बिना लीड रोल फिल्मों में छाए ये 5 “किन्नर क़िरदार”

29 नवम्बर 2018   |  अंकिशा मिश्रा   (83 बार पढ़ा जा चुका है)

बिना लीड रोल फिल्मों में छाए ये 5 “किन्नर क़िरदार”  - शब्द (shabd.in)

LGBT (समलैंगिकों) समुदाय हमेशा से ही अपने हक़ के लिए आवाज़ उठाते रहे हैं। इसी में आते हैं ट्रांसजेंडर यानि जिन्हें आम भाषा में हिजड़ा कहा जाता है और भारत में आज भी इस मुद्दे पर बात करने से लोग कतराते हैं। समाज में हमेशा से ही LGBT (समलैंगिकों) को अलग नज़रों से देखा जाता है।लेकिन अगर फिल्मों की बात करें तो फिल्मों में ऐसे कई मुद्दों को कई बार बखूबी उठाया गया है। यहाँ तक की कुछ ऐसे किरदार भी हैं जिन्हें लीड रोल से ज्यादा तवज्जो दिया गया और आज भी ये किरदार हर किसी के ज़हन में ताज़ा हैं।


फिल्मों के साथ साथ अब ट्रेंड में चल रही सीरीज़ में भी इन किरदारों को जगह दी गई और इन किरदारों ने खूब प्रशंसा भी बटोरी।हाल ही में अमेज़ॉन प्राइम पर रिलीज़ वेब सीरीज़ मिर्ज़ापुर में भी एक ऐसे ही किरदार को लाया गया जिससे दर्शकों ने खूब सराहा। ऐसा ही एक और किरदार है जिसने लोगों के दिल में घर कर लिया। हाल ही में नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ वेब सीरीज़ सेक्रेड गेम्स में भी कुक्कू का रोल निभाने वाली कुर्बा सैत को रोल को ट्रांसजेंडर के इस क़िरदार को काफी प्रशंसा मिली थी।



आईये आज आपको ऐसे ही कुछ बॉलीवुड के मशहूर ट्रांसजेंडर किरदारों से रु-ब-रु करवाते हैं जिन्होंने अपने अभिनय से उस किरदार को आज भी लोगों के ज़हन में ज़िंदा रखा और खूब प्रशंसा बटोरी।


कुब्रा सैत




नेटफ्लिक्स पर पहली हिंदी वेब सीरीज साक्रेड गेम्स की बात करें तो यह सीरीज दर्शकों को खासा पसंद आई थी। सैफ अली खान और नवाजुद्दीन सिद्दकी इस सीरीज में अहम किरदार निभा रहे थे लेकिन इसके अलावा एक और किरदार था जिसको दर्शकों ने खासा पसंद किया था और वो था कुक्कू, इस किरदार को फिल्म में कुब्रा सैत ने निभाया था और उनको इसके लिए काफी प्रशंसा भी मिली थी। लीड रोल में ना होते हुए भी इस किरदार ने फिल्म में एक अहम भूमिका निभाई थी।

सदाशिव अमरापुरकर



सन् 1991 में बनी संजय दत्त की मूवी सड़क की बात करे तो इस फिल्म की सफलता के पीछे जिस किरदार को सबसे ज्यादा श्रेय मिला वो था सदाशिव अमरापुरकर का। फिल्म में सदाशिव ने महारानी नाम के एक किन्नर का रोल निभाया था। और इस किरदार के लिए सदाशिव को बेस्ट विलेन का फिलमफेयर के अवार्ड से नवाजा भी गया था।

आशुतोष राणा



2005 में बनी फिल्म शबनम मौसी एक सत्य घटना पर आधारित फिल्म थी। शबनम मौसी एक रियल किरदार थी जो पहली एक ऐसी ट्रांसजेंडर महिला थी जिनको किसी सार्वजनिक पद के लिए चुना गया था। इस फिल्‍म में शबनम मौसी का किरदार आशुतोष राणा ने निभाया था और वो इस रोल को बखूबी पर्दे पर उतार पाए थे जिसके लिए इस फिल्म में उनकी एक्टिंग को काफी पसंद भी किया गया था।

राजकुमार राव



आपको बता दें राजकुमार राव भी एक ट्रांसजेंडर का किरदार निभा चुके हैं।राजकुमार राव ने एक बंगाली फिल्म ‘एमी साइरा बानो’ में एक ट्रांसजेंडर का रोल निभाया है। इस फिल्म में राजकुमार राव के किरदार को दर्शकों ने खूब पसंद किया l

निर्मल पांडेय



फिल्मों में विलेन का किरदार निभाने वाले निर्मल पांडे भी एक फिल्म में ट्रांसजेंडर का किरदार अदा कर चुके हैं निर्मल पांडे ने फिल्म ‘दायरा’ में एक ट्रांसजेंडर का किरदार निभाया था और उनके किरदार को लोगों ने काफी पसंद भी किया था। वो इस तरह से इस किरदार में समा गए थे कि वो बिल्कुल रियल लग रहे थे। निर्मल पांडे को इस किरदार के लिए फ्रांस में बेस्ट एक्टर वलेंटी से नवाजा गया था।



अगला लेख: भ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामा- कुमार विश्वास



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 नवम्बर 2018
इतिहास की बात की जाये तो पूरे देश के इतिहास को यदि तराजू के एक तरफ रख दें और केवल मेवाड़ के ही इतिहास को दूसरी ओर रख दें, तो भी मेवाड़ का पलड़ा हमेशा भारी ही रहेगा | कभी गुलामी स्वीकार न करने वाले शूरवीर महाराणा प्रताप ने इतने संघर्षों के बाद अकबर को मेवाड़ से खदेड़ने पर मजबूर कर दिया था |न जाने मेव
21 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwasभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाभ्रमर कोई कुमुदनी पर मचल बैठा तो हंगामाहमारे दिल में कोई ख्वाब पल बैठा तो हंगामाअभी तक डूबकर सुनते थे सब किस्सा मुहब्बत कामैं किस्से को हकीकत में बदल बैठा तो हंगामाकभी कोई जो खुलकर हंस लिया दो पल तो हंगामाकोई ख़्वाबों में आकर बस लिया द
22 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
फैज़ अहमद फैज़ (Faiz Ahmad Faiz) उर्दू भाषा के सबसे प्रसिद्ध लेखकों में से एक थे। फैज़ की शायरी (Shayri) को न केवल उर्दू बल्कि हिंदी (Hindi) भाषी लोग भी बहुत पसंद करते है| गर मुझे इस का यक़ीं हो मेरे हमदम मेरे दोस्त, फैज़ अहमद फैज़ की सर्वा
20 नवम्बर 2018
20 नवम्बर 2018
किसी ने सच ही कहा है काबिल बनो कामयाबी तो झक मार के पीछे आएगी। आज हम आपको एक ऐसी ही कहानी से रूबरू करने जा रहे हैं जिसने अपनी प्रतिभा से वो मुकाम हासिल किया जिसका ख़्वाब न जाने कितनी ही आँखों ने देखा होगा और ये साबित किया कि प्रतिभा ना उम्र देखती है ना जाति और ना ही अमीरी-गरीबी का फर्क जानती है। ये
20 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
डॉ.कुमार विश्वास “कोई दीवाना कहता है, कोई पागल समझता है”कुमार विश्वास का जन्म 10 फ़रवरी 1970 को पिलखुआ (ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश) में हुआ था। चार भाईयों और एक बहन में सबसे छोटे कुमार विश्वास ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा लाला गंगा सहाय स्कूल, पिलखुआ में प्राप्त की। उनके पिता डॉ. चन्द्रपाल शर्मा आर एस
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
कुछ कर गुजरने की हिम्मत और संघर्ष से हार नहीं मानने का जज्बा हो तो अपनी कमजोरी भी ताकत बन जाती है। शहर के प्रमोद गोस्वामी अपने अभिनय से बॉलीवुड में पहचान बनाने वाले ऐसे ही कलाकार हैं। उन्होंने समाज से मिले ताने का जवाब अपनी कामयाबी से दिया है।सकरा प्रखंड की बाजी बुजुर्ग पंचायत के एक छोटे से गांव बंज
21 नवम्बर 2018
22 नवम्बर 2018
Hindi poem - Kumar vishwas बांसुरी चली आओ तुम अगर नहीं आई गीत गा न पाऊँगासाँस साथ छोडेगी, सुर सजा न पाऊँगातान भावना की है शब्द-शब्द दर्पण हैबाँसुरी चली आओ, होंठ का निमंत्रण हैतुम बिना हथेली की हर लकीर प्यासी हैतीर पार कान्हा से दूर राधिका-सी हैरात की उदासी को याद संग खेला है कुछ गलत ना कर बैठें मन ब
22 नवम्बर 2018
21 नवम्बर 2018
महादेवी वर्मा हिंदी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से एक है |शचीरानी गुर्टू ने भी महादेवी वर्मा की कविता (Mahadevi verma poems) को सुसज्जित भाषा का अनुपम उदाहरण मान
21 नवम्बर 2018
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x