मुर्ख जनता महामूर्ख प्रतिनिधि

12 नवम्बर 2018   |  अरुण कुमार सिंह (अरख)   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

#कंटक लगती है #राजनीति अब हमें एहसास में,
कत्थक करती है जनता यहाँ प्रतिनिधि के साथ में,
भक्षक लगती है राजनीति अब हमें एहसास में,
जनता की सारी नब्ज़ है सियासियो के हाथ में,
काली लगती है राजनीति हमे दिन और रातो में,

फ़बती दिखती है नेताओ की #इंकलाबी बातो में,

वार लगती है राजनीति अब हमें एहसास में,

मजबूरी लगती है उस कन्या की जो आज है #विलासनी बाजार में||


-अरुण आरख "मलिहाबादी"

अगला लेख: कोई ऐसा भी है



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 नवम्बर 2018
को
वो #मुस्लिम होकर भी #हिन्दू प्रेम का #कर्तव्य समझा गये---वो #हिन्दू होकर #मुस्लिम की #अहमियत को दर्शा गये ---#संवेदना यह है फिर भी दोनों के #बंदे#समाज को #चूर्णित कर गये--- - अरुण आरख "मलिहाबादी"
12 नवम्बर 2018
19 नवम्बर 2018
ऐतराज़...एक दौर है ये जहाँ तन्हां रात में वक़्त कट्टा नही... वो भी एक दौर था जहाँ वक़्त की सुईयों को पकड़ू तो वक़्त ठहरता नही... एक दौर है ये जहाँ नजर अंदाज शौक से कर दिए जाते है... वो भी एक दौर था... जहाँ चुपके चुपके आँखों मैं मीचे जाते थे
19 नवम्बर 2018
31 अक्तूबर 2018
लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल स्वतंत्र भारत के पहले गृह मंत्री और उप-प्रधानमंत्री थे. आज़ादी से पहले और आज़ादी के बाद देश के लिए अहम योगदान देने वाले लौहपुरुष पटेल की 143वीं जयंती के मौक़े पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को उनकी 182 मीटर ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया. ज
31 अक्तूबर 2018
20 नवम्बर 2018
Hindi poem - koshish karne walon ki लहरों से डर कर नौका पार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं होतीनन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती हैचढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती हैमन का विश्वास रगों में साहस भरता हैचढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता हैआख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होतीकोशिश करने वालों की हार नहीं
20 नवम्बर 2018
07 नवम्बर 2018
भा
पंख लगा देता अगर,छेरी_के_करतार ।तो हरियाली से रहित,_होता यह संसार ।। -भास्कर मलीहाबादी
07 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
सं
✒️दान-धर्म की महिमा क्या तुम, समझ गये हो दानवीर?अगर नहीं तो आ जाओ अब, संसद के गलियारों में।रणक्षेत्रों की बात पुरानीभीष्म, द्रोण युग बीत गए हैं,रावण, राम संग लक्ष्मण भीपग-पग धरती जीत गये हैं,कलि मानस की बात सुनी क्या, कौन्तेय हे वीर कर्ण?अगर नहीं तो आ जाओ अब, संसद के गलियारों में।रथी बड़े थे, तुम द्व
03 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
पूरे विश्व में भारत एक ऐसा देश है जहां पर सभी धर्म के लोग बड़े प्रेम के साथ रहते हैं, लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो हर दिन जाति-पाति और धर्म के नारे लगाते रहते हैं और भोली भाली जनता हो घुमराह करते रहते हैं इन्ही लोगों में से एक है कन्हैया कुमार।Third party image referenceकन
08 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
Hindi poem - Hidden Feeling of Love खामोश हूँ आज मैं कुछ तो बात है ये ख़ामोशी क्यूँ है पता नहीं , कुछ तो बात है...हर दिन हर पल एक अजीब एहसास है ज़िंदगी का ये मेरे साथ अच्छा मज़ाक है फिर भी में खामोश हूँ कुछ तो बात है….साथ रहता है कोई तो अच्छा लगता है उस कोई का मतलब क्या
20 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
C
11 नवम्बर 2018
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x