इंदिरा गाँधी को आयरन लेडी के नाम से क्यों जाना जाता है?

19 नवम्बर 2018   |  समीर मिश्र   (67 बार पढ़ा जा चुका है)

इंदिरा गाँधी को आयरन लेडी के नाम से क्यों जाना जाता है?

आज 'आयरन लेडी ऑफ इंडिया' इंदिरा गांधी का जन्मदिवस है। 19 नवंबर, 1917 को जन्मी इंदिरा गांधी ने कई ऐसे बड़े फैसले लिए जिसने देश के इतिहास को बदल दिया। उनके कुछ ऐसे बड़े फैसले जिनसे देश की रुपरेखा ही बदल गयी जिनके बारे में आज पढ़ेंगे...

1. बैंकों का राष्ट्रीयकरण जो 19 जुलाई, 1969 को इंदिरा गांधी के नेतृत्व वाली सरकार ने एक अध्यादेश पारित किया। यह अध्यादेश देश के 14 निजी बैंकों के राष्ट्रीयकरण के लिए था। इन 14 बैंकों में देश का करीब 70 फीसदी जमा था। अध्यादेश पारित होने के बाद इन बैंकों का मालिकाना हक सरकार के पास चला गया। ऐसा आर्थिक समानता को बढ़ावा देने के लिए किया गया। इस अध्यादेश को बैंकिंग कंपनी (उपक्रमों का अधिग्रहण एवं स्थानांतरण) था। उसके बाद इसी नाम से एक कानून आया।

2. पाकिस्तान को अब तक का सबसे बड़ा जख्म देने का काम सिर्फ इंदिरागांधी ने किया है और वो था पाकिस्तान को दो टुकड़ों में विभाजित करना जिसकी टीस हमेशा उसको महसूस होती रहेगी। पाकिस्तान के लिए यह जख्म 1971 के बांग्लादेश युद्ध के रूप में था जिसके बाद पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गए। पाकिस्तान के सैन्य शासन ने पूर्वी पाकिस्तान के नागरिकों पर जुल्म की इंतहा कर दी थी। उसके नतीजे में करीब 1 करोड़ शरणार्थी भागकर भारत में चले आए थे। बाद में भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध हुआ जिसमें न सिर्फ पाकिस्तान की शर्मनाक हार हुई बल्कि उसके 90,000 सैनिकों को भारत ने युद्धबंदी बनाया था।

3. आपातकाल जल्दबाज़ी में लिया गया एक फैसला था क्योंकि इंदिरा गांधी के संबंध में इलाहाबाद हाई कोर्ट में एक याचिका दाखिल की थी। उस याचिका पर सुनवाई के बाद हाई कोर्ट ने इंदिरा गांधी के खिलाफ फैसला दिया था। छह सालों तक उनके चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी गई थी। उनको संसद से भी इस्तीफा देने को कहा गया था। लेकिन इंदिरा गांधी ने हाई कोर्ट का फैसला मानने से इनकार कर दिया। उसके बाद देश भर में विरोध-प्रदर्शन होने लगे और उनसे इस्तीफा की मांग की जाने लगी। इस सबको देखते हुए इंदिरा गांधी ने 25 जून, 1975 को आपातकाल लगा दिया और बड़ी संख्या में विरोधियों के गिरफ्तारी का आदेश दिया। भारतीय लोकतंत्र में इस दिन को 'काला दिन' कहा जाता है। आपातकाल करीब 19 महीने तक रहा।

4. पंजाब को अलग देश बनाने की मांग ने देश को एक बार बंटवारे की कगार पर खड़ा कर दिया था लेकिन आयरन लेडी ने इसे भी सुलझा दिया क्योंकि जरनैल सिंह भिंडरावाले और उसके सैनिक भारत का बंटवारा करवाना चाहते थे। उनलोगों की मांग थी कि पंजाबियों के लिए अलग देश 'खालिस्तान' बनाया जाए। भिंडरावाले के साथी गोल्डन टेंपल में छिपे हुए थे। उन आतंकियों को मार गिराने के लिए भारतीय सेना ने 'ऑपरेशन ब्लूस्टार' चलाए थे। इस ऑपरेशन में भिंडरावाले और उसके साथियों को मार गिराया गया। साथ ही कुछ आम नागरिक भी मारे गए थे। बाद में इसी ऑपरेशन ब्लूस्टार का बदला लेने के मकसद से इंदिरा गांधी की हत्या कर दी गई थी।

5. 1984 में भारतीय सेना ने ऑपरेशन मेघदूत को अंजाम दिया था और पाकिस्तान की कब्र खोदी थी। इस ऑपरेशन की मंजूरी इंदिरा गांधी ने ही दी थी। दरअसल पाकिस्तान ने 17 अप्रैल, 1984 को सियाचिन पर कब्जा करने की योजना बनाई थी जिसकी जानकारी भारत को लग गई। भारत ने उससे पहले सियाचिन पर कब्जा करने की योजना बनाई और इस ऑपरेशन का कोड नाम 'ऑपरेशन मेघदूत' था।

6. 18 मई, 1974 भारतीय इतिहास का अहम दिन था। इसी दिन भारत ने पोखरण में परमाणु परीक्षण करके दुनिया को हैरत में डाल दिया था। इस ऑपरेशन का नाम स्माइलिंग बुद्धा था।

7. आजादी के बाद भारत में अपनी रियासतों का विलय करने वाले राजपरिवारों को एक निश्चित रकम देने की शुरुआत की गई थी। इस राशि को राजभत्ता या प्रिवी पर्स कहा जाता था। इंदिरा गांधी ने साल 1971 में संविधान में संशोधन करके राजभत्ते की इस प्रथा को खत्म किया। उन्होंने इसे सरकारी धन की बर्बादी बताया था।

अगला लेख: महिंद्रा की नई एसयूवी Alturas G4 की बुकिंग शुरू



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 नवम्बर 2018
आज धनतेरस के मौके पर बाबा रामेदव की कंपनी पतंजलि की पतंजलि परिधान के पहले शो रूम का उद्घाटन हो चुका है। दिल्ली के सुभाष प्लेस में खुले पहले शोरूम का शुभारंभ खुद बाबा रामदेव ने किया। उनके मुताबिक, यहां हर तरह के पोशाक मिल रहे हैं। खास बात यह है कि दिवाली में यहां 25 प्रतिशत का डिस्काउंट भी मिलेगा।योग
05 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
अमावस्या के दिन भगवान राम अयोध्या पहुंचे थे। उनके स्वागत की तैयारी में अयोध्या के नर-नारियों ने घर-आंगन सजाया और खुद भी सजे-संवरे। इस तिथि को रूप चौदस भी कहा जाता है।रूप चौदस क्यों?पौराणिक महत्व : ऋतु बदलती है और शरीर को नई ऋतु के लिए तैयार
06 नवम्बर 2018
04 नवम्बर 2018
योग और पतंजलि उत्पादों के अलावा अकसर अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले योगगुरु स्वामी रामदेव ने एक और बयान दिया है। रामदेव के मुताबिक, जो 2 से ज्यादा बच्चे पैदा करे उससे वोटिंग अधिकार वापस ले लेना चाहिए। रामदेव ने इसके अलावा अपना उदाहरण देते हुए कहा कि मेरी तरह जो व्
04 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x