लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त

06 नवम्बर 2018   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (65 बार पढ़ा जा चुका है)

लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त

लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त

जैसा कि सभी जानते हैं कि दीपावली बुराई, असत्य, अज्ञान, निराशा, निरुत्साह, क्रोध, घृणा तथा अन्य भी अनेक प्रकार के दुर्भावों रूपी अन्धकार पर सत्कर्म, सत्य, ज्ञान, आशा तथा अन्य अनेकों सद्भावों रूपी प्रकाश की विजय का पर्व है और इस दीपमालिका के प्रमुख दीप हैं सत्कर्म, सत्य, ज्ञान, आशा, उत्साह, प्रेम, स्नेह आदि सद्भाव | अस्तु, सर्वप्रथम सभी को दीपावली के प्रकाश पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ…

इस दिन लक्ष्मी पूजा का विधान है | लक्ष्मी पूजा एक विशेष मुहूर्त में की जाती है और इसके विषय में कई मतान्तर हैं | कुछ लोगों का मानना है कि प्रदोष काल में लक्ष्मी पूजन किया जाना चाहिए | प्रदोष काल सूर्यास्त से कुछ समय पूर्व आरम्भ होता है और लगभग दो घन्टे चौबीस मिनट तक रहता है | कुछ तान्त्रिक विधि से लक्ष्मी पूजन करने वाले लोग तथा कर्मकाण्ड में अत्यन्त दक्ष लोगों की मान्यता है कि महानिशीथ काल में लक्ष्मी पूजा की जानी चाहिए | लेकिन जन साधारण के लिए प्रदोषकाल में लक्ष्मी पूजन का उपयुक्त समय है | इसमें भी स्थिर लग्न का ध्यान रखने की सलाह गुणीजन देते हैं |

आज रात्रि 10:27 से अमावस्या तिथि आ जाएगी, किन्तु उदया तिथि कल यानी 7 नवम्बर को ही होगी | इस दिन रात्रि 09:32 तक अमावस्या है और उसके बाद कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा लग जाएगी | इसलिए उससे पूर्व ही लक्ष्मी पूजन किया जाएगा | सामान्यतः प्रदोष काल और वृषभ लग्न लक्ष्मी पूजा के लिए सबसे उपयुक्त मुहूर्त होता है | पञ्चांग की गणना के अनुसार सायं 6 बजे से रात्रि 07:54 तक प्रदोष काल में वृषभ लग्न रहेगी अतः यही लग्न सर्व साधारण के लिए लक्ष्मी पूजन के लिए उपयुक्त मुहूर्त है | इस वर्ष सायं सात बजकर छत्तीस मिनट तक चन्द्रमा स्वाति नक्षत्र में है और उसके बाद विशाखा नक्षत्र में चला जाएगा | साथ ही इस वर्ष तुला राशि में सूर्य, चन्द्र और शुक्र का त्रिग्रही योग बन रहा है जो अत्यन्त शुभ माना जाता है | इसके अतिरिक्त आयुष्मान योग और सौभाग्य योग भी बन रहे हैं | ये दोनों योग भी अपने नामों के ही अनुसार फल देने वाले योग हैं | बहुत से व्यापारी लोग निशीथ काल में लक्ष्मी पूजा करना चाहते हैं उनके लिए 20:11 से 22:51 तक निशीथ काल रहेगा | कुछ तान्त्रिक विधि से उपासना करने वाले लोग महानिशीथ काल और सिंह काल में पूजा करते हैं | महानिशीथ काल 23:14 से 24:06 तक रहेगा और सिंह काल (लग्न) 24:30 से 26:46 तक | किन्तु प्रायः जन साधारण के लिए प्रदोष काल और वृषभ लग्न में ही लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त है – यानी सायं 6 बजे से रात्रि 07:54 के मध्य |

दीपावली पर्व प्रकाश का पर्व है | माँ लक्ष्मी की कृपा दृष्टि सभी पर बनी रहे और इस अवसर पर प्रज्वलित दीपमालिका के प्रत्येक दीप की प्रत्येक किरण सभी का जीवन सुख-शान्ति-उल्लास-प्रेम-सौभाग्य-स्नेह और ज्ञान के आलोक से आलोकित करे… इसी कामना के साथ सभी को एक बार पुनः दीपावली की अनेकशः हार्दिक शुभकामनाएँ…

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2018/11/06/muhurta-for-lakshami-poojan/

अगला लेख: हिन्दी पञ्चांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
23 अक्तूबर 2018
शरद पूर्णिमाआश्विन मास की पूर्णिमा, जिसे शरदपूर्णिमा के नाम से जाना जाता है और जिसके साथ ही आरम्भ हो जाती है पन्द्रह दिनोंबाद आने वाले दीपोत्सव की चहल पहल | इसके अतिरिक्त देश के अलग अलग भागों में कोजागरीपूर्णिमा, नवान्न पूर्णिमा, कुमुद्वती तथा कुमार पूर्णिमा के नाम से भी इस पर्व कोजाना जाता है | आज
23 अक्तूबर 2018
30 अक्तूबर 2018
अहोईअष्टमी व्रतकलयानी 31 अक्टूबर को उत्तर भारत में महिलाएँ अहोई अष्टमी के व्रत का पालन करेंगी | अहोईअष्टमी व्रत का पालन मूलतः उत्तर भारत में ही किया जाता है | यह व्रत करवाचौथ केचार दिन बाद यानी कार्तिक कृष्ण अष्टमी को और दीपावली से आठ दिन पूर्व किया जाताहै | प्राय: अहोई अष्टमी उसी वार की होती है जिस
30 अक्तूबर 2018
04 नवम्बर 2018
पाँच पर्वों की श्रृंखला दीपावली प्रकाशपर्व दीपावली समूचे भारतवर्ष में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है | शारदीयनवरात्र आरम्भ होते ही दीपावली की भी तैयारियाँ जोर शोर से आरम्भ हो जाती हैं | इसपर्व को इतना अधिक महत्त्व यों ही नहीं दिया गया है | वास्तव में पाँच पर्वों कीएक श्रृंखला है दीपावली का पर्व
04 नवम्बर 2018
16 नवम्बर 2018
सूर्य का वृश्चिक में गोचरआज कार्तिक शुक्ल नवमी को 18:32 केलगभग भगवान भास्कर विशाखा नक्षत्र पर रहते हुए ही बालव करण और व्याघात योग में तुलाराशि से निकल कर अपने मित्र ग्रह मंगल की वृश्चिक राशि में प्रस्थान करेंगे, जहाँपहले से भ्रमण कर रहे उनके मित्र देवगुरु बृहस्पति उनका स्वागत करेंगे | साथ ही इसपूरी
16 नवम्बर 2018
26 अक्तूबर 2018
करवाचौथ – करक चतुर्थी 2018शनिवार को चन्द्रमा यदि रोहिणी नक्षत्र में हो तोसर्वार्थसिद्धि योग बनता है | इस बार 27 अक्टूबर शनिवार को महिलाएँ अपने सुखसौभाग्य की कामना से करवाचौथ या करक चतुर्थी का व्रत रखेंगी, और सौभाग्य से इस दिनसर्वार्थसिद्ध योग भी बन रहा है | चन्द्रमा दूसरे दिन प्रातः 07:22 तक रोहिणीन
26 अक्तूबर 2018
31 अक्तूबर 2018
हा
A healthy sex life and strong relationshipscontribute to your physical and mental health in many ways, Get online Sexexpert advice on all issues How do we keep sex life alive? For satisfaction insexual intercourse Try Jameel Shafakhana's Ayurvedic medicines. visit www.penistreatment.net
31 अक्तूबर 2018
10 नवम्बर 2018
ज्येष्ठादीपावली के सारे पर्व सम्पन्न हो चुके | अब पुनः लौटते हैंअपनी नक्षत्र-वार्ता पर | ज्योतिष में मुहूर्त गणना, प्रश्न तथाअन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं के लिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग केआवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों की व्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दोंके विषय में हम बात कर र
10 नवम्बर 2018
28 अक्तूबर 2018
29 अक्टूबर से 4 नवम्बर तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर
28 अक्तूबर 2018
25 अक्तूबर 2018
अनुराधा नक्षत्र नक्षत्रों की वार्ता को ही और आगे बढाते हैं | ज्योतिष मेंमुहूर्त गणना, प्रश्न तथा अन्य भी आवश्यक ज्योतिषीय गणनाओं केलिए प्रयुक्त किये जाने वाले पञ्चांग के आवश्यक अंग नक्षत्रों के नामों कीव्युत्पत्ति और उनके अर्थ तथा पर्यायवाची शब्दों के विषय में हम बात कर रहे हैं |इस क्रम में अब तक अश
25 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
हिन्दी पञ्चांगसोमवार, 28 अक्टूबर 2018 – नई दिल्लीविरोधकृत विक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:30 पर तुला में / स्वाति नक्षत्र सूर्यास्त : 17:38 पर चन्द्र राशि : मिथुन चन्द्र नक्षत्र : आर्द्रा 29:05 (मंगलवार को सूर्योदय से पूर्व 05:05) तक, तत्पश्चात पुनर
28 अक्तूबर 2018
24 अक्तूबर 2018
हिन्दीपञ्चांगगुरुवार,25 अक्टूबर 2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:28 पर तुलामें / स्वाति नक्षत्र सूर्यास्त : 17:42 पर चन्द्र राशि : मेष चन्द्र नक्षत्र : अश्विनी 09:26 तक, तत्पश्चात भरणी तिथि
24 अक्तूबर 2018
07 नवम्बर 2018
गृहस्थ सुबह 10.49 बजे से 12.10 तक और शाम 5.36 से 7.15 बजे तक कर सकते हैं पूजाअमृत योग में शाम 7.15 से 8.54 बजे तक की जा सकती है लक्ष्मी पूजाअाज दीपावली है। 14 घंटे में आप चार मुहूर्त में लक्ष्मी पूजन कर सकते हैं। लग्न के हिसाब से पूजा के लिए 6.08 बजे से 8.05 बजे तक का समय
07 नवम्बर 2018
25 अक्तूबर 2018
हिन्दीपञ्चांगशुक्रवार,26 अक्टूबर 2018 – नई दिल्लीविरोधकृतविक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायन सूर्योदय : 06:28 पर तुलामें / स्वाति नक्षत्र सूर्यास्त : 17:41 पर चन्द्र राशि : मेष 14:53 तक, तत्पश्चातवृषभ चन्द्र नक्षत्र : भरणी 09:02 तक, तत्पश्चात कृत्तिका
25 अक्तूबर 2018
26 अक्तूबर 2018
माननीय उच्चतम न्यायालय के आए निर्णय ने एक बार फिर उच्चतम न्यायालय के निर्णयों पर प्रश्नवाचक चिन्ह उठा दिया है। उच्चतम न्यायालय ने अपने इस निर्णय द्वारा विभिन्न धार्मिक आयोजनों के अवसरों पर पटाखे जलाने की समयावधि, गुणवक्ता की डेसीबल व मात्रा तय की है। आखिर उच्चतम न्यायालय को आज कल हो क्या गया है? मू
26 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x