कभी किया था अंबानी की शादी में काम ,आज हैं करोड़ो की संपत्ति की मालकिन

26 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (78 बार पढ़ा जा चुका है)

कभी किया था अंबानी की शादी में काम ,आज हैं करोड़ो  की संपत्ति की मालकिन

उतार चढ़ाव ज़िंदगी के सिक्के के दो पहलु हैं और हर किसी की ज़िंदगी में ये पहलु बहुत ही अहम् भूमिका निभाते हैं। आज हम बात कर रहे हैं बॉलीवुड की कंट्रोवर्सी क्वीन राखी सावंत की जो आज अपना 40वां जन्मदिन मना रही हैं। राखी पेशे से डांसर और अभिनेत्री हैं। लेकिन इससे ज़्यादा राखी अपने बेबाक बयानों के लिए जानी जाती हैं। वो जब जो चाहती हैं बोल देती हैं। इसके साथ ही कैमरा के सामने अजीबोगरीब हरकतों के कारण भी राखी काफ़ी लाइमलाइट में रहती हैं। बता दें भले ही राखी आज एक आलीशान घर में रहती हों, लेकिन राखी ने वो समय भी देखा है जब उनके पास रहने के लिए मकान और खाने के लिए पैसे नहीं होते थे।



राखी के विवादों के बारे में तो सभी ने सुना होगा, लेकिन शायद ही कोई उनके बचपन से वाकिफ़ हो। राखी का बचपन बहुत की परेशानियों में बीता है। जानकर हैरानी होगी आज फ़िल्म इंडस्ट्री में अपनी जगह बना चुकी और खूब स्टारडम बटोर चुकी राखी ने महज़ 11 साल की उम्र में देश के सबसे बड़े बिजनेसमैन के बेटे की शादी में वेट्रेस का काम किया था।


जी हां, अक्सर सुर्ख़ियों में बने रहने वाली राखी के पास आज अपना एक आलीशान घर है, गाड़ी है और तमाम लग्जरी आइटम और सुविधाएं हैं। लेकिन राखी जब महज़ 11 साल की थीं तो उन्हें देश के सबसे अमीर परिवार धीरूभाई अंबानी के घर वेट्रेस का काम करना पड़ा था। धीरूभाई अंबानी के छोटे बेटे अनिल और टीना अंबानी की शादी में राखी को सभी मेहमानों को खाना परोसने का काम मिला था।

राखी का कहना है उन्होंने उस वक्त अपने परिवार के दबाव में आकर ये काम किया था ताकि वो घर को चलाने के लिए कुछ पैसे जुटा सकें। इसके बाद राखी रात भर खूब रोई भी थीं। राखी को इस काम के लिए उस समय सिर्फ़ 50 रुपए ही मिले थे।



राखी ने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत ‘अग्निचक्कर’ से की। उन्होंने अपने शुरूआती करियर में कई लो बजट फ़िल्मों में छोटे-मोटे रोल और डांस किया। साल 2003 में राखी ने फ़िल्म ‘चुरा लिया हैं तुमने’ में एक आइटम सॉन्ग किया। राखी ने बॉलीवुड की कई सुपरहिट फ़िल्मों में छोटे-छोटे किरदार भी निभाए हैं।



अगला लेख: सैफ की लाडली कर रहीं हैं इस बॉलीवुड अभिनेता को डेट



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 नवम्बर 2018
नेहा धुपिया और अंगद बेदी के प्रशंसकों के लिए एक अच्छी खबर आयी, बॉलीवुड जोड़े अब माता-पिता बन गए हैं। इस जोड़े को एक शिशु के रूप में एक पुत्री की प्राप्ति हुई है और कहने की जरूरत नहीं है, ये मौका नेहा(Neha dhupia husband, Neha dhupia show, Neha dhupia talk show) और अंगद के
18 नवम्बर 2018
19 नवम्बर 2018
बिहार सीवान के रहने वाले डॉक्टर राजीव कुमार सिंह फिजियोथेरेपिस्ट हैं। उन्होंने आम पेशेंट से लेकर बॉलीवुड में दीपिका पादुकोण तक का इलाज किया है। कई बॉलीवुड सेलिब्रिटीज इनके क्लाइंट हैं। पटना के बोरिंग रोड पर राजीव का साईं फिजियोथेरेपी क्लिनिक है, जहां वे मरीजों को इलाज करते हैं।राजीव सीवान के संठी गा
19 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
#MeeToo ने बॉलीवुड की दुनिया में इन दिनों तहलका मचा रखा है।आये दिन बॉलीवुड हस्तियों से जुड़े तमाम खुलासे सामने आ रहे हैं, ऐसा माना गया है कि बॉलीवुड और विवाद हमेशा से ही एक दुसरे के पूरक रहे हैं। इस जगमगाती दुनिया में आये दिन नए-नए खुलासे और विवाद सामने आते रहते हैं। लेकिन, इस वक्त इस जगमगाती दुनिया
21 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
किसी ने सच ही कहा है काबिल बनो कामयाबी तो झक मार के पीछे आएगी। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी से रूबरू करने जा रहे हैं जिसने अपनी प्रतिभा से वो मुकाम हासिल किया जिसका ख़्वाब न जाने कितनी ही आँखों ने देखा होगा और ये साबित किया कि प्रतिभा ना उम्र देखती है ना जाति और ना ही अमीरी-गरीबी का फर्क जानती है। ये
20 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasउनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलतीहमको ही खासकर नहीं मिलती शायरी को नज़र नहीं मिलतीमुझको तू ही अगर नहीं मिलती रूह मे, दिल में, जिस्म में, दुनियाढूंढता हूँ मगर
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
बॉलीवुड में हर हस्ती की अपनी एक अलग पहचान है और ये बड़ी हस्तियां अपनी हिफाज़त के लिए बॉडीगार्ड रखती है। सभी बॉलीवुड स्टार्स के बॉडीगार्ड है, लेकिन इन सब में हर समय सबसे ज़्यादा चर्चा में कोई होता है तो वो है बॉलीवुड के भाईजान यानि सलमान खान के बॉडीगार्ड शेरा। शेरा कोई मामूली बॉडीगार्ड नहीं है, बल्क
21 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
फैज़ अहमद फैज़ (Faiz Ahmad Faiz) उर्दू भाषा के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक थे। फैज़ की शायरी (Shayri) को न केवल उर्दू बल्कि हिंदी (Hindi) भाषी लोग भी बहुत पसंद करते है| गर मुझे इस का यक़ीं हो मेरे हमदम मेरे दोस्त, फैज़ अहमद फैज़ की सर्वा
20 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwas बांसुरी चली आओ तुम अगर नहीं आई गीत गा न पाऊँगासाँस साथ छोडेगी, सुर सजा न पाऊँगातान भावना की है शब्द-शब्द दर्पण हैबाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण हैतुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी हैतीर पार कान्हा से दूर राधिका-सी हैरात की उदासी को याद संग खेला है कुछ गलत ना कर बैठें मन ब
22 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x