साधना :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

18 नवम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (59 बार पढ़ा जा चुका है)

साधना :---- आचार्य अर्जुन तिवारी

*भारत देश को महान बनाने में सनातन धर्म का महत्वपूर्ण योगदान रहा है | सनातन धर्म के अनुयायी ऋषियों / महर्षियों एवं साधकों ने अनन्तकाल तक कठोर साधना करके मानवमात्र को नये - नये आविष्कार करके दिये | मनुष्य को कुछ भी प्राप्त करने के लिए साधना करनी ही पड़ती है | सनातन में बताये गये चार पुरुषार्थ धर्म , अर्थ , काम , मोक्ष को प्राप्त करने के लिए मनुष्य को साधक बनकर साधना करना पड़ता है | किसी भी साधना को साधने के लिए मंत्रों के जप का विधान है | मंत्र , यंत्र एवं तंत्र या अन्य किसी भी विधा की साधना करने का मध्यम मंत्र ही होते हैं | क्योंकि मंत्रों में असीम शक्ति होती है ,आवश्यकता है उनको जानने एवं साधनाकाल में नियमों के पालन की | सर्वप्रथम तो किसी साधना का निर्देश करने वाले गुरु की शरण लेना आवश्यक है क्योंकि बिना गुरु के कोई भी साधना पूर्ण नहीं हो सकती | किसी भी साधना में मन के ऊपर नियंत्रण करना पुरथम प्राथमिकता होती है ! साधनाकाल में यदि नियमों का पालन न किया जाय तो कभी कभी घातक एवं प्राणघातक तक परिणाम देखने को मिलते हैं | किसी भी मंत्र साधना में प्राय: विघ्न-व्यवधान आ जाते हैं | निर्दोष रूप में कदाचित ही कोई साधक सफल हो पाता है, अन्यथा स्थान दोष, काल दोष, वस्तु दोष और विशेष कर उच्चारण दोष जैसे उपद्रव उत्पन्न होकर साधना को भ्रष्ट हो जाने पर जप तप और पूजा-पाठ निरर्थक हो जाता है | अनेक साधकों ने अपने मन पर नियंत्रण करते हुए अनेक साधनायें सम्पन्न की हैं | किसी भी साधना का अर्थ है मन पर नियंत्रण करना |* *आज का युवावर्ग वैसे तो सनातन धर्म के कर्मकाण्डों से दूर होता जा रहा है परंतु अभी भी कुछ युवक ऐसे हैं जो कि यंत्र , मंत्र एवं तंत्र की साधना में रुचि रखते प्रतीत होते हैं | आज ज्यादातर युवाओं में "यक्षिणी साधना" एवं "अप्सरा साधना" को लेकर उत्सुकता देखी जा रही है | अनेक लोग दूरभाष पर सलाह एवं नियम भी जानने का प्रयास कर रहे हैं | यक्षिणी एवं अप्सरा साधना को लालायित ये युवक अप्सरा नाम के आकर्षण से स्वयं को बचा नहीं पा रहे हैं | वैसे तो इस यंसार में असम्भव कुछ भी नहीं है परंतु इतना आसान भी नहीं है | उपरोक्त साधना को लालायित लोगों से मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" इतना ही कहना चाहूँगा कि सर्वप्रथम तो गुरुदीक्षा लेकरके अपने मन पर नियंत्रण करना सीखें | मन में उठ रही विषय वासनाओं पर नियंत्रण करना सीखें , जिस दिन मनुष्य अपने मन पर नियंत्रण करके विषय - वासनाओं से विरक्त हो जायेगा उस दिन उसे किसी भी यक्षिणी या अप्सरा की साधना करने की आवश्यकता ही नहीं रह जायेगी | अप्सरा नाम में ही इतना आकर्षण है कि स्मरण करते ही उसका दिव्य मनमोहक चित्र आँखों में तैरने लगता है ! यही वह समय होता है जब साधक को स्वयं पर नियंत्रण रखना होता है | अनेक साधक इसी स्थान पर अपना संयम खो देते हैं और जिसका विपरीत परिणाम उनको भुगतना पड़ता है | जो अपने मन पर नियंत्रण कर चुका है वह तो सफल हो सकता है अन्यथा साधना तो विश्वामित्र जी की भी अधूरी ही रह गयी थी |* *किसी भी साधना को साधने के पहले मन पर नियंत्रण आवश्यक है | जिस दिन मन पर नियंत्रण हो गया समझ लो आपकी साधना पूरी है |*

अगला लेख: जीवनपथ :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 नवम्बर 2018
*इस संपूर्ण सृष्टि में यदि मनुष्य सर्वश्रेष्ठ बनकर उभरा है तो मनुष्य को गलतियों का पुतला भी कहा गया है | भूल हो जाना मनुष्य का स्वभाव है | कोई भी ऐसा मनुष्य ना हुआ होगा जिससे कि अपने जीवन में कभी कोई भूल ना हुई है | कभी - कभी मनुष्य की एक भूल उसके जीवन की दिशा और दशा परिवर्तित कर देती है | प्राचीन क
03 नवम्बर 2018
10 नवम्बर 2018
कार्तिक माह में मनाए जाने वाले पंचपर्वों में पांचवा दिन होता है यम द्वितीया का , जिसे भैया दूज के नाम से जाना जाता है | धन्वंतरि जयंती से प्रारंभ होकर की भैया दूज तक ५ दिन तक लगातार मनाया जाने वाला पंच पर्व भैया दूज के साथ ही संपन्न हो जाएगा | भाई बहन के प्यार , स्नेह का अप्रतिम उदाहरण प्रस्तुत करने
10 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
*जीवन एक यात्रा है | इस संसार में मानव - पशु यहाँ तक कि सभी जड़ चेतन इस जीवन यात्रा के यात्री भर हैं | जिसने अपने कर्मों के अनुसार जितनी पूंजी इकट्ठा की है उसको उसी पूंजी के अनुरूप ही दूरी तय करने भर को टिकट प्राप्त होता है | इस जीवन यात्रा में हम खूब आनंद लेते हैं | हमें इस यात्रा में कहीं नदियां घ
03 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*मानव जीवन में धन का होना बहुत आवश्यक है | धन के अभाव में मनुष्य दीन - हीन सा दिखने लगता है | प्राचीनकाल के मनुष्यों को भी धन की आवश्यकता रहा करती थी | परंतु आज की तरह धनलोलुपता नहीं देखने को मिलती थी | पहले मनुष्यों का सबसे बड़ा धन उनका आचरण हुआ करता था , जिसका आचार - विचार सही होता था , जो सदाचारी
06 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
*भारत त्यौहारों का देश है यहां समय-समय पर भांति भांति के त्यौहार मनाए जाने की परंपरा रही है | सनातन हिंदू धर्म में वैसे तो नित्य त्योहार मनाए जाते हैं परंतु होली , विजयदशमी एवं दीपावली मुख्य पर्व के रूप में आदिकाल से मनाए जाते रहे हैं | दीपावली संपूर्ण विश्व में अनेक नामों से मनाया जाने वाला त्यौ
08 नवम्बर 2018
03 नवम्बर 2018
धर्म आज के समय सबसे सवेंदनशील मुद्दा है।धर्म के लिए लोग किसी हद तक जाने को तैयार रहते हैं।आज हम आपको ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने हाल ही में धर्म परिवर्तन किया है वो भी पुरे परिवार के साथ और भगवान श्री राम को लेकर एक बड़ी बात भी कही है।उसकी बातों में कितनी सचाई ये तो वो स्वयं ही बता स
03 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*इस संसार में सब का अंत निश्चित है ! चाहे वह जीवन हो या जीवन में होने वाली अनुभूतियां ! मानव जीवन भर एक हिरण की तरह कुछ ढूंढा करता है | हर जगह मानव को आनंद की ही खोज रहती है चाहे वह भोजन करता हो, या भजन करता , हो कथा श्रवण करता हो सब का एक ही उद्देश्य होता है आनंद की प्राप्ति करना | आनंद भी कई प्रक
06 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
*भारतीय पर्वों की एक प्रधानता रही है कि उसमें प्रकृति का समावेश अवश्य रहता है | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे सनातन धर्म के त्यौहार अपना अमिट प्रभाव डालते हैं | फसल के घर आने की खुशी में जहाँ दीपावली मनाई जाती है ! वहीं दूसरे दिन मनाया जाता है "अन्नकूट" | जैसा कि नाम से ही परिभाषित हो रहा है
08 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*शुभम् करोति कल्याणम्, आरोग्यं सुख - सम्पदा |* *शत्रु बुद्धि विनाशाय, दीपज्योति नमोस्तुते ||* 💥☄💥☄💥☄💥☄💥☄💥 *दीपावली ज्योतिपर्व होने के साथ-साथ लक्ष्मी पूजन का दिन भी है | कौन नहीं चाहता अपने जीवन में सुख और समृद्धि | चिंता का विषय यह है कि आज संबंध की प
06 नवम्बर 2018
05 नवम्बर 2018
*इस धरा धाम पर गो वंश का इतिहास मनुष्य एवं सृष्टि के प्रारंभ से शुरू होता है | मनुष्य के संरक्षण , कृषि और अन्य कई उत्पादन में गोवंश का अटूट सहयोग प्राचीन काल से मिलता रहा है | यही कारण है कि हमारे विभिन्न धर्मशास्त्र गोमहिमा से भरे पड़े हैं | जहां गाय हमारे लिए एक उचित साधन है वहीं उसके द्वारा उत्स
05 नवम्बर 2018
19 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म की प्रत्येक मान्यताओं के तरह चातुर्मास्य व्रत का बहुत बड़ा महत्व है | भगवान सूर्य के मिथुन राशि में आने पर चातुर्मास्य प्रारंभ होता है | यह आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को होता है | जिसे हरिशयना एकादशी के नाम से जाना जाता है | आज के दिन सृष्टि के पालन कर्ता भगवान श्री हरि विष्णु चा
19 नवम्बर 2018
19 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म में मनाये जाने वाले सभी पर्व एवं त्यौहार ही सनातन धर्म की दिव्यता का द्योतक हैं | भारत इतना विशाल देश है यहाँ अनेकों धर्म सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | यहाँ वर्ष भर प्रतिदिन कोई न कोई पर्व , व्रत एवं त्यौहार मनाये ही जाते रहते है | सनातन धर्म में व्रत एवं त्यौहारों की एक लम्बी सूची है | इन
19 नवम्बर 2018
13 नवम्बर 2018
*यह संसार इतनी विचित्रताओं से भरा है , इसमें इतना रहस्य व्याप्त है कि इसे जानने - समझने को प्रत्येक व्यक्ति उत्सुक एवं लालायित रहता है | संसार की बात यदि छोड़ दिया तो हमारा सनातन धर्म एवं मानव जीवन अनेकानेक रहस्यों का पर्याय है | जिसे जानने की इच्छा प्रत्येक व्यक्ति को होती है और होनी भी चाहिए | व्य
13 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x