रहीम के २० प्रसिद्ध दोहे सार सहित - Rahim ke dohe in Hindi

20 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (1833 बार पढ़ा जा चुका है)

रहीम के २० प्रसिद्ध दोहे सार सहित - Rahim ke dohe in Hindi

दोहा :- दोनों रहिमन एक से, जों लों बोलत नाहिं। जान परत हैं काक पिक, रितु बसंत के नाहिं


अर्थ :- रहीम कहते हैं कि कौआ और कोयल का रंग एक समान कला होता हैं. जिस कारण जब तक उनकी आवाज़ सुनाई न दे दोनों में भेद कर पाना बेहद कठिन है परन्तु जब बसंत ऋतु आती है तो कोयल की मधुर आवाज़ से दोनों में का अंतर स्पष्ट हो जाता हैं


दोहा :-रहिमन मनहि लगाईं कै, देख लेहूँ किन कोय।नर को बस करिबो कहा, नारायण बस होय

अर्थ :-रहिम दास कहते हैं कि यदि आप अपने मन को एक स्थान पर रखकर काम करेंगे, तो आप अवश्य ही सफलता हासिल कर लेंगे, अगर मनुष्य एक मन से ईश्वर को चाहे तो वह ईश्वर को भी अपने वश में कर सकता है ।

दोहा :- जैसी परे सो सही रहे, कही रहीम यह देह।धरती ही पर परत हैं, सित घाम औ मेह

अर्थ :- रहीम कहते हैं कि जैसे धरती उस पर पड़ने वाली सर्दी, गर्मी और वर्षा सहती हैं वैसे ही मानव शरीर को सुख दुःख सहना चाहिये

दोहा :- खीर सिर ते काटी के, मलियत लौंन लगाय।रहिमन करुए मुखन को, चाहिये यही सजाय

अर्थ :- रहीमदस जी कहते हैं कि खीरे के कड़वेपन को दूर करने के लिये उसके ऊपरी सिरे को काटकर उस पर नमक लगाया जाता हैं ठीक वैसे ही कड़वे शब्द बोलने वालो के लिये भी ऐसी ही सजा होनी चाहिए



दोहा :-वे रहीम नर धन्य हैं, पर उपकारी अंग बांटन वारे को लगे, ज्यों मेंहदी को रंग॥

अर्थ :-रहीम कहते हैं कि धन्य है वो लोग जिनका जीवन सदा परोपकार के लिए बीतता है, जिस तरह फूल बेचने वाले के हाथों में खुशबू रह जाती है ठीक वैसे ही इन परोपकारियों का जीवन भी खुशबु से महकता रहता है ।


दोहा :- तरुवर फल नहिं खात है, सरवर पियहि न पानकहि रहीम पर काज हित, संपति सँचहि सुजान

अर्थ:- रहीम कहते हैं कि वृक्ष कभी अपने फल नहीं खाते हैं और सरोवर कभी अपना पानी नहीं पीता है। इसी तरह अच्छे और सज्जन व्यक्ति वो हैं जो दूसरों के कार्य के लिए संपत्ति को संचित करते हैं।

दोहा:-रहिमन देख बड़ेन को, लघु न दीजिये डारि जहाँ काम आवै सुई, कहा करै तलवार

अर्थ:- रहीम दास जी कहते हैं कि बड़ों को देखकर छोटों को भगा नहीं देना चाहिए। क्योंकि जहां छोटे का काम होता है वहां बड़ा कुछ नहीं कर सकता। जैसे कि सुई के काम को तलवार नहीं कर सकती।


दोहा :-सबको सब कोउ करै कै सलाम कै रामहित रहीम तब जानिये जब अटकै कछु काम

अर्थ :-सबको सब लोग हमेशा राम सलाम करते हैं।परन्तु जो आदमी कठिन समय में रूके कार्य में मदद करे वही अपना होता है।


दोहा :-कहि रहीम या जगत तें प्रीति गई दै टेर रहि रहीम नर नीच में स्वारथ स्वारथ टेर

अर्थ :-रहीम कहते है कि इस संसार प्रेम में समाप्त हो गया है, लोगों में केवल स्वार्थ रह गया और दुनिया में स्वार्थी लोग रह गये हैं जिस कारण दुनिया खोखली हो गई है।

दोहा :-दुख में सुमिरन सब करे, सुख में करे न कोय।जो सुख में सुमिरन करे, तो दुख काहे होय॥

अर्थ :-दुख में सभी लोग एक दूसरे को याद करते हैं, लेकिन सुख में कोई किसी को याद नहीं करता , यदि लोग एक दूसरे को सुख में भी याद करते तो दुनिया में दुख ही नहींहोता ।

दोहा :-जाल परे जल जात बहि, तजि मीनन को मोह।‘रहिमन’ मछरी नीर को तऊ न छाँड़ति छोह॥

अर्थ : इस दोहे में रहीम दास जी कहते हैं मछली पकड़ने के लिए जब जाल पानी में डाला जाता है तो जाल पानी से बाहर खींचते ही जल उसी समय जाल से निकल जाता है। लेकिन मछली जल को छोड़ नहीं सकती और वह पानी से अलग होते ही मर जाती है।

दोहा :-मन मोटी अरु दूध रस, इनकी सहज सुभाय ।फट जाये तो मिले, कोटिन करो उपाय ।।

अर्थ :-रस, फूल, दूध, मन और मोती जब तक स्वाभाविक सामान्य रूप में है ,तब तक अच्छे लगते है लेकिन यह एक बार टूट-फट जाए तो कितनी भी युक्तियां अपना लो वो फिर से अपने स्वाभाविक और सामान्य रूप में नहीं आते ।

दोहा :-बिगड़ी बात बने नहीं, लाख करो किन कोय ।रहिमन फाटे दूध को, मथे माखन होय ।।

अर्थ :-रहीमदास कहते हैं कि मनुष्य को बुद्धिमानी से व्यवहार करना चाहिए । क्योंकि अगर किसी कारण से कुछ गलत हो जाता है, तो इसे सही करना मुश्किल होता है, क्योंकि एक बार दूध खराब हो जाये, तो हजार कोशिश कर ले उसमे से न तो मक्खन बनता है और न ही दूध ।

दोहा :-एकै साधे सब सधै, सब साधे सब जाय ।रहिमन मूलहिं सींचिबो, फूलै फलै अघाय॥

अर्थ :- इस दोहे में दो अर्थ है ,जिस प्रकार किसी पौधे के जड़ में पानी देने से वह अपने हर भाग तक पानी पहुंचा देता है । उसी प्रकार मनुष्य को भी एक ही भगवान की पूजा-आराधना करनी चाहिए । ऐसा करने से ही उस मनुष्य के सभी मनोरथ पूर्ण होंगे।

दूसरा अर्थ यह है कि जिस प्रकार पौधे को जड़ से सींचने से ही फल फूल मिलते हैं । उसी प्रकार मनुष्य को भी एक ही समय में एक कार्य करना चाहिए । तभी उसके सभी कार्य सही तरीके से सफल हो पाएंगे।

दोहा:- रहिमन निज मन की बिथा, मन ही राखो गोय | सुनी इठलैहैं लोग सब, बांटी न लेंहैं कोय

अर्थ : रहीम कहते हैं की अपने मन के दुःख को मन के भीतर छिपा कर ही रखना चाहिए। दूसरे का दुःख सुनकर लोग इठला भले ही लें, उसे बाँट कर कम करने वाला कोई नहीं होता।

दोहा :-रूठे सुजन मनाइए, जो रूठे सौ बार | रहिमन फिरि फिरि पोइए, टूटे मुक्ता हार

अर्थ : यदि आपका प्रिय सौ बार भी रूठे, तो भी रूठे हुए प्रिय को मनाना चाहिए,क्योंकि यदि मोतियों की माला टूट जाए तो उन मोतियों को बार बार धागे में पिरो लेना चाहिए।

दोहा :- चाह गई चिंता मिटीमनुआ बेपरवाह। जिनको कुछ नहीं चाहिये, वे साहन के साह

अर्थ :- जिन लोगों को कुछ नहीं चाहिये वों लोग राजाओं के राजा हैं, क्योकी उन्हें ना तो किसी चीज की चाह हैं, ना ही चिन्ता और मन तो पूरा बेपरवाह हैं

दोहा :- जे गरिब पर हित करैं, हे रहीम बड। कहा सुदामा बापुरो, कृष्ण मिताई जोग

अर्थ :- जो लोग गरीब का हित करते हैं वो बड़े लोग होते हैं. जैसे सुदामा कहते हैं कृष्ण की दोस्ती भी एक साधना हैं

दोहा :- जो रहीम गति दीप की, कुल कपूत गति सोय। बारे उजियारो लगे, बढे अँधेरो होय

अर्थ :- दिये के चरित्र जैसा ही कुपुत्र का भी चरित्र होता हैं. दोनों ही पहले तो उजाला करते हैं पर बढ़ने के साथ अंधेरा होता जाता हैं

दोहा :- रहिमन विपदा ही भली, जो थोरे दिन होय हित अनहित या जगत में, जानि परत सब कोय

अर्थ :- रहीमदस जी कहते हैं कि संकट आना जरुरी होता हैं क्योंकि इसी दौरान ये पता चलता है की संसार में कौन हमारा हित और बुरा सोचता हैं


अगला लेख: सैफ की लाडली कर रहीं हैं इस बॉलीवुड अभिनेता को डेट



आलोक सिन्हा
22 नवम्बर 2018

बहुत अच्छे दोहों का चयन किया है

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 नवम्बर 2018
डॉ.कुमार विश्वास “कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है”कुमार विश्वास का जन्म 10 फ़रवरी 1970 को पिलखुआ (ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश) में हुआ था। चार भाईयों और एक बहन में सबसे छोटे कुमार विश्वास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा लाला गंगा सहाय स्कूल, पिलखुआ में प्राप्त की। उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा आर एस
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
भारत में जब भी अगर बात चुनाव की आती है तो यहाँ हर कोई इस चुनावी माहौल को गर्माने में लग जाता है और फिर चाहे वो पार्टियाँ या आमजान।सरकार 'पॉपुलर' घोषणाएं करने लगती है, नेता एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करने लगते हैं, जिससे सोशल मीडिया पर बहस नए रूप ले लेती है।जो कि चुनावमयी माहौल का ही एक हिस्सा है।
21 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
बॉलीवुड में हर हस्ती की अपनी एक अलग पहचान है और ये बड़ी हस्तियां अपनी हिफाज़त के लिए बॉडीगार्ड रखती है। सभी बॉलीवुड स्टार्स के बॉडीगार्ड है, लेकिन इन सब में हर समय सबसे ज़्यादा चर्चा में कोई होता है तो वो है बॉलीवुड के भाईजान यानि सलमान खान के बॉडीगार्ड शेरा। शेरा कोई मामूली बॉडीगार्ड नहीं है, बल्क
21 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाहमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामाअभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत कामैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामाकभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामाकोई ख़्वाबों में आकर बस लिया द
22 नवम्बर 2018
06 नवम्बर 2018
हिन्दी पञ्चांगमंगलवार, 6 नवम्बर 2018 – नई दिल्लीविरोधकृत विक्रम सम्वत 2075 / दक्षिणायनसूर्योदय : 06:36 पर तुला में / स्वाति नक्षत्र (सूर्य का विशाखा नक्षत्र में प्रवेश 19:54)सूर्यास्त : 17:32 पर चन्द्र राशि : कन्या 08:13तक, तत्पश्चात तुला चन्द्र नक्षत्र : च
06 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasउनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलतीहमको ही खासकर नहीं मिलती शायरी को नज़र नहीं मिलतीमुझको तू ही अगर नहीं मिलती रूह मे, दिल में, जिस्म में, दुनियाढूंढता हूँ मगर
22 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwas बांसुरी चली आओ तुम अगर नहीं आई गीत गा न पाऊँगासाँस साथ छोडेगी, सुर सजा न पाऊँगातान भावना की है शब्द-शब्द दर्पण हैबाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण हैतुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी हैतीर पार कान्हा से दूर राधिका-सी हैरात की उदासी को याद संग खेला है कुछ गलत ना कर बैठें मन ब
22 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
किसी ने सच ही कहा है काबिल बनो कामयाबी तो झक मार के पीछे आएगी। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी से रूबरू करने जा रहे हैं जिसने अपनी प्रतिभा से वो मुकाम हासिल किया जिसका ख़्वाब न जाने कितनी ही आँखों ने देखा होगा और ये साबित किया कि प्रतिभा ना उम्र देखती है ना जाति और ना ही अमीरी-गरीबी का फर्क जानती है। ये
20 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x