भगवा प्रधानमंत्री का फैसला

11 नवम्बर 2018   |  विकास बौंठियाल   (41 बार पढ़ा जा चुका है)


भगवा प्रधानमंत्री का फैसला


भारत की नवनिर्वाचित सरकार ये घोषणा करती है की सन् २०१९ के दशहरे पर रावण दहन के तुरंत बाद India, हिंदुस्तान और अन्य विदेशी जबरदस्ती थोंपे गये नामों को हटाकर धरती के इस सुँदर भाग को पौराणिक नाम केवल “भारत” से ही जाना जायेगा। भारत धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र से कट्टर सनातन “हिंदु राष्ट्र” होगा एंव भारत का राष्ट्रिय ग्रंथ गीता, राष्ट्रिय पशु गाय और राष्ट्रिय धर्म केवल सनातन होगा। पाकिस्तान, बाँग्लादेश समेत अन्य उपनिवेश भारत का हिस्सा होगा एंव वहाँ के मुसलमान एंव ईसाईयों को दिवाली तक का समय दिया जायेगा ताकी वे या तो घर वापसी कर हिंदु बने अथवा केवल शरीर के कपडे लेकर देश छोडकर चले जाएँ। दिवाली बाद कोई भी विधर्मी इंगित होने पर उसे बिना किसी सुनवाई के ३० मिनट के भितर पकडे गए स्थान पर फाँसी दे दी जायेगी। सारे मस्जिद, चर्चों को तोडकर शौचालय बना दिया जायेगा एंव मदरसों-अंग्रेजी विद्यालयों को गुरूकुल मे परिवर्तित कर दिया जायेगा। भारत का झंडा बदलकर ऊँ अंकित भगवा कर दिया जायेगा और राष्ट्रगान जनगनमन के स्थान पर वंदे मातरम् कर दिया जायेगा। क्रिकेट को देशद्रोहखेल घोषित कर हॉकी, बैटमेंटन, कबड्डी, फुटबाँल, वॉलिबाँल, मुक्तेबाजी, जुडो-कराटे, कुश्ती आदी को प्रोत्साहन दिया जायेगा। बॉलिवुड को बदलकर चलचित्रवुड कर दिया जायेगा। भारत मे साईं बाबाजैसे लपरझंडुओं के मंदिरों को धव्स्त कर वहाँ पर गौशाला खोली जायेगी। भारत मे अंग्रेजों के IPC कानून एंव अदालत को निरस्त कर मनुस्मृति लागू किया जायेगा एंव रामराज्य की निंव रखी जायेगी।


!! जय श्री राम !!



आदेशानुसार

भारत सरकार

अगला लेख: पत्थरबाजों पर कार्यवाही के नाम पर लीपापोती।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 नवम्बर 2018
पत्थरबाजों पर कार्यवाही के नाम पर लीपापोती। कश्मीर के कथित भटके हुए नौजवानों की जमात मे महिलाएँ भी शामिल हो चुकी है। महिला पत्थरबाजों से निपटने के लिए सेना के दस्ते मे महिला-ब्रिगेड को शामिल किया गया है तथा सेना के वरिष्ठ अधिकारियों नुसार ये महिला सैनिक इन महिल
11 नवम्बर 2018
11 नवम्बर 2018
C
!! Use your common sense to know the truth!!हमे पढाया गया...👇👇“रघुपति राघव राजाराम,ईश्वर अल्लाह तेरो नाम”लेकिन असल मे ऋषियों ने लिखा था की....👇👇 “रघुपति राघव राजाराम पतित पावन सीताराम”लोगों को समझना चाहिए कि,जब ये बोल लिखा गया था,तब ईस्लाम का अस्तित्व ही नहीं था,“
11 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x