एकादशी माहात्म्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

19 नवम्बर 2018   |  आचार्य अर्जुन तिवारी   (47 बार पढ़ा जा चुका है)

एकादशी माहात्म्य :--- आचार्य अर्जुन तिवारी

*सनातन धर्म में मनाये जाने वाले सभी पर्व एवं त्यौहार ही सनातन धर्म की दिव्यता का द्योतक हैं | भारत इतना विशाल देश है यहाँ अनेकों धर्म सम्प्रदाय के लोग रहते हैं | यहाँ वर्ष भर प्रतिदिन कोई न कोई पर्व , व्रत एवं त्यौहार मनाये ही जाते रहते है | सनातन धर्म में व्रत एवं त्यौहारों की एक लम्बी सूची है | इन सभी व्रतों का मुकुट "एकादशी" को कहा गया है | एकादशी के माहात्म्य का वर्णन प्राय: सभी धर्मग्रंथों में देखने को मिलता है | एकादशी के समान दूसरा कोई व्रत नहीं है | वैसे तो अनेकानेक व्रत का भिन्न - भिन्न विधान है परंतु एकादशी का विधान प्राय: सभी व्रतों में अपनाने योग्य होता है | मनुष्य का शरीर वैसे तो पाँच तत्वों से बना है परंतु मनुष्य के समस्त क्रिया - कलाप ग्यारह अवयवों से सम्पन्न होते हैं ! इनमें पाँच कर्मेन्द्रियाँ , पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ एवं एक मन मिलकर ग्यारह होते हैं | इन्हीं एकादश अंगों को वश में करना ही एकादशी है | एकादशी का व्रत रहने का अर्थ सिर्फ भूखा रहकर शरीर सुखाना नहीं अपितु यह व्रत रहने का तात्पर्य यह है कि दशमी के दिन से ही मनुष्य को अपनी ज्ञानेन्द्रियों , कर्मेन्द्रियों एवं मन को वश में रखकर झूठ , कपट , अनृत , अनाचार एवं मन में उठ रहे कुविचारों का संयम करते हुए एकादशी को श्रीहरि विष्णु का पूजन करके व्रत रहना चाहिए | व्रत रहने का मात्र भोजन की वर्जना नहीं बल्कि भोजन के साथ यदि उपरोक्त नकारात्मक क्रिया - कलापों की वर्जना भी कर ली जाय तभी एकादशी का व्रत रहना सार्थक कहा जा सकता है | विधिपूर्वक उपवास करने से पाप जलते है और तन -मन शुध्ध होते है | यदि विधिपूर्वक किया न जाये तो मर्यादानुसार अन्नाहार का त्याग करके फलाहार करो | यह व्रत आरोग्य की दृष्टि से भी आवश्यक है |* *आज लोगों के क्रिया - कलाप की ही तरह उनकी मानसिकता में भी परिवर्तन आया है | अधिकतर लोग एक दिन का व्रत रहने के लिए दो दिन पहले से तैयारियाँ प्रारम्भ कर देते हैं , और तैयारियाँ भी मात्र फलाहार की सामग्रियों की | आज के व्रत तरह तरह के फल व अन्य व्यंजनों के स्वाद लेने का कारक बन रहा है | जहाँ हमारे ऋषियों ने व्रत का विधान एक दिन अन्न का त्याग करके आरोग्यता प्राप्त हेतु बनाया था वहीं आज मनुष्य व्रत के दिन अन्य दिनों की अपेक्षा अधिक ही उदर भरण कर रहा है जिसके परिणामस्वरूप तरह तरह के रोग उसको घेर रहे हैं | मैं "आचार्य अर्जुन तिवारी" आज के व्रतियों को देखकर सोंचने को विवश हो जाता हूँ कि जिस प्रकार एकादशी का व्रत रहने वालों को अपने शरीर के एकादश अवयवों पर संयम रखते हुए वचन से झूठ / अनर्गल प्रलाप एवं अन्य अंगों के द्वारा कोई भी ऐसा कार्य न करने का निर्देश दिया गया है जो कि मानवता के विरुद्ध हो , वहीं आज लोग एकादशी का व्रत तो बहुत श्रद्धा के साथ करते हैं परंतु अपने - अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान व अन्य कार्यक्षेत्रों में दिन भर झूठ , अनाचार , कदाचार करते रहते हैं | ऐसे लोगों को व्रत रहने का क्या फल मिलेगा यह विचारणीय है | हास्यास्पद तो तब लगता है जब चिकित्सक के कहने पर तो लोग दस दिन तक अन्न जल तक का त्याग कर देते हैं परंतु एकादशी के दिन एक दिन का निर्जल व्रत नहीं रह सकते | ऐसा करके लोग व्यर्थ में ही परमात्मा द्वारा अपनी भलाई की आशा करते हैं |* *एकादशी के दिन जिन एकादश शारीरिक अवयवों पर संयम का निर्देश मिलता है उसमें से यदि मात्र मन पर ही संयम कर लिया जाय तो शेष सभी इन्द्रियां स्वमेव संयमित हो जायेंगी | मनुष्य को प्रथम यही प्रयास करना चाहिए |*

अगला लेख: जीवनपथ :---- आचार्य अर्जुन तिवारी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म की प्रत्येक मान्यताओं के तरह चातुर्मास्य व्रत का बहुत बड़ा महत्व है | भगवान सूर्य के मिथुन राशि में आने पर चातुर्मास्य प्रारंभ होता है | यह आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को होता है | जिसे हरिशयना एकादशी के नाम से जाना जाता है | आज के दिन सृष्टि के पालन कर्ता भगवान श्री हरि विष्णु चा
19 नवम्बर 2018
10 नवम्बर 2018
कार्तिक माह में मनाए जाने वाले पंचपर्वों में पांचवा दिन होता है यम द्वितीया का , जिसे भैया दूज के नाम से जाना जाता है | धन्वंतरि जयंती से प्रारंभ होकर की भैया दूज तक ५ दिन तक लगातार मनाया जाने वाला पंच पर्व भैया दूज के साथ ही संपन्न हो जाएगा | भाई बहन के प्यार , स्नेह का अप्रतिम उदाहरण प्रस्तुत करने
10 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*मानव जीवन में धन का होना बहुत आवश्यक है | धन के अभाव में मनुष्य दीन - हीन सा दिखने लगता है | प्राचीनकाल के मनुष्यों को भी धन की आवश्यकता रहा करती थी | परंतु आज की तरह धनलोलुपता नहीं देखने को मिलती थी | पहले मनुष्यों का सबसे बड़ा धन उनका आचरण हुआ करता था , जिसका आचार - विचार सही होता था , जो सदाचारी
06 नवम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
आज हम आपके लिए लेकर आया हैं कुछ दमदार लाइनें, जिन्हें पढ़ने के बाद आपके अंदर की आग भड़क उठेगी आपका हौसला बुलंद हो जाएगा और आप कुछ भी करने के लिए तैयार होंगे ये लाइनें आपके मोटिवेशन को दुगना कर देंगी। इसीलिए दोस्तों एक बार पूरी लाइनें जरूर पढ़िएगा:-1. रख हौंसला वो मंजर भी
03 दिसम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*शुभम् करोति कल्याणम्, आरोग्यं सुख - सम्पदा |* *शत्रु बुद्धि विनाशाय, दीपज्योति नमोस्तुते ||* 💥☄💥☄💥☄💥☄💥☄💥 *दीपावली ज्योतिपर्व होने के साथ-साथ लक्ष्मी पूजन का दिन भी है | कौन नहीं चाहता अपने जीवन में सुख और समृद्धि | चिंता का विषय यह है कि आज संबंध की प
06 नवम्बर 2018
24 नवम्बर 2018
जब इस देश पर औरंगजेब का शासन था तब वह कश्मीरी पंडितों तथा हिंदुओ पर बहुत अत्याचार कर रहा था उनका धर्म संकट में था वह उन्हें जबरन मुसलमान बना रहा था उसके जुलम से तंग आकर यह सभी लोग सिखों के नौवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी के पास सहायता के लिए पहुंचे तब उन्होंने इनसे कहा आप सभी लोग घबराए नहीं
24 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
*सनातन धर्म वैसे तो समय-समय पर पर्व एवं त्यौहार मनाए जाते रहते हैं , परंतु कार्तिक मास में पांच त्योहार एक साथ उपस्थित होकर के पंच पर्व या पांच दिवसीय महोत्सव मनाने का दिव्य अवसर प्रदान करते हैै | आज कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन से प्रारंभ होकर के शुक्ल पक्ष की द्वितीया का पर्वों का
06 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
*भारतीय पर्वों की एक प्रधानता रही है कि उसमें प्रकृति का समावेश अवश्य रहता है | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे सनातन धर्म के त्यौहार अपना अमिट प्रभाव डालते हैं | फसल के घर आने की खुशी में जहाँ दीपावली मनाई जाती है ! वहीं दूसरे दिन मनाया जाता है "अन्नकूट" | जैसा कि नाम से ही परिभाषित हो रहा है
08 नवम्बर 2018
10 नवम्बर 2018
*हमारे देश भारत की संस्कृति सनातन से आध्यात्मिक रही है | यहाँ के लोगों में जन्म से ही अध्यात्म भरा होता है | भारत अपने अध्यात्म और ऋषियों की वैज्ञानिकता के कारण ही विश्वगुरू बना है | आज जैसे किसी नये प्रयोग के लिए सारा विश्व अमेरिका एवं चीन की ओर देखता है | वैसे ही पूर्व में भारत की स्थिति थी | हम भ
10 नवम्बर 2018
13 नवम्बर 2018
*यह संसार इतनी विचित्रताओं से भरा है , इसमें इतना रहस्य व्याप्त है कि इसे जानने - समझने को प्रत्येक व्यक्ति उत्सुक एवं लालायित रहता है | संसार की बात यदि छोड़ दिया तो हमारा सनातन धर्म एवं मानव जीवन अनेकानेक रहस्यों का पर्याय है | जिसे जानने की इच्छा प्रत्येक व्यक्ति को होती है और होनी भी चाहिए | व्य
13 नवम्बर 2018
05 नवम्बर 2018
*इस धरा धाम पर गो वंश का इतिहास मनुष्य एवं सृष्टि के प्रारंभ से शुरू होता है | मनुष्य के संरक्षण , कृषि और अन्य कई उत्पादन में गोवंश का अटूट सहयोग प्राचीन काल से मिलता रहा है | यही कारण है कि हमारे विभिन्न धर्मशास्त्र गोमहिमा से भरे पड़े हैं | जहां गाय हमारे लिए एक उचित साधन है वहीं उसके द्वारा उत्स
05 नवम्बर 2018
08 नवम्बर 2018
*भारतीय पर्वों की एक प्रधानता रही है कि उसमें प्रकृति का समावेश अवश्य रहता है | प्रकृति के वातावरण को स्वयं में समेटे सनातन धर्म के त्यौहार अपना अमिट प्रभाव डालते हैं | फसल के घर आने की खुशी में जहाँ दीपावली मनाई जाती है ! वहीं दूसरे दिन मनाया जाता है "अन्नकूट" | जैसा कि नाम से ही परिभाषित हो रहा है
08 नवम्बर 2018
13 नवम्बर 2018
*परमपिता परमात्मा ने मनुष्य को अनमोल उपहार के रूप में यह शरीर प्रदान किया है | इस शरीर के विषय में यह भी कहा जाता है कि यह शरीर चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ है | जिस प्रकार कहीं की यात्रा करने के लिए वाहन का ठीक होना आवश्यक होता है उसी प्रकार जीवन रूपी यात्रा पूरी करने के लिए इस शरीर रूपी वाहन
13 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x