कितना मुश्किल है पर भूल जाना...

08 नवम्बर 2018   |  Shashi Gupta   (65 बार पढ़ा जा चुका है)

कितना मुश्किल है पर भूल जाना...

कितना मुश्किल है पर भूल जाना...


(दीपावली और माँ की स्मृति)


*******************************

हमें तो उस दीपक की तरह टिमटिमाते रहना है ,जो बुझने से पहले घंटों अंधकार से संघर्ष करता है, वह भी औरों के लिये, क्यों कि स्वयं उसके लिये तो नियति ने " अंधकार " तय कर रखा है..

******************************

बिछड़ गया हर साथी देकर पल दो पल का साथ

किसको फ़ुरसत है जो थामे दीवानों का हाथ

हमको अपना साया तक अक़सर बेज़ार मिला

जाने वो कैसे लोग थे जिनके प्यार को प्यार मिला

हमने तो जब कलियाँ माँगी काँटों का हार मिला....


रोशनी के पर्व दीपावली की यह काली रात आज मुझे इस तन्हाई में और स्याह क्यों प्रतीत हो रही है... बाहर तो चहुँओर उजाला है,पटाखों की आवाज भी कम नहीं सुनाई पड़ रही है और सड़कों पर भी तो भारी चहलपहल है, फिर दिल में यह अंधकार क्यों.. ?

ऐसे प्रमुख पर्व-त्योहार पर जब भी ऐसी मनोस्थिति होती है मेरी, तो अपने पसंदीदा अभिनेता गुरुदत्त की

फिल्म " प्यासा" को और करीब से समझने की कोशिश करता हूँ । यूँ समझे कि मन को जरा तसल्ली देने का प्रयास करता हूँ कि


इसको ही जीना कहते हैं तो यूँ ही जी लेंगे

उफ़ न करेंगे लब सी लेंगे आँसू पी लेंगे

ग़म से अब घबराना कैसा, ग़म सौ बार मिला

हमने तो जब ...


वैसे दिन भर तो व्यस्त ही रहा। स्नेहीजनों के यहाँ गया भी और सदैव की तरह ही मिठाई आदि दीपावली के उपहार भी कम नहीं मिले मुझे , जिन्हें पता था कि मिठाई से मैं कुछ परहेज करने लगा हूँ, तो उन्होंने ड्राई फ्रूट भेज दिया। जिन्हें लगा मुझे लिफाफा पंसद नहीं ,उन्होंने कुछ दूसरा उपहार दिया । वहीं कुछ माननीय और स्नेही जन ऐसे भी थें, जिन्होंने साफ तौर पर कह दिया कि मुझे उनका लिफाफा स्वीकार करना ही होगा, क्यों कि यह कोई रिश्वत नहीं है। उनका कहना रहा कि आप समाज के लिये निःस्वार्थ भाव से लेखन करते हैं। अतः उनकी भी जिम्मेदारी है कि वे मेरी अर्थ व्यवस्था को बनाये रखें,ताकि मूलभूत आवश्यकताएँ मेरी पूरी होती रहे। इन लिफाफों में पाँच सौ से लेकर पाँच- पाँच हजार रुपये भी थें।

उस इंसान के लिये जिसने पत्रकारिता जगत में आकर अपनी तमाम निजी खुशियाँ खो दी, उसके लिये यह मान-सम्मान और स्नेह कम नहीं है। इस जीवन रुपी सागर के मंथन से निकले विष एवं अमृत दोनों को ही समभाव से हमें ग्रहण करना ही पड़ेगा ।

मध्यरात्रि तक होटल के इर्द-गिर्द पटाखे बज रहे थें। परंतु पटाखों को हाथ लगाये मुझे तीन दशक से ऊपर हो गये हैं। अब सोचता हूँ कि चलो अच्छा ही है , मुझे पटाखा नहीं बनना है , जो भभक कर, विस्फोट कर अपना अस्तित्व पल भर में समाप्त कर दे, साथ ही वातावरण को प्रदूषित भी करे ..। मुझे तो उस दीपक की तरह टिमटिमाते रहना है ,जो बुझने से पहले घंटों अंधकार से संघर्ष करता है, वह भी औरों के लिये, क्यों कि स्वयं उसके लिये तो नियति ने " अंधकार " तय कर रखा है..।

आपने भी सुना होगा न यह मुहावरा कि चिराग तले अंधेरा..।

सो, दीपावली की रात इसी चिंतन में गुजर गयी, यूँ ही मन को बार- बार बहलाते हुये।

हाँ, रैदानी भैया द्वारा भेजा गया कोलकाता के तिवारी ब्रदर्स की काजू की बर्फी के डिब्बे ने ननिहाल में गुजरे अपने बचपन की मधुर स्मृतियों को मानस पटल पर चलचित्र की तरह ही चलायमान कर दिया है। दरअसल, बड़ा बाजार स्थित छोटे नाना जी की मिठाई की दुकान गुप्ता ब्रदर्स का सोन पापड़ी ,तिवारी ब्रदर्स का समोसा( सिंघाड़ा) और देशबंधु की बंगाली मीठी दही संग में मैदे की लूची- चने की दाल प्रसिद्ध रही है ,जो मुझे प्रिय थी तब...। वैसे, काजू बर्फी , मलाई गिलौरी और रस माधुरी ये तीनों ही मेरे सबसे प्रिय मिष्ठान थें। माँ ,को यह पता था, सो उनके पिटारे में इनमें से दो प्रकार की मिठाइयाँ निश्चित ही रहती थीं। परंतु यह तभी मुझे मिलता था, जब हार्लिक्स डाला गया एक गिलास दूध पी लूँ । माँ का यह आदेश मुझे पूर करना ही होता था। इसमें मेरी कोई आनाकानी उन्होंने नामंजूर थी। खैर, माँ गयी, बचपन गया और उनका वह स्नेह भी अतीत की यादें बन दफन हो गया। वह आखिरी दीपावली जो माँ के साथ गुजारी थी। हम दोनों कितने खुश थें। तब क्या पता था मुझे कि चंद दिनों में ही मैं यतीम हो जाऊँगा, वह भी इस तरह की फिर कभी किसी के आंचल की छांव नसीब नहीं होगी और बंजारा कहलाऊँगा । वो है न एक गीत..

एक हसरत थी कि आँचल का मुझे प्यार मिले

मैने मंज़िल को तलाशा मुझे बाज़ार मिले

ज़िन्दगी और बता तेरा इरादा क्या है...


नियति की यह कैसी विडंबना रही कि सदैव अस्वस्थ रहने वाली माँ ने दीपावली की उस शाम स्टूल के सहारे बारजे पर बैठ मुझे पटाखे फोड़ते न सिर्फ खूब देखा था, वरन् स्वयं भी उन्हों रोशनी एवं फूलझड़ी जलाई थी। उसी दीपावली छोटे नाना जी ने उपहार में मुझे मंहगी एचएमटी की कलाई घड़ी दी थी। मैंने उनकी दुकान से मिठाई के डिब्बों में भरकर बिक्री रुपये उनके दफ्तर तक पहुँचाने की जिम्मेदारी बखूबी जो निभाई थी। और भी बहुत कुछ यादें हैं, मसलन मिट्टी के टोकरी भर खिलौने बाबा ने दिलवाया था। सामने राजाकटरा में ही तो गणेश- लक्ष्मी और खिलौनों की दुकानें थीं । बाबा कहाँ मानने वाले थें, प्यारे ये देखों, यह लोगें.. सिर हिलाते हुये दादा- दादी , पुतना का स्तन पान करते कृष्ण , रुपपरी और भी तरह- तरह के खिलौने लेकर आते थें हम दोनों..। उस दीपावली बाबा ने बारजे को जगमगाने के लिये लिंची और अंगूर नुमा झालर मुझे खुश करने के लिये खरीदा था, उस समय बाजार म़े नया- नया आया इलेक्ट्रिक दीपक भी..। मेरे पांव एक स्थान पर टिक ही नहीं रहे थें, उस दीपावली को ..घर, कारखाना और दुकान का दिन भर चक्कर लगाता रहा। बम की आवाज तो माँ को पिछले वर्ष तनिक भी पसंद नहीं था, वे हृदयरोग से पीड़ित जो थीं। लेकिन, उस आखिरी दीवाली पर वे मुझे ऐसा करने से मुझे बिल्कुल नहींं रोक रही थीं। इसी के अगले माह मेरी परीक्षा थी। कक्षा 6 में मैं अव्वल रहा। माँ के स्वपनों को पूरा किया , लेकिन तब वे मृत्यु शैय्या पर थीं। ठीक से याद नहीं है , सम्भवतः 26 दिसंबर ही था, क्यों कि 25 को तो बड़ा दिन का जश्न था, उस मनहूस सुबह ब्रह्ममुहूर्त में माँ मुझे अनाथ कर गयी। फिर बनारस, मुजफ्फरपुर, कलिम्पोंग, मीरजापुर में कितनी ही दीवाली आई और गई, तन्हाई और दर्द के सिवाय कुछ न मिला..।

इस दीपावली को भी क्या नहीं था मेरे पास ,तरह तरह के मिष्ठान, उपहार , पैसों भरे लिफाफे भी , पर एक वो न था पास में , जो इस मासूम दिल को एहसास करवा सके , इन तीज- त्योहारों को..।

अतः कल रात भोजन तक न मिला , यूँ समझे की मन नहीं था । माँ भी तो मुझसे किये अनेक वायदे तोड़ चली गयी , मानों उपहास कर रही हैं वो भी कि ढ़ूंढ़ते रहो ,इन सितारों में..

वह एक गीत है न ...


कितना आसान है वादे तोड़ देना, कितना मुश्किल है वादा निभाना

कितना आसान है कहना भूल जाओ, कितना मुश्किल है पर भूल जाना..


शशि/ 8 नवंबर2018

अगला लेख: मुझसे पहले तू जल जाएगा...



रेणु
11 नवम्बर 2018


प्रिय शशि भैया -- आपका ये अनुभव बहुत हीभावुक करने वाला है | एक चंचल चपल बालक जो अपने अनिश्चित भविष्य से अनजान है उसकी सहज मस्ती मन को बहुत ही भारी कर देती है | सचमुच ईश्वर ने बहुत ही कठोर नियति लिख दी थी आपकी | माँ की मधुर- ममता का अंतिम स्मृति चित्र तो आँखे नम कर देता है | पापा का अतुलनीय और निस्वार्थ स्नेह भी कायम ना रह पाया | सोच निशब्द हूँ |क्या लिखूं ? बस मेरा स्नेह आपके लिए

Shashi Gupta
11 नवम्बर 2018

जी दी प्रणाम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
29 अक्तूबर 2018
दिवंगत पत्रकार की श्रद्धांजलि सभा में फफक कर रो पड़ी केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया ----------आदमी मुसाफिर है, आता है, जाता है************************** पत्रकारिता जगत ही नहीं समाजसेवा के हर क्षेत्र में यदि हम त्यागपूर्ण तरीके से अपना कर्म करेंगे, तो समाज हमारा ध्यान आज इस अर्थ प्रधान युग में भी रखता
29 अक्तूबर 2018
10 नवम्बर 2018
दुनिया सुने इन खामोश कराहों को..***************************असली तस्वीर तो अपने शहर के भद्रजनों की इस कालोनी का यह चौकीदार है और उसके सिर ढकने के लिये प्रवेश द्वार पर बना छोटा सा यह छाजन है, जहाँ एक कुर्सी है और शयन के लिये पत्थर का पटिया है।****************************इस समूह में इन अनगिनत अनचीन्ही
10 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
ये ज़िद छोड़ो, यूँ ना तोड़ो हर पल एक दर्पण है ..***************************ये जीवन है इस जीवन का यही है, यही है, यही है रंग रूप थोड़े ग़म हैं, थोड़ी खुशियाँ यही है, यही है, यही है छाँव धूप ये ना सोचो इसमें अपनी हार है कि जीत है उसे अपना लो जो
20 नवम्बर 2018
01 नवम्बर 2018
रस्म-ए-उल्फ़त को निभाएं तो निभाएं कैसे..********************** एक बात मुझे समझ में नहीं आती है कि इस अमूल्य जीवन की ही जब कोई गारंटी नहीं है, तो फिर क्यों इन संसारिक वस्तुओं से इतनी मुहब्बत है। खैर अपना यह जीवन आग और मोम का मेल है, कभी यह सुलगता है, तो कभी वह पिघलता है...***********************दर्द
01 नवम्बर 2018
27 अक्तूबर 2018
वो जुदा हो गए देखते देखते..*************************दबाव भरी पत्रकारिता हम जैसे फुल टाइम वर्कर के लिये जानलेवा साबित हो रही है। पहले प्रेस छायाकार इंद्रप्रकाश श्रीवास्तव की दुर्घटना में मौत और एक और छायाकार कृष्णा का घायल होना,वरिष्ठ क्राइम रिपोर्टर दिनेश उपाध्याय का मौत के मुहँ से निकल कर किसी तरह
27 अक्तूबर 2018
29 अक्तूबर 2018
दिवंगत पत्रकार की श्रद्धांजलि सभा में फफक कर रो पड़ी केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया ----------आदमी मुसाफिर है, आता है, जाता है************************** पत्रकारिता जगत ही नहीं समाजसेवा के हर क्षेत्र में यदि हम त्यागपूर्ण तरीके से अपना कर्म करेंगे, तो समाज हमारा ध्यान आज इस अर्थ प्रधान युग में भी रखता
29 अक्तूबर 2018
29 अक्तूबर 2018
दिवंगत पत्रकार की श्रद्धांजलि सभा में फफक कर रो पड़ी केंद्रीय राज्यमंत्री अनुप्रिया ----------आदमी मुसाफिर है, आता है, जाता है************************** पत्रकारिता जगत ही नहीं समाजसेवा के हर क्षेत्र में यदि हम त्यागपूर्ण तरीके से अपना कर्म करेंगे, तो समाज हमारा ध्यान आज इस अर्थ प्रधान युग में भी रखता
29 अक्तूबर 2018
15 नवम्बर 2018
मेरे दिल से ना लो बदला ज़माने भर की बातों का ठहर जाओ सुनो मेहमान हूँ मैं चँद रातों का चले जाना अभी से किस लिये मुह मोड़ जाते हो खिलौना, जानकर तुम तो, मेरा दिल तोड़ जाते हो मुझे इस, हाल में किसके सहारे छोड़ जाते हो खिलौना ... खिलौना फिल्म की यह गीत और यह मेहमान ( अतिथि ) शब्द मेरे जीवन की सबसे कड़वी
15 नवम्बर 2018
01 नवम्बर 2018
रस्म-ए-उल्फ़त को निभाएं तो निभाएं कैसे..********************** एक बात मुझे समझ में नहीं आती है कि इस अमूल्य जीवन की ही जब कोई गारंटी नहीं है, तो फिर क्यों इन संसारिक वस्तुओं से इतनी मुहब्बत है। खैर अपना यह जीवन आग और मोम का मेल है, कभी यह सुलगता है, तो कभी वह पिघलता है...***********************दर्द
01 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
मेरे दिल से ना लो बदला ज़माने भर की बातों का ठहर जाओ सुनो मेहमान हूँ मैं चँद रातों का चले जाना अभी से किस लिये मुह मोड़ जाते हो खिलौना, जानकर तुम तो, मेरा दिल तोड़ जाते हो मुझे इस, हाल में किसके सहारे छोड़ जाते हो खिलौना ... खिलौना फिल्म की यह गीत और यह मेहमान ( अतिथि ) शब्द मेरे जीवन की सबसे कड़वी
15 नवम्बर 2018
13 नवम्बर 2018
आदमी बुलबुला है पानी का..****************************मृतकों के परिजनों के करुण क्रंदन , भय और आक्रोश के मध्य अट्टहास करती कार्यपालिका की भ्रष्ट व्यवस्था के लिये जिम्मेदार कौन..************************* यहाँ तो सिर्फ़ गूँगे और बहरे लोग बस्ते हैं ग़ज़ब ये है की अपनी मौत की आहट नहीं सुनते ख़ुदा जाने यह
13 नवम्बर 2018
13 नवम्बर 2018
आदमी बुलबुला है पानी का..****************************मृतकों के परिजनों के करुण क्रंदन , भय और आक्रोश के मध्य अट्टहास करती कार्यपालिका की भ्रष्ट व्यवस्था के लिये जिम्मेदार कौन..************************* यहाँ तो सिर्फ़ गूँगे और बहरे लोग बस्ते हैं ग़ज़ब ये है की अपनी मौत की आहट नहीं सुनते ख़ुदा जाने यह
13 नवम्बर 2018
15 नवम्बर 2018
मेरे दिल से ना लो बदला ज़माने भर की बातों का ठहर जाओ सुनो मेहमान हूँ मैं चँद रातों का चले जाना अभी से किस लिये मुह मोड़ जाते हो खिलौना, जानकर तुम तो, मेरा दिल तोड़ जाते हो मुझे इस, हाल में किसके सहारे छोड़ जाते हो खिलौना ... खिलौना फिल्म की यह गीत और यह मेहमान ( अतिथि ) शब्द मेरे जीवन की सबसे कड़वी
15 नवम्बर 2018

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x