भईया दूज :*----- आचार्य अर्जुन तिवारी

10 नवम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (38 बार पढ़ा जा चुका है)

भईया दूज :*----- आचार्य अर्जुन तिवारी

कार्तिक माह में मनाए जाने वाले पंचपर्वों में पांचवा दिन होता है यम द्वितीया का , जिसे भैया दूज के नाम से जाना जाता है | धन्वंतरि जयंती से प्रारंभ होकर की भैया दूज तक ५ दिन तक लगातार मनाया जाने वाला पंच पर्व भैया दूज के साथ ही संपन्न हो जाएगा | भाई बहन के प्यार , स्नेह का अप्रतिम उदाहरण प्रस्तुत करने वाले इस पर्व पर बहन अपने भाई को तिलक करके आरती उतारती हैं एवं उनके उज्जवल भविष्य की कामना करती है |


bhaidooj

सनातन धर्म में प्रत्येक पर्व एवं त्यौहार के पीछे कोई न कोई ऐतिहासिक / पौराणिक कथा जुड़ी होती है | आज के दिन के विषय में हमारे धर्म ग्रंथों में यह व्याख्यान मिलता है की यमराज अपने कार्य की व्यस्तताओं के कारण कभी भी अपनी बहन के यहां नहीं जा पाते थे , इससे उनकी बहन मन ही मन दुखी रहती थी | कई वर्ष बीत जाने के बाद कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की द्वितीया को यमराज जी ने अपने सारे कार्य को विराम देते हुए अपने बहन के उस निश्चल प्रेम का मान रखने के लिए उसके घर पहुंच गए | अपने भैया को आया हुआ देखकर बहन बड़ी प्रसन्न हुई और तिलक लगाकर आरती उतारी | उसी दिन से भाई बहन का यह पर्व मनाया जाने लगा | रक्षाबंधन के बाद यह दूसरा ऐसा पर्व है जो भाई बहन को समर्पित है | जो स्वयं में पौराणिक व्याख्यान के साथ दिव्यता समेटे हुए है |* *आज भी सह पर्व प्रत्येक बहन के द्वारा मनाया जाता है | आज के दिन हर बहन अपने भाई के लिए व्रत रहकर के उसको तिलक करके आरती उतार उतार उतारती है , एवं रिश्तो में मिठास बनी रहे इसलिए मिष्ठान का आदान-प्रदान होता है | जिस प्रकार समाज का ताना-बाना बदल गया , उसी प्रकार आज त्योहारों का स्वरूप भी परिवर्तित हो गया है |


आधुनिकता की चकाचौंध में यह पर्व भी आधुनिक हो गया है , परंतु कुछ परिवार ऐसे भी हैं जिनकी बेटियां अपने ससुराल में निर्धनता की शिकार होकर की जीवन यापन कर रही हैं , परंतु धनवान होने के बाद भी भाई अपनी उस बहन का ध्यान नहीं देता है , जब कि प्रत्येक रक्षाबंधन एवं भाई दूज को निर्जल व्रत रहकर के उसके मंगल कामना के लिए भगवान से प्रार्थना किया करती है | आज बहने भाई दूज के दिन अपने भैया की आरती उतारने के लिए उनके घर जाया करती हैं , जबकि यदि पौराणिक व्याख्यान देखा जाए तो यमराज जी अपने बहन के यहां गए थे अतः प्रत्येक भाई को अपने बहन के यहां जाकर के तब यह पर्व मनाना चाहिए | परंतु आज कुछ भाई लोग ऐसे भी हैं जो अपने झूठी शान में अपनी निर्धन बहन को ना तो बुलाना ही चाहते हैं और ना ही उसके घर जाना चाहते हैं | ऐसे में इस पर्व को मनाना कितना सार्थक है यह विचारणीय विषय है ?? मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" यह जानता हूँ कि पर्व कोई भी हो यदि मनाना है तो उसे विधानानुसार मनाया जाय ! दिखावा मात्र करने का कोई औचित्य नहीं समझ में आता है | संसार में यह पर्व एक उदाहरण प्रस्तुत करता है | जहां विश्व के अन्य देशों में विवाह के बाद कन्या से बहुत ज्यादा संबंध नहीं रख जाता वहीं भारत देश में आजीवन कन्या का संबंध अपने मायके से बना रहता है जिस का पर्याय हमारे यह पर्व बनते हैं |* *भाई दूज के दिन प्रत्येक भाई एवं बहन का प्रेम एवं सामंजस्य आजीवन बना रहे एवं वे समाज में इसका उदाहरण प्रस्तुत करते रहे यही प्रार्थना आमजन को करनी चाहिए |*

अगला लेख: परिवार का महत्व :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 नवम्बर 2018
*इस पृथ्वी पर मनुष्य की उत्पत्ति के साथ ही उत्पन्न हुआ परिवार | विभिन्न परिवारों से मिलकर बना समाज और समाज ने राष्ट्रों का सृजन किया | समाज की पहली इकाई परिवार को ही कहा जाता है | परिवार किसे माना जाय ??;इस पर यदि विचार करते हैं तो यही मिलता है कि :- जहां आपसी प्रेम हो , अपनत्व हो , एक दूसरे के प्रत
02 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
बिहार में क्यों मनाया जाता है छठ पूजा का पर्व, क्या है इसका इतिहास- भारत के प्रमुख भौगोलिक और सांस्कृतिक त्योहारों (लोक त्योहारों) में से एक है छठ पूजा। इसकी मान्यता वैदिक काल से ही है, इसीलिए यह प्राचीन परंपराओं का धनी पर्व है। अगर आप भी इस त्यौहार के बारे में जानना चाहत
03 नवम्बर 2018
02 नवम्बर 2018
*इस विशाल एवं अलोकिक सृष्टि की रचना करते समय ब्रह्मा जी ने नारी जाति की महत्ता को समझते हुए नर - नारी का युगल जोड़ा उत्पन्न करके सृष्टि को गतिमान किया | आदिकाल से सृष्टि के सृजन एवं संयोजन में नारी के महत्वपूर्ण योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है | हमारे धर्मग्रंथों में नारियों की महानता, उनके त्याग ए
02 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
आप सभी को बता दें कि दिवाली का इंतज़ार सभी को है और सभी दिवाली मनाने के लिए तैयारी में जुटे हुए हैं. ऐसे में इन दिनों कई लोगों के मन में यह सवाल आ रहा है कि ‘क्या हर दीपावली नई लक्ष्मी-गणेश मूर्तियां खरीदना चाहिए..?’ ऐसे में अगर आपके पास भी इसका जवाब नहीं है तो आइए हम बतात
03 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म वैसे तो समय-समय पर पर्व एवं त्यौहार मनाए जाते रहते हैं , परंतु कार्तिक मास में पांच त्योहार एक साथ उपस्थित होकर के पंच पर्व या पांच दिवसीय महोत्सव मनाने का दिव्य अवसर प्रदान करते हैै | आज कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन से प्रारंभ होकर के शुक्ल पक्ष की द्वितीया का पर्वों का
06 नवम्बर 2018
26 अक्तूबर 2018
हमारे देश में जब योग और वंदेमातरम जैसी चीज़ों को कट्टरपंथी धर्म के चश्मे से देखते हैं भला ऐसे में भारत मे श्रीमद्भागवत गीता को स्कूल में पढ़ाया जाना संभव कैसे हो सकता है। लेकिन एक अरब देश ऐसा भी है, जिसने श्रीमद्भागवत गीता को एक विषय के रूप में कॉलेज में पढ़ाना शुरू भी कर
26 अक्तूबर 2018
30 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में ब्रह्मा , विष्णु , महेश के अतिरिक्त तैंतीस करोड़ देवी देवताओं की मान्यता है , इनके साथ ही समय-समय पर भगवान के विभिन्न अवतारों का वर्णन मिलता है | प्रश्न यह है कि जब परमात्मा के द्वारा बनाई हुई सृष्टि उन्हीं के अनुसार चल रही है तो भगवान को अवतार लेने की आवश्यकता क्यों पड़ी | भगवान के
30 अक्तूबर 2018
30 अक्तूबर 2018
*सनातन हिन्दू धर्म में पूजा - पाठ का विशेष महत्व है | पूजा कोई साधारण कृत्य नहीं है | यदि आध्यात्मिकता की दृष्टि से देखा जाय तो पूजा करने का अर्थ है स्वयं को परिमार्जित करना | पूजा में सहयोग करने वाली सामग्रियों पर यदि ध्यान दिया जाय तो उनकी अलौकिकता परिलक्षित हो जाती है | किसी भी पूजन में आसन का वि
30 अक्तूबर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x