धनवंतरि जयंती :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

06 नवम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (21 बार पढ़ा जा चुका है)

धनवंतरि जयंती :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म वैसे तो समय-समय पर पर्व एवं त्यौहार मनाए जाते रहते हैं , परंतु कार्तिक मास में पांच त्योहार एक साथ उपस्थित होकर के पंच पर्व या पांच दिवसीय महोत्सव मनाने का दिव्य अवसर प्रदान करते हैै | आज कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन से प्रारंभ होकर के शुक्ल पक्ष की द्वितीया का पर्वों का मेला लगता है | इसी क्रम में आज आयुर्वेद के आदि आचार्य भगवान धन्वंतरि की जयंती पूरे देश में हर्षोल्लास के साथ मनाई जा रही है | आज के दिन को धनतेरस के नाम से भी माना जाता है | जब देवताओं और असुरों ने अमृत प्राप्त करने के लिए समुद्र मंथन प्रारंभ किया तो उसमें चौदह दिव्य रत्न प्रकट हुए | इन्हीं चौदह रत्नों के अंतर्गत स्वयं भगवान नारायण अपने अंश के साथ धनवंतरी के रूप में हाथ में अमृत का दिव्य कलश लेकर के प्रकट हुये | आज के ही दिन भगवान धन्वंतरि की प्रकट होने के कारण ही "धन्वंतरि जयंती" मनाई जाती है | धन्वन्तरि देवताओं के चिकित्सक हैं और चिकित्सा के देवता माने जाते हैं इसलिए चिकित्सकों के लिए धनतेरस का दिन बहुत ही महत्वपूर्ण होता है | जो भी धनतेरस की सांध्यबेला यम के नाम पर दक्षिण दिशा में दीपक जलाकर रखते हुए यम के लिए दीपदान करता है उसकी अकाल मृत्यु नहीं होती है | इस मान्यता के अनुसार धनतेरस की शाम लोग आँगन में यम देवता के नाम पर दीप जलाकर रखते हैं और यम देवता के नाम पर व्रत भी रखते हैं |* *आज जहां सब कुछ बदल रहा है वहीं पर्वों का स्वरूप भी बदल गया है | आज के लोग धन्वंतरि जयंती को मात्र आभूषण या बर्तन खरीदने का त्यौहार मात्र मानने लगे हैं | महिलाएं आज के दिन की वर्षों प्रतीक्षा किया करती है और आज के दिन अपने लिए नए आभूषण , गृहस्थी के लिए नए बर्तन एवं पुरुष वर्ग आज के दिन ही अपने लिए नये वाहन खरीदने को इच्छुक रहते हैं | आज के परिवेश में बहुत कम ही लोग धन्वंतरि जयंती या धनतेरस के विषय में जानते हैं और दुखद तो यह है कि वह जानना भी नहीं चाहते हैं | आज के दिन बर्तन क्यों खरीदे जाते हैं इसके विषय में मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" बताना चाहूंगा कि हमारे पौराणिक ग्रंथों में यह वर्णन मिलता है की धनवंतरी जी का प्राकट्य हाथ में कलश लेकर के हुआ है , इसीलिए बर्तन खरीदने की परंपरा बनी | प्राय: लोग आज के दिन चांदी खरीदते हैं | चांदी खरीदने के पीछे रहस्य यह है की चांदी चंद्रमा का प्रतीक है इसे घर लाने से घर में सुख एवं शांति सौम्यता एवं शीतलता विद्यमान रहती है , और मन में संतोष रूपी धन का वास होता है | संतोष को सबसे बड़ा धन कहा गया है | जिसके पास संतोष है वह स्वस्थ है सुखी है और वही सबसे धनवान है | भगवान धन्वन्तरि जो चिकित्सा के देवता भी हैं उनसे स्वास्थ्य और सेहत की कामना के लिए संतोष रूपी धन से बड़ा कोई धन नहीं है | लोग इस दिन ही दीपावली की रात लक्ष्मी गणेश की पूजा हेतु मूर्ति भी खरीदते हैं |* *प्रत्येक मनुष्य को अपना शरीर निरोगी रखने की कामना से भगवान धन्वंतरि का पूजन एवं अकालमृत्यु से बचने के लिए यमराज के लिए दीपदान अवश्य करना चाहिए |*

अगला लेख: अपने ग्रंथों का करें अध्ययन :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
08 नवम्बर 2018
*भारतीय पर्वों की एक प्रधानता रही है कि उसमें प्रकृति का समावेश अवश्य रहता है | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे सनातन धर्म के त्यौहार अपना अमिट प्रभाव डालते हैं | फसल के घर आने की खुशी में जहाँ दीपावली मनाई जाती है ! वहीं दूसरे दिन मनाया जाता है "अन्नकूट" | जैसा कि नाम से ही परिभाषित हो रहा है
08 नवम्बर 2018
25 अक्तूबर 2018
*सनातनकाल से ही कालगणना के आधार पर एक वर्ष को बारह महीनों में विभक्त किया गया है | इन बारह महीनों में सभी अपने स्थान पर श्रेष्ठ हैं परंतु "कार्तिक मास" को सर्वश्रेष्ठ कहा गया है | कार्तिक मास भगवान विष्णु को इतना प्रिय है कि इसका नामकरण ही "दामोदर - मास" हो गया | कार्तिकमास के महत्व को दर्शाते हुए भ
25 अक्तूबर 2018
03 नवम्बर 2018
बिहार में क्यों मनाया जाता है छठ पूजा का पर्व, क्या है इसका इतिहास- भारत के प्रमुख भौगोलिक और सांस्कृतिक त्योहारों (लोक त्योहारों) में से एक है छठ पूजा। इसकी मान्यता वैदिक काल से ही है, इसीलिए यह प्राचीन परंपराओं का धनी पर्व है। अगर आप भी इस त्यौहार के बारे में जानना चाहत
03 नवम्बर 2018
27 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म को अलौकिक इसलिए कहा जाता है क्योंकि इस विशाल एवं महान धर्म में समाज के प्रत्येक प्राणी के लिए विशेष व्रतों एवं त्यौहारों का विधान बनाया गया है | परिवार के सभी अंग - उपांग अर्थात माता - पिता , पति - पत्नी , भाई - बहन आदि सबके लिए ही अलग - अलग व्रत - पर्वों का विधान यदि कहीं मिलता है तो वह
27 अक्तूबर 2018
03 नवम्बर 2018
आप सभी को बता दें कि दिवाली का इंतज़ार सभी को है और सभी दिवाली मनाने के लिए तैयारी में जुटे हुए हैं. ऐसे में इन दिनों कई लोगों के मन में यह सवाल आ रहा है कि ‘क्या हर दीपावली नई लक्ष्मी-गणेश मूर्तियां खरीदना चाहिए..?’ ऐसे में अगर आपके पास भी इसका जवाब नहीं है तो आइए हम बतात
03 नवम्बर 2018
30 अक्तूबर 2018
*सनातन हिन्दू धर्म में पूजा - पाठ का विशेष महत्व है | पूजा कोई साधारण कृत्य नहीं है | यदि आध्यात्मिकता की दृष्टि से देखा जाय तो पूजा करने का अर्थ है स्वयं को परिमार्जित करना | पूजा में सहयोग करने वाली सामग्रियों पर यदि ध्यान दिया जाय तो उनकी अलौकिकता परिलक्षित हो जाती है | किसी भी पूजन में आसन का वि
30 अक्तूबर 2018
24 अक्तूबर 2018
सूरदास के दोहे और उसका हिंदी अर्थ | Surdas ke dohe Hindi meinकृष्ण भक्ति के कवियों में सर्वोपरि सूरदास के दोहे में भगवान श्री कृष्ण की महिमाओं का सुन्दर वर्णन देखने को मिलता है. Surdas ke dohe कृष्ण के प्रति उनकी अनन्य आस्था को दिखाते है. सूरदास की प्रमुख रचनाएं ब्रज
24 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
*इस सकल सृष्टि में चौरासी लाख योनियों का विवरण मिलता है | जिसमें सर्वश्रेष्ठ मानव योनि कही गई है | परमपिता परमात्मा ने मनुष्य शरीर देकरके हमारे ऊपर जो उपकार किया है इसकी तुलना नहीं की जा सकती है | मानव जीवन पाकर के यदि मनुष्य के अंदर आत्मविश्वास न हो तो यह जीवन व्यर्थ ही समझना चाहिए | क्योंकि मानव
28 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
*सनातन काल से ही संस्कृति का विस्तार करने के उद्देश्य से हमारे ऋषियों / महर्षियों / विद्वानों एवं राजा - महाराजाओं तक ने विशेष योगदान दिया | सनातन संस्कृति का विस्तार कैसे हो ?? इसकी मान्यतायें एवं विचार जन जन तक कैसे पहुँचें ?? इस पर गहनता से विचार करके हमारे महापुरुषों ने समाज में घूम घूमकर सतसंग
23 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
*हमारे भारत देश में अनेकों महापुरुष हुए हैं जिन्होंने अपने महान गुणों से एक नवीन आदर्श किया है | धर्म को मानने वाले या धारण करने वाले मनुष्यों का सबसे बड़ा गुण होता है क्षम
23 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*सृष्टि के प्रारम्भ में मनुष्यों की उत्पत्ति हुई मानव मात्र एक समान रहा करते थे , इनका एक ही वर्ण था जिसे "हंस" कहा जाता था | समय के साथ विराटपुरुष के शरीर से चार वर्णों की उत्पत्ति की वर्णन यजुर्वेद में प्राप्त होता है :-- "ब्राह्मणोमुखमासीद् बाहू राजन्या कृता: ! ऊरूतदस्यद्वैश्य: पद्भ्या गुंग शूद्र
27 अक्तूबर 2018
23 अक्तूबर 2018
*सनातन हिंदू धर्म अपनी ज्येष्ठता एवं श्रेष्ठता के लिए संसार में सर्वत्र मान्य हुआ है | विश्व के अनेकानेक विद्वानों विचारकों एवं दार्शनिकों ने सनातन धर्म के इस तथ्य को स्वीकार किया है | यह धर्म मात्र कुछ सिद्धांतों , संस्कारों एवं विश्वासों की धर्म व्यवस्था मात्र नहीं बल्कि वैज्ञानिक तथ्यों पर व्यवस्
23 अक्तूबर 2018
27 अक्तूबर 2018
*इस संसार में जीवधारियों को तीन प्रकार से कष्ट होते हैं जिन्हें त्रिविध ताप कहा जाता है | ये हैं - आध्यात्मिक, आधिभौतिक तथा आधिदैविक | सामान्यतः इन्हें दैहिक, भौतिक तथा दैविक ताप के नाम से भी जाना जाता है | इस शरीर को स्वतः अपने ही कारणों से जो कष्ट होता है उसे दैहिक ताप कहा जाता है | इसे आध्यात्मिक
27 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x