स्वस्थ रखें शरीर :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

13 नवम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (42 बार पढ़ा जा चुका है)

स्वस्थ रखें शरीर :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*परमपिता परमात्मा ने मनुष्य को अनमोल उपहार के रूप में यह शरीर प्रदान किया है | इस शरीर के विषय में यह भी कहा जाता है कि यह शरीर चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ है | जिस प्रकार कहीं की यात्रा करने के लिए वाहन का ठीक होना आवश्यक होता है उसी प्रकार जीवन रूपी यात्रा पूरी करने के लिए इस शरीर रूपी वाहन को स्वस्थ एवं ठीक रखना परम आवश्यक है | शरीर को ठीक रखने का एक ही माध्यम है सुपाच्य भोजन एवं समय-समय पर व्यायाम | यदि शरीर स्वस्थ नहीं है तो मनुष्य कोई भी कार्य सुचारु ढंग से नहीं कर सकता है | इसी को ध्यान में रखते हुए प्राचीन काल से ही हमारे महापुरुषों / पूर्वजों जगह-जगह मनुष्य के शारीरिक स्वास्थ्य के लिए तरह - तरह के खेल एवं व्यायाम की व्यवस्था बनायी थी | इसके साथ ही मनुष्य सुंदर आहार , सुपाच्य भोजन लेकरके अपने शरीर को स्वस्थ बनाए रखता था | सामाजिक कार्य , धार्मिक कार्य या संसार का कोई भी कार्य हो उसे संपन्न करने के लिए शरीर का स्वस्थ होना बहुत आवश्यक है | हमारे धर्म ग्रंथों में लिखा गया है :- "शरीर माध्यम खलु धर्म साधनम्" यदि शरीर स्वस्थ रहेगा जब पूजा पाठ की तैयारी हो पाना संभव है , इसलिए शरीर को स्वस्थ रखने के प्रमुख अवयव भोजन पर ध्यान देना परम आवश्यक है | हमारे पूर्वज भोजन व्यवस्था पर ध्यान देते हुए अपने शरीर को स्वस्थ रखते हुए कई वर्षों तक जीवित रहे हैं |* *आज जिधर देखो उधर मनुष्य शारीरिक रोग से पीड़ित दिखता है , इसका मुख्य कारण है आज के मनुष्य का भोजन | मनुष्य को भोजन सदैव संतुलित एवं सुपाच्य ही करना चाहिए | आज व्यायाम के कोई साधन दिखायी नहीं पड़ते हैं | गांव में अखाड़े , कबड्डी एवं शरीर को स्वस्थ रखने के अन्य साधन भी समाप्त होते जा रहे हैं | यही कारण है कि मनुष्य का स्वास्थ्य गिरता चला जा रहा है | भोजन की बात कर ली जाए तो आज के युग में मनुष्य इतना व्यस्त है उसको भोजन करने का भी समय नहीं है | कभी चलते - चलते तो कभी खड़े - खड़े भोजन करके आज का मनुष्य किसी तरह पेट भर कर अपना काम कर रहा है | जबकि मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" जहां तक जान पाया हूँ उसके अनुसार भोजन सदैव आराम से बैठकर एवं खूब चबाकर करना चाहिए , क्योंकि ऐसा करने से भोजन सुपाच्य हो जाता है एवं मनुष्य को कोई रोग नहीं पकड़ता है | आज मनुष्य का भोजन इस प्रकार का हो गया है कि वह मनुष्य को रोगी बना रहा है | भक्ष - अभक्ष खाता हुआ मनुष्य अपने शरीर को दिन प्रतिदिन बीमार कर रहा है , और उसका सारा दोष परमात्मा को देता है | विचार कीजिए यदि किसी यात्रा में आपका वाहन ठीक नहीं है तो आप की यात्रा कैसे पूरी होगी ! उसी प्रकार यदि शरीर स्वस्थ नहीं है तो जीवन रूपी यात्रा बीच में ही रुक जाती है अर्थात मनुष्य असमय काल के गाल में समा रहा है | जबकि इसके लिए मनुष्य को बहुत ज्यादा प्रयास नहीं करना है , मात्र इतना ही करना है कि अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए समय-समय पर व्यायाम एवं सुपाच्य भोजन की ओर ध्यान देता रहे | परंतु आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में मनुष्य नहीं कर पा रहा है |* *अनेक योनियों में भ्रमण करके यह शरीर बहुत मुश्किल से प्राप्त हुआ है , इसको स्वस्थ बनाए रखते हुए आप संसार के सभी कार्य सुचारु ढंग से कर सकते हैं | अतः सुपाच्य भोजन एवं शारीरिक श्रम करते रहना चाहिए |*

अगला लेख: जीवन एक यात्रा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
30 अक्तूबर 2018
*सनातन धर्म में ब्रह्मा , विष्णु , महेश के अतिरिक्त तैंतीस करोड़ देवी देवताओं की मान्यता है , इनके साथ ही समय-समय पर भगवान के विभिन्न अवतारों का वर्णन मिलता है | प्रश्न यह है कि जब परमात्मा के द्वारा बनाई हुई सृष्टि उन्हीं के अनुसार चल रही है तो भगवान को अवतार लेने की आवश्यकता क्यों पड़ी | भगवान के
30 अक्तूबर 2018
22 नवम्बर 2018
*इस सकल सृष्टि में परमात्मा ने बड़े - बड़े पहाड़ , विशाल वृक्ष की रचना तो की ही साथ ही इस सृष्टि के सर्वोत्तम प्राणी (मनुष्य) को सृजित किया | मनुष्य ने अपना विकास करके तरह - तरह के निर्माण किये | विशाल अट्टालिकायें आज नगरों की शोभा बढा रही हैं | इन सब निर्माणों का अस्तित्व टिका है उसकी नींव पर ! यदि
22 नवम्बर 2018
02 नवम्बर 2018
*इस विशाल एवं अलोकिक सृष्टि की रचना करते समय ब्रह्मा जी ने नारी जाति की महत्ता को समझते हुए नर - नारी का युगल जोड़ा उत्पन्न करके सृष्टि को गतिमान किया | आदिकाल से सृष्टि के सृजन एवं संयोजन में नारी के महत्वपूर्ण योगदान को भुलाया नहीं जा सकता है | हमारे धर्मग्रंथों में नारियों की महानता, उनके त्याग ए
02 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म में आदिकाल से पूजा - पाठ , कथा - सत्संग आदि का मानव जीवन में बड़ा महत्व रहा है | जहां पूजा पाठ करके मनुष्य आध्यात्मिक शक्ति अर्जित करता था , कुछ क्षणों के लिए भगवान का ध्यान लगा कर के उसे परम शांति का अनुभव होता था , वहीं कथाओं को सुनकर के उसके मन में तरह-तरह की जिज्ञासा उत्पन्न होती थी
21 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
*भारत त्यौहारों का देश है यहां समय-समय पर भांति भांति के त्यौहार मनाए जाने की परंपरा रही है | सनातन हिंदू धर्म में वैसे तो नित्य त्योहार मनाए जाते हैं परंतु होली , विजयदशमी एवं दीपावली मुख्य पर्व के रूप में आदिकाल से मनाए जाते रहे हैं | दीपावली संपूर्ण विश्व में अनेक नामों से मनाया जाने वाला त्यौ
08 नवम्बर 2018
05 नवम्बर 2018
*इस धरा धाम पर गो वंश का इतिहास मनुष्य एवं सृष्टि के प्रारंभ से शुरू होता है | मनुष्य के संरक्षण , कृषि और अन्य कई उत्पादन में गोवंश का अटूट सहयोग प्राचीन काल से मिलता रहा है | यही कारण है कि हमारे विभिन्न धर्मशास्त्र गोमहिमा से भरे पड़े हैं | जहां गाय हमारे लिए एक उचित साधन है वहीं उसके द्वारा उत्स
05 नवम्बर 2018
02 नवम्बर 2018
*संसार के सभी धर्मों का मूल सनातन धर्म को कहा जाता है | सनातन धर्म को मूल कहने का कारण यह है कि सकल सृष्टि में जितनी भी सभ्यतायें विकसित हुईं सब इसी सनातन धर्म की मान्यताओं को मानते हुए पुष्पित एवं पल्लवित हुईं | सनातनधर्म की दिव्यता का कारण यह है कि इस विशाल एवं महान धर्म समस्त मान्यतायें एवं पूजा
02 नवम्बर 2018
31 अक्तूबर 2018
*कार्तिक मास त्यौहारों एवं पर्वों का महीना है | पूरे महीने नये नये व्रत एवं पर्व इसकी पहचान हैं | अभी चार दिन पहले महिलाओं ने अपने पतियों के दीर्घायु होने के लिए दिन भर निर्जल रहकर "करवा चौथ" का कठिन व्रत किया था | आज फिर अपने परिवार की कुशलता के लिए , विशेषकर अपनी संतान की कुशलता एवं लम्बी आयु के ल
31 अक्तूबर 2018
05 नवम्बर 2018
*इस धरा धाम पर गो वंश का इतिहास मनुष्य एवं सृष्टि के प्रारंभ से शुरू होता है | मनुष्य के संरक्षण , कृषि और अन्य कई उत्पादन में गोवंश का अटूट सहयोग प्राचीन काल से मिलता रहा है | यही कारण है कि हमारे विभिन्न धर्मशास्त्र गोमहिमा से भरे पड़े हैं | जहां गाय हमारे लिए एक उचित साधन है वहीं उसके द्वारा उत्स
05 नवम्बर 2018
18 नवम्बर 2018
*इस सृष्टि में वैसे तो अनेकों लोक हैं , परंतु मुख्य रूप से तीन लोकों का वर्णन मिलता है | स्वर्गलोक , मृत्युलोक एवं पाताललोक | इन्हीं तीनों लोकों के अंतर्गत अनेक लोक स्थित हैं | हम लोग जहां रहते हैं उसे मृत्युलोक या पृथ्वी लोक कहा जाता है | इस सम्पूर्ण पृथ्वी पर कई छोटे -:बड़े देश स्थित हैं | और इन्ह
18 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*मानव जीवन में धन का होना बहुत आवश्यक है | धन के अभाव में मनुष्य दीन - हीन सा दिखने लगता है | प्राचीनकाल के मनुष्यों को भी धन की आवश्यकता रहा करती थी | परंतु आज की तरह धनलोलुपता नहीं देखने को मिलती थी | पहले मनुष्यों का सबसे बड़ा धन उनका आचरण हुआ करता था , जिसका आचार - विचार सही होता था , जो सदाचारी
06 नवम्बर 2018
16 नवम्बर 2018
*इस संसार में प्रत्येक समाज में दुर्जन एवं सज्जन साथ - साथ निवास करते हैं | साथ - साथ रहते हुए भी सज्जनों ने अपनी मर्यादा का कभी त्याग नहीं किया , और इन्हीं साधु पुरुषों के कारण हमारा समाज निरंतर उत्तरोत्तर विकासशील रहा है | इस सकलसृष्टि में समस्त जड़ चेतन की भिन्न-भिन्न मर्यादायें स्थापित की गई हैं
16 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
*मानव जीवन संघर्षों से भरा हुआ है | "जीवन एक संघर्ष है" की लोकोत्ति विश्व प्रसिद्ध है | मानव जीवन संघर्ष होते हुए भी मर्यादित कैसे व्यतीत किया जाय यदि इसका दर्शन करना है तो "मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी" के आदर्शों को देखना पड़ेगा | भगवान श्री राम अपने जीवन में चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों का सामना कर
21 नवम्बर 2018
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x