मर्यादा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

16 नवम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (85 बार पढ़ा जा चुका है)

मर्यादा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*इस संसार में प्रत्येक समाज में दुर्जन एवं सज्जन साथ - साथ निवास करते हैं | साथ - साथ रहते हुए भी सज्जनों ने अपनी मर्यादा का कभी त्याग नहीं किया , और इन्हीं साधु पुरुषों के कारण हमारा समाज निरंतर उत्तरोत्तर विकासशील रहा है | इस सकलसृष्टि में समस्त जड़ चेतन की भिन्न-भिन्न मर्यादायें स्थापित की गई हैं ,और सबको ही अपनी अपनी मर्यादा के अंदर ही रहने का दिशानिर्देश प्रकृति या उस परमपिता परमेश्वर के द्वारा प्राप्त हुआ है | विशेषकर समाज को प्रगतिशील बनाने वाले साधु पुरुषों के जीवन में मर्यादा का बहुत बड़ा महत्व होता है | क्योंकि एक बार प्रकृति में उपस्थित सभी जड़ चेतन अपनी मर्यादा का त्याग कर सकते हैं परंतु जो साधु पुरुष होते हैं वे अपनी मर्यादा का कभी त्याग नहीं करते हैं | इस उक्ति को स्थापित करते हुए आचार्य चाणक्य लिखते हैं:----- "प्रलये भिन्नमर्यादा भवन्ति किल सागराः ! सागरा भेदमिच्छन्ति प्रलयेऽपि न साधवः !! अर्थात :- जिस सागर को हम इतना गम्भीर समझते हैं, प्रलय आने पर वह भी अपनी मर्यादा भूल जाता है और किनारों को तोड़कर जल-थल एक कर देता है ; परन्तु साधु अथवा श्रेठ व्यक्ति संकटों का पहाड़ टूटने पर भी श्रेठ मर्यादाओं का उल्लंघन नहीं करता | अतः साधु पुरुष सागर से भी महान होता है | उपरोक्त कथन का प्रमाण हमें राजा हरिश्चन्द्र एवं भगवान श्रीराम की जीवनगाथा में देखने को मिलता है | अपनी निर्धारित मर्यादाओं का पालन करने के कारण ही उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम कहा गया है | कभी कभी जीवन में न चाहते हुए भी ऐसे कार्य हो जाते हैं जिनका हमें पछतावा होता है | ऐसी स्थिति में सज्जन पुरुष उस बात को भूल जाना ही उचित समझते हैं | क्योंकि वे जानते हैं कि बीती बातों को याद रखकर कुढते रहना मूर्खता के अतिरिक्त कुछ नहीं है |* *आज जिस प्रकार समाज अपने संक्रमण काल से गुजर रहा हैं उसके अनुसार साधु पुरुषों / सज्जनों की परिभाषा ही बदल गयी | और साथ ही बदल गई आज की मर्यादा | आज जो अच्छा बोल लेता हो , तर्क - वितर्क कर लेता हो वही विद्वान माना गया है | उसी को ज्ञानी कहते हैं | किसी की बात को सुनकर तुरंत जवाब दे देने वाला विद्वान कहा जाता है | आज के विद्वानों की मर्यादाओं के विषय में कुछ बताना सूर्य को दीपक दिखाने जैसा है | जैसा कि मैंने बताया कि कभी कभी जीवन में कुछ घटनाएं ऐसी घट जाती हैं जो कि हम नहीं चाहते हैं , ऐसी स्थिति में आज के कुछ तथाकथित लोग ( जिन्हें समाज विद्वान मानकर सम्मान की दृष्टि से देखता है ) उसी बात को लेकर वाद - विवाद करने लगते हैं | उस समय वे अपनी सारी मर्यादाओं का उल्लंघन करने से भी नहीं चूकते | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" ऐसे साधु पुरुषों से मात्र इतना ही निवेदन करना चाहता हूँ कि :- जिस समाज में आप रहते हैं वह आपको सम्मान देता है , उसी समाज में आपके ऐसे कृत्य समाज को क्या संदेश पहुँचायेंगे | चंदन में जिस तरह सर्प लटके रहने के बाद भी चंदन का स्वभाव नहीं बदलता उसी प्रकार साधु पुरुषों को होना चाहिए ! परंतु आज के सम्माननीयों को देखकर कष्ट होता है | आखिर हम किस मर्यादा का पालन कर रहे हैं ??* *आज जिस प्रकार धर्म एवं राजनीति से लेकर समाज के सभी क्षेत्रों में लोगों ने अपनी मर्यादाओं का हनन किया है वह आने वाले भविष्य के लिए घातक है |*

अगला लेख: जीवन एक यात्रा :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 नवम्बर 2018
*हमारे देश भारत की संस्कृति सनातन से आध्यात्मिक रही है | यहाँ के लोगों में जन्म से ही अध्यात्म भरा होता है | भारत अपने अध्यात्म और ऋषियों की वैज्ञानिकता के कारण ही विश्वगुरू बना है | आज जैसे किसी नये प्रयोग के लिए सारा विश्व अमेरिका एवं चीन की ओर देखता है | वैसे ही पूर्व में भारत की स्थिति थी | हम भ
10 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
*भारत त्यौहारों का देश है यहां समय-समय पर भांति भांति के त्यौहार मनाए जाने की परंपरा रही है | सनातन हिंदू धर्म में वैसे तो नित्य त्योहार मनाए जाते हैं परंतु होली , विजयदशमी एवं दीपावली मुख्य पर्व के रूप में आदिकाल से मनाए जाते रहे हैं | दीपावली संपूर्ण विश्व में अनेक नामों से मनाया जाने वाला त्यौ
08 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
*इस संपूर्ण सृष्टि में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बनकर उभरा है तो मनुष्य को गलतियों का पुतला भी कहा गया है | भूल हो जाना मनुष्य का स्वभाव है | कोई भी ऐसा मनुष्य ना हुआ होगा जिससे कि अपने जीवन में कभी कोई भूल ना हुई है | कभी - कभी मनुष्य की एक भूल उसके जीवन की दिशा और दशा परिवर्तित कर देती है | प्राचीन क
03 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
*भारतीय पर्वों की एक प्रधानता रही है कि उसमें प्रकृति का समावेश अवश्य रहता है | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे सनातन धर्म के त्यौहार अपना अमिट प्रभाव डालते हैं | फसल के घर आने की खुशी में जहाँ दीपावली मनाई जाती है ! वहीं दूसरे दिन मनाया जाता है "अन्नकूट" | जैसा कि नाम से ही परिभाषित हो रहा है
08 नवम्बर 2018
05 नवम्बर 2018
*इस धरा धाम पर गो वंश का इतिहास मनुष्य एवं सृष्टि के प्रारंभ से शुरू होता है | मनुष्य के संरक्षण , कृषि और अन्य कई उत्पादन में गोवंश का अटूट सहयोग प्राचीन काल से मिलता रहा है | यही कारण है कि हमारे विभिन्न धर्मशास्त्र गोमहिमा से भरे पड़े हैं | जहां गाय हमारे लिए एक उचित साधन है वहीं उसके द्वारा उत्स
05 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*मानव जीवन में धन का होना बहुत आवश्यक है | धन के अभाव में मनुष्य दीन - हीन सा दिखने लगता है | प्राचीनकाल के मनुष्यों को भी धन की आवश्यकता रहा करती थी | परंतु आज की तरह धनलोलुपता नहीं देखने को मिलती थी | पहले मनुष्यों का सबसे बड़ा धन उनका आचरण हुआ करता था , जिसका आचार - विचार सही होता था , जो सदाचारी
06 नवम्बर 2018
02 नवम्बर 2018
*मानव जीवन में तप या तपस्या का बहुत महत्व है | प्राचीनकाल में ऋषियों-महर्षियों-राजाओं आदि ने कठिन से कठिनतम तपस्या करके लोककल्याण का मार्ग प्रशस्त किया है | गोस्वामी तुलसीदास जी ने तो तपस्या के महत्व को दर्शाते हुए कहा है कि :- तप के ही बल पर ब्रह्मा जी सृष्टि, विष्णु जी पालन एवं शंकर जी संहार करते
02 नवम्बर 2018
02 नवम्बर 2018
*संसार के सभी धर्मों का मूल सनातन धर्म को कहा जाता है | सनातन धर्म को मूल कहने का कारण यह है कि सकल सृष्टि में जितनी भी सभ्यतायें विकसित हुईं सब इसी सनातन धर्म की मान्यताओं को मानते हुए पुष्पित एवं पल्लवित हुईं | सनातनधर्म की दिव्यता का कारण यह है कि इस विशाल एवं महान धर्म समस्त मान्यतायें एवं पूजा
02 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*इस संसार में सब का अंत निश्चित है ! चाहे वह जीवन हो या जीवन में होने वाली अनुभूतियां ! मानव जीवन भर एक हिरण की तरह कुछ ढूंढा करता है | हर जगह मानव को आनंद की ही खोज रहती है चाहे वह भोजन करता हो, या भजन करता , हो कथा श्रवण करता हो सब का एक ही उद्देश्य होता है आनंद की प्राप्ति करना | आनंद भी कई प्रक
06 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*मानव जीवन में धन का होना बहुत आवश्यक है | धन के अभाव में मनुष्य दीन - हीन सा दिखने लगता है | प्राचीनकाल के मनुष्यों को भी धन की आवश्यकता रहा करती थी | परंतु आज की तरह धनलोलुपता नहीं देखने को मिलती थी | पहले मनुष्यों का सबसे बड़ा धन उनका आचरण हुआ करता था , जिसका आचार - विचार सही होता था , जो सदाचारी
06 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म वैसे तो समय-समय पर पर्व एवं त्यौहार मनाए जाते रहते हैं , परंतु कार्तिक मास में पांच त्योहार एक साथ उपस्थित होकर के पंच पर्व या पांच दिवसीय महोत्सव मनाने का दिव्य अवसर प्रदान करते हैै | आज कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन से प्रारंभ होकर के शुक्ल पक्ष की द्वितीया का पर्वों का
06 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
*भारत त्यौहारों का देश है यहां समय-समय पर भांति भांति के त्यौहार मनाए जाने की परंपरा रही है | सनातन हिंदू धर्म में वैसे तो नित्य त्योहार मनाए जाते हैं परंतु होली , विजयदशमी एवं दीपावली मुख्य पर्व के रूप में आदिकाल से मनाए जाते रहे हैं | दीपावली संपूर्ण विश्व में अनेक नामों से मनाया जाने वाला त्यौ
08 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
*जीवन एक यात्रा है | इस संसार में मानव - पशु यहाँ तक कि सभी जड़ चेतन इस जीवन यात्रा के यात्री भर हैं | जिसने अपने कर्मों के अनुसार जितनी पूंजी इकट्ठा की है उसको उसी पूंजी के अनुरूप ही दूरी तय करने भर को टिकट प्राप्त होता है | इस जीवन यात्रा में हम खूब आनंद लेते हैं | हमें इस यात्रा में कहीं नदियां घ
03 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x