आस का नन्हा दीप

08 नवम्बर 2018   |  sweta sinha   (33 बार पढ़ा जा चुका है)

आस का नन्हा दीप  - शब्द (shabd.in)

दीपों के जगमग त्योहार में नेह लड़ियों के पावन हार में जीवन उजियारा भर जाऊँ मैं आस का नन्हा दीप बनूँ अक्षुण्ण ज्योति बनी रहे मुस्कान अधर पर सजी रहे किसी आँख का आँसू हर पाऊँ मैं आस का नन्हा दीप बनूँ खेतों की माटी उर्वर हो फल-फूलों से नत तरुवर हो समृद्ध धरा को कर पाऊँ मैं आस का नन्हा दीप बनूँ न झोपड़ी महल में फर्क़ करूँ कण-कण सूरज का अर्क मलूँ तम घिरे तो छन से बिखर पाऊँ मैं आस का नन्हा दीप बनूँ फौजी माँ बेटा खोकर रोती है बेबा दिन-दिनभर कंटक बोती है उस देहरी पर खुशियाँ धर पाऊँ मैं आस का नन्हा दीप बनूँ जग माटी का देह माटी है साँसें जलती-बुझती बाती है अबकी यह तन ना नर पाऊँ मैं आस का नन्हा दीप बनूँ

©श्वेता सिन्हा

अगला लेख: माँ हूँ मैं



रेणु
11 नवम्बर 2018

प्रिय श्वेता - नन्हे दीपक का ये अनमोल आत्म कथ्य संसार की सांस्कृतिक विरासत है | सुंदर रचना के लिए हार्दिक बधाई |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x