जब अटल ने मोदी से कहा था 'अब तुम्हारी जरूरत नहीं, दिल्ली छोड़ दो', जानिये क्या है पूरा मांजरा

27 नवम्बर 2018   |  अखिलेश ठाकुर   (51 बार पढ़ा जा चुका है)

जब अटल ने मोदी से कहा था 'अब तुम्हारी जरूरत नहीं, दिल्ली छोड़ दो', जानिये क्या है पूरा मांजरा  - शब्द (shabd.in)

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी के नि-धन से पूरा देश शोक में डूबा है। अटल जी को शुक्रवार को अंतिम बिदाई दे दी गई, लेकिन लोगोंं के दिलोंं में वो हमेशा राज करेंगे। अटल के जाने से भारतीय राजनीति का एक अध्याय पूरी तरह से खत्म हो गया। अटल बिहारी को शब्दों में पिरो पाना संभव नहीं है, क्योंंकि अटल अपने आप में ही अंतत है, जो हमेशा हम सभी के बीच में रहेंगे। अटल बिहारी का राजनीतिक सफर किसी से छिपा नहीं है। हमेशा अपने अटल फैसले को लेकर जाने वाले स्वर्गीय प्रधानमंत्री वाजपेयी को भूला पाना संभव नहीं है। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

बीजेपी को शून्य से सत्ता के शिखर पर बिठाने वाले अटल बिहारी के बारे में जितना कहा जाए उतना कम है। अटल बिहारी ने बीजेपी में नेताओं की एक पूरी पीढ़ी तैयार की है। अटल बिहारी का सम्मान सिर्फ उनकी पार्टी ही नहीं, बल्कि विपक्षी पार्टियां भी करती है। आज हम अटल बिहारी और पीएम मोदी के रिश्ते के बारे में कुछ जानकारियां देंगे। एक समय था, जब नरेंद्र मोदी की इतनी लोकप्रियता नहीं थी, जितनी आज है, लेकिन वो अटल जी है, जिन्होंने मोदी को इस पद तक पहुंचाया है।

अटल बिहारी वाजपेयी और मोदी का रिश्ता काफी गहरा है। अटल बिहारी को पीएम मोदी हमेशा अपना गुरू मानते हैं। और यही वजह है कि पीएम मोदी अक्सर अटल बिहारी की चर्चा करने से पीछे नहीं हटते हैं। भले ही आज पीएम मोदी को बीजेपी की कामयाबियोंं के लिए जाना जाता है, लेकिन सच्चाई तो यह है कि पर्दे के पीछे से अटल बिहारी 2014 से ही बीजेपी को संभाल रहे हैं, जिसकी वजह से आज 20 से ज्यादा राज्योंं में बीजेपी सत्ता पर काबिज है।

स्वर्गीय पूर्व पीएम अटल बिहारी ने बीजेपी को पूरी तरह से निखारा है, लेकिन एक बार अटल ने नरेंद्र मोदी से कहा था कि तुम दिल्ली छोड़कर चले जाओ, जिसके बाद गुजरात में काफी बड़ा भूचाल देखने को मिला था। दरअसल, 1995 में जब गुजरात में बीजेपी सत्ता में आई थी, तब नरेंद्र मोदी को दरकिनार करते हुए केशुभाई पटेल को मुख्यमंत्री बनाया गया है, जिसके बाद फिर से 1998 में गुजरात में चुनाव हुए तो भी नरेंद्र मोदी को दिल्ली में ही बांँधकर रखा गया, जोकि अटल बिहारी को पसंद नहीं आया था।

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो जब 2001 में गुजरात में भूकंप आया था तो तत्कालीन बीजेपी सरकार हालात संभालने में नाकाम हुई थी, जिसकी वजह से अटल बिहारी ने नरेंद्र मोदी को तुरंत फोन कर मिलने के लिए बुलाया। उस समय में अटल बिहारी प्रधानमंत्री थे। पीएम आवास से जब फोन आया तो नरेंद्र मोदी किसी के अंतिम संस्कार में गये थे, जिसकी वजह से वो हड़बड़ा गये थे। जब नरेंद्र मोदी पीएम आवास पहुंचे तो अटल बिहारी ने कहा कि अब तुम्हारी जरूरत दिल्ली में नहीं, इसलिए दिल्ली छोड़ दो। इसके बाद नरेंद्र मोदी गुजरात के सीएम बनने के लिए रवाना हो गये।

अटल बिहारी वाजपेयी के इस एक फैसले पीएम मोदी का कद आज दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। नरेंद्र मोदी 2002, 2007 और 2012 में गुजरात के सीएम बने और 2014 में भारत के प्रधानमंत्री बने। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी अपने लगभग सभी भाषण में अटल बिहारी को याद करते हैं।

जब अटल ने मोदी से कहा था 'अब तुम्हारी जरूरत नहीं, दिल्ली छोड़ दो', जानिये क्या है पूरा मांजरा

https://www.newstrend.news/155984/when-atal-said-to-modi-left-delhi/?fbclid=IwAR2pzvcmTn76_7zt5F90dH_ItVWNGZ2zzf9O09kitM6_rvuFxcxLKZzacQ0

जब अटल ने मोदी से कहा था 'अब तुम्हारी जरूरत नहीं, दिल्ली छोड़ दो', जानिये क्या है पूरा मांजरा  - शब्द (shabd.in)

अगला लेख: इन राशियों का बुरा समय हुआ दूर, शनि की साढ़ेसाती हुई खत्म, जीवन में खुशियों की आएगी बहार



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 दिसम्बर 2018
३ दिसंबर यानि आज भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद की 131 वीं जयंती है। राजेंद्र प्रसाद एक प्रमुख व्यक्तित्व जिसने हमारे राष्ट्रीय स्वतंत्रता संग्राम में बहुत योगदान दिया, राजेंद्र प्रसाद पहले राष्ट्रपति थे जिन्होंने स्वतंत्र भारत के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली और 12 वर्षों तक राज्य का सबस
03 दिसम्बर 2018
30 नवम्बर 2018
एक शख्स, जो अगर जिंदा रहता, तो अब तक भारत में स्वदेशी और आयुर्वेद का शायद सबसे बड़ा ब्रांड बन चुका होता. बाबा रामदेव से भी बड़ा. कहा जाता है कि इस शख्स को रामदेव प्रतिद्वंद्वी के तौर पर देखते थे. ये शख्स, जिसके राष्ट्रवाद की कल्पना ‘स्वदेशी और अखंड भारत’ के इर्द-गिर्द बुन
30 नवम्बर 2018
01 दिसम्बर 2018
अमरीका के 41वें राष्ट्रपति जॉर्ज एच. वॉकर बुश का 94 साल की उम्र में निधन हो गया है.एक बयान में सीनियर बुश के बेटे और अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने कहा, "मुझे ये बताते हुए दुख हो रहा है कि अपने जीवन के 94 साल गुज़ारने के बाद हमारे पिता का निधन हो गया है."सीनियर बुश के बड़े बेटे बुश
01 दिसम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
रसोई गैस की बढ़ती कीमतों के कारण कई ग्राहकों को एकमुश्त राशि चुकाने में परेशानी आ रही है। इसके मद्देनजर सरकार ने गैर सब्सिडी सिलेंडर की कीमत चुकाने के बाद सब्सिडी की राशि खाते में जमा कराने की व्यवस्था में बदलाव करने का फैसला किया है। अब उपभोक्ता को सब्सिडी की कीमत में ही
28 नवम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
रसोई गैस की बढ़ती कीमतों के कारण कई ग्राहकों को एकमुश्त राशि चुकाने में परेशानी आ रही है। इसके मद्देनजर सरकार ने गैर सब्सिडी सिलेंडर की कीमत चुकाने के बाद सब्सिडी की राशि खाते में जमा कराने की व्यवस्था में बदलाव करने का फैसला किया है। अब उपभोक्ता को सब्सिडी की कीमत में ही
28 नवम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
बॉलीवुड में रोज नए कलाकारों की एंट्री होती है लेकिन शुरू से ही बॉलीवुड में एक से बढ़कर एक कलाकार आए लेकिन कोई दिलीप कुमार की तरह ना बन सका। जी हां दिलीप कुमार बॉलीवुड के एक महान अभिनेता जिन्होंने बॉलीवुड को ऐसी ऐसी फिल्में दी जो देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी बहुत म
27 नवम्बर 2018
01 दिसम्बर 2018
अमरीका के 41वें राष्ट्रपति जॉर्ज एच. वॉकर बुश का 94 साल की उम्र में निधन हो गया है.एक बयान में सीनियर बुश के बेटे और अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने कहा, "मुझे ये बताते हुए दुख हो रहा है कि अपने जीवन के 94 साल गुज़ारने के बाद हमारे पिता का निधन हो गया है."सीनियर बुश के बड़े बेटे बुश
01 दिसम्बर 2018
14 नवम्बर 2018
श्रीहरिकोटाइंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) ने बुधवार को जीएसएलवी माक-3 रॉकेट की मदद से जीसैट-29 सैटलाइट सफलतापूर्वक प्रक्षेपण किया। यह प्रक्षेपण श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से किया गया। यह सैटलाइट भू स्थिर कक्षा में स्थापित किया जाएगा। बता दें कि इस साल यह
14 नवम्बर 2018
30 नवम्बर 2018
यदि आपके घर मे की बुजुर्ग है और उनकी उम्र 60 वर्ष की है तो वोह इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। कम से कम बुजुर्ग की उम्र 60 वर्ष होनी चाहिए।ऐसे में आप अपने नजदीकी एल आई सी ऑफिस में जाकर वय वंदना योजना के लिए फार्म भर सकते हैं, जिसके तहत 60 वर्ष से ऊपर के सभी बुजुर्ग इस योजना
30 नवम्बर 2018
26 नवम्बर 2018
जिंदगी जितनी हसीन है, उसमें उतनी ही मुश्किलें भी हैं, लेकिन मुश्किलों से पार पाकर जो खुशी इंसान को होती है। उससे बढ़कर कोई और खुशी दुनिया में नहीं होती। लोगों के सामने हमेशा कुछ न कुछ मुसीबत बनी रहती है। ऐसे में जब भी इंसान इनका समाधान निकालता है तो ये उसकी बुद्धिमानी का
26 नवम्बर 2018
27 नवम्बर 2018
ऐसी बहुत सी ऐतिहासिक चीजें हैं जो आज भी इस जमीन में दफन है और हमें हमारी पुरानी सभ्यता और उनसे जुड़े किस्से-कहानियों की याद दिलाती है।अक्सर पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई के दौरान मिली चीजों को देखकर हमारे होश उड़ जाते हैं। छत्तीसगढ़ में भी कुछ ऐसा ही हुआ यहां के सिरपुर में हुई खुदाई से पुरातत्व विशेषज
27 नवम्बर 2018
26 नवम्बर 2018
विश्व के सबसे बड़े पशु मेले में बिहार के बाहुबली नेता अनंत सिंह भी आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। विदेशी हैट, काले चश्मे और आन-बान शान के साथ मेले में अनंत सिंह अपने पशु शिविर में घोड़े-हाथी और भैंस के साथ पहुंचे हैं। यहां अनंत सिंह का पशु शिविर लगा है जहां देसी-विदेशी सैल
26 नवम्बर 2018
28 नवम्बर 2018
रसोई गैस की बढ़ती कीमतों के कारण कई ग्राहकों को एकमुश्त राशि चुकाने में परेशानी आ रही है। इसके मद्देनजर सरकार ने गैर सब्सिडी सिलेंडर की कीमत चुकाने के बाद सब्सिडी की राशि खाते में जमा कराने की व्यवस्था में बदलाव करने का फैसला किया है। अब उपभोक्ता को सब्सिडी की कीमत में ही
28 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
इतिहास की बात की जाये तो पूरे देश के इतिहास को यदि तराजू के एक तरफ रख दें और केवल मेवाड़ के ही इतिहास को दूसरी ओर रख दें, तो भी मेवाड़ का पलड़ा हमेशा भारी ही रहेगा | कभी गुलामी स्वीकार न करने वाले शूरवीर महाराणा प्रताप ने इतने संघर्षों के बाद अकबर को मेवाड़ से खदेड़ने पर मजबूर कर दिया था |न जाने मेव
21 नवम्बर 2018
03 दिसम्बर 2018
प्रयागराज में जनवरी और मार्च के बीच होने वाली शादियों पर योगी सरकार ने बैन लगा दिया है। अगर आपको शादी उत्तर प्रदेश के प्रयागराज (इलाहाबाद) में करनी है तो आपको शादी की तारीख बदलनी होगी।अगर पहले प्रयागराज में शादी की प्लानिंग थी तो इससे बाहर जाकर भी शादी कर सकते हैं। योगी आ
03 दिसम्बर 2018
30 नवम्बर 2018
यदि आपके घर मे की बुजुर्ग है और उनकी उम्र 60 वर्ष की है तो वोह इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। कम से कम बुजुर्ग की उम्र 60 वर्ष होनी चाहिए।ऐसे में आप अपने नजदीकी एल आई सी ऑफिस में जाकर वय वंदना योजना के लिए फार्म भर सकते हैं, जिसके तहत 60 वर्ष से ऊपर के सभी बुजुर्ग इस योजना
30 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x