भईया दूज :*----- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 नवम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (30 बार पढ़ा जा चुका है)

भईया दूज :*----- आचार्य अर्जुन तिवारी  - शब्द (shabd.in)

*कार्तिक माह में मनाए जाने वाले पंचपर्वों में पांचवा दिन होता है यम द्वितीया का , जिसे भैया दूज के नाम से जाना जाता है | धन्वंतरि जयंती से प्रारंभ होकर की भैया दूज तक ५ दिन तक लगातार मनाया जाने वाला पंच पर्व भैया दूज के साथ ही संपन्न हो जाएगा | भाई बहन के प्यार , स्नेह का अप्रतिम उदाहरण प्रस्तुत करने वाले इस पर्व पर बहन अपने भाई को तिलक करके आरती उतारती हैं एवं उनके उज्जवल भविष्य की कामना करती है | सनातन धर्म में प्रत्येक पर्व एवं त्यौहार के पीछे कोई न कोई ऐतिहासिक / पौराणिक कथा जुड़ी होती है | आज के दिन के विषय में हमारे धर्म ग्रंथों में यह व्याख्यान मिलता है की यमराज अपने कार्य की व्यस्तताओं के कारण कभी भी अपनी बहन के यहां नहीं जा पाते थे , इससे उनकी बहन मन ही मन दुखी रहती थी | कई वर्ष बीत जाने के बाद कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की द्वितीया को यमराज जी ने अपने सारे कार्य को विराम देते हुए अपने बहन के उस निश्चल प्रेम का मान रखने के लिए उसके घर पहुंच गए | अपने भैया को आया हुआ देखकर बहन बड़ी प्रसन्न हुई और तिलक लगाकर आरती उतारी | उसी दिन से भाई बहन का यह पर्व मनाया जाने लगा | रक्षाबंधन के बाद यह दूसरा ऐसा पर्व है जो भाई बहन को समर्पित है | जो स्वयं में पौराणिक व्याख्यान के साथ दिव्यता समेटे हुए है |* *आज भी सह पर्व प्रत्येक बहन के द्वारा मनाया जाता है | आज के दिन हर बहन अपने भाई के लिए व्रत रहकर के उसको तिलक करके आरती उतार उतार उतारती है , एवं रिश्तो में मिठास बनी रहे इसलिए मिष्ठान का आदान-प्रदान होता है | जिस प्रकार समाज का ताना-बाना बदल गया , उसी प्रकार आज त्योहारों का स्वरूप भी परिवर्तित हो गया है | आधुनिकता की चकाचौंध में यह पर्व भी आधुनिक हो गया है , परंतु कुछ परिवार ऐसे भी हैं जिनकी बेटियां अपने ससुराल में निर्धनता की शिकार होकर की जीवन यापन कर रही हैं , परंतु धनवान होने के बाद भी भाई अपनी उस बहन का ध्यान नहीं देता है , जब कि प्रत्येक रक्षाबंधन एवं भाई दूज को निर्जल व्रत रहकर के उसके मंगल कामना के लिए भगवान से प्रार्थना किया करती है | आज बहने भाई दूज के दिन अपने भैया की आरती उतारने के लिए उनके घर जाया करती हैं , जबकि यदि पौराणिक व्याख्यान देखा जाए तो यमराज जी अपने बहन के यहां गए थे अतः प्रत्येक भाई को अपने बहन के यहां जाकर के तब यह पर्व मनाना चाहिए | परंतु आज कुछ भाई लोग ऐसे भी हैं जो अपने झूठी शान में अपनी निर्धन बहन को ना तो बुलाना ही चाहते हैं और ना ही उसके घर जाना चाहते हैं | ऐसे में इस पर्व को मनाना कितना सार्थक है यह विचारणीय विषय है ?? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह जानता हूँ कि पर्व कोई भी हो यदि मनाना है तो उसे विधानानुसार मनाया जाय ! दिखावा मात्र करने का कोई औचित्य नहीं समझ में आता है | संसार में यह पर्व एक उदाहरण प्रस्तुत करता है | जहां विश्व के अन्य देशों में विवाह के बाद कन्या से बहुत ज्यादा संबंध नहीं रख जाता वहीं भारत देश में आजीवन कन्या का संबंध अपने मायके से बना रहता है जिस का पर्याय हमारे यह पर्व बनते हैं |* *भाई दूज के दिन प्रत्येक भाई एवं बहन का प्रेम एवं सामंजस्य आजीवन बना रहे एवं वे समाज में इसका उदाहरण प्रस्तुत करते रहे यही प्रार्थना आमजन को करनी चाहिए |*

अगला लेख: परिवार का महत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 नवम्बर 2018
बिहार में क्यों मनाया जाता है छठ पूजा का पर्व, क्या है इसका इतिहास- भारत के प्रमुख भौगोलिक और सांस्कृतिक त्योहारों (लोक त्योहारों) में से एक है छठ पूजा। इसकी मान्यता वैदिक काल से ही है, इसीलिए यह प्राचीन परंपराओं का धनी पर्व है। अगर आप भी इस त्यौहार के बारे में जानना चाहत
03 नवम्बर 2018
27 अक्तूबर 2018
*यह सम्पूर्ण सृष्टि नर नारी के संयोग से ही गतिमान है | दोनों को एक दूसरे का पूरक माना गया है ! पूरक इसलिए माना गया है क्योंकि एक दूसरे के बिना जीवन नीरस एवं अर्थहीन अर्थात व्यर्थ हो जाता है | संतानोत्पत्ति नर - नारी के मधुर मिलन के बाद ही संभव है | पुरुष को बलवान बनाने में यदि एक नारी की महत्वपूर्ण
27 अक्तूबर 2018
19 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म में मनाये जाने वाले सभी पर्व एवं त्यौहार ही सनातन धर्म की दिव्यता का द्योतक हैं | भारत इतना विशाल देश है यहाँ अनेकों धर्म सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | यहाँ वर्ष भर प्रतिदिन कोई न कोई पर्व , व्रत एवं त्यौहार मनाये ही जाते रहते है | सनातन धर्म में व्रत एवं त्यौहारों की एक लम्बी सूची है | इन
19 नवम्बर 2018
02 नवम्बर 2018
*मानव जीवन में तप या तपस्या का बहुत महत्व है | प्राचीनकाल में ऋषियों-महर्षियों-राजाओं आदि ने कठिन से कठिनतम तपस्या करके लोककल्याण का मार्ग प्रशस्त किया है | गोस्वामी तुलसीदास जी ने तो तपस्या के महत्व को दर्शाते हुए कहा है कि :- तप के ही बल पर ब्रह्मा जी सृष्टि, विष्णु जी पालन एवं शंकर जी संहार करते
02 नवम्बर 2018
30 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म मानव शरीर को मोक्ष प्राप्ति का साधन बताते हुए परम पूज्य बाबा गोस्वामी तुलसीदास जी लिखते हैं :---- "साधन धाम मोक्ष कर द्वारा ! पाई न जे परलोक संवारा !!" अर्थात :- यह मानव शरीर साधना करने का धाम और मोक्ष प्राप्ति का द्वार है , इस मानव शरीर में आकर के जीव यह द्वार खोल सकता है , और इसी मान
30 अक्तूबर 2018
03 नवम्बर 2018
आप सभी को बता दें कि दिवाली का इंतज़ार सभी को है और सभी दिवाली मनाने के लिए तैयारी में जुटे हुए हैं. ऐसे में इन दिनों कई लोगों के मन में यह सवाल आ रहा है कि ‘क्या हर दीपावली नई लक्ष्मी-गणेश मूर्तियां खरीदना चाहिए..?’ ऐसे में अगर आपके पास भी इसका जवाब नहीं है तो आइए हम बतात
03 नवम्बर 2018
28 अक्तूबर 2018
*संसार में पाप और पुण्य दोनों बराबर की संख्या में हैं | इनकी विस्तृत व्याख्या हमारे शास्त्रों - पुराणों में की गई है | यूं तो पाप अनेकों की संख्या में हैं | जुआ, चोरी, झूठ, छल, व्यभिचार, हिंसा आदि सभी पाप हैं | पर सबसे बड़ा पाप कृतघ्नता हैं जिसे सब पापों की जननी कहा जा सकता हैं | इसी के कारण मनुष्य
28 अक्तूबर 2018
02 नवम्बर 2018
*इस विशाल एवं अलोकिक सृष्टि की रचना करते समय ब्रह्मा जी ने नारी जाति की महत्ता को समझते हुए नर - नारी का युगल जोड़ा उत्पन्न करके सृष्टि को गतिमान किया | आदिकाल से सृष्टि के सृजन एवं संयोजन में नारी के महत्वपूर्ण योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है | हमारे धर्मग्रंथों में नारियों की महानता, उनके त्याग ए
02 नवम्बर 2018
31 अक्तूबर 2018
*कार्तिक मास त्यौहारों एवं पर्वों का महीना है | पूरे महीने नये नये व्रत एवं पर्व इसकी पहचान हैं | अभी चार दिन पहले महिलाओं ने अपने पतियों के दीर्घायु होने के लिए दिन भर निर्जल रहकर "करवा चौथ" का कठिन व्रत किया था | आज फिर अपने परिवार की कुशलता के लिए , विशेषकर अपनी संतान की कुशलता एवं लम्बी आयु के ल
31 अक्तूबर 2018
02 नवम्बर 2018
*संसार के सभी धर्मों का मूल सनातन धर्म को कहा जाता है | सनातन धर्म को मूल कहने का कारण यह है कि सकल सृष्टि में जितनी भी सभ्यतायें विकसित हुईं सब इसी सनातन धर्म की मान्यताओं को मानते हुए पुष्पित एवं पल्लवित हुईं | सनातनधर्म की दिव्यता का कारण यह है कि इस विशाल एवं महान धर्म समस्त मान्यतायें एवं पूजा
02 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
धर्म आज के समय सबसे सवेंदनशील मुद्दा है।धर्म के लिए लोग किसी हद तक जाने को तैयार रहते हैं।आज हम आपको ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने हाल ही में धर्म परिवर्तन किया है वो भी पुरे परिवार के साथ और भगवान श्री राम को लेकर एक बड़ी बात भी कही है।उसकी बातों में कितनी सचाई ये तो वो स्वयं ही बता स
03 नवम्बर 2018
27 अक्तूबर 2018
*प्राचीनकाल में मंदिर एक ऐसा स्थान होता था जहां बैठ कर समाज की गतिविधियां संचालित की जाती थी , वहीं से समाज को आगे बढ़ाने के लिए योजनाएं बनाई जाती थी | समाज के लिए नीति - निर्धारण का कार्य यहीं से संचालित होता था | हमारे वैदिक काल की शिक्षा व्यवस्था ऐसी थी जहां एक गुरु का आश्रम होता था , और उस आश्रम
27 अक्तूबर 2018
19 नवम्बर 2018
भारत यानि हमारा अपना प्यारा देश जहां नदियों को पवित्र मानकर देवी के रूप में पूजा जाता है. फिर चाहे वो गंगा नदी हो, जमुना जी हो, सरस्वती या कोई अन्य नदी हो, हर नदी की अपनी महत्ता है और लोग अपनी-अपनी मान्यता के अनुसार उनको पूजते हैं. मगर एक वो ज़माना था जब इन नदियों का पानी
19 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x