दिवाली पर जब श्रीराम अयोध्या लौटे तो कुछ ऐसे हुआ स्वागत

07 नवम्बर 2018   |  समीर मिश्र   (35 बार पढ़ा जा चुका है)

दिवाली पर जब श्रीराम अयोध्या लौटे तो कुछ ऐसे हुआ स्वागत

श्री

अयोध्या कब लौटे? इस पर इतिहासकारों में मतभेद हैं, लेकिन परंपरा से दीपावली पर उनका आगमन हुआ था। दीपावली का पर्व श्रीराम के पहले से ही मनाया जाता रहा है। जब प्रभु श्रीराम अयोध्या लौटे तो सभी शहरवासी उनके आगमन के लिए उमड़ पड़े।

कहते हैं कि कार्तिक अमावस्या को भगवान श्रीराम अपना चौदह वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या लौटे थे। अयोध्या वासियों ने श्रीराम
के लौटने की खुशी में दीप जलाकर खुशियां मनायी थीं। संपूर्ण शहर का रंग-रोगन कर उसको दीपकों से सजाया गया था। सभी पुरुष, बच्चे और महिलाएं नए वस्त्रों में सजे-धजे थे। मिठाइयां बाटी जा रही थीं और उत्सव मनाया गया। उस दौर में पटाखे नहीं होते थे तो पटाखे नहीं छोड़े गए।

चौपाई :

सुमन बृष्टि नभ संकुल भवन चले सुखकंद।

चढ़ी अटारिन्ह देखहिं नगर नारि नर बृंद ॥8 ख॥

भावार्थ:- आनन्दकन्द श्री रामजी अपने महल को चले, आकाश फूलों की वृष्टि से छा गया। नगर के स्त्री-पुरुषों के समूह अटारियों पर चढ़कर उनके दर्शन कर रहे हैं ॥8 (ख)॥

कंचन कलस बिचित्र संवारे।सबहिं धरे सजि निज निजद्वारे॥

बंदनवार पताका केतू। सबन्हि बनाए मंगल हेतू॥1॥

भावार्थ:- सोने के कलशों को विचित्र रीति से ( स्वण माणिक्य से)अलंकृत कर और सजाकर सब लोगों ने अपने-अपने दरवाजों पर रख लिया।सब लोगों नेमंगल के लिए बंदनवार, ध्वजा और पताकाएं लगाईं॥1॥

बीथीं सकल सुगंध सिंचाई।गजमनि रचि बहु चौक पुराईं।

नाना भांतिसुमंगल साजे।हरषि नगर निसान बहु बाजे॥2॥

भावार्थ:- सारी गलियां सुगंधित द्रवों से सिंचाई गईं।गजमुक्ताओं से रचकर बहुत सी चौकें पुराई गईं।अनेकों प्रकार के सुंदर मंगल साज सजाए गए और हर्षपूर्वक नगर में बहुत से डंके बजने लगे॥2॥

जहं तहंनारि निछावरि करहीं।देहिं असीस हरष उर भरहीं॥

कंचन थार आरतीं नाना।जुबतीं सजें करहिं सुभ गाना॥3॥ `

भावार्थ:- स्त्रियां जहां-तहां निछावर कर रही हैं और हृदय में हर्षित होकर आशीर्वाद देती हैं।बहुत सी युवती (सौभाग्यवती) स्त्रियां सोने के थालों में अनेकों प्रकार की आरती सजाकर मंगलगान कर रही हैं॥3॥

करहिं आरती आरतिहर कें।रघुकुल कमल बिपिन दिनकर कें॥

पुर सोभा संपति कल्याना। निगम सेष सारदा बखाना॥4॥

भावार्थ:- वे आर्तिहर (दुःखों को हरने वाले) और सूर्यकुल रूपी कमलवन को प्रफुल्लित करने वाले सूर्य श्री रामजी की आरती कर रही हैं।नगर की शोभा, संपत्ति और कल्याण का वेद, शेषजी और सरस्वती जी वर्णन करते हैं-॥4॥

तेउ यह चरित देखिठगि रहहीं।उमा तासु गुन नर किमि कहहीं ॥5॥

भावार्थ:- परंतु वे भी यह चरित्र देखकर ठगे से रह जाते हैं (स्तम्भित हो रहते हैं)। (शिवजी कहते हैं-) हे उमा! तब भला मनुष्य उनके गुणों को कैसे कह सकते हैं॥5॥

दोहा :

नारि कुमुदिनीं अवध सर रघुपति बिरह दिनेस।

अस्त भएंबिगसत भईं निरखि राम राकेस ॥9 क॥

भावार्थ:- स्त्रियां कुमुदनी हैं, अयोध्या सरोवर है और श्री रघुनाथजी का विरह सूर्य है (इस विरह सूर्य के ताप से वे मुरझा गई थीं)। अब उस विरह रूपी सूर्य के अस्त होने पर

रूपी पूर्णचन्द्र को निरखकर वे खिल उठीं ॥9 (क)॥


होहिं सगुन सुभबिबिधि बिधि बाजहिं गगन निसान।

पुर नर नारि सनाथ करि भवन चले भगवान। 9 ख॥

भावार्थ:- अनेक प्रकार के शुभ शकुन हो रहे हैं, आकाश में नगाड़े बज रहे हैं। नगर के पुरुषों और स्त्रियों को सनाथ (दर्शन द्वारा कृतार्थ) करके भगवान् श्र रामचंद्रजी महल को चले ॥9 (ख)


http://hindi.webdunia.com/dipawali-special/shri-ram-in-ayodhya-118110600051_1.html

अगला लेख: अगर आप छोटी suv के शौक़ीन हैं तो ये आपके लिए है????



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 अक्तूबर 2018
रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर और अपने समय में गेंद की तेज़ी से अच्छे से अच्छे बल्लेबाजों के छक्के छुडा देने वाले बेहतरीन तेज़ गेंदबाज शोएब अख्तर ने भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली के करिश्माई प्रदर्शन लगातार 3 एक दिवसीय शतक लगाने के बाद उन्हें एक नया लक्ष्य दिया है और इसीलिए इसे एक विराट लक्ष्
28 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
कर्णाटक में पहले भी सनी लियॉन का विरोध होता रहा है पर इस बार वजह ज्यादा खास है और ये बजह बानी है उनकी एक आने वलै फिल्म जिसका विरोध ठीक करणी सेना के पद्मावत के विरोध की तरह करने की चेतावनी भी दी जा चुकी है कर्णाटक में कुछ हिन्दू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने अपने हाथ ही काट लिए हैं और धमकाया भी है अगर य
28 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
बॉलीवुड फिल्म इंडस्ट्री के दबंग स्टार सलमान खान और और अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी दोबारा बहुत समय बाद एक साथ इस फिल्म के सीक्वल में नज़र आने वाले हैं एक साथ?यंहा दोनों की एक साथ आई बहुत पुरानी फिल्म औज़ार के बारे में बात हो रही है सोहेल खान के निर्देशन में बनी फिल्म औज़ार में दोनों ने मुख्य भूमिका निभाई थी
28 अक्तूबर 2018
06 नवम्बर 2018
अयोध्यादेशभर में राम मंदिर के मुद्दे पर छिड़ी बहस के बीच उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान बड़ा ऐलान किया। सीएम योगी ने फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या किए जाने की घोषणा की है। छोटी दिवाली पर भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम के दौरान
06 नवम्बर 2018
07 नवम्बर 2018
उत्तर प्रदेश में आज अयोध्या की छोटी दिवाली बहुत कुछ खास लेकर अयोध्यावासियों के लिए आई है जहां एक तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अयोध्या को अयोध्या में खासा दर्जा देने का काम किया तो वहीं विश्व भर में आज अयोध्या ने एक नया रिकॉर्ड काम कर दिया है। रिकॉर्ड कायम करने में उ
07 नवम्बर 2018
29 अक्तूबर 2018
राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद में सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले के बाद मचे सियासी बवाल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी कूद पड़ा है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस मामले की सुनवाई 3 महीने के लिए टाल दी है। पीठ के इस फैसले के बाद संघ का भी बयान आया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का कहना है
29 अक्तूबर 2018
03 नवम्बर 2018
धर्म आज के समय सबसे सवेंदनशील मुद्दा है।धर्म के लिए लोग किसी हद तक जाने को तैयार रहते हैं।आज हम आपको ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने हाल ही में धर्म परिवर्तन किया है वो भी पुरे परिवार के साथ और भगवान श्री राम को लेकर एक बड़ी बात भी कही है।उसकी बातों में कितनी सचाई ये तो वो स्वयं ही बता स
03 नवम्बर 2018
28 अक्तूबर 2018
फिल्म इंडस्ट्री के बादशाह शाहरुख़ खान कुछ समय से फ़िल्मी सफलता के लिए परेशान हैं और इस कमी को बहुत जल्द दूर करने वाली है उनकी आने वाली फिल्म जीरो सफलता के शीर्ष से जब आप फिसलते हैं तो लोगों की अपेक्षायें कुछ ज्यादा हो जाती हैं आपसे और वही हो रहा है बादशाह के साथ अब उन्होंने अपनी फिल्मों के चयन में थोड़
28 अक्तूबर 2018
29 अक्तूबर 2018
राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद में सुप्रीम कोर्ट के ताजा फैसले के बाद मचे सियासी बवाल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी कूद पड़ा है। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस मामले की सुनवाई 3 महीने के लिए टाल दी है। पीठ के इस फैसले के बाद संघ का भी बयान आया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का कहना है
29 अक्तूबर 2018
28 अक्तूबर 2018
राजनैतिक परिद्रश्य में खासकर तब जब कांग्रेस का शासन नहीं है केंद्र में ऐसे में उसके नेता विवादित बोल बोलते रहते हैं जब तब प्रधानमंत्री को लेकर अभद्र और अमर्यादित टिप्पणी भी करते रहते हैं और अभी तक ये एक सामान्य या कहना चाहिए दैनिक चर्या बन चुकी है इसमें कुछ खास लोग ही हैं जो ऐसा करते रहे हैं दिग्विज
28 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x