320 लोगों को हुई बीमारियां, कंपनी ने हर पीड़ित को दिए 95 लाख रु

24 नवम्बर 2018   |  अभय शंकर   (48 बार पढ़ा जा चुका है)

सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स (Samsung Electronics) की सेमीकंडक्टर बनाने वाली फैक्ट्रियों के कई मजदूरों को कैंसर सहित कई बीमारियां होने के मामले सामने आए हैं। कंपनी को इन मामलों में माफी तक मांगनी पड़ी है। इसके अलावा लंबे समय तक चले कोर्ट केस के क्रम में एक समझौते के बाद कंपनी इससे प्रभावित 320 लोगों को प्रति व्यक्ति 1.33 लाख डॉलर (95 लाख रुपए) देने के लिए भी राजी हुई है। बड़ी बात यह है कि इनमें 118 लोगों की मौत तक हो गई।

सैमसंग ने मानी अपनी चूक

Samsung के को-प्रेसिडेंट किम की-नैम ने कहा, ‘हम अपने उन वर्कर्स से खेद प्रकट करते हैं, जो खुद और उनके परिवार बीमारियों से पीड़ित हुए। हम अपनी सेमीकंडक्टर और एलसीडी फैक्ट्रियों में हैल्थ रिस्क के प्रबंधन में नाकाम रहे।

118 लोगों की हुई मौत

इस मामले में कंपनी के खिलाफ कैंपेन चलाने वाले ग्रुप्स ने कहा कि सैमसंग में नौकरी पाने के बाद काम संबंधित बीमारियों से 320 लोग प्रभावित हुए , जिनमें से 118 लोगों की मौत तक हो गई। इसी महीने घोषित एक डील के तहत कंपनी हर मामले में 1.33 लाख डॉलर का मुआवजे का भुगतान करेगी।

डील के दायरे में कैंसर सहित कई बीमारियां

इस डील के दायरे में 16 तरह के कैंसर, कुछ दुर्लभ बीमारियां, गर्भपात और वर्कर्स के जन्मजात बीमारियों से पीड़ित बच्चे आते हैं। यह स्कैंडल वर्ष 2007 में सामने आया, जब सैमसंग की सुवॉन, साउथ सियोल स्थित सेमीकंडक्टर और डिसप्ले फैक्ट्रियों के पूर्व वर्कर्स व उनके परिवारों ने कहा कि कंपनी के स्टाफ में कैंसर या उससे मौतों के मामले सामने आए हैं।

10 साल की लड़ाई के बाद मिली जीत

ऐसे मामलों में अदालतों, सियोल स्टेट लेबर वेलफेयर एजेंसी ने 10 साल तक चले मामलों के बाद शुक्रवार को मुआवजा दिए जाने का ऐलान किया। वर्कर्स के रिलेटिव्स के लीडर ह्वांग सांग-गी ने कहा, ‘पीड़ितों के परिवारों से सिर्फ खेद प्रकट करना ही पर्याप्त नहीं है, लेकिन हम इसे स्वीकार करेंगे।’ ह्वांग सांग-गी का 22 साल के बेटे की भी ल्युकेमिया से मौत हो गई थी।

Input : Dainik Bhaskar

https://muznow.in/trending/samsung-electronics-apologises-for-factory-cancer-cases/

अगला लेख: इस शख्स के बेहूदा सवाल का एक्ट्रेस ने दिया ऐसा जवाब जो वो कभी नहीं भूलेगा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 नवम्बर 2018
जरा रूप को, आशा धैर्य को, मृत्यु प्राण को, क्रोध श्री को, काम लज्जा को हरता है पर अभिमान सब को हरता है - विदुर नीति अभिमान नरक कामूल है - महाभारत कोयल दिव्याआमरस पीकर भी अभिमान नहीं करती, लेकिन मेढक कीचर का पानी पीकर भी टर्राने लगताहै - प्रसंग रत्नावली कबीरा जरब नकीजिये कबुहूँ न हासिये कोए अबहूँ नाव
19 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x