए.

71h39Yt-cNL._SY445_

भूपेन के हिंदी में किए काम में सबसे ज़्यादा याद किया जाता है 1993 में आई रुदाली के संगीत को. लोगों के यहां मातम में दहाड़े मारकर रोने वाली रुदाली, एक शाम को चुपचाप अपने पति की चिता के आगे बैठकर अपने कड़े उतार रही है. बैकग्राउंड से भूपेन की आवाज़ आती है, ‘दिल हूम हूम करे, घबराए..’ ये सीन जिसने देखा उसके दिमाग में दर्ज हो गया. वो कभी इस गाने को नहीं भूला. इस गाने को लता मंगेशकर की आवाज़ में भी खूब पसंद किया गया.

‘रुदाली’ के अलावा जिन चर्चित फिल्मों में भूपने ने संगीत दिया उनमें एमएफ हुसैन की ‘गजगामिनी’ भी थी. 2011 में आई ‘गांधी टू हिटलर’ बतैर कंपोज़र उनकी आखिरी फिल्म थी.

फिल्मों में गाने के अलावा भूपेन को असमिया साहित्य में योगदान के लिए भी याद किया जाता है. उन्होंने असमिया में 15 किताबें लिखीं जिनमें लघु कथाएं, निबंध, बाल कथाएं सब हैं. इसके अलावा उन्होंने 2 दशक तक ‘अमर प्रतिनिधी’ और ‘प्रतिध्वनी’ नाम से मासिक अखबार भी निकाले. फिल्में बनाने, गाने लिखने, कंपोज़ करने के अलावा भी उन्होंने फिल्म उद्योग को काफी कुछ दिया. उन्होंने ही गुआहाटी में पहला सरकारी स्टूडियो खुलवाया था. भूपेन सेंसर बोर्ड के ईस्टर्न रीजन की अपीलेट अथॉरिटी में भी रहे. एनएफडीसी ने जब ईस्टर्न रीजन के स्क्रिप्ट कमिटी बनाई तो उसमें भी भूपेन को शामिल किया गया.

कला के अलावा भूपेन ने राजनीति में भी अपना हाथ आज़माया. 1967 से 1972 के बीच वो असम विधानसभा में एक निर्दलीय विधायक रहे. इसके बहुत बाद 2004 के आम चुनावों में भूपेन भाजपा की तरफ सांसदी का चुनाव लड़ा था. लेकिन कांग्रेस कैंडिडेट से हार गए.

भूपेन का पार्थिव शरीर
भूपेन का पार्थिव शरीर

संगीत, साहित्य और कला की दुनिया को इतना कुछ देने वाले भूपेन हज़ारिका ने अपनी आखिरी सांस 5 नवंबर, 2011 को मुंबई में ली.

https://www.thelallantop.com/bherant/bhupen-hazarika-the-music-legend-after-whom-pm-modi-named-indias-longest-bridge/

अगला लेख: अगर आप छोटी suv के शौक़ीन हैं तो ये आपके लिए है????



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 अक्तूबर 2018
बॉलीवुड के जितने भी स्टारकिड हैं वो मीडिया की चकाचौंध से परेशान हैं सभी के माता पिता उन्हें उस लाइमलाइट से अभी दूर रखना चाहते हैं क्योंकि वो अभी बहुत छोटे हैं और उन्हें नहीं पता की उनके माता पिता क्या करते हैं और इतना शोरशराबा उनके इर्दगिर्द क्यों रहता है ज्यादातर सभी की इच्छा यही है की उनके बच्चे ब
28 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
राजनैतिक परिद्रश्य में खासकर तब जब कांग्रेस का शासन नहीं है केंद्र में ऐसे में उसके नेता विवादित बोल बोलते रहते हैं जब तब प्रधानमंत्री को लेकर अभद्र और अमर्यादित टिप्पणी भी करते रहते हैं और अभी तक ये एक सामान्य या कहना चाहिए दैनिक चर्या बन चुकी है इसमें कुछ खास लोग ही हैं जो ऐसा करते रहे हैं दिग्विज
28 अक्तूबर 2018
31 अक्तूबर 2018
ईज ऑफ डूइंग बिजनस रैकिंग में भारत ने लगातार दूसरे साल लंबी छलांग लगाई है। विश्व बैंक की ओर से जारी सूची में भारत ने 23 पायदान के सुधार के साथ 77वां स्थान हासिल किया है। भारत पिछले साल 100वें स्थान पर रहा था। पिछले दो सालों में भारत की रैकिंग में कुल 53 पायदान का सुधार आया है। माना जा रहा है कि इससे
31 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
फिल्म इंडस्ट्री के बादशाह शाहरुख़ खान कुछ समय से फ़िल्मी सफलता के लिए परेशान हैं और इस कमी को बहुत जल्द दूर करने वाली है उनकी आने वाली फिल्म जीरो सफलता के शीर्ष से जब आप फिसलते हैं तो लोगों की अपेक्षायें कुछ ज्यादा हो जाती हैं आपसे और वही हो रहा है बादशाह के साथ अब उन्होंने अपनी फिल्मों के चयन में थोड़
28 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
राजनैतिक परिद्रश्य में खासकर तब जब कांग्रेस का शासन नहीं है केंद्र में ऐसे में उसके नेता विवादित बोल बोलते रहते हैं जब तब प्रधानमंत्री को लेकर अभद्र और अमर्यादित टिप्पणी भी करते रहते हैं और अभी तक ये एक सामान्य या कहना चाहिए दैनिक चर्या बन चुकी है इसमें कुछ खास लोग ही हैं जो ऐसा करते रहे हैं दिग्विज
28 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
प्
देश के प्रधानमंत्री श्री मोदी जी आज 49 वीं बार आज मन की बात में रेडियो प्रसारण से देश को संबोधित करेंगे और इस कार्यक्रम का प्रसारण आकाशवाणी और देश के एनी रेडियो चैनलों से से किया जाएगा. पिछली बार अपने संबोधन में वायु सेना के शौर्य को याद किया था इस प्रोग्राम की खास बात ये है की इसमें वो देश के आमजनो
28 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
कर्णाटक में पहले भी सनी लियॉन का विरोध होता रहा है पर इस बार वजह ज्यादा खास है और ये बजह बानी है उनकी एक आने वलै फिल्म जिसका विरोध ठीक करणी सेना के पद्मावत के विरोध की तरह करने की चेतावनी भी दी जा चुकी है कर्णाटक में कुछ हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने अपने हाथ ही काट लिए हैं और धमकाया भी है अगर य
28 अक्तूबर 2018
29 अक्तूबर 2018
पाकिस्तान की ओर से एलओसी पर बार-बार सीजफायर उल्लंघन किए जाने के बाद भारतीय सेना ने एक बार फिर आक्रामक तरीके से अपनी जवाबी कार्रवाई की है। 23 अक्टूबर को पुंछ जिले से सटी एलओसी पर पाकिस्तान द्वारा गोलाबारी किए जाने के बाद, सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक के अंदाज में ही नियंत्रण रेखा से सटे पाकिस्तानी सेना क
29 अक्तूबर 2018
30 अक्तूबर 2018
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरदार सरोवर बांध पर बनी भारत के 'लौह पुरुष' सरदार वल्लभ भाई पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा का उद्घाटन करेंगे तो भारत एक नया वर्ल्ड रिकॉर्ड बना लेगा। यह दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा बन जाएगी। बनावट की खूबियों के कारण यह स्टेच्यू इंजीनियरिंग की एक मिसाल बन गई है।गुजरात के अहमदा
30 अक्तूबर 2018
31 अक्तूबर 2018
लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल स्वतंत्र भारत के पहले गृह मंत्री और उप-प्रधानमंत्री थे. आज़ादी से पहले और आज़ादी के बाद देश के लिए अहम योगदान देने वाले लौहपुरुष पटेल की 143वीं जयंती के मौक़े पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को उनकी 182 मीटर ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया. ज
31 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
राजनैतिक परिद्रश्य में खासकर तब जब कांग्रेस का शासन नहीं है केंद्र में ऐसे में उसके नेता विवादित बोल बोलते रहते हैं जब तब प्रधानमंत्री को लेकर अभद्र और अमर्यादित टिप्पणी भी करते रहते हैं और अभी तक ये एक सामान्य या कहना चाहिए दैनिक चर्या बन चुकी है इसमें कुछ खास लोग ही हैं जो ऐसा करते रहे हैं दिग्विज
28 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
आपने आजतक सिर्फ गधों को ढेंचू ढेंचू करते तो सुना और देखा होगा लेकिन आज से पहले कभी गाना गाते हुए नहीं सुना और देखा होगा आज आपको इस विडियो में ये भी मिलेगा और ये विडियो मिला है फेसबुक पर जो मार्टिन स्टेनटन ने पोस्ट किया वो आयरलैंड के रहने वाले हैं उन्होंने इस गधी का ना
28 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x